DISTRICT WISE NEWS

अंबेडकरनगर अमरोहा अमेठी अलीगढ़ आगरा आजमगढ़ इटावा इलाहाबाद उन्नाव एटा औरैया कन्नौज कानपुर कानपुर देहात कानपुर नगर कासगंज कुशीनगर कौशांबी कौशाम्बी गाजियाबाद गाजीपुर गोंडा गोण्डा गोरखपुर गौतमबुद्ध नगर गौतमबुद्धनगर चंदौली चन्दौली चित्रकूट जालौन जौनपुर ज्योतिबा फुले नगर झाँसी झांसी देवरिया पीलीभीत फतेहपुर फर्रुखाबाद फिरोजाबाद फैजाबाद बदायूं बरेली बलरामपुर बलिया बस्ती बहराइच बागपत बाँदा बांदा बाराबंकी बिजनौर बुलंदशहर बुलन्दशहर भदोही मऊ मथुरा महराजगंज महोबा मिर्जापुर मीरजापुर मुजफ्फरनगर मुरादाबाद मेरठ मैनपुरी रामपुर रायबरेली लखनऊ लख़नऊ लखीमपुर खीरी ललितपुर वाराणसी शामली शाहजहाँपुर श्रावस्ती संतकबीरनगर संभल सहारनपुर सिद्धार्थनगर सीतापुर सुलतानपुर सुल्तानपुर सोनभद्र हमीरपुर हरदोई हाथरस हापुड़
Showing posts with label माध्यमिक शिक्षा. Show all posts
Showing posts with label माध्यमिक शिक्षा. Show all posts

Tuesday, November 24, 2020

माध्यमिक कालेजों में छात्रों की उपस्थिति की एक माह की रिपोर्ट तलब


माध्यमिक कालेजों में छात्रों की उपस्थिति की एक माह की रिपोर्ट तलब


प्रयागराज : कोरोना की वजह से लंबे समय से बंद माध्यमिक कालेजों को पिछले माह खोला है, छात्र-छात्रओं की स्कूल आने की अनिवार्यता नहीं है, बल्कि अभिभावकों चाहें तो उन्हें भेजें। 


यूपी बोर्ड सचिव ने जिलों से एक माह की रिपोर्ट मांगी है कि उपस्थिति कैसी है। असल में बोर्ड प्रशासन परीक्षा कराने की तैयारी कर रहा है, इसमें यह रिपोर्ट खासी अहम रहेगी। माध्यमिक शिक्षा परिषद (यूपी बोर्ड) आमतौर संबद्ध कालेजों का पाठ्यक्रम और परीक्षा ही कराता रहा है।

10वीं और 12वीं के यूपी बोर्ड परीक्षार्थियों हेतु नवीन दिशा-निर्देश जारी, कैसे करें तैयारी?

10वीं और 12वीं के यूपी बोर्ड परीक्षार्थियों हेतु नवीन दिशा-निर्देश जारी, कैसे करें तैयारी?


यूपी बोर्ड की 2021 हाईस्कूल एवं इंटरमीडिएट परीक्षा में मंडल के कुल 419883 छात्र-छात्राएं शामिल होंगे। इन बच्चों की बोर्ड परीक्षा तैयारी में कोई बाधा न हो और वह तैयारी पर पूरा फोकस कर सकें, इसके इसके लिए यूपी बोर्ड के सचिव मंडलीय संयुक्त शिक्षा निदेशक दिव्यकांत शुक्ल ने स्टडी, रिवीजन, हेल्थ एंड हेल्प नामक कार्ययोजना तैयार की है। सचिव का कहना कि कोविड -19 के कारण छात्र-छात्राओं की पढ़ाई में कोई कमी न हो, इसके लिए माध्यमिक शिक्षा विभाग ने व्हाट्सएप, वर्चुअल क्लासेज, ई-ज्ञान गंगा, दीक्षा पोर्टल, स्वयंप्रभा चैनल जैसी कई योजनाएं चालू की गयी हैं। आवश्यकता पड़ने पर बच्चों की काउंसिलिंग के लिए भी आवश्यक उपाय किए जाएंगे। 




स्टडी प्लान 
  • सभी विद्यार्थी सर्वप्रथम एक समयसारिणी तैयार करें जिसमें पढ़ाई के साथ-साथ विराम का भी समय निश्चित करें और उसका पालन करने का प्रयास करें। 
  • जिस भी संसाधन से पढ़ाई करें, उनके नोट्स अवश्य बनाएं
  • जिस विषय में कोई बाधा हो, उस संबंध में अपने शिक्षकों, अभिभावक, मित्रों के साथ वार्ता करें
  • पाठ्यक्रम को छोटे टुकड़ों में बांटकर उन्हें एक-एक करके पढ़ें 

रिवीजन प्लान 
  • बोर्ड परीक्षा के लिए बचे हुए समय के दृष्टिगत समस्त विषयों का कम से कम दो बार रिवाइज करें
  • पिछले साल के प्रश्नपत्रों अथवा बाजार में उपलब्ध सैम्पल पेपर को हल करें
  • नियमित तौर पर अपना स्वमूल्यांकन करें
  • दीर्घ उत्तरीय प्रश्नों के लिए स्वतः अलग रणनीति विकसित करें तथा उसपर विशेष ध्यान केन्द्रित करें
  • हेल्थ एंड हेल्प प्लानः
  • परीक्षाओं के डर को मन से निकाल कर सकारात्मक सोच के साथ तैयारी करें
  • कम से कम 8-9 घंटे की नींद अवश्य लें जिससे शरीर को आराम करने का समय मिले
  • कोरोना से बचाव के लिए भारत सरकार द्वारा जारी गाइडलाइन्स का अनुपालन सुनिश्चित करें
  • नियमित तौर पर पढ़ाई के बीच-बीच में कुछ खाते रहें जिससे शरीर में उर्जा बनी रहे
  • जंक फूड से बचने का प्रयास करें
  • अपने सहपाठियों से पढ़ाई में सहयोग लें तथा उनका भी यथासंभव सहायोग करें
  • शिक्षकों, अभिभावकों, मित्रों से नियमित रूप से जुड़े रहें तथा अपने मन की किसी भी परेशानी को उनके साथ साझा करें

यूपी : हाईस्कूल और इंटरमीडिएट बोर्ड परीक्षा कार्यक्रम दिसबंर में होगा घोषित

यूपी : हाईस्कूल और इंटरमीडिएट बोर्ड परीक्षा कार्यक्रम दिसबंर में होगा घोषित

उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षा परिषद की हाई स्कूल और इंटरमीडिएट बोर्ड परीक्षा का कार्यक्रम दिसंबर में घोषित किया जाएगा। माध्यमिक शिक्षा विभाग प्रदेश में कोरोना संक्रमण की स्थिति का आंकलन करने के आधार पर कार्यक्रम तय करेगा। माध्यमिक शिक्षा बोर्ड की हाई स्कूल और इंटरमीडिएट बोर्ड परीक्षा - 2021 के लिए 45 लाख से अधिक विद्यार्थियों ने आवेदन किया है। प्रदेश में कोरोना संक्रमण के कारण स्कूलों में नियमित पठन-पाठन सामान्य दिनों की तरह नहीं हो रहा है।


इधर, दीपावली के बाद प्रदेश में कोरोना संक्रमण बढ़ता जा रहा है। खासतौर पर पश्चिमी उत्तर प्रदेश और एनसीआर के कुछ जिलों में संक्रमण बढ़ रहा है। लाखों विद्यार्थियों के लिए सोशल डिस्टेंसिंग के साथ परीक्षा कराने के लिए परीक्षा केंद्रों की संख्या अधिक रखनी होगी और परीक्षा के दिन भी बढ़ाने होंगे। विभाग के अधिकारी ने बताया कि विभाग दिसंबर में संक्रमण की स्थिति का आंकलन करने के बाद उसके आधार  परीक्षा का कार्यक्रम तय करेगा।


उप मुख्यमंत्री डॉ. दिनेश शर्मा ने बताया कि दिसंबर में बोर्ड परीक्षा का कार्यक्रम दिसंबर में घोषित किया जाएगा। उल्लेखनीय है कि मौजूदा सरकार के समय में जुलाई-अगस्त में ही परीक्षा का कार्यक्रम घोषित कर दिया जाता है। इसके चलते विद्यार्थियों और अभिभावकों को भी परीक्षा कार्यक्रम का इंतजार है।

Monday, November 23, 2020

दूरदर्शन उत्तर प्रदेश (DD UP) चैनल पर यूपी बोर्ड की कक्षा- 10 व 12 हेतु शैक्षणिक प्रसारण के चौदहवें चरण की समय सारिणी

दूरदर्शन उत्तर प्रदेश (DD UP) चैनल पर यूपी बोर्ड की कक्षा- 10 व 12 हेतु शैक्षणिक प्रसारण के चौदहवें चरण की समय सारिणी



Sunday, November 15, 2020

धन नहीं तो कैसे पहचाने जाएं फर्जी शिक्षक, सत्यापन शुल्क के अभाव में पूरा काम पड़ा ठप

धन नहीं तो कैसे पहचाने जाएं फर्जी शिक्षक, सत्यापन शुल्क के अभाव में पूरा काम पड़ा ठप



प्रयागराज |  प्रदेश के राजकीय, सहायता प्राप्त माध्यमिक विद्यालयों एवं संस्कृत पाठशालाओं में फर्जी शिक्षकों की पहचान में बजट का रोड़ा है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने पिछले दिनों सत्यापन के निर्देश दिए थे। लेकिन सत्यापन शुल्क देने के लिए रुपये नहीं होने के कारण पूरा काम ठप पड़ा है। अकेले प्रयागराज में 2989 शिक्षकों के अलग-अलग विश्वविद्यालयों एवं बोर्ड से 10 हजार से अधिक दस्तावेजों के सत्यापन के लिए 40 लाख रुपये की आवश्यकता है।


जिला विद्यालय निरीक्षक कार्यालय के पास बजट नहीं होने के कारण सत्यापन रिपोर्ट शासन को उपलब्ध नहीं करा पा रहे। अपर निदेशक माध्यमिक डॉ. महेन्द्र देव ने पिछले दिनों सभी मंडलीय उप शिक्षा निदेशकों और जिला विद्यालय निरीक्षकों को पत्र लिखकर तीन दिन में सत्यापन रिपोर्ट उपलब्ध कराने के निर्देश दिए हैं विशेष सचिव शासन जय शंकर दुबे ने 8 जुलाई को दस्तावेजों की जांच के निर्देश दिए थे। आप यह खबर प्राइमरी का मास्टर डॉट इन पर पढ़ रहे हैं। पूरी रिपोर्ट 31 जुलाई तक मांगी गई थी।

लेकिन बजट के अभाव में डेडलाइन बीते दो महीने बाद भी सत्यापन नहीं हो सका है यही स्थिति पूरे प्रदेश की बनी हुई है। जिला विद्यालय निरीक्षकों ने शिक्षा निदेशालय से सत्यापन शुल्क के रूप में लाखों रुपये की डिमांड की है। 

जगह-जगह फर्जी मार्कशीट की दुकान

प्रयागराज |  वेबसाइट पर उपलब्ध है सूची हाईस्कूल और इंटर के फर्जी अंकपत्र क्रिकेट जौनपुर, लखनऊ से लेकर ग्वालियर, दिल्ली तक फैला है। रुपये लेकर फर्जी अंकपत्र बांटने का काम कोरोना महामारी के दौरान भी नहीं थमा है। पिछले छह महीने में यूपी बोर्ड को आधा दर्जन से अधिक सत्यापन के मामले मिले हैं जो फर्जी है। गुरुकुल विवि वृन्दावन मथुरा, हिन्दी साहित्य सम्मेलन की प्रथमा व मध्यमा, राजकीय मुक्त विद्यालयी शिक्षा संस्थान लखनऊ और राज्य मुक्त विद्यालयी शिक्षा संस्थान लखनऊ, वेदामऊ वैदिक विद्यापीठ बदायूं, मध्य भारत ग्वालियर, एमएच एजुकेशनल विद्यापीठ जौनपुर आदि अनाधिकृत संस्थाओं ने 10वीं एवं 12वीं के अंकपत्र जारी किए हैं। इन संस्थाओं की समकक्षता के संबंध में बीएसए मथुरा, डीआईओएस लखनऊ, अटल विहारी बाजपेवी हिन्दी विवि भोपाल, रोडवेज विभाग बरेली, जिला कमांडेंट होमगार्ड लखनऊ आदि ने पूछताछ की है। अफसरों का कहना है कि यूपी बोर्ड की ओर से पत्र भेजा रहा है कि इन संस्थाओं से जारी अंकपत्र या प्रमाणपत्र का विधिक अस्तित्व नहीं है।

वेबसाइट पर उपलब्ध है सूची
देशभर में अधिकृत एवं मान्य संस्थाओं की सूची यूपी बोर्ड की वेबरइट www.upmsp.edu. in है। सभी राज्यों की विधि द्वारा स्थापित माध्यमिक शिक्षा परिषदों से संवालित 10वीं तथा 12वी परीक्षाएं यूपी बोर्ड के समकक्ष हैं। सीबीएसई सीआईएससीई की 10वीं-12वीं की परीक्षाएं भी मान्य एनआईओएस की सीनियर सेकेंडरी परीक्षा इस प्रतिबंध के साथ मान्य है कि यह परीक्षा कम से कम पांच विषयों में पास की गई हो।

यूपी बोर्ड : नहीं करना कोरोना के खत्म होने का इंतजार, छमाही परीक्षाओं के लिए ऑनलाइन और ऑफलाइन दोनों माध्यमों की व्यवस्था

यूपी बोर्ड : नहीं करना कोरोना के खत्म होने का इंतजार, छमाही परीक्षाओं के लिए ऑनलाइन और ऑफलाइन दोनों माध्यमों की व्यवस्था 


कोरोना संक्रमण से उपजे हालात से निपटने के लिए हर किसी ने एहतियात भरे कदम उठाए हैं। इन्हीं में से एक माध्यमिक शिक्षा विभाग भी है। तकनीकी और संसाधनों के लिए हमेशा से उपेक्षित कहा जाने वाला माध्यमिक शिक्षा विभाग अब हाईटेक बनकर उभरा है। यही कारण है कि माध्यमिक शिक्षा विभाग ने ऑनलाइन कक्षाएं ही नहीं अब ऑनलाइन परीक्षा कराए जाने का भी निर्णय ले डाला है। 


जिला विद्यालय निरीक्षक, डॉ मुकेश कुमार सिंह के मुताबिक, 20 नवंबर से शुरू हो रहे छमाही परीक्षाओं के लिए ऑनलाइन और ऑफलाइन दोनों माध्यमों की व्यवस्था की गई है। जो छात्र स्कूल आकर परीक्षा देना चाहते हैं वह स्कूल आकर परीक्षा देंगे। और वे जिनके अभिभावक कोरोना संक्रमण के कारण बच्चों को स्कूल भेजने का साहस नहीं जुटा पा रहे हैं, अबे घर से ही ऑनलाइन परीक्षाएं दे सकते हैं।


जिला विद्यालय निरीक्षक के अनुसार बच्चों को गूगल मीट, जूम आदि के माध्यम से प्रश्न पत्र मुहैया कराए जाएंगे बच्चों को उनके उत्तर लिखकर ई-मेल के जरिए भेजना होगा। यदि किसी बच्चे के साथ इंटरनेट कनेक्टिविटी की समस्या आ रही है तो उसे व्हाट्सएप के माध्यम से प्रश्न पत्र मुहैया कराया जाएगा। बच्चे परीक्षा ईमानदारी के साथ दें इसकी जिम्मेदारी खुद अभिभावकों को सौंपी जा रही है।


अभिभावकों की भी मिल रही सराहना
यूपी बोर्ड के तहत संचालित स्कूलों में ऑनलाइन और ऑफलाइन पढ़ाई की व्यवस्था को अभिभावकों की भी सराहना मिल रही है। छमाही परीक्षा को भी ऑनलाइन माध्यम से कराए जाने के प्रयास को भी अभिभावक खूब समर्थन दे रहे हैं।

यूपी बोर्ड की प्रायोगिक परीक्षाओं में फंस सकता है पेंच

यूपी बोर्ड की प्रायोगिक परीक्षाओं में फंस सकता है पेंच


कोरोना संक्रमण के चलते शैक्षिक सत्र 2020-21 प्रभावित जरूर हुआ है। नियमित कक्षाएं न चालू रहकर ऑनलाइन कक्षाएं संचालित की जा रही हैं। इतना ही नहीं अन्य सुविधाओं के लिए भी विभाग को काफी मशक्कत करनी पड़ी। मगर इन सब के बावजूद माध्यमिक शिक्षा विभाग ने अपना सारा शेड्यूल पटरी पर होने का दावा किया है। यूपी बोर्ड परीक्षाओं को लेकर भी विभाग का दावा है  की परीक्षाएं अपने निर्धारित कैलेंडर के अनुसार ही कराई जाएंगी। ऐसे में सबसे अहम सवाल यह है कि प्रायोगिक परीक्षाओं को विभाग कैसे कराएगा।


अभी तक ऑनलाइन कक्षाएं संचालित की जा रही थी, मगर अब 25% से अधिक विद्यार्थी कॉलेज आने लगे हैं। दीपावली बाद बच्चों की संख्या में इजाफा होगा। प्रैक्टिकल संबंधित सारे उपकरण कॉलेज में उपलब्ध हैं।


क्या कहते हैं के राजकीय जुबली इंटर कॉलेज प्रिंसिपल
राजकीय जुबली इंटर कॉलेज प्रिंसिपल धीरेंद्र मिश्रा के मुताबिक, प्रैक्टिकल कराए जाने के संबंध में शिक्षकों के साथ बैठक भी की गई है। एक साथ विद्यार्थियों की भीड़ न हो इस बात को ध्यान में रखते हुए, उन्हें शिफ्टवार बुलाया जाएगा। बोर्ड से निर्देश के बाद प्रयास किया जाएगा कि अगले एक से डेढ़ महीने के दौरान सिलेबस से जुड़ी प्रायोगिक परीक्षाएं पूरी करा ली जाए।


क्या कहते हैं जिला विद्यालय निरीक्षक
जिला विद्यालय निरीक्षक डॉ मुकेश कुमार सिंह के मुताबिक, स्कूलों में उपस्थिति प्रतिशत बढ़ी है। दो दिन पहले हुई वर्चुअल बैठक में स्कूलों की ओर से दी गई रिपोर्ट के अनुसार कुछ स्कूलों में शत-प्रतिशत भी बच्चों की हाजिरी पाई गई। प्रायोगिक परीक्षाओं को लेकर कॉलेजों को तैयार रहने के लिए भी कह दिया गया है। परिषद से प्रायोगिक परीक्षाओं के संबंध में जैसे दिशा निर्देश मिलते हैं, वैसा किया जाएगा।

Saturday, November 14, 2020

यूपी बोर्ड: स्कूल 31 जनवरी तक पूरी कर लें प्रयोगात्मक कक्षाएं

यूपी बोर्ड: स्कूल 31 जनवरी तक पूरी कर लें प्रयोगात्मक कक्षाएं



प्रयागराज। यूपी बोर्ड सचिव ने प्रदेश के सभी प्रधानाचार्यों से 31 जनवरी तक 12 वीं की प्रयोगात्मक कक्षाएं पूरी कर लेने का निर्देश दिया है। स्कूल में प्रयोगात्मक कार्य पूरा कर लेने के बाद बोर्ड की प्रायोगिक परीक्षाएं फरवरी के पहले और दूसरे सप्ताह में कराई जाएंगी। 


यूपी बोर्ड सचिव दिव्यकांत शुक्ल की ओर से भेजे गए निर्देश में कहा गया है कि12 वीं की प्रयोगात्मक परीक्षा और हाईस्कूल के नैतिक शिक्षा, योग, खेल, शारीरिक शिक्षा के ग्रेड एवं आंतरिक मूल्यांकन के अंक और इंटरमीडिएट में नैतिक शिक्षा, योग, खेल, शारीरिक शिक्षा के लिखित एवं प्रयोगात्मक परीक्षा के अंक 15 फरवरी तक बोर्ड की वेबसाइट पर अपलोड करना होगा। स्कूलों में प्रैक्िटकल संशोधित पाठ्यक्रम के आधार पर होंगे।

Thursday, November 12, 2020

माध्यमिक शिक्षा में एक और शिक्षक भर्ती की तैयारी शुरू, शासन के आदेश पर डीआईओएस से रिक्त पदों का मांगा गया ब्योरा।

माध्यमिक शिक्षा में एक और शिक्षक भर्ती की तैयारी शुरू, शासन के आदेश पर डीआईओएस से रिक्त पदों का मांगा गया ब्यौरा।

प्रयागराज : प्रदेश के एडेड माध्यमिक कालेजों में शिक्षक भर्ती की तैयारी करने वाले प्रतियोगियों के लिए खुशखबरी है। एक और शिक्षक भर्ती की तैयारियां शुरू कर दी गई हैं। सभी जिला विद्यालय निरीक्षकों को निर्देश दिया गया है कि वे रिक्त पदों का अधियाचन आनलाइन भेजे। साथ ही चयन बोर्ड से अनुरोध किया गया है कि वे वेबसाइट फिर से खोलें।


माध्यमिक शिक्षा सेवा चयन बोर्ड ने पिछले वर्ष पहली बार जिलों से आनलाइन आवेदन लिए थे और प्रवक्ता व प्रशिक्षित स्नातक शिक्षक पीजीटी-टीजीटी के 15508 रिक्त पदों का विज्ञापन 2020 जारी किया गया है। इन दिनों आनलाइन आवेदन लिए जा रहे हैं। इसी बीच शासन ने वीडियो कांफ्रेंसिंग में शिक्षा निदेशालय प्रयागराज को निर्देश दिया कि सभी जिलों से एडेड माध्यमिक कालेजों में शिक्षकों के रिक्त पदों का अधियाचन फिर लिया जाए। अपर शिक्षा निदेशक माध्यमिक डा. महेंद्र देव ने सभी जिला विद्यालय निरीक्षकों को निर्देश दिया है कि वे शासन के आदेश पर अशासकीय सहायताप्राप्त माध्यमिक विद्यालयों में सत्र 2019-20 और 2020-21 की रिक्ति के सापेक्ष अधियाचन तत्काल भेजे जाएं।

Wednesday, November 11, 2020

वर्ष 2021 की हाईस्कूल परीक्षा के प्रोजेक्ट कार्य एवं इण्टरमीडिएट परीक्षा के प्रयोगात्मक कार्य को कम किये गये पाठ्यक्रमानुसार सम्पादित कराये जाने के सम्वन्ध में निर्देश जारी

वर्ष 2021 की हाईस्कूल परीक्षा के प्रोजेक्ट कार्य एवं इण्टरमीडिएट परीक्षा के प्रयोगात्मक कार्य को कम किये गये पाठ्यक्रमानुसार सम्पादित कराये जाने के सम्वन्ध में निर्देश जारी




राजकीय माध्यमिक शिक्षकों ने उठाई एसीपी की मांग

राजकीय माध्यमिक शिक्षकों ने उठाई एसीपी की मांग


लखनऊ : राजकीय हाईस्कूल व इंटर कॉलेजों के शिक्षकों ने सरकार से सुनिश्चित करियर प्रोन्नयन (एसीपी) का लाभ दिए जाने की मांग की है। माध्यमिक शिक्षा विभाग की अपर मुख्य सचिव आराधना शुक्ला की अध्यक्षता में योजना भवन के सभागार में राजकीय शिक्षक संघ व राज्य कर्मचारी संयुक्त परिषद के पदाधिकारियों के साथ बैठक में विभिन्न मुद्दों पर सहमति जताई गई और जल्द निर्णय का आश्वासन दिया गया।


बैठक में शिक्षकों ने कई मांगें उठाईं। राजकीय शिक्षक संघ के अध्यक्ष पारसनाथ पांडेय ने कहा कि राजकीय स्कूलों के शिक्षकों की सेवानिवृत्त आयु राज्य कर्मचारियों की भांति 60 वर्ष है, लेकिन उन्हें एसीपी का लाभ नहीं दिया जा रहा। इस पर सामने आया कि राजकीय शिक्षकों को शिक्षक, प्रशिक्षण और प्रशासनिक आधार पर वर्गीकृत करने से वेतन विसंगति उत्पन्न होगी। फिलहाल शिक्षकों को वर्गीकरण पर निर्णय लेना होगा। शिक्षकों ने वेतन विसंगति न होने की स्थिति में ही इसे स्वीकार करने पर सहमति जताई। वहीं तीन हजार नए शिक्षकों की भर्ती होने के बावजूद एक वर्ष पूर्व स्थानांतरित किए गए शिक्षकों को रिलीव न करने के मामले पर जल्द निर्णय की बात कही गई।

Monday, November 9, 2020

20 नवंबर से होंगी यूपी बोर्ड की छमाही परीक्षाएं कराने का दावा, ऑनलाइन व ऑफलाइन दोनो तरीके से होगी परीक्षा

20 नवंबर से होंगी यूपी बोर्ड की छमाही परीक्षाएं कराने का दावा, ऑनलाइन व ऑफलाइन दोनो तरीके से होगी परीक्षा


कोरोना संक्रमण काल की चुनौतियों का सामना करते हुए माध्यमिक शिक्षा विभाग ने छमाही परीक्षा की तैयारियां शुरू कर दी हैं। अभी तक किए गए होमवर्क को देखते हुए विभाग के अधिकारियों ने 20 नवंबर से छमाही परीक्षाएं शुरू कराए जाने का दावा किया है। परीक्षाएं ऑनलाइन और ऑफलाइन दोनों माध्यमों में कराई जानी हैं। ऐसे में इस बार बीते वर्षों की तुलना में पहले ही परीक्षाएं शुरू कराई जा रही हैं, जोकि दिसंबर मध्य तक चलेंगी।


राजधानी में कक्षा नौ से 12 तक करीब 600 से अधिक माध्यमिक स्कूलों हैं। इनमें विद्यार्थियों की संख्या दो लाख से अधिक है। जिले स्तर के अधिकारियों का कहना है कि बच्चों की कक्षाएं अभी ऑनलाइन संचालित की जा रही हैं। समय से आधा कोर्स पूरा हो जाए और उसकी परीक्षाएं हो जाएं, इस बात पर अभी फोकस किया जा रहा है। इसी मकसद से दीपावली के बाद 20 नवंबर से छमाही परीक्षाएं शुरू कराए जाने की तैयारी पूरी कर ली गई है।


अभिभावकों पर छोड़े गए दोनों विकल्प: जिला विद्यालय निरीक्षक डॉ मुकेश कुमार सिंह ने बताया कि कक्षा नौ से कक्षा 12 तक की छमाही परीक्षाएं ऑनलाइन और ऑफलाइन दोनों माध्यमों में कराए जाने की व्यवस्था के निर्देश दिए गए हैं। अभिभावक यदि स्कूल भेजकर अपने बच्चों को परीक्षा में शामिल कराना चाहते हैं या फिर घर से ही परीक्षा दिलाए जाने के पक्ष में हैं तो इस संबंध में स्कूल को अवगत करा दें। स्कूल की ओर से किसी तरह की कोई बाध्यता नहीं रहेगी।

Sunday, November 8, 2020

दूरदर्शन उत्तर प्रदेश (DD UP) चैनल पर यूपी बोर्ड की कक्षा- 10 व 12 हेतु शैक्षणिक प्रसारण के बारहवें चरण की समय सारिणी

दूरदर्शन उत्तर प्रदेश (DD UP) चैनल पर यूपी बोर्ड की कक्षा- 10 व 12 हेतु शैक्षणिक प्रसारण के बारहवें चरण की समय सारिणी।



Saturday, November 7, 2020

राष्ट्रीय माध्यमिक शिक्षा अभियान ( समग्र शिक्षा) अंतर्गत स्वीकृत नवीन राजकीय हाईस्कूल में कार्यरत शिक्षकों / शिक्षणेत्तर कर्मियों के वेतन आदि भुगतान हेतु धनराशि अवमुक्त

राष्ट्रीय माध्यमिक शिक्षा अभियान ( समग्र शिक्षा) अंतर्गत स्वीकृत नवीन राजकीय हाईस्कूल में कार्यरत शिक्षकों / शिक्षणेत्तर कर्मियों के वेतन आदि भुगतान हेतु धनराशि अवमुक्त।

Sunday, November 1, 2020

दूरदर्शन उत्तर प्रदेश (DD UP) चैनल पर यूपी बोर्ड की कक्षा- 10 व 12 हेतु शैक्षणिक प्रसारण के ग्यारहवें चरण की समय सारिणी

दूरदर्शन उत्तर प्रदेश (DD UP) चैनल पर यूपी बोर्ड की कक्षा- 10 व 12 हेतु शैक्षणिक प्रसारण के ग्यारहवें चरण की समय सारिणी।



Friday, October 30, 2020

महिला सम्मान की दिशा में बड़ा कदम, बेसिक और माध्यमिक शिक्षा विभाग के पाठ्यक्रम में शामिल किया जाएगा महिला सशक्तीकरण

महिला सम्मान की दिशा में बड़ा कदम, बेसिक और माध्यमिक शिक्षा विभाग के पाठ्यक्रम में शामिल किया जाएगा महिला सशक्तीकरण

 
मिशन शक्ति अभियान के तहत महिलाओं को स्वावलंबी बनाने के लिए प्रदेश सरकार कई नए कदम उठाने जा रही है। इसी क्रम में अब बेसिक और माध्यमिक शिक्षा विभाग के पाठ्यक्रम में महिला सशकक्‍्तीकरण को विषय के रूप में शामिल किया जाएगा। मुख्य सचिव ने इसके लिए विचार करने के निर्देश दिए हैं। 


महिलाओं को प्रशिक्षित कर रोजगार मुहैया कराने की जिम्मेदारी कौशल विकास विभाग को दी है। मुख्य सचिव राजेंद्र कुमार तिवारी ने गुरुवार को मिशन शक्ति अभियान की समीक्षा की। उन्होंने कहा कि महिलाओं एवं बालिकाओं की सुरक्षा, सम्मान तथा स्वावलम्बन के लिए विशेष अभियान 'मिशन शक्ति” का प्रथम चरण 25 अक्तूबर को सम्पन्न हो चुका है। द्वितीय चरण का माइक्रो प्लान तैयार कर विभाग अपनी कार्ययोजना 30 अक्तूबर तक गृह विभाग को सौंपदें। उन्होंने कहा कि छात्र-छात्राओं तथा अध्यापिकाओं को आत्मरक्षा प्रशिक्षण और शारीरिक / मानसिक यौन शोषण के विषय में विधिक के प्रति भी जागरूक किया जाए।



30 लाख अभिभावकों को जागरूक किया 
समग्र शिक्षा अभियान के तहत 34 लाख छात्राओं ने मिशन शक्ति में सहभागिता दर्ज कराई। डेढ़ लाख हाट्सएप ग्रुप के जरिए 30 लाख अभिभावकों को जोड़ा गया। सोशल डिस्टेंसिंग के पालन के साथ 6 लाख से ज्यादा बच्चों को cal कर जागरूक किया गया। बेसिक शिक्षा राज्यमंत्री डॉ. सतीश चन्द्र इस दौरान 5.50 लाख बेसिक शिक्षकों के जरिए इस कार्यक्रम की शुरुआत की थी ! मिशन शक्ति का पहला चरण 17 से 25 अक्टूबर तक चलाया गया। इन कार्यक्रमों में रिकार्ड संख्या में छात्राओं व महिलाओं ने सहभागिता दर्ज की ।

Thursday, October 29, 2020

यूपी : बेसिक, माध्यमिक, उच्च शिक्षा को एक मंच पर लाने का सुझाव

यूपी :  बेसिक, माध्यमिक, उच्च शिक्षा को एक मंच पर लाने का सुझाव

 
लखनऊ। राष्ट्रीय शिक्षा नीति के क्रियान्वयन के लिए गठित टास्क फोर्स ने प्रदेश में बेसिक, माध्यमिक, उच्च शिक्षा और प्राविधिक शिक्षा विभाग को एक मंच पर लाने का सुझाव दिया है। टास्क फोर्स ने स्नातक और स्नातकोत्तर में एक समान पाठ्यक्रम लागू करने और एकेडमिक क्रेडिट बैंक की स्थापना का सुझाव दिया है।


बुधवार को उप मुख्यमंत्री डॉ. दिनेश शर्मा की अध्यक्षता में आयोजित टास्क फोर्स की बैठक में शिक्षा नीति के क्रियान्वयन को लेकर आए सुझावों पर मंथन किया गया। बैठक में उच्च शिक्षा, प्राविधिक शिक्षा एवं व्यावसायिक शिक्षा विभाग की ओर से शिक्षा को सहज, सरल, सर्वसुलभ एवं रोजगारपरक बनाने के लिए तैयार कार्ययोजना का प्रस्तुतीकरण किया गया।


 उच्च शिक्षा विभाग की अपर मुख्य सचिव मोनिका एस. गर्ग ने स्नातक एवं स्नातकोत्तर पाठ्यक्रम निर्धारण, प्रवेश प्रक्रिया तथा एकेडमिक क्रेडिट बैंक की स्थापना, कौशल विकास को उद्योगों से जोड़ने, संबद्धता की व्यवस्था समाप्त कर महाविद्यालयों को स्वायत्तता देने और नैक का मूल्यांकन पर सुझाव दिए। डॉ. निशी पांडेय ने बहुभाषोय विवि को स्थापना के लिए तैयार मसौदे का प्रस्तुताकरण दिया। बैठक में राज्य उच्च शिक्षा परिषद के अध्यक्ष डॉ. गिरीशचंद्र त्रिपाठी, प्राविधिक एवं व्यवसायिक शिक्षा विभाग की अपर मुख्य सचिव एस. राधा चौहान, माध्यमिक शिक्षा विभाग की अपर मुख्य सचिव आराधना शुक्ला उपस्थित थे।

Monday, October 26, 2020

राज्य स्तरीय राष्ट्रीय प्रतिभा खोज परीक्षा वर्ष 2020-21 के ऑनलाइन आवेदन के सम्बंध में सम्पूर्ण जानकारी ( कक्षा 10 में पढ़ रहे विद्यार्थियों के लिए)

राज्य स्तरीय राष्ट्रीय प्रतिभा खोज परीक्षा वर्ष 2020-21 के ऑनलाइन आवेदन के सम्बंध में सम्पूर्ण जानकारी ( कक्षा 10 में पढ़ रहे विद्यार्थियों के लिए)।

राष्ट्रीय प्रतिभा खोज के अंतर्गत छात्रवृत्ति को ऑनलाइन आवेदन आरंभ: 10 नवंबर तक किया जा सकता है आवेदन।


 
प्रयागराज : राष्ट्रीय प्रतिभा खोज राज्य स्तरीय परीक्षा 2020-21 व राष्ट्रीय आय एवं योग्यता आधारित छात्रवृत्ति योजना परीक्षा 2021-22 के लिए आवेदन शुरू हो गया है। ऑनलाइन आवेदन 10 नवंबर तक चलेगा। जबकि प्रदेश के समस्त जिलों में 13 दिसंबर को परीक्षा आयोजित होगी। राष्ट्रीय प्रतिभा खोज राज्य स्तरीय परीक्षा 2020-21 के लिए किसी भी मान्यता प्राप्त स्कूल से 10वीं में पढ़ने वाले छात्र-छात्रएं आवेदन कर सकते हैं। आवेदन करते हुए एससी व एसटी वर्ग के अभ्यर्थी को 30 रुपये तथा अन्य वर्ग के अभ्यर्थियों के लिए 50 रुपये शुल्क ऑनलाइन जमा करना होगा।


आरक्षित श्रेणी में आने वाले अभ्यर्थियों को आवेदन के समय ही संबंधित प्रमाणपत्र भी अपलोड करना होगा। अन्य पिछड़ा वर्ग श्रेणी में आरक्षण का लाभ उन्हें ही मिलेगा, जिनके प्रमाण पत्र में नॉनक्रीमीलेयर का उल्लेख होगा। निदेशक मनोविज्ञानशाला ऊषा चंद्रा ने बताया कि डाक या अन्य किसी माध्यम से भेजे गए आवेदन स्वीकार नहीं किए जाएंगे।


वेबसाइट से मिलेगी जानकारी : राष्ट्रीय प्रतिभा खोज राज्य स्तरीय परीक्षा 2020-21 व राष्ट्रीय आय एवं योग्यता आधारित छात्रवृत्ति योजना परीक्षा 2021-22 के लिए समस्त जानकारी वेबसाइट  http://entdata.in/ पर उपलब्ध है। इसमें ऑनलाइन आवेदन करने व परीक्षा के संबंध में सभी जानकारी उपलब्ध है।

ऑनलाइन आवेदन का लिंक :  http://www.entdata.in

Sunday, October 25, 2020

दूरदर्शन उत्तर प्रदेश (DD UP) चैनल पर यूपी बोर्ड की कक्षा- 10 व 12 हेतु शैक्षणिक प्रसारण के दसवें चरण की समय सारिणी

दूरदर्शन उत्तर प्रदेश (DD UP) चैनल पर यूपी बोर्ड की कक्षा- 10 व 12 हेतु शैक्षणिक प्रसारण के दसवें चरण की समय सारिणी।


Monday, October 19, 2020

माध्यमिक स्कूलों का निरीक्षण करेंगे विभाग के वरिष्ठ अधिकारी, देखें जनपदवार ड्यूटी आदेश

माध्यमिक स्कूलों का निरीक्षण करेंगे विभाग के वरिष्ठ अधिकारी, देखें जनपदवार ड्यूटी आदेश

 
तकरीबन सात महीने बाद 19 अक्तूबर से कक्षा 9 से 12 तक के बच्चों के लिए खुलने जा रहे स्कूलों में दिशा-निर्देशों के अनुपालन की जांच वरिष्ठ अधिकारी करेंगे। शासन ने 35 अधिकारियों की ड्यूटी लगाई है जिनमें प्रयागराज के भी कई अफसर शामिल हैं।


अपर निदेशक माध्यमिक डॉ. महेन्द्र देव प्रयागराज के स्कूलों की जांच करेंगे। अपर निदेशक राजकीय डॉ. अंजना गोयल अलीगढ़, सचिव यूपी बोर्ड दिव्यकांत शुक्ल चित्रकूट, यूपी बोर्ड क्षेत्रीय कार्यालय प्रयागराज के अपर सचिव एसपी द्विवेदी को प्रतापगढ़ की जिम्मेदारी दी गई है।