DISTRICT WISE NEWS

अंबेडकरनगर अमरोहा अमेठी अलीगढ़ आगरा आजमगढ़ इटावा इलाहाबाद उन्नाव एटा औरैया कन्नौज कानपुर कानपुर देहात कानपुर नगर कासगंज कुशीनगर कौशांबी कौशाम्बी गाजियाबाद गाजीपुर गोंडा गोण्डा गोरखपुर गौतमबुद्ध नगर गौतमबुद्धनगर चंदौली चन्दौली चित्रकूट जालौन जौनपुर ज्योतिबा फुले नगर झाँसी झांसी देवरिया पीलीभीत फतेहपुर फर्रुखाबाद फिरोजाबाद फैजाबाद बदायूं बरेली बलरामपुर बलिया बस्ती बहराइच बागपत बाँदा बांदा बाराबंकी बिजनौर बुलंदशहर बुलन्दशहर भदोही मऊ मथुरा महराजगंज महोबा मिर्जापुर मीरजापुर मुजफ्फरनगर मुरादाबाद मेरठ मैनपुरी रामपुर रायबरेली लखनऊ लख़नऊ लखीमपुर खीरी ललितपुर वाराणसी शामली शाहजहाँपुर श्रावस्ती संतकबीरनगर संभल सहारनपुर सिद्धार्थनगर सीतापुर सुलतानपुर सुल्तानपुर सोनभद्र हमीरपुर हरदोई हाथरस हापुड़
Showing posts with label माध्यमिक शिक्षा. Show all posts
Showing posts with label माध्यमिक शिक्षा. Show all posts

Monday, May 10, 2021

कोरोना संक्रमण के दृष्टिगत शासन के निर्देश के बाद प्रदेश के समस्त माध्यमिक विद्यालयों में 20 मई तक पठन-पाठन बन्द करने सम्बंधी आदेश जारी

कोरोना संक्रमण के दृष्टिगत शासन के निर्देश के बाद प्रदेश के समस्त माध्यमिक विद्यालयों में 20 मई तक पठन-पाठन बन्द करने सम्बंधी आदेश जारी


प्रयागराज : प्रदेश में सभी माध्यमिक कालेजों व उच्च शिक्षा संस्थानों को 20 मई तक बंद कर दिया गया है। उच्च शिक्षा व माध्यमिक शिक्षा विभाग ने सोमवार को इस संबंध में आदेश जारी कर दिए हैं।

मुख्यमंत्री ने रविवार को ही कोरोना कर्फ्यू की समय सीमा बढ़ाते हुए इस संबंध में निर्देश दिए थे। माध्यमिक कालेजों व उच्च शिक्षा संस्थानों को पहले 15 मई तक बंद रखने के निर्देश थे, अब समय सीमा 20 मई तक बढ़ा दी गई है। 

इस दौरान कालेजों के परिसर में किसी भी शिक्षक, विद्यार्थी, कर्मचारी व अधिकारी की उपस्थिति नहीं रहेगी। साथ ही इस अवधि में ऑनलाइन परीक्षाएं व कक्षाएं भी स्थगित रहेंगी। ऑनलाइन कक्षाएं भी नहीं चलेंगी।


Saturday, May 8, 2021

कोरोना संक्रमण नियंत्रण में आने तक ऑनलाइन ही होगी पढ़ाई

कोरोना संक्रमण नियंत्रण में आने तक ऑनलाइन ही होगी पढ़ाई


लखनऊ। कोरोना संक्रमण नियंत्रण में आने तक बेसिक एवं माध्यमिक शिक्षा विभाग के स्कूलों में पढ़ाई ऑनलाइन ही होगी। गर्मी की छुट्टी के बाद जुलाई से ऑनलाइन क्लासेज संचालित कराने की तैयारी है। फिलहाल ऑनलाइन कक्षाएं स्थगित चल रही हैं।

 
प्रदेश सरकार ने बेसिक स्कूलों स्कूलों में 20 और माध्यमिक स्कूलों में 15 मई तक शिक्षण कार्य बंद कर रखा है। 20 मई से गर्मी की छुट्टियां शुरू हो जाएंगी।


दोनों विभाग के अधिकारियों का मानना है कि वैज्ञानिकों ने जिस प्रकार सितंबर तक कोरोना की तीसरी लहर आने और बच्चों के लिए अधिक घातक होने की जानकारी दी है, ऐसे में कक्षाओं का संचालन ऑनलाइन कराना ही उचित होगा। स्कूल शिक्षा महानिदेशक विजय किरन आनंद ने कहा कि शासन से निर्देश के बाद ऑनलाइन कक्षाएं शुरू की जाएंगी।

UP बोर्ड परीक्षा पर अभी भी असमंजस की स्थिति

UP बोर्ड परीक्षा पर अभी भी असमंजस की स्थिति


 
माध्यमिक शिक्षा विभाग 20 मई तक स्थगित हाई स्कूल और इंटरमीडिएट बोर्ड परीक्षा को लेकर असमंजस की स्थिति में है। विभाग के अधिकारी का कहना है कि संक्रमण की वर्तमान स्थिति में परीक्षा कराना संभव नहीं है। ऐसे में सीबीएसई की तर्ज पर हाई स्कूल की परीक्षा को रद्द कर इंटरमीडिएट परीक्षा ही आयोजित कराने का विचार है। 


विभाग के प्रमुख सचिव अनिल कुमार का कहना है कि ऐसा सुझाव आया है, लेकिन उस पर उप मुख्यमंत्री और मुख्यमंत्री से मार्गदर्शन लेने के बाद ही निर्णय किया जाएगा।

Wednesday, May 5, 2021

यूपी बोर्ड : परीक्षा तैयारियों पर कोरोना का ग्रहण

यूपी बोर्ड : परीक्षा तैयारियों पर कोरोना का ग्रहण



प्रयागराज : यूपी बोर्ड की हाईस्कूल व इंटरमीडिएट परीक्षा 2021 भले ही स्थगित हैं लेकिन बोर्ड मुख्यालय व क्षेत्रीय कार्यालयों में तैयारियां अनवरत चलती हैं। इधर, कोरोना संक्रमण की रफ्तार बढ़ने का असर मुख्यालय व क्षेत्रीय कार्यालयों पर पड़ा है।






अफसर से लेकर कर्मचारी तक संक्रमण का शिकार हैं। यह नौबत इसलिए आई क्योंकि बोर्ड के अधिकांश अधिकारी व कर्मचारियों की पंचायत चुनाव में ड्यूटी लगी थी। आमतौर पर पंचायत चुनाव व अन्य निर्वाचन कार्य में यूपी बोर्ड प्रशासन नहीं लगाया जाता रहा है, क्योंकि बोर्ड में हाईस्कूल व इंटर की परीक्षाओं की तैयारियां लगभग वर्ष भर चलती हैं।


 इस बार चुनिंदा अधिकारी व कर्मियों को छोड़कर अधिकांश को चुनाव की जिम्मेदारी सौंपी गई। चुनाव कराकर लौटने वाले संक्रमण का शिकार हैं या फिर घरों में आइसोलेट हैं। बोर्ड के एक उप सचिव का निधन भी हो चुका है, वहीं कई उप सचिव इन दिनों संक्रमण से जूझ रहे हैं। प्रयागराज क्षेत्रीय कार्यालय के अपर सचिव कई दिनों से अस्पताल में भर्ती हैं।

Tuesday, May 4, 2021

मांग : सहायता प्राप्त माध्यमिक स्कूलों के शिक्षकों व शिक्षणेत्तर कर्मियों को भी मिले चिकित्सा सुविधा

मांग : सहायता प्राप्त माध्यमिक स्कूलों के शिक्षकों व शिक्षणेत्तर कर्मियों को भी मिले चिकित्सा सुविधा



लखनऊ। उप्र. माध्यमिक शिक्षणेतर एसोसिएशन ने मुख्यमंत्री से सहायता प्राप्त माध्यमिक विद्यालयों के शिक्षकों एवं कर्मचारियों को भी राजकीय माध्यमिक विद्यालयों की तरह चिकित्सा सुविधा का लाभ देने की मांग की है। 


प्रांतीय महामंत्री संतोष तिवारी ने बताया कि कोरोना से हर वर्ग प्रभावित है। सहायता प्राप्त माध्यमिक विद्यालयों में कार्यरत शिक्षकों व शिक्षणेतर कर्मचारियों की सेवाएं, पदनाम और कार्य राजकीय माध्यमिक विद्यालयों में कार्यरत शिक्षकों व शिक्षणेतर कर्मचारियों के समान है। फिर भी उन्हें चिकित्सीय लाभ से बंचित किया जा रहा है।

Sunday, May 2, 2021

UP: उत्तर प्रदेश के माध्यमिक स्कूल 15 मई तक बंद, ऑनलाइन पढ़ाई भी स्थगित

UP: उत्तर प्रदेश के माध्यमिक स्कूल 15 मई तक बंद, ऑनलाइन पढ़ाई भी स्थगित


उत्तर प्रदेश के माध्यमिक शिक्षा परिषद के सभी स्कूल 15 मई तक बंद कर दिए गए हैं।

School Closed In UP कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए प्राथमिक स्कूलों के बाद अब उत्तर प्रदेश के माध्यमिक स्कूल भी 15 मई तक बंद कर दिए गए हैं। इस दौरान छात्र-छात्राओं की ऑनलाइन पढ़ाई भी स्थगित रहेगी। शिक्षक छात्र व अन्य कर्मियों को स्कूल नहीं जाना होगा।


लखनऊ । कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए प्राथमिक स्कूलों के बाद अब उत्तर प्रदेश के माध्यमिक स्कूल भी 15 मई तक बंद कर दिए गए हैं। इस दौरान छात्र-छात्राओं की ऑनलाइन पढ़ाई भी स्थगित रहेगी। शिक्षक, छात्र व अन्य कर्मियों को स्कूल नहीं जाना होगा। माध्यमिक शिक्षकों व अन्य कर्मचारियों को विभागीय कार्य घर से ही करना होगा। इन दिनों शिक्षक व कर्मचारियों को प्रशासनिक दायित्व मिलने पर पूरा करना होगा।

शासन ने कोरोना संक्रमण की स्थिति को देखते हुए पहले माध्यमिक स्कूलों को 30 अप्रैल तक बंद करने का आदेश दिया था। 20 अप्रैल को जारी शासनादेश में निर्देश हुआ था कि शिक्षक वर्क फ्रॉम होम रहते हुए छात्र-छात्राओं की ऑनलाइन पढ़ाई कराएं। शासन ने अब माध्यमिक स्कूलों को 15 मई तक बंद करने का आदेश दिया है साथ ही इस दौरान ऑनलाइन पढ़ाई भी स्थगित रहेगी। महामारी की वजह से शिक्षण कार्य बंद होने से शिक्षक व कर्मचारी विभागीय कार्य घर से ही पूरा करें। यह जरूर है कि जिला प्रशासन या फिर सक्षम प्राधिकारी की ओर से दिया गया प्रशासनिक कार्य करना होगा।