DISTRICT WISE NEWS

अंबेडकरनगर अमरोहा अमेठी अलीगढ़ आगरा आजमगढ़ इटावा इलाहाबाद उन्नाव एटा औरैया कन्नौज कानपुर कानपुर देहात कानपुर नगर कासगंज कुशीनगर कौशांबी कौशाम्बी गाजियाबाद गाजीपुर गोंडा गोण्डा गोरखपुर गौतमबुद्ध नगर गौतमबुद्धनगर चंदौली चन्दौली चित्रकूट जालौन जौनपुर ज्योतिबा फुले नगर झाँसी झांसी देवरिया पीलीभीत फतेहपुर फर्रुखाबाद फिरोजाबाद फैजाबाद बदायूं बरेली बलरामपुर बलिया बस्ती बहराइच बागपत बाँदा बांदा बाराबंकी बिजनौर बुलंदशहर बुलन्दशहर भदोही मऊ मथुरा महराजगंज महोबा मिर्जापुर मीरजापुर मुजफ्फरनगर मुरादाबाद मेरठ मैनपुरी रामपुर रायबरेली लखनऊ लख़नऊ लखीमपुर खीरी ललितपुर वाराणसी शामली शाहजहाँपुर श्रावस्ती संतकबीरनगर संभल सहारनपुर सिद्धार्थनगर सीतापुर सुलतानपुर सुल्तानपुर सोनभद्र हमीरपुर हरदोई हाथरस हापुड़
Showing posts with label मानव सम्पदा. Show all posts
Showing posts with label मानव सम्पदा. Show all posts

Sunday, April 4, 2021

जानिये मानव सम्पदा पोर्टल से कौन सी 5 मूलभूत सुविधाओं का लाभ आप उठा सकते हैं

जानिये मानव सम्पदा पोर्टल से कौन सी 5 मूलभूत सुविधाओं का लाभ आप उठा सकते हैं। 



बेसिक शिक्षा विभाग के सभी शिक्षक एवं शिक्षिकाओं एवं शिक्षणेत्तर कर्मियों से सम्बन्धित 5 मूलभूत सुविधायें मानव सम्पदा पोर्टल एवं एम्-स्थापना पर उपलब्ध है l 


1️⃣  अवकाश प्रबंधन

2️⃣  ऑनलाइन सर्विस बुक

3️⃣  ऑनलाइन स्थानांतरण व पदस्थापन

4️⃣  वेतन

5️⃣  परफार्मेंस इवैल्युएशन



● डाउनलोड पोस्टर : http://bit.ly/mSthapna


● मानव सम्पदा पोर्टल साइट : http://ehrms.upsdc.gov.in/



Sunday, March 14, 2021

एक हजार से ज्यादा शिक्षक नहीं दे रहे जानकारी, चेतावनी के बाद भी डॉक्युमेंट्स अपलोड न होने पर बीईओ का रोका जाएगा वेतन

एक हजार से ज्यादा शिक्षक नहीं दे रहे जानकारी, चेतावनी के बाद भी डॉक्युमेंट्स अपलोड न होने पर बीईओ का रोका जाएगा वेतन


वाराणसी। मानव संपदा पोर्टल पर शैक्षणिक दस्तावेज को अपलोड करने में जिले के एक हजार से ज्यादा शिक्षक रुचि नहीं ले रहे हैं। बार बार चेतावनी के बाद भी शिक्षक अपना रवैया बदलने के लिए तैयार नहीं है। बेसिक शिक्षा विभाग ने इन्हें 15 मार्च तक का समय दिया है।


इसके बाद संबंधित ब्लॉक के खंड शिक्षा अधिकारियों का वेतन रोकने की कार्रवाई बेसिक शिक्षा विभाग की ओर से की जाएगी। मानव संपदा पोर्टल पर जानकारी नहीं देने वालों में सर्वाधिक प्राइमरी विद्यालयों के प्रधानाध्यापक है। परिषदीय विद्यालयों में सहायक अध्यापकों, शिक्षामित्रों, अनुदेशकों व अनुचरों के अवकाश आवेदन की स्वीकृति और सेवा पुस्तिका के रखरखाव के लिए मानव संपदा पोर्टल से ऑनलाइन प्रणाली चार सितंबर 2019 से लागू की गई थी। तब से अब तक शासन ने कई बार विभागीय अधिकारियों को शैक्षिक अभिलेखों को पोर्टल पर अपलोड करने के निर्देश दिए जा चुके हैं, इसके बाद भी अभी भी इसकी गति धीमी है।


मानव संपदा पोर्टल पर जानकारी अपलोड नहीं करने वाले शिक्षकों को चिह्नित किया गया है। सभी खंड शिक्षा अधिकारियों को 15 मार्च तक ब्योरा अपलोड कराने के लिए निर्देश दिए गए हैं।- राकेश सिंह, बीएसए

Monday, February 8, 2021

अन्तर्जनपदीय स्थानांतरित बेसिक शिक्षक अपनी कार्यमुक्ति का स्टेटस देखें

अन्तर्जनपदीय स्थानांतरित बेसिक शिक्षक अपनी कार्यमुक्ति का स्टेटस देखें 



■  क्लिक करके देखें


इस नीचे दिए गए लिंक पर स्थानांतरित शिक्षक अपनी कार्यमुक्ति का स्टेटस देख सकते हैं।  सबसे पहले आपको अपना मानव संपदा आईडी डालकर व्यू रिपोर्ट पर क्लिक करना होगा जिसके बाद आप की फैक्ट शीट Fact Sheet(P2) ओपन हो जाएगी और आप अपनी रिलीविंग की स्थिति Posting Details में जाकर देख सकते हैं। ट्रांसफर का आपका डाटा पोर्टल पर फीड हो गया है या नहीं?

■  क्लिक करके देखें

Wednesday, January 20, 2021

नवनियुक्त बेसिक शिक्षकों के लिए मानव संपदा पोर्टल पर e-HRMS ID के रजिस्ट्रेशन हेतु आवेदन का प्रारुप

मानव संपदा पोर्टल पर e-HRMS ID के रजिस्ट्रेशन हेतु आवेदन का प्रारुप


डिस्क्लेमर : यह प्रारूप जनपद बलिया में जारी किया गया है, कृपया प्रयोग के पहले एक बार अपने जनपद स्तर पर पुष्टि अवश्य कर लें।






Monday, January 11, 2021

फतेहपुर : दफ्तरों के नहीं लगाने होंगे चक्कर, कई सुविधाओं से लैस है मानव सम्पदा पोर्टल

फतेहपुर : दफ्तरों के नहीं लगाने होंगे चक्कर, कई सुविधाओं से लैस है मानव सम्पदा पोर्टल

फतेहपुर : शासन द्वारा बेसिक शिक्षा विभाग में मानव सम्पदा पोर्टल से ऑनलाइन प्रणाली की शुरूआत करने का फैसला बेसिक शिक्षकों के लिए राहतभरा साबित हो रहा है । अब तक अपने अवकाशों के लिए कार्यालय की परिक्रमा और अफसरों की जी हुजूरी करने वाले शिक्षकों को इससे छुटकारा मिलने लगा है।


पोर्टल के जरिए अब शिक्षकों के सभी प्रकार के अवकाशों के आवेदन स्वीकृति तथा सर्विस बुक कारखरखाव किया जा रहा है। एनआईसी द्वारा तैयार किए गए पोर्टल में सूचनाएं स्वतः अपडेट होने लगी हैं। अपडेशन का जिम्मा बीई ओ व बीएसए का है । शिक्षक को एक यूजर आईडी उपलब्ध कराया गया है। यूजर आईडी के आधार पर ही बीईओ शिक्षक का परिचय पत्र बनाएंगे।

कई सुविधाओं से लैस है मानव सम्पदा पोर्टल

न केवल अवकाश बल्कि सेवा सम्बन्धी अन्य प्रक्रियाओं को सम्पादित करने की व्यवस्था पोर्टल में दी गई है। एनआईसी के सहयोग से सर्विस बुक का डिजीटाइजेशन, वेतन एवं जीपीएफ लोन आवेदन माड्यूल संचालित होने का दावा किया गया है। शिक्षकों एवं कर्मचारियों की वार्षिक गोपनीय आख्या के लिए भी एक माड्यूल शुरू हो जाएगा।

अवकाश स्वीकृति की तय की गई सीमा

महिला शिक्षकों को बड़ी राहत देते हुए शासन ने मातृत्व व बाल्य देखभाल अवकाश दो दिन में स्वीकृत करने की व्यवस्था दी है। 42 दिन तक के अवकाश बीईओ एवं अधिक दिनों का अवकाश बीएसए स्वीकृत करेंगे। आवेदन, संलग्नक, स्वीकृति एवं आपत्तियां आनलाइन माध्यम से होंगी। मेडिकल अवकाश आवेदन के दिन से ही मान्य होगा। सीसीएल फर्स्ट इन फर्स्ट आउट के सिद्धांत पर स्वीकृत होगी।

महानिदेशक ने जताई नाराजगी

बीते दिनों स्कूल शिक्षा महानिदेशक विजय किरन आनन्द ने आनलाइन आवेदनों के त्वरित व समयबद्ध निस्तारण न होने पर गहरी नाराजगी जताई थी। उन्होंने चेतावनी देते हुए कहा है कि जिस स्तर पर समयबद्ध तरीके से आवेदनों का निस्तारण नहीं होगा, उस अफसर के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। हेडमास्टर को एक साथ चार सीएल स्वीकृत करने का अधिकार भी दिया गया लेकिन धरातल पर सभी अवकाश बीईओ ही स्वीकृत कर रहे हैं।

Sunday, January 10, 2021

मदरसों शिक्षकों के नाम पर फर्जीवाड़े को लेकर सरकार सख्त, मानव सम्पदा में विवरण होगा फीड, तबादला नीति भी ला सकती है सरकार

अनुदानित मदरसा शिक्षकों डाटा होगा मानव सम्पदा पोर्टल पर फीड

मदरसों शिक्षकों के नाम पर फर्जीवाड़े को लेकर सरकार सख्त, मानव सम्पदा में विवरण होगा फीड, तबादला नीति भी ला सकती है सरकार


उत्तर प्रदेश सरकार मदरसा शिक्षकों की गड़बड़ियों को रोकने के लिए अहम कदम उठाने जा रही है। अब सरकार मदरसा शिक्षकों का विवरण मानव संपदा पोर्टल पर फीड करा रही है। इससे सभी मदरसा शिक्षकों का विवरण एक स्थान पर मिल जाएगा।


सरकार मदरसा शिक्षकों के लिए तबादला नीति भी ला सकती है। इससे न सिर्फ पारदर्शिता आएगी बल्कि मदरसा शिक्षा में भी सुधार होगा।


शिक्षकों का विवरण मानव संपदा पोर्टल पर होगा फीड
उत्तर प्रदेश में 560 अनुदानित मदरसे हैं। इनमें नौ हजार शिक्षक पढ़ाते हैं। इनका वेतन प्रदेश सरकार देती है। पहले चरण में अनुदानित मदरसा शिक्षकों का विवरण मानव संपदा पोर्टल पर फीड किया जाएगा।


इसके बाद दूसरे चरण में मान्यता प्राप्त अन्य मदरसा शिक्षकों के विवरण ऑनलाइन किए जाएंगे। इससे वे मदरसा शिक्षक भी पकड़ में आ जाएंगे, जो एक साथ कई मदरसों में काम कर रहे हैं। कई बार मदरसा प्रबंधक मान्यता लेने के लिए दूसरे मदरसों के शिक्षकों को अपने यहां दिखा देते हैं। इस पर भी नई व्यवस्था में लगाम लग सकेगी।


लखनऊ : प्रदेश सरकार मदरसा शिक्षकों की गड़बड़ियां रोकने के लिए अहम कदम उठाने जा रही है। अब सरकार मदरसा शिक्षकों का विवरण मानव संपदा पोर्टल पर फीड करा रही है। इससे सभी मदरसा शिक्षकों का विवरण एक स्थान पर मिल जाएगा। सरकार मदरसा शिक्षकों के लिए तबादला नीति भी ला सकती है। इससे न सिर्फ पारदर्शिता आएगी, बल्कि मदरसा शिक्षा में भी सुधार होगा।




प्रदेश में 560 अनुदानित मदरसे हैं। इनमें नौ हजार शिक्षक पढ़ाते हैं। इनका वेतन प्रदेश सरकार देती है। पहले चरण में अनुदानित मदरसा शिक्षकों का विवरण मानव संपदा पोर्टल पर फीड किया जाएगा। इसके बाद दूसरे चरण में मान्यता प्राप्त अन्य मदरसा शिक्षकों के विवरण ऑनलाइन किए जाएंगे। इससे वे मदरसा शिक्षक भी पकड़ में आ जाएंगे, जो एक साथ कई मदरसों में काम कर रहे हैं। कई बार मदरसा प्रबंधक मान्यता लेने के लिए दूसरे मदरसों के शिक्षकों को अपने यहां दिखा देते हैं।