DISTRICT WISE NEWS

अंबेडकरनगर अमरोहा अमेठी अलीगढ़ आगरा आजमगढ़ इटावा इलाहाबाद उन्नाव एटा औरैया कन्नौज कानपुर कानपुर देहात कानपुर नगर कासगंज कुशीनगर कौशांबी कौशाम्बी गाजियाबाद गाजीपुर गोंडा गोण्डा गोरखपुर गौतमबुद्ध नगर गौतमबुद्धनगर चन्दौली चित्रकूट जालौन जौनपुर ज्योतिबा फुले नगर झाँसी झांसी देवरिया पीलीभीत फतेहपुर फर्रुखाबाद फिरोजाबाद फैजाबाद बदायूं बरेली बलरामपुर बलिया बस्ती बहराइच बागपत बाँदा बांदा बाराबंकी बिजनौर बुलंदशहर बुलन्दशहर भदोही मऊ मथुरा महराजगंज महोबा मिर्जापुर मीरजापुर मुजफ्फरनगर मुरादाबाद मेरठ मैनपुरी रामपुर रायबरेली लखनऊ लख़नऊ लखीमपुर खीरी ललितपुर वाराणसी शामली शाहजहाँपुर श्रावस्ती संतकबीरनगर संभल सहारनपुर सिद्धार्थनगर सीतापुर सुलतानपुर सुल्तानपुर सोनभद्र हमीरपुर हरदोई हाथरस हापुड़
Showing posts with label यूपी बोर्ड. Show all posts
Showing posts with label यूपी बोर्ड. Show all posts

Monday, June 29, 2020

यूपी बोर्ड : स्क्रूटनी के लिए 22 जुलाई तक होंगे आवेदन

यूपी बोर्ड : स्क्रूटनी के लिए 22 जुलाई तक होंगे आवेदन।


प्रयागराज :  यूपी बोर्ड की हाईस्कूल-इंटरमीडिएट परीक्षा 2020 की उत्तर पुस्तिकाओं की स्क्रूटनी के लिए यूपी बोर्ड की वेबसाइट upmsp.edu.in पर 22 जुलाई तक ऑनलाइन आवेदन स्वीकार किए जाएंगे।





परीक्षार्थियों की ओर से ऑनलाइन आवेदन एवं बोर्ड कार्यालय में सीधे आवेदन स्वीकार नहीं किए जाएंगे। यूपी बोर्ड प्रयागराज क्षेत्रीय कार्यालय के अपर सचिव शिव प्रकाश द्विवेदी के मुताबिक अपूर्ण एवं निर्धारित तिथि के बाद किसी भी स्थित में आवेदन स्वीकार नहीं होंगे।




 व्हाट्सप के जरिये जुड़ने के लिए क्लिक करें।

Sunday, June 28, 2020

यूपी बोर्ड परीक्षा परिणाम आज, ऐसे चेक करें यूपी बोर्ड 10वीं और 12वीं के रिजल्ट

■    यूपी बोर्ड परीक्षा परिणाम आज, ऐसे चेक करें यूपी बोर्ड 10वीं और 12वीं के रिजल्ट


● पहले इसके लिए यूपी बोर्ड की वेबसाइट upresults.nic.in पर जाएं
● यहां 10वीं या 12वीं एग्जाम रिजल्ट पर क्लिक करें
● इसके बाद अपना रोल नंबर यहां इंटर करें
● फिर आपका रिजल्ट स्क्रीन पर आ जाएगा
● रिजल्ट देखने के बाद स्क्रीन का प्रिंट अवश्य लें
● यूपी बोर्ड की वेबसाइट व अन्य जानकारी


उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षा परिषद की 10वीं और 12वीं का रिजल्ट  आज 27 जून घोषित होगा। स्टूडेंट अपना रिजल्ट यूपी बोर्ड की आधिकारिक वेबसाइट पर जाकर चेक कर पाएंगे, जिनकी जानकारी नीचे दी गई है।

◆ बोर्ड का नाम : उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षा परिषद
◆ परीक्षा का नाम : कक्षा 10वीं/12वीं का बोर्ड एग्जाम
◆ आधिकारिक वेबसाइट : upmsp.nic.in
◆ रिजल्ट की वेबसाइट : upresults.nic.in

यूपी बोर्ड की हाईस्कूल और इंटर परीक्षा का परिणाम शनिवार को उपमुख्यमंत्री डॉ. दिनेश शर्मा लखनऊ में घोषित करेंगे। इसी के साथ परीक्षा में शामिल 50 लाख से अधिक छात्र-छात्राओं का इंतजार खत्म हो जाएगा। इस बार 10वीं-12वीं की परीक्षा एक साथ 18 फरवरी को शुरू हुई थी। 10वीं की परीक्षा 3 मार्च को इंटर की परीक्षा 6 मार्च को समाप्त हुई थी। की परीक्षा में हाईस्कूल के 3022607 और इंटर के 2584511 कुल 5607118 छात्र-छात्राएं पंजीकृत थे। इनमें से पांच लाख से अधिक परीक्षार्थियों ने बीच में ही पेपर छोड़ दिया था। इससे पहले 2019 में 10वीं व 12वीं में 5795756 परीक्षार्थी पंजीकृत थे। इस लिहाज से 2020 की परीक्षा में 188638 परीक्षार्थियों की कमी हुई थी। परीक्षा के लिए 7784 केंद्र बनाए गए थे जो 2019 की तुलना में 570 कम था। इस बार 1 जुलाई 2019 को ही परीक्षा का टाइम टेबल घोषित कर दिया गया था।


लखनऊ/प्रयागराज। यूपी बोर्ड की 10वीं एवं 12वीं की परीक्षा का परिणाम आज 27 जून को दोपहर 12:30 बजे यहां लोक भवन में जारी किया जाएगा। उप मुख्यमंत्री डॉ. दिनेश शर्मा यह परिणाम जारी करेंगे। परीक्षा में इस बार 51 लाख से अधिक 51 लाख से परीक्षा थीं शामिल हुए थे। परिणाम बोर्ड अधिक मात्रा ने दी है परीक्षा की वेबसाइट पर अपलोड कर दिया जाएगा।


 इस बार इंटरमीडिएट में एक विषय में फेल होने वाले परीक्षार्थी को पहली बार कंपार्टमेंट में शामिल होने का मौका मिलेगा। बोर्ड की ओर से कोरोना संक्रमण के चलते पहली बार ही परीक्षार्थियों डिजिटल हस्ताक्षर वाले अंकपत्र एवं प्रमाण पत्र जारी किए जा रहे हैं। डिजिटल हस्ताक्षर वाले प्रमाण पत्र, प्रवेश लेने से लेकर नौकरी तक में मान्य होंगे। 


लखवऊ । UP board result 2020 : उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षा परिषद (यूपी बोर्ड) की हाईस्कूल और इंटरमीडिएट परीक्षा 2020 का परिणाम 27 जून को एक साथ घोषित होगा। यूपी बोर्ड  हाईस्कूल और इंटरमीडिएट परीक्षा का रिजल्ट यूपी बोर्ड मुख्यालय पर शनिवार को दोपहर 12.30 बजे जारी होगा। इसकी सारी तैयारियां पूरी की जा रही हैं। यह परिणाम दिल्ली में भी रफी मार्ग आइएनएस बिल्डिंग से भी उसी समय जारी होगा। स्टूडेंट्स रिजल्ट जारी होने के बाद यूपी बोर्ड की आधिकारिक वेबसाइट upmsp.edu.in और upresults.nic.in पर देख सकेंगे।


यूपी बोर्ड ने इस वर्ष 10वीं की परीक्षा 18 फरवरी 2020 से 3 मार्च 2020 के मध्य सफलता पूर्वक पूरी कराई थी, जबकि 12वीं की परीक्षा 18 फरवरी 2020 से 6 मार्च 2020 के बीच कराई गई थी।परीक्षा में 56 लाख परीक्षार्थी शामिल हुए थे, जिसमें हाईस्कूल के 30,22,607 परीक्षार्थी और इंटरमीडिएट के 25,84,511 परीक्षार्थी थे। इन परीक्षार्थियों के लिए प्रदेश भर में 7784 परीक्षा केंद्र बनाए गए। प्रत्येक परीक्षा केंद्रों पर सीसीटीवी कैमरे लगाए गए थे। इस बार बोर्ड परीक्षाओं की निगरानी के लिए प्रदेश भर में कुल 19 लाख कैमरे लगाए गए। इसके साथ ही इस परीक्षा के लिए 1.88 लाख कक्ष निरीक्षक नियुक्त किये गए। इन्हें परीक्षा केंद्र पर अपने पहचानपत्र और आधार कार्ड के साथ ड्यूटी करने को कहा गया था।


परीक्षा में पहले से ज्यादा बरती गई सख्ती : यूपी बोर्ड के अनुसार, इस बार परीक्षा में पहले से ज्यादा सख्ती बरती गई। सभी परीक्षा केंद्रों को सीसीटीवी कैमरा, वॉयस रिकॉर्डर, ब्रॉडबैंड, राउटर जैसी तकनीकों से लैस किया गया था। हर जिले में एक मॉनिटरिंग सेल बनाया गया था, जिसे लखनऊ में शिक्षा निदेशक के कार्यालय से जोड़ा गया था। पूरी परीक्षा स्पेशल टास्क फोर्स, जिलाधिकारी और पुलिस की देखरेख में संपन्न कराई गई।


रंगीन उत्तर पुस्तिकाओं का उपयोग : उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षा परिषद (यूपी बोर्ड) की हाईस्कूल और इंटरमीडिएट परीक्षा में इस बार परीक्षा की कॉपियों को चार रंगों में बनवाई थी। ये कॉपियां नीला, पीला, हरा और गुलाबी रंग की थीं। इसके साथ ही बोर्ड परीक्षा की कॉपियों में क्रमांक भी दर्ज किये गए थे। इसका उद्देश्य परीक्षा को नकलविहीन बनाना था। उत्तर पुस्तिकाओं में क्रमांक दर्ज होने से इन्हें बाहरी कॉपियों से बदला नहीं जा सका।

UP Board result : फर्स्ट डिवीजन वालों की संख्या बढ़ी, आधे से अधिक सेकेंड डिवीजन में पास


UP Board result : फर्स्ट डिवीजन वालों की संख्या बढ़ी, आधे से अधिक सेकेंड डिवीजन में पास


यूपी बोर्ड की इंटरमीडिएट परीक्षा प्रथम श्रेणी में पास करने वाले परीक्षार्थियों की संख्या इस बार और भी बढ़ गई है। जबकि द्वितीय और तृतीय श्रेणी में परीक्षा पास करने वालों की संख्या में कमी आई है। ससम्मान परीक्षा पास करने वाले परीक्षार्थियों में इस वर्ष गत वर्ष की तुलना में मामूली कमी आई है।


3.41 प्रतिशत ससम्मान हुए पास
इस बार इंटर की परीक्षा के लिए पंजीकृत 25,86,339 परीक्षार्थियों में से 24,84,479 परीक्षा में शामिल हुए थे। इनमें से 18,54,099 परीक्षार्थियों को सफलता मिली है। सफल होने वाले इन परीक्षार्थियों में से 63,193 यानी 3.41 प्रतिशत ससम्मान पास हुए हैं। ससम्मान पास होने वाले परीक्षार्थियों की संख्या में पिछले वर्ष की तुलना में 0.05 प्रतिशत की मामूली कमी हुई है। पिछले वर्ष 3.46 प्रतिशत परीक्षार्थी ससम्मान पास हुए थे।


33.91 प्रतिशत प्रथम श्रेणी में पास
इंटर में सफलता पाने वाले 18,54,099 परीक्षार्थियों में से 6,28,734 परीक्षार्थियों ने प्रथम श्रेणी के साथ परीक्षा पास की है। यह संख्या कुल परीक्षार्थियों का 33.91 प्रतिशत है। प्रथम श्रेणी में परीक्षा पास करने वालों की संख्या पिछले वर्ष के मुकाबले 1.94 प्रतिशत बढ़ी है। 2019 में सफलता पाने वाले 16,47,919 परीक्षार्थियों में से 5,26,896 यानी 31.97 प्रतिशत परीक्षार्थियों ने प्रथम श्रेणी के साथ परीक्षा पास की थी।


आधे से अधिक सेकेंड डिवीजन में पास
इंटर में पास हुए 18,54,099 परीक्षार्थियों में से 53.62 प्रतिशत परीक्षार्थियों को सेकेंड डिवीजन मिला है। सेकेंड डिवीजन से पास होने वाले परीक्षार्थियों की कुल संख्या 9,94,161 है। गत वर्ष की तुलना में इस श्रेणी में पास होने वाले परीक्षार्थियों की संख्या में मामूली यानी 0.03 प्रतिशत की कमी आई है। पिछले वर्ष परीक्षा में 16,47,919 परीक्षार्थियों में से 53.65 प्रतिशत को सेकेंड डिवीजन मिला था।


6.55 फीसदी को मिली तृतीय श्रेणी
इस वर्ष सिर्फ 6.55 प्रतिशत परीक्षार्थी ही तृतीय श्रेणी में सफल हुए हैं। इंटर में पास हुए 1854099 परीक्षार्थियों में से 121528 तृतीय श्रेणी में पास हुए हैं । तृतीय श्रेणी में पास होने वाले परीक्षार्थियों की संख्या पिछले वर्ष की तुलना में 1.38 प्रतिशत कम हुई है। पिछले वर्ष 7.14 प्रतिशत परीक्षार्थी तृतीय श्रेणी में पास हुए थे।


2.51 प्रतिशत ग्रेस मार्क्स से पास
इस वर्ष 46,483 परीक्षार्थी ऐसे हैं, जिन्हें ग्रेस मार्क देकर पास किया गया है। यह संख्या परीक्षा में शामिल कुल परीक्षार्थियों का 2.51 प्रतिशत है। पिछले वर्ष की तुलना में ग्रेस मार्क्स के साथ पास होने वाले परीक्षार्थियों की संख्या कम हुई है। पिछले वर्ष 49,255 यानी 2.99 प्रतिशत परीक्षार्थी ग्रेस मार्क से पास हुए थे।

UP Board Result 2020: मातृभाषा हिंदी में उत्तीर्ण की बिंदी नहीं लगा सके आठ लाख मेधावी, सभी फेल


UP Board Result 2020: मातृभाषा हिंदी में उत्तीर्ण की बिंदी नहीं लगा सके आठ लाख मेधावी, सभी फेल


UP Board Result 2020परीक्षाओं के करीब आठ लाख परीक्षार्थी सिर्फ इसलिए फेल हो गए हैं क्योंकि वे हिंदी विषय में उत्तीर्ण की बिंदी नहीं लगा सके हैं। ...

प्रयागराज । प्यारी हिंदी, हमारी हिंदी का नारा विशेष दिवस पर खूब गूंजता है। मातृभाषा के प्रति विशेष लगाव शायद नारों तक ही सिमट कर रह गया है, प्यारी हिंदी को हम सब वैसा प्यार नहीं करते जिसकी उसे दरकार है। यूपी बोर्ड की हाईस्कूल व इंटर का परीक्षा परिणाम इसकी पुष्टि कर रहा है। दोनों परीक्षाओं के करीब आठ लाख परीक्षार्थी सिर्फ इसलिए फेल हो गए हैं, क्योंकि वे हिंदी विषय में उत्तीर्ण की बिंदी नहीं लगा सके हैं। बोर्ड की ओर से जारी हिंदी विषय का यह आंकड़ा शर्मसार करने वाला है, क्योंकि उत्तर प्रदेश हिंदी पट्टी का अहम व देश में आबादी के हिसाब से सबसे बड़ा राज्य है।


यूपी बोर्ड ने हाईस्कूल व इंटर का विषयवार परिणाम जारी किया है। इंटर की हिंदी परीक्षा में 1,08,207 व सामान्य हिंदी में 1,61,753 सहित कुल 2,69,960 परीक्षार्थी अनिवार्य प्रश्नपत्र में उत्तीर्ण होने लायक अंक नहीं ला पाए। ऐसे ही हाईस्कूल की हिंदी परीक्षा में 5,27,680 व प्रारंभिक हिंदी में 186 सहित कुल 5,27,866 परीक्षार्थी फेल हुए हैं। दोनों परीक्षाओं में कुल 7,97,826 परीक्षार्थी अनुत्तीर्ण हैं। ये वे परीक्षार्थी हैं, जो हिम्मत जुटाकर परीक्षा में शामिल हुए थे। हैरत यह भी है कि पिछले वर्ष की अपेक्षा इस बार हाईस्कूल में फेल होने वालों की संख्या बढ़ी है, जबकि इंटर के हिंदी विषय में फेल होने वालों का आंकड़ा तेजी से घटा है। वैसे भी इंटर के परीक्षार्थियों को हाईस्कूल की अपेक्षा अधिक परिपक्व माना जाता है। ज्ञात हो कि मातृभाषा में अनुत्तीर्ण होने वालों का इतना खराब परिणाम पहली बार नहीं आया है, बल्कि पिछले साल तो फेल होने वालों की तादाद दस लाख को पार गई थी।


दोनों परीक्षाओं में मातृभाषा हिंदी की परीक्षा देना अनिवार्य है और इसका असर पूरे परीक्षा परिणाम पर पर पड़ता है लेकिन, इस पर शिक्षक गंभीर हैं न परीक्षार्थी और न ही उनके अभिभावक, क्योंकि हर साल हिंदी में फेल होने वालों की तादाद लाखों में रहती है।


यही नहीं दोनों परीक्षाओं में 2,91,793 परीक्षार्थी शामिल होने तक का साहस नहीं जुटा सके। बोर्ड के अनुसार हाईस्कूल के हिंदी विषय में 1,43,246 व प्रारंभिक हिंदी में 1745 सहित कुल 1,43,306 और इंटर के हिंदी 56,092 व सामान्य हिंदी विषय में 92,395 सहित कुल 1,48,487 ने परीक्षा से ही किनारा कर लिया। इस तरह देखा जाए तो हाईस्कूल व इंटर परीक्षा से हिंदी में फेल व किनारा करने वालों की तादाद 10 लाख 89 हजार 619 है। 

यूपी बोर्ड : पहली बार स्क्रूटनी के लिए मांगे ऑनलाइन आवेदन, 500 रुपए प्रति प्रश्नपत्र की दर से देनी होगी फीस

यूपी बोर्ड : पहली बार स्क्रूटनी के लिए मांगे ऑनलाइन आवेदन, 500 रुपए प्रति प्रश्नपत्र की दर से देनी होगी फीस।

प्रयागराज। यूपी बोर्ड की हाईस्कूल और इंटर के परीक्षा परिणाम से असंतुष्ट छात्र छात्र 22 जुलाई तक स्क्रूटनी के लिए आवेदन कर सकते हैं। परीक्षार्थियों की सुविधा के लिए बोर्ड ने पहली बार ऑनलाइन आवेदन मांगे हैं। सचिव नीना श्रीवास्तव ने बताया कि स्क्रूटनी संबंधी आवश्यक निर्देश बोर्ड की वेबसाइट पर उपलब्ध हैं।




 परीक्षार्थी आवेदित विषयों के लिए निर्धारित फीस चालान के माध्यम से राजकीय कोषागार में जमा करेंगे। ऑनलाइन भरे आवेदन का विवरण प्रिंट आउट के साथ स्क्रूटनी के लिए जमा मूल चालान पत्र को सत्यापन के लिए संलग्न कर रजिस्टर्ड डाक से संबंधित क्षेत्रीय कार्यालय को निर्धारित तिथि 22 जुलाई तक भेजेंगे। स्क्रूटनी के लिए 500 रुपये प्रति प्रश्न पत्र की दर से (लिखित एवं प्रयोगात्मक खंड के लिए अलग-अलग) फीस देनी होगी।


 व्हाट्सप के जरिये जुड़ने के लिए क्लिक करें।

यूपी बोर्ड : इम्प्रूवमेंट परीक्षा देने के लिए 3,27,663 को मिलेगा अवसर

यूपी बोर्ड : इम्प्रूवमेंट परीक्षा देने के लिए 3,27,663 को मिलेगा अवसर।

यूपी बोर्ड : इम्रुवमेंट परीक्षा देने के लिए 3,27,663 को मिलेगा अवसर।


प्रयागराज : यूपी बोर्ड ने हाईस्कूल व इंटरमीडिएट का परिणाम घोषित करने के साथ ही हाईस्कूल की पूनम और कंपार्टमेंट परीक्षा के लिए अर्ह पाए गए परीक्षार्थियों की संख्या भी जारी कर दी है। इस बार 3,27,663 परीक्षार्थी इंप्रूवमेंट और 711 कंपार्टमेंट परीक्षा देंगे। इस वर्ष इंटर में चार विषयों में उत्तीर्ण अभ्यर्थी भी कंपार्टमेंट की परीक्षा दे सकेंगे, यानी जो एक विषय में फेल हैं वे कंपार्टमेंट परीक्षा दनक हकदार है। इंप्रूवमेंट परीक्षा के लिए वे परीक्षार्थी अहं होते हैं जो हाईस्कूल के छह में से पांच विषय ही उत्तीर्ण कर पाते हैं। हालांकि बोर्ड उन्हें उत्तीर्ण मानते हुए प्रमाणपत्र जारी कर देता है, लेकिन छठवें विषय में भी व उत्तीर्ण होना चाहें तो उसकी परीक्षा दे सकते हैं। जबकि 2019 में इंप्रूवमेंट के लिए परीक्षार्थियों की संख्या 3,69,876 थी। इससे पहले 2018 में ऐसे परीक्षार्थियों की संख्या 357900 और 2017 में 563033 थी। इंप्रूवमेंट देने वालों में प्रयागराज क्षेत्रीय कार्यालय के अंतर्गत सबसे अधिक परीक्षार्थी हैं। यूपी बोर्ड के क्षेत्रीय कार्यालय मेरठ के अंतर्गत 63244, बरेली कार्यालय के अंतर्गत 37176, प्रयागराज क्षेत्रीय कार्यालय के अंतर्गत 101149, वाराणसी कार्यालय के अंतर्गत 84967 तथा गोरखपुर कार्यालय के अंतर्गत 41127 छात्रों को पेमेंट परीक्षा का अवसर मिलेगा। यूपी बोर्ड कार्यालय के अनुसार कंपार्टमेंट परीक्षा के लिए वह अभ्यर्थी अर्ह होते हैं जो छह में चार विषयों में ही पास हो पाते हैं। जिन दो विषयों में अनुत्तीर्ण हो जाते हैं उन्हें किसी एक विषय को पास करने के लिए कंपार्टमेंट परीक्षा में शामिल होने का मौका मिलता है। इस बार 711 परीक्षार्थी कंपार्टमेंट के लिए अर्ह माने गए हैं। इसमें क्षेत्रीय कार्यालय मेरठ के अंतर्गत 86,बरेली कार्यालय के अंतर्गत 38, प्रयागराज क्षेत्रीय कार्यालय के अंतर्गत 152, वाराणसी कार्यालय के अंतर्गत 327 तथा गोरखपुर कार्यालय के अंतर्गत 108 छात्र हैं। वर्ष 2018 में कंपार्टमेंट परीक्षा के लिए 736 और 2017 में 2490 परीक्षार्थी अर्ह थे। वहीं इस बार क्रेडिट के लिए 421170 परीक्षार्थी अहं पाए गए हैं। इसमें क्षेत्रीय कार्यालय मेरठ के 63640, बरेली के 38189, प्रयागराज के 111695, वाराणसी के 135103 व गोरखपुर के 72543 परीक्षार्थी शामिल हैं। वहीं, वर्ष 2019 में 505544 परीक्षार्थी क्रेडिट परीक्षा के लिए अर्ह थे। जबकि 2018 में ऐसे परीक्षार्थियों की संख्या 525100 और 2017 में 619353 थी।

सहूलियत

• मूवमेंट देने वालों में सबसे अधिक प्रयागराज क्षेत्र के परीक्षार्थी

एक विषय में फेल इंटर के परीक्षार्थी दे सकेगे कंपार्टमेंट परीक्षा

........





इंटर के 37017 छात्र-छात्राएं देंगे कम्पार्टमेंट परीक्षा, यूपी बोर्ड ने इस साल से दी है यह सुविधा।


इंटर के 35017 छात्र कम्पार्टमेंट परीक्षा देंगे। यूपी बोर्ड ने इस साल से इंटर के छात्र-छात्राओं के लिए यह सुविधा दी है। ये सभी छात्र एक विषय में फेल हैं और कम्पार्टमेंट देकर पास हो सकते हैं। हालांकि अभी कम्पार्टमेंट परीक्षा की तारीख तय नहीं हो सकी है। इसका प्रस्ताव शासन को भेजा गया है।




 व्हाट्सप के जरिये जुड़ने के लिए क्लिक करें।