DISTRICT WISE NEWS

अंबेडकरनगर अमरोहा अमेठी अलीगढ़ आगरा आजमगढ़ इटावा इलाहाबाद उन्नाव एटा औरैया कन्नौज कानपुर कानपुर देहात कानपुर नगर कासगंज कुशीनगर कौशांबी कौशाम्बी गाजियाबाद गाजीपुर गोंडा गोण्डा गोरखपुर गौतमबुद्ध नगर गौतमबुद्धनगर चंदौली चन्दौली चित्रकूट जालौन जौनपुर ज्योतिबा फुले नगर झाँसी झांसी देवरिया पीलीभीत फतेहपुर फर्रुखाबाद फिरोजाबाद फैजाबाद बदायूं बरेली बलरामपुर बलिया बस्ती बहराइच बागपत बाँदा बांदा बाराबंकी बिजनौर बुलंदशहर बुलन्दशहर भदोही मऊ मथुरा महराजगंज महोबा मिर्जापुर मीरजापुर मुजफ्फरनगर मुरादाबाद मेरठ मैनपुरी रामपुर रायबरेली लखनऊ लख़नऊ लखीमपुर खीरी ललितपुर वाराणसी शामली शाहजहाँपुर श्रावस्ती संतकबीरनगर संभल सहारनपुर सिद्धार्थनगर सीतापुर सुलतानपुर सुल्तानपुर सोनभद्र हमीरपुर हरदोई हाथरस हापुड़
Showing posts with label यूपीटेट. Show all posts
Showing posts with label यूपीटेट. Show all posts

Friday, April 16, 2021

UPTET : यूपीटीईटी की ऑनलाइन कोचिंग की हुई शुरुआत

UPTET : यूपीटीईटी की ऑनलाइन कोचिंग की हुई शुरुआत


प्रदेश सरकार की ओर से गरीब व पिछड़े वर्ग के अभ्यर्थियों के लिए संचालित की गई निःशुल्क अभ्युदय कोचिंग की तर्ज पर निदेशक बेसिक शिक्षा के संरक्षण में उप शिक्षा निदेशक/प्राचार्य, जिला शिक्षा एवं प्रशिक्षण संस्थान लखनऊ के निर्देशन में निःशुल्क यूपी टीईटी की ऑनलाइन कक्षाओं की शुरूआत हो गयी है। गुरुवार को इसकी शुरूआत निदेशक डॉ सर्वेन्द्र विक्रम बहादुर किया। इस बारे में बताया गया कि टीईटी की तैयारी के लिए डायट लखनऊ की ओर से विषयवार प्रतिमाह 6 वीडियो का निर्माण किया जाएगा। 25 जुलाई तक कुल 24 वीडियो विषयवार विडीओज़ निर्मित किए जाएंगे। आगामी 20 अप्रैल को शुरुआती तौर पर निःशुल्क ऑनलाइन कक्षाओं के लिए रजिस्टर्ड लगभग 350 अभ्यर्थियों के लिए प्रारंभिक परीक्षा हेतु मॉडल क्वेश्चन पेपर पर आधारित टेस्ट की शुरूआत होगी। डॉयट की टीम की ओर से एक दर्जन विषय वार मॉडल पेपर तैयार किए जाएंगे। साथ ही साथ 10 क्विज भी कराए जाने की योजना बनाई गई है।




350 गरीब अभ्यर्थियों को मिलेगा लाभ

इस अवसर पर डॉक्टर पवन सचान उप शिक्षा निदेशक / प्राचार्य डायट लखनऊ द्वारा अवगत कराया गया कि अब तक उनकी टीम के द्वारा जनपद लखनऊ एवं अन्य जनपदों के 350 से अधिक अभ्यर्थियों को निःशुल्क कोचिंग एवं रीडिंग मटेरियल उपलब्ध कराने हेतु रजिस्टर्ड किया जा चुका है। अभी कई अभ्यर्थियों की ओर से रजिस्ट्रेशन के लिए अनुरोध किया जा रहा है। इस हेतु उन्हें डायट लखनऊ के यूट्यूब चैनल डॉयट लखनऊ के माध्यम से एवं वेबसाइट www. dietlucknow.org के माध्यम से जोड़ने का प्रयास किया जा रहा है।

Tuesday, April 6, 2021

UPTET : यूपी में IAS - IPS की तरह टीईटी के लिए भी फ्री कोचिंग

यूपीटीईटी अभ्यर्थियों को 15 अप्रैल से डायट में नि:शुल्क ऑनलाइन कोचिंग

UPTET : यूपी में IAS - IPS की तरह टीईटी के लिए भी फ्री कोचिंग


मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ सरकार द्वारा प्रशासनिक सेवाओं में जाने की चाह रखने वाले युवाओं के लिए शुरू की गई अभ्युदय कोचिंग की तर्ज पर बेसिक शिक्षा विभाग भी सभी डायट में टीईटी अभ्यर्थियों के लिए निशुल्क कोचिंग शुरू करेगा। जहां पर विशेषज्ञ टीईटी की बेहतर तैयारी के गुर छात्रों को सिखाएंगे। 

विभाग के अनुसार 15 अप्रैल से कोचिंग शुरू करने की तैयारी है। इससे 2000 से अधिक छात्रों को फायदा मिलेगा। सरकार प्रतियोगी छात्रों के सपने पूरा करने के लिए प्रतिबद्धता से काम कर रही है।  हाल में ही प्रदेश सरकार ने अभ्युदय कोचिंग शुरू की है। इसमें विषय विशेषज्ञों के साथ प्रशासनिक अधिकारी भी छात्रों को परीक्षा क्रेक करने के गुर सिखा रहे हैं। 


ऑफलाइन चलेगी कोचिंग 
जिला शिक्षण एवं प्रशिक्षण संस्थान के प्राचार्य डॉ, पवन सचान ने बताया कि टीईटी अभ्यर्थियों के लिए कोचिंग ऑफलाइन चलाने की योजना है। कोरोना संक्रमण में कमी नहीं आई तो फिर ऑनलाइन कोचिंग चलाई जाएगी। एक बैच में करीब 120 अभ्यर्थियों को नि:शुल्क कोचिंग दी जाएगी।


अभ्युदय कोचिंग की तर्ज पर राज्य शिक्षक पात्रता परीक्षा (टीईटी)-2020 के अभ्यर्थियों को सभी जिला शिक्षण एवं प्रशिक्षण संस्थान (डायट) में निशुल्क कोचिंग दी जाएगी। इस दौरान विषय विशेषज्ञ टीईटी के पाठ्यक्रम का प्रशिक्षण देंगे। हालांकि कोरोना संक्रमण के चलते 15 अप्रैल से ऑनलाइन कोचिंग दी जाएगी। योगी सरकार की इस योजना से हजारों अभ्यर्थियों को लाभ होगा। प्रदेश सरकार के प्रवक्ता ने बताया कि प्रदेश के सभी 75 जिलों में स्थित डायट में निशुल्क कोचिंग शुरू करने की तैयारी है। 


जिला शिक्षण एवं प्रशिक्षण संस्थान लखनऊ के प्राचार्य डॉ. पवन सचान ने बताया कि ऑफलाइन मोड में एक बैच में लगभग 120 अभ्यर्थियों को निशुल्क कोचिंग दी जाएगी। लेकिन कोरोना संक्रमण बढ़ने पर अभी ऑनलाइन कोचिंग चलाने की तैयारी है। इसके अलावा डायट के यू ट्यूब पर टीईटी की तैयारी संबंधी वीडियो अपलोड किए जाएंगे। इसके बाद भी अगर किसी अभ्यर्थी को कोई संशय है तो विशेषज्ञ इसे ऑनलाइन माध्यम से दूर करेंगे।

Thursday, February 18, 2021

अब क्लास 1 से 12 तक के स्कूल टीचर बनने के लिए TET होगा अनिवार्य, ये है NCTE की तैयारी

अब क्लास 1 से 12 तक के स्कूल टीचर बनने के लिए TET होगा अनिवार्य, ये है NCTE की तैयारी


Education news in hindi: अब स्कूल टीचर बनने के लिए टीईटी पास करना अनिवार्य होगा। क्वालिटी एजुकेशन को बढ़ावा देने के लिए एनसीटीई यह फैसला ले रहा है। पढ़ें डीटेल...
    

■ क्लास 1 से 12 तक सभी के लिए अनिवार्य होगा टीईटी
एनईपी के तहत एनसीटीई ने लिया है फैसला

■ गाइडलाइंस और टेस्ट स्ट्रक्चर तैयार करने के लिए कमिटी गठित


TET compulsory to become school teacher: अब किसी भी क्लास में पढ़ाने के लिए शिक्षक पात्रता परीक्षा (Teachers Eligibility Test) पास करना अनिवार्य किया जाएगा। राष्ट्रीय शिक्षा नीति (NEP 2020) के तहत नेशनल काउंसिल फॉर टीचर एजुकेशन (NCTE) ने यह फैसला किया है।


एनसीटीई ने इसके लिए दिशानिर्देश व टेस्ट पैटर्न तैयार करने के लिए कमिटी गठित कर दी है। स्कूलों में क्वालिटी एजुकेशन को बढ़ावा देने के लिए और शिक्षकों को अपग्रेड करने के लिए एनसीटीई यह तैयारी कर रहा है।


क्लास 1 से लेकर 12वीं तक, सभी स्कूल टीचर्स के लिए अब टीईटी (TET) या सीटीईटी (CTET) पास होना जरूरी होगा। अब तक टीईटी की अनिवार्यता सिर्फ क्लास 1 से 8वीं तक के लिए थी। 9वीं से 12वीं यानी पोस्ट ग्रेजुएट टीचर्स (PGT) के लिए इसकी जरूरत नहीं होती थी।


केंद्रीय विद्यालय संगठन (KVS) के रिटायर्ड एडिशनल कमिश्नर और नवोदय विद्यालय समिति (NVS) के सलाहकार यूएन खावरे (UN Khaware) ने कहा कि 'इस फैसले से टीचर एजुकेशन के क्षेत्र में हो रहे फर्जीवाड़ों पर लगाम लगाया जा सकेगा। देश में हजारों बीएड (B.Ed) कॉलेज हैं। गलत तरीके से इनसे बीएड की डिग्री ले लेना आम बात हो गई है। टीईटी अनिवार्य होने से अच्छे शिक्षक चुनकर आएंगे।

Monday, February 1, 2021

शिक्षकों के 1894 पदों के लिए 6.25 लाख उच्च प्राथमिक स्तर की टीईटी पास उम्मीदवार

शिक्षकों के 1894 पदों के लिए 6.25 लाख उच्च प्राथमिक स्तर की टीईटी पास उम्मीदवार


अशासकीय सहायता प्राप्त जूनियर हाईस्कूलों में प्रधानाध्यापक के 390 और सहायक अध्यापकों के 1504 पदों पर नियुक्ति के 6.25 लाख से अधिक उम्मीदवार हैं। उच्च प्राथमिक विद्यालयों में तकरीबन आठ साल बाद शिक्षक भर्ती शुरू होने से बेरोजगारों की फौज खड़ी हो गई है।



इससे पहले जुलाई 2013 में परिषदीय उच्च प्राथमिक स्कूलों में विज्ञान व गणित विषय के 29,334 सहायक अध्यापकों की भर्ती शुरू हुई थी। इसके बाद लगभग आठ साल बीतने के बाद कक्षा 6 से 8 तक के स्कूलों में भर्ती होने जा रही है। इस दौरान सात बार आयोजित उच्च प्राथमिक स्तर की टीईटी में 6,26,335 अभ्यर्थी पास हो चुके हैं।


इन अभ्यर्थियों को अब तक किसी भर्ती में मौका नहीं मिल सका है। इसमें केंद्रीय शिक्षक पात्रता परीक्षा (सीटीईटी) में सफल अभ्यर्थियों की संख्या शामिल नहीं है। यदि सीटीईटी पास अभ्यर्थियों की संख्या जोड़ लें तो उम्मीदवारों की कतार कहीं अधिक लंबी हो जाएगी। गौरतलब है कि विशेष सचिव शासन आरवी सिंह ने सचिव परीक्षा नियामक प्राधिकारी को 18 जनवरी को भर्ती के संबंध में गाइडलाइन भेजते हुए जल्द भर्ती परीक्षा कराने के निर्देश दिए हैं। हालांकि अभी कुछ बिन्दुओं पर स्थिति स्पष्ट नहीं है लेकिन जल्द ही प्रक्रिया शुरू होने की उम्मीद जताई जा रही है।

Saturday, January 30, 2021

वर्ष 2023 के बाद माध्यमिक शिक्षक भर्ती में टीईटी पास होना हो सकता है जरूरी, जानिए कैसे होगी भर्ती

वर्ष 2023 के बाद माध्यमिक शिक्षक भर्ती में टीईटी पास होना हो सकता है जरूरी,  जानिए कैसे होगी भर्ती

इंटर के शिक्षकों के लिए तीसरे स्तर की परीक्षा

लखनऊ : माध्यमिक शिक्षा के स्कूलों में भर्ती के लिए अब शिक्षकों को अध्यापक पात्रता परीक्षा (टीईटी) पास करनी होगी। इसके लिए टीईटी-3 यानी तीसरे स्तर की परीक्षा कराई जाएगी ।


सरकारी व सहायता प्राप्त के साथ ही प्रदेश के सभी हाई स्कूलों और इंटर कॉलेजों (कक्षा नौवीं से बारहवीं ) में भी ये व्यवस्था लागू होगी। इसकी रूपरेखा 2021-22 के शैक्षिणिक सत्र में तैयार हो जाएगी । उम्मीद है कि 2023 के बाद वाली भर्तियों में टीईटी अनिवार्य कर दिया जाएगा। नई शिक्षा नीति के तहत यह लागू किया जाएगा। अभी तक कक्षा एक से आठ तक के लिए दो अलग-अलग स्तरों की टीईटी होती है नई व्यवस्था के लिए एलटी ग्रेड की शिक्षक सेवा नियमावली में संशोधन होगा । 


अभी तक सरकारी स्कूलों में लोक सेवा आयोग व सहायता प्राप्त स्कूलों में माध्यमिक शिक्षा सेवा चयन आयोग लिखित परीक्षा से भर्ती करता है। लेकिन संशोधन के बाद शिक्षकों को पहले टीईटी भी पास करना होगा। इसके अलावा शिक्षक भर्ती के लिए लिखित परीक्षा, शैक्षिक गुणांक के अलावा साक्षात्कार व पढ़ाने के प्रदर्शन को भी जोड़ा जाएगा।

नई शिक्षा नीति

लखनऊ : माध्यमिक शिक्षा के स्कूलों में भर्ती के लिए अभी तक लोक सेवा आयोग से लिखित परीक्षा के आधारपर भर्ती की जा रही है। कक्षा एक से पांच तक औरकक्षा 6 से 8 तक के लिए अलग-अलग अध्यापक पात्रता परीक्षा होती है। यह तीसरे स्तर की परीक्षा होगी जो हाईस्कूल और इंटर कॉलेजों के लिए मान्य होगी। 


इसके लिए माध्यमिक शिक्षा परिषद और परीक्षा नियामक प्राधिकारी के बीच में समन्वय स्थापित किया जाएगा। अध्यापक पात्रता परीक्षा से योग्य शिक्षक मिलेंगे । इससे पढ़ाई और शिक्षकों की गुणवत्ता सुनिश्चित होगी। शिक्षकों की भर्ती में फर्जी प्रमाणपत्रों के आधार पर नौकरियां पाने के कई मामले सामने आ चुके हैं क्योंकि भर्तियां शैक्षिक गुणांक के आधार पर हो रही थीं | टीईटी से इस फर्जीवाड़े पर भी अंकुश लगेगा। राज्य में प्राइमरी व माध्यमिक शिक्षा की शिक्षक भर्तियों में लिखित परीक्षा पहले ही अनिवार्य की जा चुकी है।

2025 तक तक होने वाली रिक्तियों की गणना होगी

शिक्षक के खाली पदों की संख्या के आकलन के लिए तकनीक आधारित व्यवस्था होगी ताकि इंतजार न करना पड़े । मानव सम्पदा पोर्टल और अन्य स्रोतों से 2025 तक होने वाली शिक्षकों व शिक्षणेत्तर कर्मचारियों की रिक्तियों की गणना जून 2021 तक कर ली जाएगी। चयन करने वाली संस्था को प्रस्ताव भेजा जाएगा।


 सहायता प्राप्त स्कूलों में अप्रैल, 2021 तक भर्ती : माध्यमिक शिक्षा विभाग की नई शिक्षा नीति की कार्ययोजना के मुताबिक अप्रैल तक सहायता प्राप्त स्कूलों में सभी रिक्तियों पर भर्ती करनी है। हालांकि ये संभव नहीं है, क्योंकि 15508 शिक्षक भर्ती का विज्ञापन रद्द हुए दो महीने से अधिक समय हो चुका है और अभी तक माध्यमिक शिक्षा सेवा चयन आयोग भर्ती के लिए दोबारा विज्ञापन नहीं निकाल पाया है।

Tuesday, January 12, 2021

42 हजार डीएलएड प्रशिक्षुओं का सपना टूटा, UPTET 2021 में नहीं हो पाएंगे शामिल, जानिए वजह

42 हजार डीएलएड प्रशिक्षुओं का सपना टूटा, UPTET  2021 में नहीं हो पाएंगे शामिल, जानिए वजह



42 हजार से अधिक प्रशिक्षुओं का टीईटी में शामिल होने का सपना रहेगा अधूरा। सचिव परीक्षा नियामक प्राधिकारी की ओर से यूपीटीईटी 2020 में शामिल होने का सपना अधूरा रह जाएगा।



परीक्षा नियामक प्राधिकारी ने पहले ही घोषणा कर दिया था कि तीसरे सेमेस्टर के अभ्यर्थी परीक्षा पास होने के बाद सीधे चौथे सेमेस्टर की परीक्षा फरवरी में देकर जल्द टीईटी में शामिल हो सकते हैं, 42 हजार से अधिक अभ्यर्थियों के फेल हो जाने से टीईटी में शामिल होने का अवसर खत्म हो गया है।