DISTRICT WISE NEWS

अंबेडकरनगर अमरोहा अमेठी अलीगढ़ आगरा आजमगढ़ इटावा इलाहाबाद उन्नाव एटा औरैया कन्नौज कानपुर कानपुर देहात कानपुर नगर कासगंज कुशीनगर कौशांबी कौशाम्बी गाजियाबाद गाजीपुर गोंडा गोण्डा गोरखपुर गौतमबुद्ध नगर गौतमबुद्धनगर चंदौली चन्दौली चित्रकूट जालौन जौनपुर ज्योतिबा फुले नगर झाँसी झांसी देवरिया पीलीभीत फतेहपुर फर्रुखाबाद फिरोजाबाद फैजाबाद बदायूं बरेली बलरामपुर बलिया बस्ती बहराइच बागपत बाँदा बांदा बाराबंकी बिजनौर बुलंदशहर बुलन्दशहर भदोही मऊ मथुरा महराजगंज महोबा मिर्जापुर मीरजापुर मुजफ्फरनगर मुरादाबाद मेरठ मैनपुरी रामपुर रायबरेली लखनऊ लख़नऊ लखीमपुर खीरी ललितपुर वाराणसी शामली शाहजहाँपुर श्रावस्ती संतकबीरनगर संभल सहारनपुर सिद्धार्थनगर सीतापुर सुलतानपुर सुल्तानपुर सोनभद्र हमीरपुर हरदोई हाथरस हापुड़
Showing posts with label विद्यालय. Show all posts
Showing posts with label विद्यालय. Show all posts

Saturday, June 13, 2020

बाल श्रमिक विद्या योजना का शुभारंभ, 2000 बच्चों को मुफ्त शिक्षा के साथ मिलेगी प्रोत्साहन राशि, खुलेंगे अटल आवासीय विद्यालय

बाल श्रमिक विद्या योजना का शुभारंभ,  2000 बच्चों को मुफ्त शिक्षा के साथ मिलेगी प्रोत्साहन राशि, खुलेंगे अटल आवासीय विद्यालय


इस योजना में कक्षा 8,9 व 10 पास करने पर सालाना छह हजार प्रोत्साहन राशि मिलेगी 


लखनऊ, 12 जून। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अंतरराष्ट्रीय बाल श्रम निषेध दिवस पर प्रदेश के दो हजार बाल श्रमिकों को बड़ा तोहफा दिया है। प्रदेश का श्रम विभाग अब उनकी शिक्षा का पूरा खर्च उठाने के साथ बाल श्रम से मुक्त कराएगा। अंतरराष्ट्रीय बाल श्रम निषेध दिवस पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शुक्रवार को प्रदेश में बाल श्रमिक विद्या योजना का शुभारंभ किया वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए किया। 


योगी आदित्यनाथ ने कहा कि यह कंडीशनल कैश ट्रांसफर स्कीम है जिसका लाभ आठ से 18 वर्ष आयु वर्ग के उन कामकाजी बच्चों व किशोर किशोरियों को दिया जाएगा जो परिवार की विषम परिस्थितियों के कारण संगठित या असंगठित क्षेत्रों में काम कर रहे हैं। योजना के तहत हाईस्कूल उत्तीर्ण करने तक बालकों को 1000 और बालिकाओं को 1200 रुपये प्रति माह की दर से आर्थिक सहायता दी जाएगी। कक्षा आठ, नौ व दस उत्तीर्ण करने पर उन्हें प्रत्येक कक्षा के लिए 6000 रुपये की प्रोत्साहन राशि भी दी जाएगी। 


शुरुआत में इस योजना का लाभ प्रदेश के 2000 बच्चों को दिया जाएगा। पहले चरण में खुलेंगे 18अटल आवासीय विद्यालय सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा कि हमारी सरकार प्रदेश में पहले चरण में 18 अटल आवासीय विद्यालय खोलने जा रही है। जिसमें बाल श्रम में लगे बच्चों को प्रवेश दिया जाएगा। पहले चरण में 18 अटल आवासीय विद्यालय खोले जाएंगे। यह सभी मंडल मुख्यालय में 12 से 15 एकड़ के क्षेत्रफल में खोले जाएंगे। 


इसमें प्रवेश के लिए बच्चों को पांच वर्ग में बांटा जाएगा। इनमें बाल श्रम में लगे अनाथ या फिर बेरोजगार दिव्यांग मां-बाप के बच्चों को, असाध्य रोग से पीड़ित अभिभावकों के बच्चों को, भूमिहीन परिवार के बच्चों को या फिर विचार बच्चों को रखकर उसे शिक्षा दी जाएगी।

Thursday, June 11, 2020

कोरोना की दवा आने तक स्कूल बंद रखने के लिए जनहित याचिका

कोरोना की दवा आने तक स्कूल बंद रखने के लिए जनहित याचिका

सीबीएसई और आईसीएसई की बची बोर्ड परीक्षाएं कराने के निर्णय को भी चुनौती


लखनऊ। कोरोना का एक भी मरीज रहने या इसकी दवा आने तक प्रदेश के बारहवीं तक के सभी स्कूलों को बंद रखे जाने के आग्रह वाली जनहित याचिका बुधवार को हाईकोर्ट की लखनऊ बेंच में दायर की गई है। वहीं, एक अन्य जनहित याचिका में दसवीं व बारहवीं बोर्ड की बची परीक्षा कराने के सीबीएसई और आईसीएसई के निर्णय को चुनौती दी गई है।


 दोनों याचिकाएं राजधानी के छात्र अनुज निषाद ने दायर की हैं। इन पर 15 जून को सुनवाई हो सकती है। याची के अधिवक्ता केके पाल के मुताबिक कोरोना के बढ़ रहे मरीजों के मद्देनजर स्कूलों में शारीरिक दूरी व मास्क लगाने के दिशा-निर्देशों का पूरी तरह पालन संभव नहीं है। 


ऐसे में प्रदेश के बारहवीं तक के सभी स्कूलों को कोविड-19 महामारी पूरी तरह खत्म होने या इसकी दवा आने तक बंद रखे जाने के निर्देश राज्य सरकार को दिए जाने चाहिए। दूसरी याचिका में भी कोरोना का मुद्दा उठाते हुए केंद्र सरकार समेत केंद्रीय बोडों को माध्यमिक स्तर की बची बोर्ड परीक्षाएं न करवाकर विद्यार्थियों के आंतरिक मूल्यांकन के आधार पर अंक दिए जाने के निर्देश देने की गुजारिश की गई है।

राजधानी में निजी स्कूल प्रबंधनों ने जुलाई से स्कूल खोलकर कक्षाएं संचालित करने की तैयारी शुरू की

राजधानी में निजी स्कूल प्रबंधनों ने जुलाई से स्कूल खोलकर कक्षाएं संचालित करने की तैयारी शुरू की। 

जुलाई से स्कूल खोलने को अनएडेड प्राइवेट स्कूल एसोसिएशन ने उप मुख्यमंत्री को भेजा ज्ञापन, अभिभावक बोले बच्चों की सुरक्षा अहम।


लखनऊ।  राजधानी के निजी स्कूलों ने आगामी जुलाई माह से क्लासेज संचालित करने की तैयारी शुरू कर दी है।अनएडेडे प्राइवेट स्कूल एसोसिएशन की ओर से इस संबंध में उपमुख्यमंत्री को ज्ञापन भेजा है। एसोसिएशन के अध्यक्ष अनिल अग्रवाल ने कहा कि कोविड-19 संक्रमण से बच्चों की पूरी सुरक्षा का ध्यान रखते हुए स्कूल खोले जाएंगे। 


उधर, अभिभावकों की ओर से इसका विरोध किया गया है। अभिभावक कल्याण संघ के अध्यक्ष प्रदीप कुमार श्रीवास्तव का कहना है कि कक्षाओं का संचालन स्थितियां सामान्य होने के बाद ही किया जाना चाहिए।

यह है प्रस्तावित कार्यक्रम
निजी स्कूलों के संगठन के प्रस्तावित कार्यक्रम के तहत 20 जुलाई से सीनियर क्लासेज का संचालन किया जा सकता है। इसके अलावा,  तीन अगस्त से जूनियर की कक्षाओं, 10 अगस्त से प्राइमरी की कक्षाओं और 24 अगस्त से प्री-प्राइमरी की कक्षाएं संचालित करने का प्रस्ताव भेजा गया है।


दो शिफ्ट में क्लासेज चलाने का सुझाव
स्कूल प्रबंधनों के प्रस्ताव में दो शिफ्ट में क्लासेज संचालित करने का प्रस्ताव रखा गया है। इसमें, कक्षा में छात्रों को अलग-अलग सेक्शन में विभाजित करने,  सभी स्कूल कैंपस में सैनिटाइजेशन की उचित व्यवस्था करने और  बच्चों की सेफ्टी को विशेष तौर पर वरीयता देने का सुझाव रखा गया है।


अभिभावकों में नाराजगी, बोले जल्दबाजी न करें
अभिभावकों में इस प्रस्ताव को लेकर खासी नाराजगी है। अभिभावक कल्याण संघ के प्रदेश अध्यक्ष प्रदीप कुमार श्रीवास्तव का कहना है कि कोरोना का खतरा अभी बरकरार है। निजी स्कूल प्रबंधन इजराइल जैसी गलतियां न करें। वहां, स्कूल खोलने पर सैकड़ों बच्चे संक्रमित हुए हैं। संघ की ओर से इस सत्र को शून्य किए जाने की मांग उठाई गई है।

Wednesday, June 10, 2020

अगस्त से खुलेंगे माध्यमिक स्कूल, दो शिफ्टों में चलेंगी कक्षाएं

अगस्त से खुलेंगे माध्यमिक स्कूल, दो शिफ्टों में चलेंगी कक्षाएं


Unlock-1 विद्यालयों को दो शिफ्टों और एक कक्षा दो से तीन शिफ्ट में चलाए जाने अथवा अल्टर्रनेट दिनों में क्लासेज चलाने की योजना बनाई जा रही है। ...


लखनऊ। अगस्त में माध्यमिक विद्यालयों को खोले जाने की तैयारी को लेकर राजधानी में माध्यमिक शिक्षा विभाग स्कूलों में एक्सरसाइज शुरू कर दी है। विद्यालयों को दो शिफ्टों और एक कक्षा दो से तीन शिफ्ट में चलाए जाने अथवा अल्टर्रनेट दिनों में क्लासेज चलाने की योजना बनाई जा रही है। इसको लेकर अमीनाबाद इंटर कॉलेज प्रिंसिपल साहब लाल मिश्रा समेत अन्य में विद्यार्थियों को शारीरिक दूरी बनाकर बिठाए जाने के लिए क्लास में सीट पर नंबरिंग की जा रही है।


इन्हीं नंबरो के आधार पर विद्यार्थइयों को बिठाया जाएगा। स्कूलों में विद्यार्थियों, शिक्षकों, शिक्षणेत्तर स्टॉफ के प्रवेश के समय उनके सैनिटाइजेशन के लिए टनल लगवाए जाने पर भी विचार है। स्कूल के गेट के पास ही यह टनल लगाए जाएंगे। जिससे बच्चे इन्हीं टनल के नीचे से गुजरें और सैनिटाइज होकर ही कक्षा में जाएं।

कोरोना संक्रमण से बच्चों को बचाने के लिए होंगे यह सख्त नियम

● कॉलेज में बाहरी व्यक्तियों का प्रवेश पूरी तरह से प्रतिबंधित होगा।
● विद्यार्थियों और शिक्षकों को मास्क पहनकर ही विद्यालय में प्रवेश की अनुमति होगी। इसके साथ ही सैनिटाइजर की शीशी साथ रखनी होगी।
● स्कूल में प्रवेश और छुट्टी दोनों समय बच्चों, शिक्षकों और कर्मचारियों का ट्रेम्परेचर चेक करके रजिस्टर पर एंट्री करनी होगी।
● कॉलेज में छुट्टी के बाद प्रति दिन कक्षाओं और परिसर का होगा सैनिटाइजेशन।
● फुल आस्तीन की शर्ट और फुल पैंट, जूते मोजे पहनकर आना होगा।
● बच्चों को छोड़ने विद्यालय तक पहुंचाने और वापस ले जाने की जिम्मेदारी होगी अभिभावकों की।
● बच्चों के लिए सख्त निर्देश होंगे कि वह न तो किसी की पाठ्य सामग्री छुएं और न ही किसी को दें।
● हर कक्षा के समाप्त होने के बाद बच्चों को साबुन से हाथ धोना होगा। यह व्यवस्था स्कूल प्रबंधन कराएेगा।
● एक क्लास में 10 बच्चे और एक शिक्षक के बैठाए जाने की व्यवस्था, जैसी मूल्यांकन के समय शिक्षकोें के लिए की गई थी।
● बच्चों का झुंड एक जगह नहीं लगेगा।



क्या कहते हैं डीआइओएस ? 
डीआइओएस डॉ. मुकेश कुमार सिंह के मुताबिक,  ‘अगर अगस्त से विद्यालय खोले जाने की बात चल रही है। शासन ने अगर आदेश दिए तो इसके लिए हमने सभी विद्यालयों को मानक के अनुरूप व्यवस्था करने के निर्देश दिए हैं। विद्यालयों ने इस संबंध में एक्सरसाइज शुरू कर दी है।’

Sunday, June 7, 2020

जब भी खुलेंगे शिक्षण संस्थान, एक-दूसरे का खाना खाने पर रहेगी रोक, कैंटीन, प्रार्थना सभा व सेमिनार पर भी रोक

शिक्षण संस्थानों में एक-दूसरे का खाना खाने पर रहेगी रोक

कैंटीन, प्रार्थना सभा, सेमिनार पर रोक

कैंटीन, प्रार्थना सभा या फिर अन्य जगह पर भीड़ लगाने पर रोक रहेगी। सार्वजनिक स्थल पर थूकने पर रोक रहेगी


नई दिल्ली। कोविड-19 को देखते है जब भी शिक्षण संस्थान खुलेंगे तो छात्रों और शिक्षकों को एक दूसरे के खाने और सामान का इस्तेमाल करने पर रोक रहेगी। केंद्र सरकार ने स्कूल-कॉलेजों के विद्यार्थियों के लिए कोरोना से बचाव को लेकर अपनी वेबसाइट माईजीओवी पर क्या करें, क्या न करें व किन कार्यों पर रोक रहेगी, की सूचना दी है। 



इसके तहत स्कूल या कॉलेज परिसर में एक दूसरे से बिना हाथ व गले मिलना, कम से एक मीटर की दूरी, हर समय मास्क लगना जरूरी बताया गया है। यह भी कहा गया है कि दोबारा उपयोग में लाए जा सकने वाले मास्क का  इस्तेमाल किया जाए परिसर में रहने के दौरान हर थोडी-थोडी देर में साबुन से हाथ धोना या फिर हैंड सैनिटाइजर का प्रयोग करना होगा।


 घर पहुंचने पर मोबाइल, चाबी या अन्य सामान को सैनिटाइज करें। यदि कोविड-19 संबंधी कोई लक्षण दिखे या तबीयत खराब हो तो तो 1075 हेल्पलाइन नंबर पर फोन कर तुरंत मदद मांगें। ब्यूरो

Saturday, June 6, 2020

अगस्त में खुलेंगे 5वीं तक के स्कूल, जुलाई के आख़िर में 10वीं-12वीं की शुरू हो सकती पढ़ाई

अगस्त में खुलेंगे 5वीं तक के स्कूल, जुलाई के आख़िर में 10वीं-12वीं की शुरू हो सकती पढ़ाई


लखनऊ : प्रदेश में स्कूलों-कॉलेजों को खोलने को लेकर मंथन शुरू हो गया है। जुलाई के आखिर तक 10वीं-12वीं की पढ़ाई शुरू की जा सकती है। 


सोशल डिस्टेंसिंग बनाए रखने के लिए दो पालियों में भी पढ़ाई कराई जा सकती है। हालांकि, पांचवी तक के स्कूल अगस्त में ही खोले जाने की संभावना है।

साभार : NBT