DISTRICT WISE NEWS

अंबेडकरनगर अमरोहा अमेठी अलीगढ़ आगरा आजमगढ़ इटावा इलाहाबाद उन्नाव एटा औरैया कन्नौज कानपुर कानपुर देहात कानपुर नगर कासगंज कुशीनगर कौशांबी कौशाम्बी गाजियाबाद गाजीपुर गोंडा गोण्डा गोरखपुर गौतमबुद्ध नगर गौतमबुद्धनगर चंदौली चन्दौली चित्रकूट जालौन जौनपुर ज्योतिबा फुले नगर झाँसी झांसी देवरिया पीलीभीत फतेहपुर फर्रुखाबाद फिरोजाबाद फैजाबाद बदायूं बरेली बलरामपुर बलिया बस्ती बहराइच बागपत बाँदा बांदा बाराबंकी बिजनौर बुलंदशहर बुलन्दशहर भदोही मऊ मथुरा महराजगंज महोबा मिर्जापुर मीरजापुर मुजफ्फरनगर मुरादाबाद मेरठ मैनपुरी रामपुर रायबरेली लखनऊ लख़नऊ लखीमपुर खीरी ललितपुर वाराणसी शामली शाहजहाँपुर श्रावस्ती संतकबीरनगर संभल सहारनपुर सिद्धार्थनगर सीतापुर सुलतानपुर सुल्तानपुर सोनभद्र हमीरपुर हरदोई हाथरस हापुड़
Showing posts with label विरोध. Show all posts
Showing posts with label विरोध. Show all posts

Tuesday, July 7, 2020

69,000 शिक्षक भर्ती में भ्रष्टाचार के विरुद्ध जारी किया पोस्टर

69,000 शिक्षक भर्ती में भ्रष्टाचार के विरुद्ध जारी किया पोस्टर


प्रयागराज। 69,000 शिक्षक भर्ती में भ्रष्टाचार के खिलाफन्याय मोर्चा से जुड़े छात्रों ने गांधी प्रतिमा बालसन चौराहा पर सोमवार को पोस्टर जारी किया। पोस्टर के माध्यम से भर्ती परीक्षा रद्द करो, भ्रष्टाचार की सीबीआई जांच कराओ, भ्रष्टाचार में लिप्त दोषियों को गिरफ्तार करो, बहुत हो रहा भ्रष्टाचार -चुप क्यों बैठे चौकीदार, भर्ती नहीं भ्रष्टाचार है, तानाशाही सरकार है, यूपी की बड़ी महामारी-परीक्षा से पहले आंसर की जारी, भ्रष्टाचार नहीं रोजगार चाहिए, एक करोड़ का हिसाब चाहिए आदि नारों से सवाल उठाए गए।


मोर्चा के सह संयोजक सुमित गौतम, शैलेश पासवान, प्रदीप ओबामा, सूर्य प्रताप, अजीत, सुरेश, राहुल, शिवकुमार आशीष पटेल आदि ने पोस्टर प्रदेश के सभी जिलों में लगाने की बात कही।

Sunday, July 5, 2020

खण्ड शिक्षा अधिकारियों की लापरवाही पर शिक्षकों का वेतन रोकने के आदेश पर राष्ट्रीय शैक्षिक महासंघ ने की आपत्ति

लखनऊ। 04 जुलाई : मानव सम्पदा पोर्टल पर सेवा विवरण व शैक्षिक अभिलेखों का 15 जुलाई तक अवलोकन कर डाटा सत्यापित न करने पर शिक्षकों का वेतन अवरुद्ध करने के फरमान पर राष्ट्रीय शैक्षिक महासंघ उ0प्र0 ने महानिदेशक स्कूल शिक्षा को पत्र के माध्यम से न केवल मानव सम्पदा पोर्टल पर डाटा अपलोड की जमीनी हकीकत से अवगत कराया, बल्कि खण्ड शिक्षा अधिकारियों की लपरवाही पर शिक्षकों का वेतन अवरुद्ध करने को अन्याय बताया है।
राष्ट्रीय शैक्षिक महासंघ उ0प्र0 (प्राथमिक संवर्ग) के प्रदेश अध्यक्ष गोविंद तिवारी व प्रदेश महामंत्री भगवती सिंह ने पत्र के माध्यम से अवगत कराया कि मानव संपदा पोर्टल पर सेवा संबंधी विवरण अपलोड किए जाने हेतु विभागीय आदेशोपरान्त शिक्षकों द्वारा 2-3 बार मानव सम्पदा फार्म खण्ड शिक्षा अधिकारी कार्यालय में जमा किया जा चुका है। शिक्षकों की सेवा पुस्तिका व व्यक्तिगत पत्रावली भी खण्ड शिक्षा अधिकारी कार्यालय में ही होती है, किन्तु खण्ड शिक्षा अधिकारी कार्यालय की लापरवाही के कारण प्रदेश के अधिकांश जनपदों में 40% से अधिक डाटा अपलोड नहीं हो पाया है। उन्होंने मांग की कि अध्यापकों का सेवा विवरण मानव सम्पदा पोर्टल पर पूर्ण रूपेण अपलोड कर दिए जाने संबंधी प्रमाणपत्र खण्ड शिक्षा अधिकारियों द्वारा प्रस्तुत किये जाने के पश्चात कम से कम 10 दिन का समय शिक्षकों/कार्मिकों को अपना डाटा चेक करने हेतु दिया जाना चाहिए।
अधिकांश जनपदों में मानव संपदा पोर्टल पर शिक्षकों को प्रति सेवा वर्ष मिलने वाले एक दिन के उपार्जित अवकाश का अंकन नहीं किया जा रहा है। अतः इस सम्बन्ध में जिला बेसिक शिक्षा अधिकारियों को पत्र जारी कर निर्देशित करने की मांग भी महासंघ ने की।




पत्र में उल्लेखित समस्याओं की महत्ता के दृष्टिगत उन्हें त्वरित निस्तारण कराने व शिक्षकों के सेवा विवरण मानव संपदा पोर्टल पर अपलोड किए जाने के कार्य को शीघ्रातिशीघ्र पूर्ण कराने का की मांग महासंघ ने की जिससे शिक्षक समय से अपने सेवा विवरण चेक कर डाटा का सत्यापन कर सकें। कतिपय जनपदों में कायाकल्प के तहत कार्य न होने पर शिक्षकों को दोषी ठहराकर कार्रवाई करने को महासंघ ने अनुचित व अन्यायपूर्ण बताया है। महासंघ के माँगपत्र की  प्रदेशीय संयुक्त महामंत्री शिवशंकर सिंह, अयोध्या मण्डल महामंत्री पवन शंकर दीक्षित, जिलाध्यक्ष सीतापुर महेश मिश्रा व प्रदेश मीडिया प्रकोष्ठ सदस्य बृजेश श्रीवास्तव आदि पदाधिकारियों ने सराहना की है।

 व्हाट्सप के जरिये जुड़ने के लिए क्लिक करें।

Thursday, June 25, 2020

आगरा : स्कूलों में आकर डाटा फीड करने का शिक्षकों ने किया विरोध, शिक्षकों ने कहा- फीडिंग का कार्य विभाग का

आगरा : स्कूलों में आकर डाटा फीड करने का शिक्षकों ने किया विरोध, शिक्षकों ने कहा- फीडिंग का कार्य विभाग का।


स्कूलों में आकर डाटा फीडिंग काम का विरोध


आगरा : स्कूलों में डाटा फीडिंग कर कंप्यूटर ऑपरेटर की जगह काम करने का शिक्षक विरोध कर रहे हैं। शासन का एक जुलाई से परिषदीय विद्यालय खोलने का आदेश आ चुका है। शिक्षकों का कहना है कि उनसे सिर्फ शिक्षक का ही कार्य लिया जाए, अन्य कार्य नहीं।








शिक्षकों से एमडीएम की लिस्ट और सीडी बनवाकर विभिन्न बैंकों में भेजना, मानव संपदा पोर्टल के लिए अपनी ही सर्विस बुक को सही कराने के लिए कंप्यूटर ऑपरेटर के पास जाकर फीडिंग कराना नियम विरुद्ध है। शिक्षक अपनी सर्विस बुक को सही कैसे कर सकता है, जबकि सर्विस बुक फीडिंग का कार्य विभाग का है। शिक्षकों का कहना है कि ये सभी कार्य शिक्षा के नहीं हैं, इन कार्यों के लिए विभाग में कंप्यूटर ऑपरेटर की नियुक्ति की गई है। इसलिए सभी कार्य कंप्यूटर ऑपरेटर द्वारा कराए जाएं। प्रदेश अध्यक्ष राजेंद्र राठौर, राजीव वर्मा, केशव दीक्षित, ब्रजेश दीक्षित आदि ने विरोध जताया है।



 व्हाट्सप के जरिये जुड़ने के लिए क्लिक करें।

Tuesday, June 16, 2020

69000 सहायक अध्यापक भर्ती : फॉर्म में संशोधन के लिए अभ्यर्थियों ने मांगा मौका

69000 सहायक अध्यापक भर्ती : फॉर्म में संशोधन के लिए अभ्यर्थियों ने मांगा मौका


प्रयागराज। परिषदीय प्राथमिक विद्यालयों में 69000 सहायक अध्यापक भर्ती के फॉर्म में पूर्णांक प्राप्तांक समेत अन्य गलतियां करने वाले अभ्यर्थियों ने सोमवार को बेसिक शिक्षा परिषद कार्यालय के बाहर प्रदर्शन किया।


 अभ्यर्थियों का कहना है कि सर्वर की खराबी, कैफे वाले की कम जानकारी और स्वयं की मानवीय त्रुटि के कारण पूर्णांक, प्राप्तांक, रोल नंबर व कैटेगरी आदि में गलती हो गई। अब इन अभ्यर्थियों को भर्ती प्रक्रिया से बाहर किया जा रहा है। 

Sunday, June 14, 2020

69000 : परीक्षा में धांधली की जांच से असंतुष्ट परीक्षार्थी खटखटाएंगे हाईकोर्ट का दरवाजा

69000 : परीक्षा में धांधली की जांच से असंतुष्ट परीक्षार्थी खटखटाएंगे हाईकोर्ट का दरवाजा


प्रयागराज। 69000 सहायक अध्यापक भर्ती परीक्षा में धांधली की जांच को लेकर सवाल उठने लगे हैं। परीक्षा वाले दिन प्रयागराज के अलावा लखनऊ, कानपुर एवं मुरादाबाद से भी सॉल्वर गिरोह पकड़ा गया था, जांच सिर्फ प्रयागराज प्रयागराज तक ही सीमित है। एसटीएफ ने अभी तक इन तीन जिलों को जांच में शामिल नहीं किया है, इससे असंतुष्ट परीक्षार्थी अब हाईकोर्ट जाने की तैयारी कर रहे हैं। 


छह जनवरी 2019 को में ही जबकि कानपुर समेत तीन शहरों में भी पकड़ी थी गड़बड़ी सहायक भर्ती परीक्षा के दौरान दूसरे की जगह परीक्षा देने में 29 लोगों को गिरफ्तार किया गया था। प्रयागराज में भी नकल कराने वाला पूरा गिरोह पकड़ा गया था। गिरोह के इन लोगों के तार कौशाम्बी, प्रतापगढ़, जौनपुर, भदोही, बिहार के आरा जिले से जुड़े मिले थे, जबकि परीक्षार्थियों को झांसी, नैनी, करेली सहित दूसरे परीक्षा केंद्रों से पकड़ा गया था। 


वहीं इसी दिन दूसरी ओर लखनऊ में नकल कराने में एक प्रधानाचार्य, पांच कक्ष निरीक्षकों तथा दो परीक्षार्थियों को गिरफ्तार किया गया था। मिर्जापुर के एक स्कूल में परीक्षार्थी सॉल्व कॉपी के साथ पकड़ी गई थी। आजमगढ़ में दूसरे की जगह परीक्षा देते इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस के साथ एक-एक अभ्यर्थी को पकड़ा गया था। आगरा में राजस्थान के अलवर से आए सॉल्वर को पुलिस ने पकड़ा था। 


परीक्षा के बाद से आंदोलन चला रहे आइसा के सुनील मौर्या का कहना है कि मुरादाबाद और मेरठ में सबसे अधिक गड़बड़ी हुई थी, एसटीएफ को वहां जांच पर फोकस करके जालसाजों को पकड़ना चाहिए। सरकार की जांच से असंतुष्ट परीक्षार्थी जल्द ही नकल के मामले में हाईकोर्ट में एक याचिका दाखिल करने जा रहे हैं। 

Thursday, December 5, 2019

फतेहपुर : ऐप के विरोध में जारी है शिक्षकों का असहयोग आंदोलन, सैकड़ों शिक्षकों ने छोड़े सूचनाओं वाले व्हाट्सअप ग्रुप

फतेहपुर : ऐप के विरोध में जारी है शिक्षकों का असहयोग आंदोलन, सैकड़ों शिक्षकों ने छोड़े सूचनाओं वाले व्हाट्सअप ग्रुप।





 व्हाट्सप के जरिये जुड़ने के लिए क्लिक करें।