DISTRICT WISE NEWS

अंबेडकरनगर अमरोहा अमेठी अलीगढ़ आगरा आजमगढ़ इटावा इलाहाबाद उन्नाव एटा औरैया कन्नौज कानपुर कानपुर देहात कानपुर नगर कासगंज कुशीनगर कौशांबी कौशाम्बी गाजियाबाद गाजीपुर गोंडा गोण्डा गोरखपुर गौतमबुद्ध नगर गौतमबुद्धनगर चंदौली चन्दौली चित्रकूट जालौन जौनपुर ज्योतिबा फुले नगर झाँसी झांसी देवरिया पीलीभीत फतेहपुर फर्रुखाबाद फिरोजाबाद फैजाबाद बदायूं बरेली बलरामपुर बलिया बस्ती बहराइच बागपत बाँदा बांदा बाराबंकी बिजनौर बुलंदशहर बुलन्दशहर भदोही मऊ मथुरा महराजगंज महोबा मिर्जापुर मीरजापुर मुजफ्फरनगर मुरादाबाद मेरठ मैनपुरी रामपुर रायबरेली लखनऊ लख़नऊ लखीमपुर खीरी ललितपुर वाराणसी शामली शाहजहाँपुर श्रावस्ती संतकबीरनगर संभल सहारनपुर सिद्धार्थनगर सीतापुर सुलतानपुर सुल्तानपुर सोनभद्र हमीरपुर हरदोई हाथरस हापुड़
Showing posts with label शिक्षक भर्ती. Show all posts
Showing posts with label शिक्षक भर्ती. Show all posts

Monday, September 21, 2020

पिछड़ा वर्ग आयोग के निर्णय के खिलाफ 69000 शिक्षक भर्ती करने पर आंदोलन की चेतावनी

पिछड़ा वर्ग आयोग के निर्णय के खिलाफ 69000 शिक्षक भर्ती करने पर आंदोलन की चेतावनी

 
लखनऊ। बेसिक शिक्षा परिषद में 69 हजार सहायक अध्यापक भर्ती के ओबीसी अभ्यर्थियों ने 67 हजार 887 चयनित अभ्यर्थियों में से 31 हजार 361 को नियुक्ति देने के सरकार के निर्णय को राष्ट्रीय ओबीसी आयोग को अवमानना बताया है। अभ्यर्थियों का कहना है कि आयोग ने भर्ती पर स्थगन आदेश दे रखा है, उसके बाद सरकार नियुक्ति कैसे कर सकती है।


 अभ्यर्थियों ने आगामी दिनों में लखनऊ में आंदोलन की चेतावनी दी है। उधर, विभाग का दावा है कि आयोग को वस्तुस्थिति से अवगत करा दिया गया है, नियुक्ति सर्वोच्च न्यायालय के आदेश के तहत ही दी जा रही है। आरक्षण एवं एमआरसी लीगल टीम के प्रवक्ता विजय यादव का कहना है कि ओबीसी आयोग के उपाध्यक्ष लोकेश प्रजापति ने 7 जुलाई को भर्ती पर रोक लगाई थी। 


आयोग ने स्पष्ट किया था कि सुप्रीम कोर्ट का निर्णय होने के बाद भी आयोग की ओर से मामले में निर्णय देने तक भर्ती पर रोक रहेगी। उन्होंने कहा कि सरकार ने आयोग के आदेश के तहत अभी तक सरकार इस 69000 सहायक शिक्षक भर्ती की वर्ग बार शैक्षिक गुणांक सहित मूल चयन सूची उपलब्ध नहीं कराई है।

Friday, September 11, 2020

69000 शिक्षक भर्ती: शिक्षामित्र के आवेदन फार्म में त्रुटि सुधार कराने का आदेश

69000 शिक्षक भर्ती: शिक्षामित्र के आवेदन फार्म में त्रुटि सुधार कराने का आदेश


69000 शिक्षक भर्ती: आवेदन की छोटी गलती सुधारने की अनुमति देने का निर्देश
 

इलाहाबाद हाईकोर्ट ने 69000 सहायक अध्यापक भर्ती 2019 में शामिल शिक्षामित्र को उनके आवेदन फार्म में की गई मामूली त्रुटि सुधारने का अवसर देने का आदेश दिया है। कोर्ट ने कहा कि याची अपना प्रत्यावंदन संबंधित प्राधिकारी को दें। कामेंद्र सिंह की याचिका पर यह आदेश न्यायमूर्ति पंकज भाटिया ने दिया। याची के अधिवक्ता अग्निहांत्री कुमार त्रिपाठी का कहना था कि याची आवेदन फार्म में अपने शिक्षामित्र के अनुभव वाला कालम भरना भूल गया है। 


इस संबंध में उसने ब्रेसिक शिक्षा विभाग का प्रत्यावेदन देकर त्रुटि सुधार का अनुरोध किया था। लेकिन, उस पर कोई निर्णय नहीं लिया गया। अधिवक्ता का कहना था कि साप्रीम कार्ट ने मामूली त्रुटियों को सुधारन का मौका देने का आदेश दिया है, इसलिए याची को भी सुधार का मौका दिया जाय। कोर्ट ने याची को दो सप्ताह के भीतर अपना प्रत्यावेदन बेसिक शिक्षा विभाग को देने का निर्देश दिया है.


इलाहाबाद हाईकोर्ट ने 69 हजार सहायक अध्यापक भर्ती के आवेदन फार्म में सर्टिफिकेट व अंकपत्र नंबर की गलती को छोटी गलती मानते हुए सचिव परीक्षा नियामक प्राधिकारी व सचिव बेसिक शिक्षा परिषद प्रयागराज को गलती सुधारने की अनुमति देने का आदेश दिया है। 


यह आदेश न्यायमूर्ति पंकज भाटिया ने धर्मेन्द्र कुमार व अन्य की याचिका पर अधिवक्ता सत्येन्द्र चंद्र त्रिपाठी को सुनकर दिया है।  याचिका में ऐसे ही कुछ मामलों में न्यायालय के फैसलों का हवाला देते हुए गलती सुधारने की अनुमति देने की मांग की गई थी। कोर्ट ने इसे स्वीकार करते हुए कहा कि ऐसी अनुमति देने से चयन प्रक्रिया पर कोई असर नहीं पड़ता है।

Sunday, September 6, 2020

सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद माध्यमिक शिक्षा विभाग ने कार्यरत तदर्थ शिक्षकों को वेटेज देने व शिक्षक भर्ती के संबंध में शासन को भेजा प्रस्ताव

सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद माध्यमिक शिक्षा विभाग ने कार्यरत तदर्थ शिक्षकों को वेटेज देने व शिक्षक भर्ती के संबंध में शासन को भेजा प्रस्ताव

Sunday, July 12, 2020

69000 भर्ती : नकल माफिया एसटीएफ को भी दे रहे मात, सुराग नहीं


69000 भर्ती : नकल माफिया एसटीएफ को भी दे रहे मात, सुराग नहीं

-चंद्रमा यादव समेत चार आरोपी महीने भर बाद भी पकड़ से दूर
विज्ञापन

-पिछले महीने स्थानांतरित कर एसटीएफ को सौंपी गई थी विवेचना


प्रयागराज। 69 हजार शिक्षक भर्ती परीक्षा पास कराने वाले गिरोह में शामिल नकल माफिया एसटीएफ को भी मात दे रहे हैं। मामले में फरार चल रहे चंद्रमा यादव समेत चार आरोपी महीने भर बाद भी नही ंपकड़े जा सके हैं। शासन से सोरांव पुलिस से स्थानांतरित कर विवेचना पिछले महीने एसटीएफ को सौंपी थी। 69 हजार शिक्षक भर्ती परीक्षा पास कराने वाले गिरोह का भंडाफोड़ चार जून को हुआ था। सोरांव पुलिस ने मामले मेें महज छह दिन के भीतर 11 आरोपियों को गिरफ्तार कर जेल भेजा था। इसमें सरगना केएल पटेल भी शामिल था।


प्रकरण की गंभीरता को देखते हुए नौ जून को शासन ने विवेचना एसटीएफ को स्थानांतरित कर दी। जिसके बाद टीईटी पेपर लीक मामले के आरोपी चंद्रमा यादव को भी मामले में वांछित किया गया। मायापति दुबे, आलोक उर्फ धर्मेंद्र व दुर्गेश समेत तीन आरोपी पहले से फरार थे। एसटीएफ की टीम ने शहर में विभिन्न स्थानों केअलावा कौशांबी, प्रतापगढ़, भदोही में दबिश दी लेकिन आरोपियों का अब तक कोई सुराग नहीं हासिल कर पाई है। मामले में एसटीएफ अफसरों का यही कहना है कि फरार आरोपियों के हरसंभावित ठिकानों पर दबिश दी जा रही है। उन्हें गिरफ्तार करने के प्रयास लगातार जारी हैं। विवेचना प्रचलित है और जो भी तथ्य सामने आएंगे, उसके अनुसार आगे की कार्रवाई की जाएगी।


शिवकुटी में दर्ज केस में भी नहीं हुई कार्रवाई
69 हजार शिक्षक भर्ती परीक्षा पास कराने वाले गिरोह के सरगना केएल पटेल पिछले साल रेलवे भर्ती परीक्षा में धांधली की कोशिश करते पकड़े गए गिरोह के भी संपर्क में था। जिस पर शिवकुटी थाने में दर्ज मामले मेें उसे आरोपी बनाया गया था। सोरांव मामले में गिरफ्तारी के बाद शिवकुटी पुलिस ने भी अपने मुकदमे में उसका रिमांड बनवाया था। हालांकि अब तक इस मामले में भी उसके खिलाफ कार्रवाई आगे नहीं बढ़ सकी है। हालांकि पुलिस का कहना है कि उसके खिलाप साक्ष्य एकत्रित किए जा रहे हैं। साक्ष्यों के अनुसार कार्रवाई आगे बढ़ाई जाएगी।

Wednesday, June 24, 2020

69000 शिक्षक भर्ती फर्जीवाड़ा : सरगना ने भाई-बहन को भी पास कराई परीक्षा


69000 शिक्षक भर्ती फर्जीवाड़ा : सरगना ने भाई-बहन को भी पास कराई परीक्षा


प्रयागराज : सहायक शिक्षक भर्ती फर्जीवाड़ा की जांच में जुटी स्पेशल टॉस्क फोर्स (एसटीएफ) को नया सुराग मिला है। पता चला है कि गिरोह के सरगना डॉ. केएल पटेल की मदद से उसके एक भाई और बहन ने भी लिखित परीक्षा पास की है। शिक्षक भर्ती की लिखित परीक्षा में दोनों को अच्छे अंक मिले हैं। इस आधार पर एसटीएफ छानबीन कर रही है।


कई छात्रों ने एसटीएफ को अलग माध्यम से दी गई शिकायतों में कई अभ्यर्थियों के नाम और अंक के बारे में भी जानकारी दी है। बताया गया कि प्रतापगढ़, भदोही, प्रयागराज, कौशांबी के अलावा दूसरे जिले के कई ऐसे अभ्यर्थी हैं जिन्होंने गिरोह के जरिए पैसा देकर लिखित परीक्षा उत्तीर्ण की है। हालांकि यह साफ नहीं हुआ है कि उन्हें कितने अंक मिले हैं लेकिन माना जा रहा कि 110 से ज्यादा नंबर मिले होंगे।


वहीं, भाई और उसकी बहन को भी करीब 120 से अधिक नंबर मिलने की बात कही गई है। लगातार मिल रही शिकायतों को एसटीएफ के अधिकारी तस्दीक कर रहे हैं। जिन अभ्यर्थियों के बारे में सूचनाएं अब तक मिली हैं, उनकी सच्चाई के बारे में भी पता लगाया जा रहा है। प्रदेश के परिषदीय स्कूलों में 69 हजार सहायक शिक्षक भर्ती परीक्षा में फर्जीवाड़ा करने वाले गिरोह का भंडाफोड़ होने और दो अभ्यर्थियों समेत 12 लोगों की गिरफ्तारी के बाद मामले की विवेचना एसटीएफ कर रही है। जांच शुरू करने के साथ ही एसटीएफ के पास शिकायतें आ रही हैं, जिसकी सच्चाई का पता अधिकारी लगा रहे हैं। हालांकि वह कुछ भी बोलने से अभी कतरा रहे हैं।


फरार अभियुक्तों की तलाश
मामले में फरार चल रहे स्कूल प्रबंधक चंद्रमा यादव, मायापति दुबे, दुर्गेश पटेल और संदीप पटेल समेत अन्य की तलाश में एसटीएफ की दो टीम काम कर रही है। उनकी गिरफ्तारी के लिए छापेमारी भी की जा रही है, मगर कोई पकड़ में नहीं आ सका है।

Sunday, June 21, 2020

69000 शिक्षक भर्ती में भ्रष्टाचार : अब STF करेगी अभ्यर्थियों की बातचीत के वायरल आडियो की जांच


69000 शिक्षक भर्ती में भ्रष्टाचार : अब STF करेगी अभ्यर्थियों की बातचीत के वायरल आडियो की जांच


शिक्षक भर्ती में सेटिंग का एक अन्य वीडियो भी हुआ था वायरल


प्रयागराज। शिक्षक भर्ती परीक्षा में रुपये लेकर पास कराने की बातचीत संबंधी वीडियो मिलने के बाद एसटीएफ ने जांच शुरू कर दी है। वैसे यह परीक्षा में सेटिंग चलने के आरोपों से संबंधित इकलौता वीडियो नहीं। परीक्षा परिणाम घोषित होने के बाद एक और ऐसा ही वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हआ था। इसमें एक व्यक्ति किसी चयनित अभ्यर्थी से बात करते हुए सुनाई पड़ रहा था। 


खास बात यह है कि 140 नंबर पाकर सफल हुआ अभ्यर्थी बातचीत में जुगाड़ से परीक्षा पास करने की बात भी कबूलता सुनाई पड़ता है। दूसरे व्यक्ति ने जब उससे यह पूछा कि उसने परीक्षा पास करने के लिए कितने रुपये दिए, तो वह यह कहता सुनाई देता है कि इस बारे में चाचा ही बता पाएंगे। हालांकि वह चाचा का नाम नहीं बताता। अभ्यर्थी यह भी कहता सुनाई पड़ता है कि परीक्षा में उसकी बहन भी सफल हुई है।


69000 शिक्षक भर्ती में भ्रष्टाचार खंगाल रही एसटीएफ अब वायरल आडियो की भी जांच करेगी। परीक्षा नियामक प्राधिकारी सचिव ने एसटीएफ के महानिदेशक को अनुरोध पत्र भेजा है।...


प्रयागराज। 69000 शिक्षक भर्ती में भ्रष्टाचार खंगाल रही एसटीएफ अब वायरल आडियो की भी जांच करेगी। परीक्षा नियामक प्राधिकारी सचिव ने एसटीएफ के महानिदेशक को अनुरोध पत्र भेजा है। वायरल आडियो संदेश में दो कथित अभ्यर्थी परीक्षा पास कराने के लिए लेन-देन की चर्चा कर रहे हैं, इसकी फोरेंसिक जांच चल रही है। दोषियों पर कठोर कार्रवाई की मांग की गई है।


सोशल मीडिया पर फरवरी 2020 में एक आडियो संदेश खूब वायरल हुआ। इसमें दो लोग परीक्षा पास कराने के लेन-देन पर चर्चा कर रहे थे। महानिदेशक स्कूल शिक्षा विजय किरन आनंद ने इसका संज्ञान लिया और 11 मार्च को सचिव परीक्षा नियामक प्राधिकारी उप्र को आदेश दिया कि इस आडियो की फोरेंसिक जांच कराकर दोषियों पर कार्रवाई की जाए। सचिव परीक्षा नियामक ने 12 मार्च को आडियो संदेश की सीडी फोरेंसिक जांच के लिए निदेशक राजकीय विधि विज्ञान प्रयोगशाला महानगर लखनऊ भेजी।


कोरोना संक्रमण बढऩे से इस मामले की जांच रिपोर्ट परीक्षा संस्था को कई माह बीतने पर भी नहीं मिली। 11 मई को सचिव परीक्षा नियामक ने ईमेल पर पत्र भेजकर जांच आख्या मांगी, फिर भी कोई जवाब नहीं आया। सचिव ने महानिदेशक स्कूल शिक्षा से जांच रिपोर्ट दिलाने का अनुरोध किया, डीजी को भी इसमें सफलता नहीं मिली, तब राज्य विज्ञान शिक्षा संस्थान प्रयागराज के प्रोफेसर राकेश कुमार श्रीवास्तव को जांच आख्या लेने भेजा, वह भी खाली हाथ लौट आए। सचिव ने महानिदेशक स्कूल शिक्षा को इससे अवगत कराया।


डीजी के निर्देश पर सचिव परीक्षा नियामक अनिल भूषण चतुर्वेदी ने स्पेशल टास्क फोर्स के महानिरीक्षक को पत्र भेजा है। इसमें कहा गया है कि 69000 शिक्षक भर्ती मामले के साथ वायरल आडियो संदेश की भी एसटीएफ जांच करके दोषियों पर कड़ी कार्रवाई कराए। असल में फोरेंसिक लैब पुलिस महकमे के अधीन है, उसे जांच रिपोर्ट जल्द मिल जाएगी। सचिव ने एसटीएफ को सारे रिकॉर्ड भेज दिए हैं।