DISTRICT WISE NEWS

अंबेडकरनगर अमरोहा अमेठी अलीगढ़ आगरा आजमगढ़ इटावा इलाहाबाद उन्नाव एटा औरैया कन्नौज कानपुर कानपुर देहात कानपुर नगर कासगंज कुशीनगर कौशांबी कौशाम्बी गाजियाबाद गाजीपुर गोंडा गोण्डा गोरखपुर गौतमबुद्ध नगर गौतमबुद्धनगर चंदौली चन्दौली चित्रकूट जालौन जौनपुर ज्योतिबा फुले नगर झाँसी झांसी देवरिया पीलीभीत फतेहपुर फर्रुखाबाद फिरोजाबाद फैजाबाद बदायूं बरेली बलरामपुर बलिया बस्ती बहराइच बागपत बाँदा बांदा बाराबंकी बिजनौर बुलंदशहर बुलन्दशहर भदोही मऊ मथुरा महराजगंज महोबा मिर्जापुर मीरजापुर मुजफ्फरनगर मुरादाबाद मेरठ मैनपुरी रामपुर रायबरेली लखनऊ लख़नऊ लखीमपुर खीरी ललितपुर वाराणसी शामली शाहजहाँपुर श्रावस्ती संतकबीरनगर संभल सहारनपुर सिद्धार्थनगर सीतापुर सुलतानपुर सुल्तानपुर सोनभद्र हमीरपुर हरदोई हाथरस हापुड़
Showing posts with label शिक्षक संघ. Show all posts
Showing posts with label शिक्षक संघ. Show all posts

Sunday, April 18, 2021

कोविड के प्रकोप के दृष्टिगत विद्यालयों की कार्यावधि में कमी करने तथा शिक्षक उपस्थिति हेतु रोस्टर लागू करने की RSM द्वारा मांग।

कोविड के प्रकोप के दृष्टिगत विद्यालयों की कार्यावधि में कमी करने तथा शिक्षक उपस्थिति हेतु रोस्टर लागू करने की RSM द्वारा मांग।
 


Saturday, April 17, 2021

कोरोना के फैलाव के चलते जूनियर शिक्षक संघ ने बेसिक शिक्षकों को वर्क फ्रॉम होम या 50% स्टाफ की उपस्थिति का आदेश निर्गत करने व विद्यालय समय में बदलाव की रखी मांग

कोरोना के फैलाव के चलते जूनियर शिक्षक संघ ने बेसिक शिक्षकों को वर्क फ्रॉम होम या 50% स्टाफ की उपस्थिति का आदेश निर्गत करने व विद्यालय समय में बदलाव की रखी मांग


Friday, April 16, 2021

पंचायत चुनाव ड्यूटी में तैनात कार्मिकों को जान का खतरा, शिक्षक संघ ने पंचायत चुनाव स्थगित करने की मांग की

पंचायत चुनाव ड्यूटी में तैनात कार्मिकों को जान का खतरा, शिक्षक संघ ने पंचायत चुनाव स्थगित करने की मांग की


लखनऊ। उत्तर प्रदेशीय प्राथमिक शिक्षक संघ ने राज्य निर्वाचन आयोग से त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव स्थगित करने की मांग की। कहा, कोरोना के बढ़ते संक्रमण की वजह से चुनाव ड्यूटी में तैनात शिक्षकों और कर्मचारियों को जान का खतरा है।


संघ के अध्यक्ष डॉ. दिनेश चंद्र शर्मा ने कहा कि लोक भवन में पंचम तल पर बैठने वाले अधिकारियों के पास बिना उनकी अनुमति के परिंदा भी पर नहीं मार सकता है। जब इन लोगों तक कोरोना संक्रमण पहुंच गया है तो यह कैसे संभव है कि पंचायत चुनाव में इतनी भीड़ के बीच ड्यूटी करने वाले शिक्षक और कर्मचारी संक्रमित नहीं होंगे।

शर्मा ने कहा कि मतदान दलों के प्रशिक्षण से लेकर उन्हें मतदान केंद्र तक भेजने में कोविड गाइडलाइन का पालन नहीं किया जा रहा है। मतदान केंद्रों पर भी मतदान दल कर्मियों के स्वास्थ्य जांच या इलाज की समुचित सुविधा नहीं है ।

पहले चरण के मतदान में ही विभिन्न जिलों से मतदान दलों के कर्मचारियों की तबीयत बिगड़ने और उन्हें उपचार नहीं मिलने की शिकायतें सामने आई हैं। इसके मद्देनजर उन्होंने आयोग से आगामी तीन चरण के चुनाव स्थगित कराने की मांग की है। साथ ही चुनाव ड्यूटी में किसी भी कर्मचारी की मृत्यु होने पर उसके परिजन को 50 लाख का मुआवजा और सरकारी नौकरी भी दिलाने की मांग की है।

Tuesday, April 13, 2021

पे रोल मॉड्यूल के चलते परिषदीय विद्यालयों के शिक्षकों को नहीं मिला मार्च का वेतन, पूर्व की व्यवस्था के तहत वेतन जारी करने की मांग

पे रोल मॉड्यूल के चलते परिषदीय विद्यालयों के शिक्षकों को नहीं मिला मार्च का वेतन, पूर्व की व्यवस्था के तहत वेतन जारी करने की मांग


लखनऊ। बेसिक शिक्षा परिषद के विद्यालयों के लगभग 5.5 लाख शिक्षकों व कर्मचारियों का मार्च का वेतन नहीं मिला है। वेतन मानव संपदा पोर्टल के पैरोल मॉड्यूल के माध्यम से ऑनलाइन किया जाना है। मगर इसका कार्य पूरा न होने से शिक्षकों का वेतन फंस गया है। 


उत्तर प्रदेश प्राथमिक शिक्षक प्रशिक्षित स्तातक एसोसिएशन ने मुख्यमंत्री और बेसिक शिक्षा मंत्री से मांग की है कि पूर्व को व्यवस्था के तहत शिक्षकों को मार्च का वेतन जारी किया जाए। संगठन के प्रांतीय अध्यक्ष विनय सिंह और महामंत्री आशुतोष मिश्र ने बताया कि 31 मार्च तक का भुगतान हो जाना चाहिए था। लेकिन प्रदेश के 866 ब्लॉक के खंड शिक्षा अधिकारी के द्वारा मानव संपदा पोर्टल के पेरोल मॉड्यूल का कार्य पूरा नहीं हुआ है। इससे वेतन नहीं मिल सका है।



Monday, April 12, 2021

पंचायत चुनाव प्रक्रिया में संलग्न कार्मिकों की सुरक्षा हेतु प्राथमिक शिक्षक संघ ने राज्य निर्वाचन आयोग को लिखा पत्र

पंचायत चुनाव प्रक्रिया में संलग्न कार्मिकों की सुरक्षा हेतु प्राथमिक शिक्षक संघ ने राज्य निर्वाचन आयोग को लिखा पत्र

शिक्षकों को दें कोरोना से बचाव के उपकरण, संक्रमण की चपेट में आने पर 20 लाख रुपए इलाज व मृत्यु पर 50 लाख देने की मांग


बहराइच। उत्तरप्रदेश प्राथमिक शिक्षक संघ की ओर से निर्वाचन आयुक्त को पत्र भेजकर निर्वाचन ड्यूटी में लगे शिक्षक-शिक्षिकाओं की सुरक्षा को लेकर कोरोना बचाव उपकरण की मांग की गई है। शिक्षक संघ के अध्यक्ष डॉ. दिनेश चन्द्र शर्मा की ओर से भेजे गए पत्र में कहा गया है कि सुरक्षा उपकरण के साथ ही कर्मियों के संक्रमण की चपेट में आने पर 20 लाख रुपए इलाज व मृत्यु पर 50 लाख देने की मांग की है।




निर्वाचन कार्य में लगे कार्मिकों को सुरक्षा किट उपलब्ध कराते हुए किया जाए वैक्सीनेशन - PSPSA की मांग

निर्वाचन कार्य में लगे कार्मिकों को सुरक्षा किट उपलब्ध कराते हुए किया जाए वैक्सीनेशन - PSPSA की मांग

बिना किसी सुरक्षा के चुनाव ड्यूटी कैसे करेंगे शिक्षक

राजधानी में होने वाले पंचायत चुनाव ड्यूटी के लिए लगाये शिक्षकों ने ड्यूटी से पहले ही कोरोना वैक्सीन लगाये जाने की मांग की है। साथ ही कोरोना से बचाव के लिए सैनिटाइजर और मास्क भी मुहैया कराने के लिए कहा गया है। इस संबंध में शिक्षकों के हित को ध्यान में रखते हुए प्राथमिक शिक्षक प्रशिक्षित स्नातक एसोसिएशन (पीएसपीएसए) के प्रांतीय अध्यक्ष विनय कुमार सिंह ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को पत्र भी लिखा है। पत्र में मुख्यमंत्री से मांग करते हुए कहा गया कि पूरे विश्व के साथ साथ अपना देश और प्रदेश वैश्विक महामारी कोविड - 19 से विगत एक वर्ष से जूझ रहा है। 

उत्तर प्रदेश राज्य निर्वाचन आयोग की ओर से त्रिस्तरीय पंचायत निर्वाचन का कार्य 4 मई तक होना है। जिसमें लाखो की संख्या में अधिकारी गण, परिषदीय शिक्षक गण और कर्मचारी निर्वाचन कार्मिक के रूप में निर्वाचन का कार्य करेंगे, प्रत्येक बूथ निर्वाचन कार्मिक 600 से अधिक मतदाताओं के संपर्क में बिना किसी सुरक्षा किट के मतदान का कार्य करेंगे। मुख्यमंत्री को भेजे गये लिखित पत्र में मांग की गयी कि चुनाव में लगे सभी कर्मियों का कोविड वैक्सीनेशन कराया जाये उसके बाद ड्यूटी पर भेजा जाये।


लखनऊ। उत्तर प्रदेश प्राथमिक शिक्षक प्रक्षिशित स्नातक एसोसिएशन ने निर्वाचन कार्य मे लगाए जा रहे सभी परिषदीय शिक्षकों को वैक्सीन लगाने और फेस शील्ड उपलब्ध कराने की मांग की है। 

संगठन के प्रांतीय अध्यक्ष विनय कुमार सिंह और प्रांतीय महामंत्री आशुतोष मिश्र ने बताया कि उत्तर प्रदेश राज्य निर्वाचन आयोग के द्वारा त्रिस्तरीय पंचायत निर्वाचन का कार्य 4 मई तक होना है। जिसमें लाखों की संख्या में अधिकारी, परिषदीय शिक्षक और कर्मचारी निर्वाचन कार्मिक के रूप में निर्वाचन का कार्य संपादित करेंगे। 

प्रत्येक बूथ पर निर्वाचन कार्मिक करीब 600 से अधिक मतदाताओं के संपर्क में बिना किसी सुरक्षा किट के मतदान का कार्य करेंगे। जिसमें 45 वर्ष से कम आयु के निर्वाचन कार्मिकों की भी ड्यूटी लगी हुई है। जिनका कोविड वैक्सीनेशन नहीं हुआ है। 

उन्होंने बताया कि मुख्यमंत्री और राज्य निर्वाचन अधिकारी से मांग है कि समस्त निर्वाचन कर्मियों का कोविड वैक्सीनेशन कराने का कष्ट करें और प्रत्येक कर्मियों को कम से कम दो फेस ग्लास शील्ड उपलब्ध कराने का कष्ट करें।