DISTRICT WISE NEWS

अंबेडकरनगर अमरोहा अमेठी अलीगढ़ आगरा आजमगढ़ इटावा इलाहाबाद उन्नाव एटा औरैया कन्नौज कानपुर कानपुर देहात कानपुर नगर कासगंज कुशीनगर कौशांबी कौशाम्बी गाजियाबाद गाजीपुर गोण्डा गोरखपुर गौतमबुद्ध नगर गौतमबुद्धनगर चन्दौली चित्रकूट जालौन जौनपुर ज्योतिबा फुले नगर झाँसी झांसी देवरिया पीलीभीत फतेहपुर फर्रुखाबाद फिरोजाबाद फैजाबाद बदायूं बरेली बलरामपुर बलिया बस्ती बहराइच बागपत बाँदा बांदा बाराबंकी बिजनौर बुलंदशहर बुलन्दशहर भदोही मऊ मथुरा महराजगंज महोबा मीरजापुर मुजफ्फरनगर मुरादाबाद मेरठ मैनपुरी रामपुर रायबरेली लखनऊ लख़नऊ लखीमपुर खीरी ललितपुर वाराणसी शामली शाहजहाँपुर श्रावस्ती संतकबीरनगर संभल सहारनपुर सिद्धार्थनगर सीतापुर सुल्तानपुर सोनभद्र हमीरपुर हरदोई हाथरस हापुड़
Showing posts with label शिक्षामित्र संघ. Show all posts
Showing posts with label शिक्षामित्र संघ. Show all posts

Saturday, September 21, 2019

दूरस्थ बीटीसी शिक्षक संघ ने ज्ञापन दे की मांग : नई शिक्षा नीति में शिक्षामित्रों का भविष्य सुरक्षित करे सरकार

दूरस्थ बीटीसी शिक्षक संघ ने ज्ञापन दे की मांग : नई शिक्षा नीति में शिक्षामित्रों का भविष्य सुरक्षित करे सरकार




Wednesday, September 4, 2019

शिक्षामित्रों ने किया प्रेरणा एप का समर्थन, प्रदेश अध्यक्ष ने कहा : स्कूलों की स्थिति में होगा सुधार


शिक्षामित्रों ने किया प्रेरणा एप का समर्थन, प्रदेश अध्यक्ष ने कहा : स्कूलों की स्थिति में होगा सुधार



Monday, August 12, 2019

फतेहपुर : शिक्षामित्रों ने मानव संसाधन विकास मंत्रालय को खून से लिखा पत्र, जिलास्तरीय समस्यायों के समाधान के लिए 72 घण्टे का दिया अल्टीमेटम

खून से लिखा पत्र, 72 घंटे का अल्टीमेटम
August 12, 2019

  
जागरण संवाददाता, फतेहपुर: आदर्श समायोजित शिक्षक वेलफेयर एसोसिएशन ने रविवार को नहर कॉलोनी मैदान में बैठक करके समस्याओं के निस्तारण की आवाज बुलंद की। बैठक में जुटे शिक्षामित्रों ने मानव संसाधन विकास मंत्रलय नई दिल्ली को खून से पत्र लिखकर भेजा। मंत्रलय को पत्र लिखने के साथ ही आरोप लगाया कि उनकी समस्याओं की सुनवाई नहीं हो रही है। शासन के आदेश को भी प्रशासन नहीं मान रहा है। 72 घंटे के अंदर जिला स्तरीय समस्याओं का समाधान न किया गया तो बीएसए कार्यालय में घेरा डालो-डेरा डालो के तहत आंदोलन होगा। जिलाध्यक्ष विजय सिंह गौर ने कहाकि बेसिक शिक्षा विभाग शिक्षामित्रों की धैर्य की परीक्षा न ले। धरने में बैठेंगे तो तभी हटेंगे जब हमारी समस्याएं निस्तारित हो जाएंगी।
धरनास्थल पर जुटे शिक्षामित्रों ने एकबार फिर से हुंकार भरी और प्रशासन को चेताया कि इतिहास गवाह है कि हक की लड़ाई के लिए शिक्षामित्र मर मिटने पर अमादा हो जाता है। शासन और प्रशासन ने फिर से वही स्थिति पैदा कर दी है। शिक्षामित्रों ने लचर कार्यशैली पर आरोप लगाते हुए कहा कि समायोजन रद होने के बाद शिक्षामित्र परेशान हैं। 10 हजार की पगार में 50 से 70 किमी दूरी पर प्रतिदिन दायित्व निर्वहन के लिए जाना पड़ता है। प्रमुख मांगों में महिला शिक्षामित्रों को ससुराल के विद्यालय भेजा जाए। शिक्षामित्रों को मूल विद्यालय भेजा जाए। जिलाध्यक्ष श्री गौर ने कहाकि विभाग के पास शुक्रवार तक का समय है। अन्यथा शिक्षामित्र आंदोलन की राह पकड़ लेगा। मौके पर श्रीचंद्र, सुरेश सिंह, जितेंद्र सिंह, इंद्रपाल, रामसेवक, मूलचंद्र, सुधा सिंह, विजय लक्ष्मी, सज्जन सिंह, चरन सिंह, शशिलता, राजकुमारी, नीतू आदि रहे।







 व्हाट्सप के जरिये जुड़ने के लिए क्लिक करें।

Sunday, June 16, 2019

शिक्षामित्र उत्साहित, जून में स्कूल के साथ शिक्षामित्रों की खुलेगी किस्मत

शिक्षामित्र उत्साहित, जून में स्कूल के साथ शिक्षामित्रों की खुलेगी किस्मत




Sunday, January 13, 2019

उप्र दूरस्थ बीटीसी शिक्षा संघ ने राज्य सरकार पर जताई नाराजगी, कहा : "शिक्षामित्रों के लिए संकल्प पत्र साबित हुआ खोखला"


उप्र दूरस्थ बीटीसी शिक्षा संघ ने जताई नाराजगी, कहा : "शिक्षामित्रों के लिए संकल्प पत्र साबित हुआ खोखला"

Saturday, November 24, 2018

शिक्षामित्रों के लिए अलग कानून बनाये केंद्र, मांग न पूरी होई तो शीतकालीन सत्र के दौरान 10 दिसम्बर के बाद शिक्षामित्रों ने दी आंदोलन की चेतावनी

शिक्षामित्रों के लिए अलग कानून बनाये केंद्र, मांग न पूरी होई तो शीतकालीन सत्र के दौरान 10 दिसम्बर के बाद आंदोलन की चेतावनी।

Monday, October 8, 2018

शिक्षामित्रों ने संघर्ष और अन्य कारणों से मृत्यु के शिकार हुए साथियों का किया श्राद्ध, कहा सरकार को शिक्षामित्रों की उपेक्षा पड़ेगा भारी,  दूसरे गुट ने 10 नवम्बर को विधान सभा घेरने का किया एलान

शिक्षामित्रों ने संघर्ष और अन्य कारणों से मृत्यु के शिकार हुए साथियों का किया श्राद्ध, कहा सरकार को शिक्षामित्रों की उपेक्षा पड़ेगा भारी,  दूसरे गुट ने 10 नवम्बर को विधान सभा घेरने का किया एलान। 


लखनऊ : शिक्षामित्रों ने रविवार को धरना के दौरान श्रद्ध की। इस दौरान उन्होंने मृतक साथियों का पिंडदान कर तर्पण किया। साथ ही अल्टीमेटम दिया कि अधिक दिन तक उपेक्षा सरकार को भारी पड़ेगी। ईको गार्डेन में आम शिक्षक-शिक्षामित्र एसोसिएशन का धरना मई से जारी है। इस दौरान अध्यक्ष उमा देवी की मौजूदगी में पदाधिकारियों ने पितृपक्ष में श्रद्ध करने का फैसला किया।


उन्होंने संघर्ष व विभिन्न कारणों से मृत्यु के शिकार हुए शिक्षा मित्रों का पिंडदान किया। साथ कढ़ी-चावल का भोज भी कराया। ऐसे में उमा देवी ने कहा कि सरकार शिक्षामित्रों की लगातार उपेक्षा कर रही है। मगर अधिक दिन नजरंदाज करना सरकार को भी भारी पड़ेगा। उन्होंने कहा कि सरकार मनमानी पर उतारू है। ऐसे में शिक्षामित्र के हित में गठित कमेटी के निर्णयों पर भी फैसला नहीं लिया गया। सिर्फ आश्वासन का झुनझुना थमाकर धोखा देने का काम किया। शीघ्र ही आर-पार की लड़ाई होगी।

■ ये रखीं मांगें
★ शिक्षामित्रों को 9वीं अनुसूची में शामिल किया जाए
★ केंद्र के समान अपग्रेड पैराटीचर 38,878 रुपये दिया जाए
★ प्री-प्राइमरी की व्यवस्था कर समायोजन किया जाए
★ मृतक आश्रितों को मुआवजा व नौकरी मिले


■ धोखा दे रही सरकारउप्र
दूरस्थ बीटीसी शिक्षक संघ की बैठक दारुलशफा में हुई। संघ के अध्यक्ष अनिल कुमार यादव ने कहा कि शिक्षामित्रों को सरकार धोखा दे रही है। वह मध्यप्रदेश, राजस्थान की तर्ज पर शिक्षामित्रों का भविष्य सुनिश्चित करे। वहीं दीपावली से पहले वादा पूरे न होने पर विधानसभा घेराव की चेतावनी दी।


वादे पूरे न हुए तो 10 नवंबर को विधान भवन घेरेंगे शिक्षामित्र
लखनऊ : उप्र दूरस्थ बीटीसी शिक्षक संघ ने सरकार को चेतावनी दी है कि यदि उसने शिक्षामित्रों से किये गए वादे को दीपावली से पहले पूरा नहीं किया तो शिक्षामित्र 10 नवंबर को विधान भवन का घेराव करेंगे। यह निर्णय शुक्रवार को दारुलशफा में हुई संघ की प्रांतीय कमेटी की बैठक में लिया गया। संगठन के अध्यक्ष अनिल यादव ने कहा कि भाजपा ने अपने चुनावी घोषणापत्र में शिक्षामित्रों से जो वादा किया था, वह पार्टी के सत्ता में आने के बाद अब तक पूरा नहीं हो पाया है।

Monday, August 13, 2018

गोरखपुर : शिक्षा मित्रों ने की बैठक कर एकजुट होने की अपील, संविधान पीठ की योजना बना लड़ाई की तैयारी 


शिक्षा मित्रों ने की बैठक कर एकजुट होने की अपील, संविधान पीठ की योजना बना लड़ाई की तैयारी 

Thursday, August 9, 2018

फतेहपुर : सीएम से मिला शिक्षामित्रों का प्रतिनिधि मण्डल, सीएम ने स्थाई समाधान का दिया भरोसा

सीएम से मिला शिक्षामित्रों का प्रतिनिधि मंडल

जागरण संवाददाता, फतेहपुर :संयुक्त समायोजित शिक्षक एसोसिएशन उत्तर प्रदेश के बैनर तले प्रदेश उपाध्यक्ष विक्रम सिंह भदौरिया ने बुधवार को सीएम से मुलाकात की और शिक्षामित्रों की समस्याओं को रखा और निस्तारण की मांग की। सीएम से मिलकर लौटे श्री भदौरिया ने बताया कि सीएम ने रक्षाबंधन पर्व पर स्थायी समाधान देकर खुशियों से भर देंगे।

प्रदेश स्तरीय प्रतिनिधि मंडल में जिले से भदौरिया के अलावा अजय सिंह और मंडल उपाध्यक्ष सुशील तिवारी सदर विधायक के द्वारा लिए गए कार्यक्रम के अनुसार सीएम से मुलाकात की। 4 सूत्रीय ज्ञापन देकर निस्तारण की मांग उठाई। बताया कि 700 से अधिक साथी अवसाद के चलते मौत के मुंह में जा चुके हैं। इसलिए शिक्षामित्रों का समाधान निकाला जाए। सीएम ने प्रतिनिधि मंडल को विश्वास दिलाया कि रक्षाबंधन के त्योहार पर स्थायी समाधान से परिपूर्ण कर देंगे।

Tuesday, July 17, 2018

दूरस्थ शिक्षक संघ की कार्यकारिणी भंग,  31 जुलाई तक होगा नया गठन

दूरस्थ शिक्षक संघ की कार्यकारिणी भंग,  31 जुलाई तक होगा नया गठन। 

Wednesday, May 23, 2018

आदर्श समायोजित शिक्षक वेलफेयर के बैनर तले शिक्षामित्रों का प्रदर्शन, मांगे पूरी होने तक जारी रहेगा आंदोलन

आदर्श समायोजित शिक्षक वेलफेयर के बैनर तले शिक्षामित्रों का आंदोलन मंगलवार को भी जारी रहा। शिक्षामित्र समान वेतन की मांग को लेकर आंदोलित हैं। सर्व शिक्षा अभियान दफ्तर पर शिक्षामित्रों ने मंगलवार को भी प्रदर्शन किया गया। सोमवार को शिक्षामित्रों ने बुद्धि-शुद्धि यज्ञ कर सरकार की सद्बुद्धि की कामना की थी।

ज्ञातव्य है कि आदर्श शिक्षक वेलफेयर एसोसिएशन के प्रांतीय अध्यक्ष जितेंद्र शाही के आह्वान पर शिक्षामित्र 21 मई से आंदोलन कर रहे हैं। इसी कड़ी में मंगलवार को धरने के दौरान शिक्षामित्रों के प्रतिनिधिमंडल ने एसीएम द्वितीय अर्पित गुप्ता को मुख्यमंत्री को संबोधित पांच सूत्रीय ज्ञापन सौंपा। धरने में सभी ब्लाकों के सैकड़ों शिक्षामित्र मौजूद रहे। सभा की अध्यक्षता जिलाध्यक्ष अश्वनी त्रिपाठी व संचालन जिला मंत्री अरुण कुमार सिंह ने की। अश्वनी त्रिपाठी ने कहा कि सरकार जब तक हमारी मांगे नहीं मान लेती हमारा आंदोलन जारी रहेगा। हमें 10 हजार रुपये के अल्प मानदेय पर 80 से 100 किलोमीटर दूर विद्यालयों में जाकर पढ़ाने को विवश किया जा रहा है। ऐसे में शिक्षामित्र आर्थिक तंगी से जूझ रहे हैं। कार्यकारिणी के निर्देश पर 25 मई को विधायकों व सांसदों से मिलकर समर्थन की अपील की जाएगी। इस अवसर पर शारदा शुक्ला, अभिनव त्रिपाठी, राजेश गौतम, राकेश शुक्ला, इकबाल बहादुर, विवेक मिश्र, जमाल अहमद, सुभाष यादव, मधुकर सरन, टीटू जायसवाल, मनीष पांडेय आदि मौजूद रहे।सर्व शिक्षा अभियान कार्यालय में सभा करते शिक्षामित्र

Thursday, March 29, 2018

शिक्षामित्रों ने सरकार से छेड़ी आर-पार की लड़ाई, लखनऊ में डाला डेरा

शिक्षामित्रों का कहना है कि जब वह 10 हजार के मानदेय पर काम करते हैं तो पढ़ाने के लिए योग्य हो जाते हैं. वहीं 40 हजार के वेतन के लिए उनको अयोग्य माना जाता है. उन्होंने इसे सरकार की दोहरी नीति बताया

news18 hindi , News18 Uttar Pradesh

समायोजन रद्द होने के बाद एक बार फिर से सूबे के शिक्षामित्रों ने प्रदर्शन शुरू कर दिया है. फिलहाल शिक्षामित्रों ने चार दिन के लिए लखनऊ के लक्ष्मण मेला मैदान में डेरा डाला है. उनका कहना है कि अगर मांगें पूरी नहीं हुई तो वह बड़ा आंदोलन करेंगे. शिक्षामित्रों का कहना है कि समायोजन रद्द होने के बाद से उनका जीवन बदहाल हो गया है. उनका कहना है कि सरकार सभी शिक्षामित्रों को पैराटीचर के पद पर नियुक्त करे. जब तक उनकी नियुक्ति नहीं होती, तब तक उनको समान कार्य समान वेतन मिलना चाहिए.उन्होंने कहा कि इस पूरे मामले में समायोजन रद्द होने के बाद अब तक 500 से अधिक शिक्षामित्रों की मौत हो चुकी है. उन सभी के परिवार को आर्थिक सहायता दी जानी चाहिए. शिक्षामित्रों का कहना है कि जब वह 10 हजार के मानदेय पर काम करते हैं तो पढ़ाने के लिए योग्य हो जाते हैं. वहीं 40 हजार के वेतन के लिए उनको अयोग्य माना जाता है. उन्होंने इसे सरकार की दोहरी नीति बताया.

शिक्षामित्रों के अनुसार उनके साथ जो कुछ भी हो रहा है, वह पूरी तरह से राजनीति से प्रेरित है. एक सरकार ने नियुक्ति दी तो दूसरे ने समायोजन रद्द कर दिया. मालूम हो कि 25 जुलाई, 2017 को आए सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद सरकार ने सूबे के करीब 1 लाख 37 हजार शिक्षामित्रों का समायोजन रद्द किया था.

Monday, March 19, 2018

प्रदेश के कई सांसद कर रहे पैरवी, मुख्यमंत्री के समक्ष रखेंगे शिक्षा मित्रों की पीड़ा : जितेंद्र शाही

मुख्यमंत्री के समक्ष समायोजन रद होने के बाद दयनीय स्थिति से गुजर रहे शिक्षा मित्रों की सच्चाई रखने के लिए आदर्श समायोजत शिक्षक-शिक्षा मित्र वेलफेयर एसोसिएशन ने कमर कस लिया है। प्रदेश के कई सांसदों व विधायकों से मिलकर सीएम से समय लेकर बात रखने के लिए प्रयास तेज कर दिया है। इसी कड़ी में जिले में भी प्रदेश अध्यक्ष की अगुवाई में सांसद जगदंबिका पाल, विधायक चौधरी अमर सिंह ने मुलाकात की।

रविवार को जनपद मुख्यालय पर पहुंचे प्रदेश अध्यक्ष जितेन्द्र शाही से मिलने के लिए सैकड़ों शिक्षा मित्र बीएसए कार्यालय पर एकत्रित हुए। वहां से सभी शोहरतगढ़ के विधायक चौधरी अमर सिंह से मुलाकात की। विधायक ने शिक्षा मित्रों के साथ अपने संबंधों को बताते हुए अपनी मंशा को मुख्यमंत्री को बताने के लिए पत्र लिखा। बाद में सांसद जबदंबिका पाल से मिलकर व्यथा सुनाई। दोनों जनप्रतिनिधियों से मुख्यमंत्री से समय लेकर मुलाकात कराने का अनुरोध किया।
जिस पर सभी ने भरोसा दिलाया।प्रदेश अध्यक्ष जितेंद्र शाही ने बताया कि संगठन अपने प्रयासों में लगा हुआ है। कोई रास्ता निकले और सफलता प्राप्त हो। प्रदेश के कई सांसद पैरवी कर रहे हैं। जिसमें अहम भूमिका डुमरियागंज के सांसद निभा रहे हैं। जिलाध्यक्ष हेमन्त शुक्ला, शिव शरन चौधरी, चंद्र मोहन चौधरी, अभिषेक श्रीवास्तव, घनश्याम पांडेय, सुभाष चंद्र, अरुण पांडेय, राजेन्द्र यादव, हरीश आर्या, हरीश चौरसिया, चंद्र प्रकाश, प्रदीप, अरुण पांडेय, रवि प्रकाश पांडेय, सुशील मिश्र, रामजीत मोर्य, धनन्जय कुमार, अजीमुद्दीन, बाबुद्दीन, राकेश, महेंद्र, रामदास चौधरी, कृष्ण चंद्र चौधरी, संजय कुमार, हेमन्त यादव सहित तमाम लोग उपस्थित रहे।



Saturday, February 10, 2018

शिक्षामित्रों को नवंबर से नही मिला मानदेय, जल्द मानदेय नही मिला तो शिक्षण कार्य न करने की चेतावनी


शिक्षामित्रों को नवंबर से नही मिला मानदेय, जल्द मानदेय नही मिला तो शिक्षण कार्य न करने की चेतावनी

Monday, February 5, 2018

शिक्षामित्र संघ दायर करेगा सुधारात्मक याचिका, संघ ने जताया विश्वास : संविधान पीठ के माध्यम से मिलेगा न्याय


शिक्षामित्र संघ दायर करेगा सुधारात्मक याचिका, संघ ने जताया विश्वास : संविधान पीठ के माध्यम से मिलेगा न्याय

Sunday, January 21, 2018

महराजगंज : समायोजित शिक्षामित्र संघ प्रवक्ता ने सरकार से पद स्थायी करने अन्यथा मूल विद्यालय में भेजने की उठायी मांग

महराजगंज : बृजमनगंज विकास खंड में समायोजित शिक्षामित्र संघ के प्रवक्ता दिनेश मिश्र ने कहा कि सरकार द्वारा न्यायालय के आदेश से जिन समायोजित शिक्षक बंधुओं को पद मुक्त कर मूल पद का मानदेय दिया जा रहा है। महज चंद रुपये में कैसे कोई सैकड़ों किमी दूर शिक्षण काम कर पाएगा।


Thursday, January 11, 2018

68500 शिक्षक भर्ती के खिलाफ शिक्षामित्रों ने खोला मोर्चा, दूरस्थ बीटीसी संघ देगा हाईकोर्ट व सुप्रीमकोर्ट में चुनौती


68500 शिक्षक भर्ती के खिलाफ शिक्षामित्रों ने खोला मोर्चा, दूरस्थ बीटीसी संघ देगा हाईकोर्ट व सुप्रीमकोर्ट में चुनौती

Wednesday, January 3, 2018

शिक्षामित्रों ने सरकार से की मांग, 15 जनवरी से पहले मूल विद्यालय भेजे जाएं शिक्षामित्र


शिक्षामित्रों ने सरकार से की मांग, 15 जनवरी से पहले मूल विद्यालय भेजे जाएं शिक्षामित्र



Tuesday, January 2, 2018

बलिया : शिक्षामित्रों ने मांगा सम्मानजनक मानदेय, सेवा अवधि 62 वर्ष करने की मांग

शिक्षामित्रों ने मांगा सम्मानजनक मानदेय, सेवा अवधि 62 वर्ष करने की मांग


Saturday, December 23, 2017

वरिष्ठ अधिवक्ता एन. हरीश साल्वे की सलाह पर चल रही शिक्षामित्रों के मुकदमे की सुनवाई, अगला साल शिक्षामित्रों के लिए होगा उज्ज्वल : जितेंद्र शाही

 शिक्षामित्र वेलफेयर एसोसिएशन के प्रदेश अध्यक्ष जितेन्द्र प्रताप शाही ने कहा कि अगला साल शिक्षामित्रों के लिए उज्‍जवल होगा। केन्द्र सरकार की ओर से 10 अगस्त 2017 को जारी आदेश से शिक्षामित्रों को बड़ी राहत मिलेगी। सुप्रीम कोर्ट के वरिष्ठ अधिवक्ता एन. हरीश साल्वे की सलाह पर हाईकोर्ट इलाहाबाद में मुकदमें की सुनवाई चल रही है। केन्द्र सरकार के इस आदेश से शिक्षामित्रों को फिर से शिक्षक पद पर समायोजित होना तय है। प्रदेश अध्यक्ष शाही शुक्रवार जिले में संगठन के कार्यकर्ताओं की बैठक के बाद जारी एक बयान में यह बातें कही। प्रदेश अध्यक्ष ने कहा कि शिक्षामित्रों को प्राथमिक विद्यालयों में सहायक अध्यापक के पद पर समायोजित कराने के लिए संघर्ष जारी रहेगा। उन्होंने उम्मीद जताते हुए कहा कि नए केन्द्र सरकार के लिए आदेश से शिक्षामित्रों को हाईकोर्ट से राहत मिलेगी। यहां जिलाध्यक्ष दिनेश चंद्रा, महामंत्री प्रदीप यादव, मीडिया प्रभारी सुतीक्ष्ण तिवारी, जगध्यान यादव, रामशिरोमणि वर्मा, जंग बहादुर सिंह, दिलीप पांडेय, राजेश मिश्र, बाल गोविन्द मौर्य, बृजेश सिंह, प्रयागदत्त तिवारी, अखिलेश तिवारी, प्रमोद मिश्र आदि रहे।