DISTRICT WISE NEWS

अंबेडकरनगर अमरोहा अमेठी अलीगढ़ आगरा आजमगढ़ इटावा इलाहाबाद उन्नाव एटा औरैया कन्नौज कानपुर कानपुर देहात कानपुर नगर कासगंज कुशीनगर कौशांबी कौशाम्बी गाजियाबाद गाजीपुर गोंडा गोण्डा गोरखपुर गौतमबुद्ध नगर गौतमबुद्धनगर चंदौली चन्दौली चित्रकूट जालौन जौनपुर ज्योतिबा फुले नगर झाँसी झांसी देवरिया पीलीभीत फतेहपुर फर्रुखाबाद फिरोजाबाद फैजाबाद बदायूं बरेली बलरामपुर बलिया बस्ती बहराइच बागपत बाँदा बांदा बाराबंकी बिजनौर बुलंदशहर बुलन्दशहर भदोही मऊ मथुरा महराजगंज महोबा मिर्जापुर मीरजापुर मुजफ्फरनगर मुरादाबाद मेरठ मैनपुरी रामपुर रायबरेली लखनऊ लख़नऊ लखीमपुर खीरी ललितपुर वाराणसी शामली शाहजहाँपुर श्रावस्ती संतकबीरनगर संभल सहारनपुर सिद्धार्थनगर सीतापुर सुलतानपुर सुल्तानपुर सोनभद्र हमीरपुर हरदोई हाथरस हापुड़
Showing posts with label समायोजित शिक्षक. Show all posts
Showing posts with label समायोजित शिक्षक. Show all posts

Thursday, September 13, 2018

गोरखपुर : समायोजित विद्यालयों पर ज्वाइन न करने वाले 200 शिक्षकों का वेतन बाधित करने की चल रही है तैयारी, समायोजित शिक्षकों को फिलहाल न्यायालय से भी नहीं मिली राहत

गोरखपुर : छात्र संख्या के अनुपात में अतिरिक्त शिक्षकों के समायोजन की प्रक्रिया पूरी हुए करीब 23 दिन बीत चुके हैं लेकिन अभी तक अधिकतर शिक्षकों ने नए विद्यालयों पर ज्वाइन नहीं किया है। ज्वाइन न करने वाले 200 शिक्षकों का वेतन बाधित करने की तैयारी चल रही है। शिक्षकों के नए विद्यालयों पर ज्वाइन न करने पर जिलाधिकारी ने भी जताई है। ब्लॉक से बाहर जाने के लिए उच्च प्राथमिक विद्यालयों के 281 शिक्षक सरप्लस चिन्हित हुए थे। इन शिक्षकों के समायोजन के लिए 19 एवं 20 अगस्त को एडीएम सिटी की अगुवाई में काउंसिलिंग कराई गई। काउंसिलिंग में दो दिनों में 77 शिक्षक शामिल हुए और अपने विद्यालयों का चयन किया। अधिकतर ने काउंसिलिंग नहीं कराई। जिन शिक्षकों ने काउंसिलिंग नहीं कराई, उनमें से दिव्यांगों को छोड़कर अन्य को रोस्टर के अनुसार विद्यालय आवंटित कर दिए गए। सभी को नए विद्यालय पर भेजने के लिए नियुक्ति पत्र भी जारी कर दिए गए लेकिन काफी दिनों तक शिक्षकों ने नियुक्ति पत्र प्राप्त नहीं किया। कई शिक्षक एक साथ मेडिकल अवकाश पर चले गए। समायोजन सूची में शामिल शिक्षकों को इस प्रक्रिया पर न्यायालय से स्थगन आदेश का भरोसा था लेकिन स्थगन नहीं मिल सका है। इस बीच जिलाधिकारी ने बीएसए से इस मामले में पूछताछ की है और शिक्षकों के ज्वाइन न करने पर जाहिर की है। शिक्षा विभाग इस मामले में अब कार्रवाई के मूड में है। जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी भूपेंद्र नारायण सिंह का कहना है कि समायोजन के बाद कुछ शिक्षकों ने नए विद्यालयों पर ज्वाइन किया है लेकिन अभी भी कई शिक्षक ज्वाइन करने नहीं पहुंचे हैं। ज्वाइन न करने वाले शिक्षकों का वेतन बाधित किया जाएगा। समायोजन के बाद नए विद्यालयों पर ज्वाइन न करने पर की जाएगी कार्रवाई। समायोजित शिक्षकों को फिलहाल न्यायालय से भी नहीं मिली राहत।

खंड शिक्षा अधिकारियों ने किया ज्वाइन :
समायोजन के बाद खंड शिक्षा अधिकारियों के क्षेत्र भी बदले गए थे लेकिन उनमें से भी कुछ ने ज्वाइन नहीं किया था।



Friday, April 20, 2018

सीतापुर : चार्ज से हटाए जाएंगे समायोजित शिक्षामित्र, डीएम के निर्देश पर बीएसए ने जारी किया फरमान

संसू,सीतापुर: प्राथमिक विद्यालयों में इंचार्ज के पद पर कार्यरत समायोजित रहे शिक्षा मित्रों को पद से हटाया जाएगा। इन विद्यालयों में सीनियर सहायक अध्यापक को प्रभारी प्रधानाध्यापक की जिम्मेदारी दी जाएगी। डीएम के निर्देश पर बीएसए ने इस बाबत सभी बीईओ को आदेश दिए हैं। बीईओ सकरन ने इस संबंध में पत्र जारी कर समायोजित रहे शिक्षा मित्रों को प्रभार छोड़ने को कहा है। जिले भर में तकरीबन 500 समायोजित रहे शिक्षा मित्र इंचार्ज प्रधानाध्यापक पद पर कार्यरत हैं।

बेसिक शिक्षा विभाग की बैठक में जिलाधिकारी के सामने विद्यालयों में होने वाले विवाद को उठाया। जिसमें समायोजन रद होने के बाद भी शिक्षा मित्रों को प्रभार से न हटाने पर सहायक अध्यापक आपत्ति कर रहे हैं। ऐसे में कई विवाद के मामले भी सामने आ चुके हैं। डीएम ने बीएसए को मौखिक निर्देश दिए कि ऐसे सभी समायोजित रहे शिक्षा मित्रों से प्रभार हटा दिया जाए। मौखिक आदेश के बाद जिलाधिकारी ने कार्यवृत्ति में इसका आदेश भी जारी कर दिया। इस मामले में पहल बीईओ सकरन डॉ. ब्रजेश त्रिपाठी ने की। उन्होंने जिलाधिकारी के आदेश का हवाला देते हुए ब्लॉक में तकरीबन 50 समायोजित रहे शिक्षा मित्रों को हटाने का पत्र जारी कर दिया। बीएसए ने बताया कि जिलाधिकारी के आदेश के क्रम में सभी बीईओ को इस बाबत निर्देश जारी करके तत्काल समायोजित रहे शिक्षा मित्रों से प्रभार वापस लिया जाएगा।

अगस्त 2014 में प्रथम बैच में 1367 शिक्षा मित्रों का समायोजन हुआ था। मई 2015 में द्वितीय बैच में 921 शिक्षा मित्रों का समायोजन सहायक अध्यापक पद पर किया गया था। इसके बाद सीनियर होने के नाते लगभग 900 समायोजित शिक्षा मित्रों को विद्यालय का इंचार्ज बना दिया गया था। जुलाई 2017 में उच्चतम न्यायालय ने शिक्षा मित्रों का समायोजन निरस्त कर दिया था, जिसके बाद भी शिक्षा मित्र इस पद पर बने हुए थे।

Friday, March 16, 2018

प्रतापगढ़ : फर्जी शिक्षामित्रों पर मुकदमा दर्ज कराने से कतरा रहे अफसर, मूल स्कूल में तैनाती का आदेश होने के बाद फर्जीवाड़े में लिप्त लोग हुए फरार

प्रतापगढ़ : फर्जी शिक्षामित्रों पर मुकदमा दर्ज कराने से कतरा रहे अफसर, मूल स्कूल में तैनाती का आदेश होने के बाद फर्जीवाड़े में लिप्त लोग हुए फरार।

Wednesday, September 20, 2017

महराजगंज : समायोजित शिक्षकों/शिक्षामित्रों के विद्यालय प्रधानाध्यापक का प्रभार सम्बन्धित विद्यालय के वरिष्ठतम पूर्णकालिक शिक्षक को हस्तान्तरित कराने के सम्बन्ध में बीएसए का निर्देश पत्र

महराजगंज : समायोजित शिक्षकों/शिक्षामित्रों के विद्यालय प्रधानाध्यापक का प्रभार सम्बन्धित विद्यालय के वरिष्ठतम पूर्णकालिक शिक्षक को हस्तान्तरित कराने के सम्बन्ध में बीएसए का निर्देश पत्र।

Thursday, September 7, 2017

महराजगंज : उत्तर प्रदेशीय शिक्षामित्र संघ फिर से आंदोलन की राह पर, दस हजार मानदेय सम्बन्धी कैबिनेट आदेश की प्रतियां जलाकर जताया विरोध

महराजगंज : शिक्षक बनाने के लिए अध्यादेश लाने सहित अन्य मांगों को लेकर उत्तर प्रदेशीय शिक्षा मित्र संघ फिर से आंदोलन के मूड में आ गया है। शिक्षामित्रों ने पुन: शिक्षक बनाने के लिए अध्यादेश लाने सहित अन्य मांगों को लेकर बुधवार को जिला मुख्यालय पर देते हुए कैबिनेट द्वारा पारित 10 हजार मानेदय के प्रस्ताव संबंधी आदेश की प्रतियों को जलाया तथा अपनी मांगों से संबंधित व मुख्यमंत्री को प्रेषित तीन सूत्रीय मांग पत्र भी जिला प्रशासन को सौंपा। धरने को संबोधित करते हुए शिक्षामित्र संघ के जिला संरक्षक सनंदन पांडेय ने कहा कि लंबे समय तक प्राथमिक विद्यालयों में सेवा देने के बाद आए निर्णय ने शिक्षामित्रों को निराश किया है। सरकार व अधिकारियों के बीच हुई कई दौर के वार्ता के बाद उन्हें बेहतर परिणाम मिलने की उम्मीद थी , मगर अभी तक शासन स्तर से कोई बड़ी राहत वाला फैसला नहीं लिया गया। जिलाध्यक्ष राधेश्याम गुप्ता ने कहा सरकार ने कैबिनेट की बैठक में शिक्षामित्रों को प्रतिमाह 10 हजार का मानदेय देने की सहमति बनी है । जिसे संगठन अस्वीकार करता है। मुख्यमंत्री को चाहिए कि वे खुद शिक्षामित्रों के हितों को ध्यान में रखते हुए अतिशीघ्र नया अध्यादेश लाकर उन्हें शिक्षक बनाते हुए राहत प्रदान करें। धरने को वरिष्ठ उपाध्यक्ष गोपाल यादव, जिला महामंत्री शैलेंद्र नायक, जिला कोषाध्यक्ष ओमप्रकाश त्रिपाठी ने भी संबोधित करते हुए शिक्षामित्रों की बढ़ी परेशानियों को गिनाया। सदर तहसीलदार को सौंपे अपने तीन सूत्रीय ज्ञापन में संघ ने शिक्षामित्रों को शिक्षक पद पर बनाए रखने के लिए नया अध्यादेश लाने, समान कार्य व समान वेतन लागू करने तथा एनसीटीई एक्ट में संशोधन का प्रस्ताव भेजने की मांग की है। इस दौरान सूर्यभान उपाध्याय, उदयराज यादव, महेंद्र वर्मा, परवेज खां, अनिल गुप्ता, विष्णु प्रसाद, मनोज सिंह, कृष्णचंद सिंह, संतोष तिवारी, अरूण पटेल, राजकुमार पटेल, राजेशधर द्विवेदी, रमाकांती त्रिपाठी समेत काफी संख्या में शिक्षामित्र मौजूद रहे।

Wednesday, September 6, 2017

महराजगंज : प्रांतीय नेतृत्व के आह्वान पर जिला स्तरीय बैठक में दस हजार रुपये मानदेय का विरोध करने का शिक्षामित्रों ने लिया निर्णय, मांगपत्र पर सहमति के विरुद्ध हुआ फैसला तो शिक्षामित्र करेंगे फिर से आंदोलन

महराजगंज : प्रांतीय नेतृत्व के आह्वान पर जिला स्तरीय बैठक में दस हजार रुपये मानदेय का विरोध करने का शिक्षामित्रों ने लिया निर्णय, मांगपत्र पर सहमति के विरुद्ध हुआ फैसला तो शिक्षामित्र करेंगे फिर से आंदोलन।