DISTRICT WISE NEWS

अंबेडकरनगर अमरोहा अमेठी अलीगढ़ आगरा आजमगढ़ इटावा इलाहाबाद उन्नाव एटा औरैया कन्नौज कानपुर कानपुर देहात कानपुर नगर कासगंज कुशीनगर कौशांबी कौशाम्बी गाजियाबाद गाजीपुर गोंडा गोण्डा गोरखपुर गौतमबुद्ध नगर गौतमबुद्धनगर चंदौली चन्दौली चित्रकूट जालौन जौनपुर ज्योतिबा फुले नगर झाँसी झांसी देवरिया पीलीभीत फतेहपुर फर्रुखाबाद फिरोजाबाद फैजाबाद बदायूं बरेली बलरामपुर बलिया बस्ती बहराइच बागपत बाँदा बांदा बाराबंकी बिजनौर बुलंदशहर बुलन्दशहर भदोही मऊ मथुरा महराजगंज महोबा मिर्जापुर मीरजापुर मुजफ्फरनगर मुरादाबाद मेरठ मैनपुरी रामपुर रायबरेली लखनऊ लख़नऊ लखीमपुर खीरी ललितपुर वाराणसी शामली शाहजहाँपुर श्रावस्ती संतकबीरनगर संभल सहारनपुर सिद्धार्थनगर सीतापुर सुलतानपुर सुल्तानपुर सोनभद्र हमीरपुर हरदोई हाथरस हापुड़
Showing posts with label सिद्धार्थनगर. Show all posts
Showing posts with label सिद्धार्थनगर. Show all posts

Thursday, February 4, 2021

बीएसए दफ्तर में सम्बद्ध शिक्षक व लिपिक को हटाने का आदेश देना पड़ा शासन को

बीएसए दफ्तर में सम्बद्ध शिक्षक व लिपिक को हटाने का आदेश देना पड़ा शासन को 


प्रयागराज : बेसिक शिक्षा परिषद में अभियान चलाकर शिक्षकों की संबद्धता खत्म करने का दावा तो है, लेकिन कुछ शिक्षक अब भी कार्यालयों से संबद्ध हैं। ऐसे ही एक मामले में सिद्धार्थनगर जिले के बीएसए कार्यालय से संबद्ध एक शिक्षक व एक लिपिक को हटाने के लिए शासन को आदेश करना पड़ा है। उन पर शिक्षकों के उत्पीड़न, करोड़ों की संपत्ति अर्जित करने के गंभीर आरोप हैं। दोनों की विभागीय जांच करने के साथ ही शासन ने एक सप्ताह में माध्यमिक शिक्षा निदेशक से रिपोर्ट मांगी है।


सिद्धार्थनगर के बेसिक शिक्षा अधिकारी कार्यालय में कनिष्ठ लिपिक आनंद प्रकाश श्रीवास्तव व उच्च प्राथमिक विद्यालय धेन्सानानकार के सहायक अध्यापक मोहम्मद इमरान अंसारी संबद्ध हैं। विशेष सचिव राघवेंद्र सिंह ने लिखा है कि आनंद प्रकाश श्रीवास्तव की नियम विरुद्ध संबद्धता मंडलीय संयुक्त शिक्षा निदेशक, बस्ती की ओर से 26 नवंबर को समाप्त करते हुए मूल तैनाती स्थल पर योगदान देने का निर्देश दिया गया था, लेकिन बीएसए ने निर्देश का अनुपालन नहीं किया तो जेडी ने 22 दिसंबर 2020 को फिर पत्र भेजकर कनिष्ठ लिपिक को कार्यमुक्त करने को लिखा। इसके बाद भी उसकी संबद्धता खत्म नहीं की जा रही है।


साभार : दैनिक जागरण

Sunday, January 24, 2021

अंतर्जनपदीय स्थानांतरित शिक्षक 27 व 28 जनवरी को होंगे कार्यमुक्त पर बीएसए को नहीं पता कितने शिक्षकों का हुआ है तबादला?

अंतर्जनपदीय स्थानांतरित शिक्षक 27 व 28 जनवरी को होंगे कार्यमुक्त पर बीएसए को नहीं पता कितने शिक्षकों का हुआ है तबादला? 




सिद्धार्थनगर। लंबे अर्से से लंबित चल रहे अंतर जनपदीय स्थानांतरण मामले में शासन से स्थानांतरित शिक्षकों को कार्यमुक्त करने और कार्यभार ग्रहण करने की तिथि निर्धारित कर दी है। स्थानांतरित अध्यापकों को 27 एवं 28 जनवरी को जिले से कार्य मुक्त किया जाएगा और दूसरी जगह पर उन्हें 29 एवं 30 जनवरी को कार्यभार ग्रहण करना होगा। 


जिले में तीन वर्ष से अधिक समय से कार्यरत गैर जनपद निवासी शिक्षकों को अंतर जनपदीय स्थानांतरण प्रक्रिया शुरू होने का इंतजार था। प्रक्रिया शुरू हुई तो जिले के छह सौ से अधिक शिक्षकों ने अंतर जनपदीय स्थानांतरण के लिए आवेदन किया अब अंतर जनपदीय स्थानांतरण के लिए चयनित शिक्षकों का इंतजार समाप्त होने वाला है। 


उत्तर प्रदेश शासन के अनु सचिव सत्य प्रकाश ने स्कूल शिक्षा के महानिदेशक को भेजे पत्र में अध्यापकों को कार्य मुक्त एवं कार्यभार ग्रहण कराना सुनिश्चित करने को कहा है। उन्होंने स्थानांतरण के बाद कार्यभार ग्रहण करने वाले अध्यापकों की तैनाती नव चयनित अध्यापकों की तैनाती के लिए जारी किए गए शासनादेश के अनुसार निर्धारित की जाए।


बीएसए को नहीं पता कितने शिक्षकों का हुआ है तबादला

अंतर जनपदीय स्थानांतरण के लिए आवेदन करने वाले शिक्षकों की तादाद भले ही छह सौ से अधिक है लेकिन इनमें कितने शिक्षकों का स्थानांतरण के लिए चयन हुआ है इसकी जानकारी बीएसए राजेंद्र सिंह को भी नहीं है। बीएसए राजेंद्र सिंह से यह पूछने पर कि कितने शिक्षक स्थानांतरित होंगे, उन्होंने कहा कि उन्हें इसकी जानकारी नहीं है।

Wednesday, January 20, 2021

बीईओ - बीआरसी पर एआरपी और शिक्षकों की परिक्रमा पर लगेगा अंकुश, नोटिस जारी कर मांगा जवाब

बीईओ - बीआरसी पर एआरपी और शिक्षकों की परिक्रमा पर लगेगा अंकुश, नोटिस जारी कर मांगा जवाब


बीएसए ने बीईओ और शिक्षकों को नोटिस जारी कर मांगा जवाब जिम्मेदारी से इतर काम करते मिले तो होगी कार्रवाई


सिद्धार्थनगर : खंड शिक्षा अधिकारियों की अब मनमानी नहीं चलने पाएगी। उनके आराम और शिक्षकों से काम लेने की प्रवृत्ति को बीएसए राजेंद्र सिंह ने आड़े हाथों लिया है। बीएसए कार्यालय में आने वाले शिक्षकों पर भी कार्रवाई की तलवार लटक रही है। जो जहां नियुक्त है, उसे वहीं पर अपना योगदान देना होगा। ऐसा न करने वालों पर विभाग अब सख्ती से कार्रवाई का मन बना चुका है।

पिछले दिनों बीएसए ने खंड शिक्षा अधिकारियों बीईओ को निर्देश दिए थे कि वह अपना काम किसी अन्य से नहीं लेंगे। जिनकी जो ड्यूटी है, उसका पालन कड़ाई से किया जाए। लेकिन कुछ बीइओ आदेश का पालन नहीं कर रहे हैं। खंड शिक्षा अधिकारी कार्यालयों में अपनी धाक जमाने के लिए कार्यालयी कार्यो में जुटे रहने वाले एआरपी (अकादमिक रिसोर्स पर्सन) व शिक्षकों के खिलाफ कार्रवाई शुरू हो गई है। बीएसए ने इटवा के एक एआरपी को नोटिस जारी कर जवाब मांगा है। उन्होंने बीईओ को पत्र लिखकर चेताया है कि यदि उनके कार्यालय में एआरपी, केआरपी (की रिसोर्स पर्सन), एसआरजी (स्टेट रिसोर्स ग्रुप) या शिक्षक कार्यालय का कार्य करते पाए जाएंगे तो बीईओ का उत्तरदायित्व निर्धारित करते हुए कार्रवाई की जाएगी।


डुमरियागंज में कार्यरत एआरपी मुश्ताक अहमद के बीआरसी पर रहकर कार्य करने पर चेताया है। इटवा में कार्यरत शिक्षक अब्दुल फरीद का बीआरसी में कार्य करते फोटो बीएसए को प्राप्त हुआ। इस पर उन्हें नोटिस देते हुए जवाब तलब किया है।

कई एआरपी अपने पास रखे हैं विद्यालय का प्रभार: डुमरियागंज के अब्दुल मन्नान ने बीएसए को शिकायती पत्र देकर अवगत कराया है कि एआरपी पद पर चयनित शिक्षक नियम के विपरीत विद्यालयों का प्रभार संचालित कर रहे हैं। जबकि वह एआरपी बनने के बाद उस विद्यालय से कार्यमुक्त हो चुके हैं। इस संबंध में बीएसए राजेंद्र सिंह ने बताया कि नियम के तहत किसी भी एआरपी, केआरजी, एसआरजी और शिक्षकों से खंड शिक्षा अधिकारी काम नहीं ले सकते। ऐसी शिकायत मिल रही है कि कुछ बीईओ ऐसे लोगों से काम ले रहे हैं। जिन्हें कारण बताओ नोटिस दी गई है।

Sunday, January 3, 2021

सिद्धार्थनगर : अंतर्जनपदीय स्थानांतरण न होने से गुस्साए शिक्षकों ने किया प्रदर्शन, उठाया सवाल- जब 54 हजार का ऐलान तो तबादले 21 हजार क्यों?

अंतर्जनपदीय स्थानांतरण न होने से गुस्साए शिक्षकों ने किया प्रदर्शन, उठाया सवाल- जब 54 हजार का ऐलान तो तबादले 21 हजार क्यों?


सिद्धार्थनगर। अंतरजनपदीय स्थानांतरण नहीं होने से नाराज शिक्षकों ने कलेक्ट्रेट में प्रदर्शन कर एडीएम सीताराम गुप्ता को ज्ञापन सौंपा। उन्होंने स्थानांतरण के लिए संशोधित सूची जारी करने की मांग को। कलेक्ट्रेट में प्रदर्शन करने के दौरान अंतरजनपदीय स्थानांतरण के इच्छुक शिक्षकों ने कहा कि बेसिक शिक्षा नियमावली के अनुसार पिछड़े जिले से महिलाओं के लिए दो वर्ष और पुरुषों के लिए पांच वर्ष को सेवा जरूरी है। जबकि अंतरजनपदीय स्थानांतरण के दौरान इस नियम को अनदेखी की गई, जिससे गिने-चुने शिक्षकों को ही इसका लाभ मिला।


 शेष अन्य शिक्षक जो कि अंतरजनपदीय स्थानांतरण के लिए आवेदन किए थे और पात्र भी थे इससे वंचित रह गए। कई शिक्षक इस जिले में पांच से 10 वर्ष तक कार्य कर चुके हैं, उनका स्थानांतरण नहीं करके अन्याय किया गया है। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री कार्यालय से 54 हजार शिक्षकों का अंतरजनपदीय स्थानांतरण की घोषणा की गई थी, लेकिन स्थानीय अधिकारियों ने मुख्यमंत्री के मंशा के विपरीत कार्य करते हुए सिर्फ 21694 शिक्षकों का ही स्थानांतरण किया गया। 


प्रदर्शन में मौजूद गीता निरंजन, बबीता, रीता, मीनाक्षी, दुर्गेश, ज्योति, डिंपल, कल्पना, रेनू सिंह का कहना था कि स्थानांतरण नहीं होने से हम सभी बेहद निराश एवं हताश हैं। इस दौरान भूमिका, पारुल, राखी तोमर, प्रतिभा, अनीता, कामिनी, कौशल्या, स्नेहलता, अर्चना चौधरी, शीला, पूनम आदि मौजूद रहां। स्थानांतरण के आकांक्षी शिक्षकों ने डीएम को दिए पत्र में कहा है कि अगर हम लोगों को लिखित आश्वासन नहीं मिलेगा तो जिले के सभी ब्लॉक, तहसील एयं बीएसए कार्यालय पर सोमवार से धरना प्रदर्शन करेंगे। जो स्थानांतरण की संशोधित सूचो जारी होने तक चलेगा।

Saturday, December 26, 2020

सिद्धार्थनगर: बेसिक शिक्षा विभाग में अब एक नाम से जाने जाएंगे उच्च प्राथमिक विद्यालय


सिद्धार्थनगर: बेसिक शिक्षा परिषद द्वारा संचालित कक्षा छह से आठ तक के विद्यालयों के नाम आने वाले दिनों में बदल दिए जाएंगे। अब विद्यालय के नामों में एकरूपता रहेगी। अभी तक जूनियर विद्यालयों के लिए अलग-अलग नाम लिखे जाते थे। लेकिन अब ऐसा नहीं होगा। विभाग के महानिदेशक ने इसके गंभीरता से लेते हुए नामों में एकरूपता लाने का निर्णय लिया गया है। सभी जूनियर विद्यालयों के नाम अब उच्च प्राथमिक विद्यालय लिखा जाएगा। महानिदेशक का पत्र मिलते ही विभाग ने आगे की कार्रवाई भी शुरू कर दी है।




अभी तक बेसिक शिक्षा परिषद द्वारा संचालित जूनियर विद्यालयों के लिए पूर्व माध्यमिक विद्यालय, जूनियर हाई स्कूल, बेसिक विद्यालय जैसे कई नामों का प्रयोग किया जाता था पर अब एक विभाग-एक नाम को अपनाते हुए एक ही नाम उच्च प्राथमिक विद्यालय के नाम से जाना जाएगा। इसके लिए स्कूल शिक्षा के महानिदेशक विजय किरण आनंद ने सभी बेसिक शिक्षा अधिकारियों को पत्र भेजकर सुधार कराने का निर्देश दिया है। दरअसल बेसिक शिक्षा परिषद ने कक्षा 6 से 8 तक संचालित विद्यालयों पर लिखे नामों में एकरूपता नहीं दिखाई पड़ती है कहीं शिक्षक पूर्व माध्यमिक विद्यालय लिखते हैं तो कहीं जूनियर हाई स्कूल लिखा जाता था। यही भिन्नता विद्यालयों के यू डायस के साथ अंकित नामों में भी है। विभाग ने इस विसंगति को गंभीरता से लेते हुए एकरूपता के लिए निर्देश जारी किया है। यदि किसी प्राथमिक व जूनियर विद्यालय ़का संविलयन किया गया है तो उसके नाम भी उच्च प्राथमिक रहेगा। अब शीघ्र ही विद्यालयों की दीवालों पर लिखे नाम बदले हुए नजर आएंगे। बीएसए राजेंद्र सिंह ने बताया कि विभागीय निर्देश का अनुपालन कराने के लिए समस्त खंड शिक्षा अधिकारियों को निर्देशित कर दिया गया है।

Friday, December 18, 2020

सिद्धार्थनगर : दिनांक 19 दिसम्बर 2020 को गुरु तेग बहादुर शहीद दिवस के अवसर पर अवकाश घोषित, देखें आदेश।

सिद्धार्थनगर  : दिनांक 19 दिसम्बर 2020 को गुरु तेग बहादुर शहीद दिवस के अवसर पर अवकाश घोषित, देखें आदेश।


Friday, March 13, 2020

सिद्धार्थनगर : प्राथमिक स्कूल में बार बालाओं के डांस का वीडियो वायरल, जिलाधिकारी ने एसडीएम और सीओ की जांच कमेटी बनाकर रिपोर्ट की तलब

सिद्धार्थनगर : प्राथमिक स्कूल में बार बालाओं के डांस का वीडियो वायरल, जिलाधिकारी ने एसडीएम और सीओ की जांच कमेटी बनाकर रिपोर्ट की तलब।








 व्हाट्सप के जरिये जुड़ने के लिए क्लिक करें।

Saturday, February 1, 2020

सिद्धार्थनगर : रिक्त पदों के सापेक्ष ARP चयन हेतु विज्ञप्ति जारी, देखें

सिद्धार्थनगर : रिक्त पदों के सापेक्ष ARP चयन हेतु विज्ञप्ति जारी, देखें

Wednesday, January 15, 2020

सिद्धार्थनगर : फर्जी प्रमाणपत्रों पर नौकरी कर रहे 11 शिक्षक बर्खास्त

सिद्धार्थनगर : फर्जी प्रमाणपत्रों पर नौकरी कर रहे 11 शिक्षक बर्खास्त।














 व्हाट्सप के जरिये जुड़ने के लिए क्लिक करें।

Tuesday, December 24, 2019

सिद्धार्थनगर : बीएसए के स्टोनो की जमानत अर्जी खारिज, घूस लेते हुए थे गिरफ्तार

सिद्धार्थनगर : बीएसए के स्टोनो की जमानत अर्जी खारिज, घूस लेते हुए थे गिरफ्तार

Thursday, November 28, 2019

सिद्धार्थनगर : ARP हेतु 70 पद के सापेक्ष 06 आवेदन, पुनः बढ़ी तिथि

सिद्धार्थनगर : ARP हेतु 70 पद के सापेक्ष 06 आवेदन, पुनः बढ़ी तिथि 

Saturday, November 16, 2019

सिद्धार्थनगर : ARP चयन हेतु विज्ञप्ति जारी, देखें

सिद्धार्थनगर :  ARP चयन हेतु विज्ञप्ति जारी, देखें

Monday, October 28, 2019

गोरखपुर : सिद्धार्थनगर : एएसपी की जांच के फर्जी मिले 16 शिक्षकों के प्रमाण पत्र, गिरफ्तारी की तैयारी शुरू


गोरखपुर : सिद्धार्थनगर : एएसपी की जांच के फर्जी मिले16 शिक्षकों के प्रमाण पत्र, गिरफ्तारी की तैयारी शुरू

Thursday, October 17, 2019

सिद्धार्थनगर : टीईटी : परीक्षा न देने वाले का भी जारी कर दिया अंकपत्र, कई बने शिक्षक, प्रयागराज तक फैला है शिक्षक माफिया का जाल

सिद्धार्थनगर : टीईटी : परीक्षा न देने वाले का भी जारी कर दिया अंकपत्र, कई बने शिक्षक, प्रयागराज तक फैला है शिक्षक माफिया का जाल।






संतकबीरनगर का एक शिक्षक माफिया बनवाता है टीईटी का फर्जी अंकपत्र, पत्नी-भाई सहित कई रिश्तेदारों को बनवा रखा है शिक्षक, कई जिलों में भी फैला रखा है नेटवर्क।





 व्हाट्सप के जरिये जुड़ने के लिए क्लिक करें।

Wednesday, October 2, 2019

सिद्धार्थनगर : फर्जी शिक्षक भर्ती प्रकरण : गिरफ्तार स्टेनो के पास मिला सांसद-विधायक का लेटर पैड, भाजपा जिलाध्यक्ष का भी पैड बरामद

सिद्धार्थनगर : फर्जी शिक्षक भर्ती प्रकरण : गिरफ्तार स्टेनो के पास मिला सांसद-विधायक का लेटर पैड, भाजपा जिलाध्यक्ष का भी पैड बरामद।






 व्हाट्सप के जरिये जुड़ने के लिए क्लिक करें।

Tuesday, October 1, 2019

गोरखपुर : सिद्धार्थनगर : एएसपी ने 19 शिक्षकों को जारी किया नोटिस, बयान दर्ज करने को बुलाया

एएसपी ने 19 शिक्षकों को जारी किया नोटिस, बयान दर्ज करने को बुलाया




Thursday, September 26, 2019

सरकार का अब शिक्षा विभाग में ऑपरेशन क्लीन', 5 हजार टीचर्स पर बर्खास्‍तगी की तलवार

 
सिद्धार्थनगर पहुंचे बेसिक शिक्षा मंत्री (Basic Education Minister) सतीश द्विवेदी (Satish Dwivedi) ने कहा कि प्रदेश से सभी फर्जी शिक्षकों को बाहर किया जाएगा. ऐसे करीब चार शिक्षकों की पहचान की गई है.


NEWS18 UTTAR PRADESH
LAST UPDATED: SEPTEMBER 26, 2019, 1:37 PM IST

लखनऊ. उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के करीब चार हजार सरकारी शिक्षकों (School Teachers) पर बर्खास्तगी की तलवार लटक रही है. योगी सरकार ने शिक्षा विभाग (Education Department) में नियुक्त फर्जी शिक्षकों (Fake Teachers) की सूची तैयार कर ली है. करीब पांच हजार फर्जी टीचर की सूची तैयार की गई है. सिद्धार्थनगर पहुंचे बेसिक शिक्षा मंत्री (Basic Education Minister) सतीश द्विवेदी (Satish Dwivedi) ने कहा कि प्रदेश से सभी फर्जी शिक्षकों को बाहर किया जाएगा. मंत्री ने कहा कि एसटीएफ को जांच सौंपी गई है. चार हजार शिक्षक चिह्नत किए गए हैं. विभाग खुद अपने स्तर पर ऐसे शिक्षकों के खिलाफ करवाई कर रहा है.

उत्तर प्रदेश के बेसिक शिक्षा राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) सतीश द्विवेदी ने फर्जी टीचर्स को लेकर बड़ा बयान दिया है. उनके मुतबिक, प्रदेश में तकरीबन पांच हजार शिक्षक फर्जी हैं. अगर फर्जी शिक्षकों की भर्ती में किसी भी अधिकारी या कर्मचारी की भूमिका पाई जाती है तो उसे बख्शा नहीं जाएगा. फर्जी शिक्षकों को लेकर एसटीएफ अपना काम कर रहा है.


*दर्ज किया जाएगा मुकदमा*

सतीश द्विवेदी ने कहा कि योगी सरकार का संकल्प है कि भ्रष्टाचार के खिलाफ जीरो टॉलरेंस की नीति अपनाई जाए. इसी पर काम चल रहा है. उन्होंने कहा कि पूरे उत्तर प्रदेश में जांच चल रही है. प्रारंभिक जांच में पता चला है कि फर्जी शिक्षकों की संख्या करीब पांच हजार है. सघन जांच के बाद बर्खास्तगी की कार्रवाई की जाएगी. इन फर्जी शिक्षकों के खिलाफ मुकदमा भी पंजीकृत करवाया जाएगा. कोशिश है कि उत्तर प्रदेश के शिक्षा विभाग में एक भी फर्जी शिक्षक न बचे. उन्होंने कहा कि शिक्षकों के भर्ती के खेल में जो भी कर्मचारी या अधिकारी शामिल हैं, उनके खिलाफ भी कार्रवाई की जाएगी.


*मथुरा में 60 शिक्षक हो चुके हैं निलंबित*

बता दें कि मथुरा, आगरा, सिद्धार्थनगर समेत कई जिलों में फर्जी शिक्षकों को बर्खास्त किया जा चुका है. उत्तर प्रदेश शिक्षा विभाग ने बीएड की फर्जी डिग्री के जरिए टीचर की नौकरी पाने वालों के खिलाफ बड़ी कार्रवाई की है. विभाग ने मथुरा के ऐसे 60 शिक्षकों को चिह्नित कर उन्हें निलंबित कर दिया है. बेसिक शिक्षा विभाग के सूत्रों के अनुसार, डॉ. बीआर अंबेडकर विश्वविद्यालय आगरा में एसआईटी की जांच के दौरान करीब 4700 ऐसे बीएड डिग्रीधारक मिले थे, जिनकी डिग्री या तो फर्जी थी या फिर उसमें हेरफेर की गई थी. अधिकारियों के द्वारा इन फर्जी डिग्रीधारकों की सूची सीडी के रूप में दो बार विभागीय माध्यम से जनपद स्तर पर पहुंचाई गई थी।

Sunday, September 22, 2019

सिद्धार्थनगर : तैनात 29 फर्जी शिक्षक हुए बर्खास्त, बीएसए ने अभिलेख फर्जी मिलने पर की कार्रवाई, अब तक 90 शिक्षक हो चुके हैं बर्खास्त

सिद्धार्थनगर : तैनात 29 फर्जी शिक्षक हुए बर्खास्त, बीएसए ने अभिलेख फर्जी मिलने पर की कार्रवाई, अब तक 90 शिक्षक हो चुके हैं बर्खास्त।





 व्हाट्सप के जरिये जुड़ने के लिए क्लिक करें।

Wednesday, September 18, 2019

सिद्धार्थ नगर : बीएसए ने जान का खतरा बताकर डीएम से मांगी सुरक्षा, फर्जी शिक्षकों से जुड़े अभिलेख भी असुरक्षित

सिद्धार्थ नगर : बीएसए ने जान का खतरा बताकर डीएम से मांगी सुरक्षा, फर्जी शिक्षकों से जुड़े अभिलेख भी असुरक्षित।




 व्हाट्सप के जरिये जुड़ने के लिए क्लिक करें।

Wednesday, May 22, 2019

सिद्धार्थनगर : जालौन निवासी शिक्षिका का हाथ-पैर बांधकर हत्या, शव भी जलाया

जालौन निवासी शिक्षिका का हाथ-पैर बांधकर हत्या, शव भी जलाया