DISTRICT WISE NEWS

अंबेडकरनगर अमरोहा अमेठी अलीगढ़ आगरा आजमगढ़ इटावा इलाहाबाद उन्नाव एटा औरैया कन्नौज कानपुर कानपुर देहात कानपुर नगर कासगंज कुशीनगर कौशांबी कौशाम्बी गाजियाबाद गाजीपुर गोण्डा गोरखपुर गौतमबुद्ध नगर गौतमबुद्धनगर चन्दौली चित्रकूट जालौन जौनपुर ज्योतिबा फुले नगर झाँसी झांसी देवरिया पीलीभीत फतेहपुर फर्रुखाबाद फिरोजाबाद फैजाबाद बदायूं बरेली बलरामपुर बलिया बस्ती बहराइच बागपत बाँदा बांदा बाराबंकी बिजनौर बुलंदशहर बुलन्दशहर भदोही मऊ मथुरा महराजगंज महोबा मीरजापुर मुजफ्फरनगर मुरादाबाद मेरठ मैनपुरी रामपुर रायबरेली लखनऊ लख़नऊ लखीमपुर खीरी ललितपुर वाराणसी शामली शाहजहाँपुर श्रावस्ती संतकबीरनगर संभल सहारनपुर सिद्धार्थनगर सीतापुर सुल्तानपुर सोनभद्र हमीरपुर हरदोई हाथरस हापुड़
Showing posts with label सिद्धार्थनगर. Show all posts
Showing posts with label सिद्धार्थनगर. Show all posts

Wednesday, January 15, 2020

सिद्धार्थनगर : फर्जी प्रमाणपत्रों पर नौकरी कर रहे 11 शिक्षक बर्खास्त

सिद्धार्थनगर : फर्जी प्रमाणपत्रों पर नौकरी कर रहे 11 शिक्षक बर्खास्त।














 व्हाट्सप के जरिये जुड़ने के लिए क्लिक करें।

Tuesday, December 24, 2019

सिद्धार्थनगर : बीएसए के स्टोनो की जमानत अर्जी खारिज, घूस लेते हुए थे गिरफ्तार

सिद्धार्थनगर : बीएसए के स्टोनो की जमानत अर्जी खारिज, घूस लेते हुए थे गिरफ्तार

Thursday, November 28, 2019

सिद्धार्थनगर : ARP हेतु 70 पद के सापेक्ष 06 आवेदन, पुनः बढ़ी तिथि

सिद्धार्थनगर : ARP हेतु 70 पद के सापेक्ष 06 आवेदन, पुनः बढ़ी तिथि 

Saturday, November 16, 2019

सिद्धार्थनगर : ARP चयन हेतु विज्ञप्ति जारी, देखें

सिद्धार्थनगर :  ARP चयन हेतु विज्ञप्ति जारी, देखें

Monday, October 28, 2019

गोरखपुर : सिद्धार्थनगर : एएसपी की जांच के फर्जी मिले 16 शिक्षकों के प्रमाण पत्र, गिरफ्तारी की तैयारी शुरू


गोरखपुर : सिद्धार्थनगर : एएसपी की जांच के फर्जी मिले16 शिक्षकों के प्रमाण पत्र, गिरफ्तारी की तैयारी शुरू

Thursday, October 17, 2019

सिद्धार्थनगर : टीईटी : परीक्षा न देने वाले का भी जारी कर दिया अंकपत्र, कई बने शिक्षक, प्रयागराज तक फैला है शिक्षक माफिया का जाल

सिद्धार्थनगर : टीईटी : परीक्षा न देने वाले का भी जारी कर दिया अंकपत्र, कई बने शिक्षक, प्रयागराज तक फैला है शिक्षक माफिया का जाल।






संतकबीरनगर का एक शिक्षक माफिया बनवाता है टीईटी का फर्जी अंकपत्र, पत्नी-भाई सहित कई रिश्तेदारों को बनवा रखा है शिक्षक, कई जिलों में भी फैला रखा है नेटवर्क।





 व्हाट्सप के जरिये जुड़ने के लिए क्लिक करें।

Wednesday, October 2, 2019

सिद्धार्थनगर : फर्जी शिक्षक भर्ती प्रकरण : गिरफ्तार स्टेनो के पास मिला सांसद-विधायक का लेटर पैड, भाजपा जिलाध्यक्ष का भी पैड बरामद

सिद्धार्थनगर : फर्जी शिक्षक भर्ती प्रकरण : गिरफ्तार स्टेनो के पास मिला सांसद-विधायक का लेटर पैड, भाजपा जिलाध्यक्ष का भी पैड बरामद।






 व्हाट्सप के जरिये जुड़ने के लिए क्लिक करें।

Tuesday, October 1, 2019

गोरखपुर : सिद्धार्थनगर : एएसपी ने 19 शिक्षकों को जारी किया नोटिस, बयान दर्ज करने को बुलाया

एएसपी ने 19 शिक्षकों को जारी किया नोटिस, बयान दर्ज करने को बुलाया




Thursday, September 26, 2019

सरकार का अब शिक्षा विभाग में ऑपरेशन क्लीन', 5 हजार टीचर्स पर बर्खास्‍तगी की तलवार

 
सिद्धार्थनगर पहुंचे बेसिक शिक्षा मंत्री (Basic Education Minister) सतीश द्विवेदी (Satish Dwivedi) ने कहा कि प्रदेश से सभी फर्जी शिक्षकों को बाहर किया जाएगा. ऐसे करीब चार शिक्षकों की पहचान की गई है.


NEWS18 UTTAR PRADESH
LAST UPDATED: SEPTEMBER 26, 2019, 1:37 PM IST

लखनऊ. उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के करीब चार हजार सरकारी शिक्षकों (School Teachers) पर बर्खास्तगी की तलवार लटक रही है. योगी सरकार ने शिक्षा विभाग (Education Department) में नियुक्त फर्जी शिक्षकों (Fake Teachers) की सूची तैयार कर ली है. करीब पांच हजार फर्जी टीचर की सूची तैयार की गई है. सिद्धार्थनगर पहुंचे बेसिक शिक्षा मंत्री (Basic Education Minister) सतीश द्विवेदी (Satish Dwivedi) ने कहा कि प्रदेश से सभी फर्जी शिक्षकों को बाहर किया जाएगा. मंत्री ने कहा कि एसटीएफ को जांच सौंपी गई है. चार हजार शिक्षक चिह्नत किए गए हैं. विभाग खुद अपने स्तर पर ऐसे शिक्षकों के खिलाफ करवाई कर रहा है.

उत्तर प्रदेश के बेसिक शिक्षा राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) सतीश द्विवेदी ने फर्जी टीचर्स को लेकर बड़ा बयान दिया है. उनके मुतबिक, प्रदेश में तकरीबन पांच हजार शिक्षक फर्जी हैं. अगर फर्जी शिक्षकों की भर्ती में किसी भी अधिकारी या कर्मचारी की भूमिका पाई जाती है तो उसे बख्शा नहीं जाएगा. फर्जी शिक्षकों को लेकर एसटीएफ अपना काम कर रहा है.


*दर्ज किया जाएगा मुकदमा*

सतीश द्विवेदी ने कहा कि योगी सरकार का संकल्प है कि भ्रष्टाचार के खिलाफ जीरो टॉलरेंस की नीति अपनाई जाए. इसी पर काम चल रहा है. उन्होंने कहा कि पूरे उत्तर प्रदेश में जांच चल रही है. प्रारंभिक जांच में पता चला है कि फर्जी शिक्षकों की संख्या करीब पांच हजार है. सघन जांच के बाद बर्खास्तगी की कार्रवाई की जाएगी. इन फर्जी शिक्षकों के खिलाफ मुकदमा भी पंजीकृत करवाया जाएगा. कोशिश है कि उत्तर प्रदेश के शिक्षा विभाग में एक भी फर्जी शिक्षक न बचे. उन्होंने कहा कि शिक्षकों के भर्ती के खेल में जो भी कर्मचारी या अधिकारी शामिल हैं, उनके खिलाफ भी कार्रवाई की जाएगी.


*मथुरा में 60 शिक्षक हो चुके हैं निलंबित*

बता दें कि मथुरा, आगरा, सिद्धार्थनगर समेत कई जिलों में फर्जी शिक्षकों को बर्खास्त किया जा चुका है. उत्तर प्रदेश शिक्षा विभाग ने बीएड की फर्जी डिग्री के जरिए टीचर की नौकरी पाने वालों के खिलाफ बड़ी कार्रवाई की है. विभाग ने मथुरा के ऐसे 60 शिक्षकों को चिह्नित कर उन्हें निलंबित कर दिया है. बेसिक शिक्षा विभाग के सूत्रों के अनुसार, डॉ. बीआर अंबेडकर विश्वविद्यालय आगरा में एसआईटी की जांच के दौरान करीब 4700 ऐसे बीएड डिग्रीधारक मिले थे, जिनकी डिग्री या तो फर्जी थी या फिर उसमें हेरफेर की गई थी. अधिकारियों के द्वारा इन फर्जी डिग्रीधारकों की सूची सीडी के रूप में दो बार विभागीय माध्यम से जनपद स्तर पर पहुंचाई गई थी।

Sunday, September 22, 2019

सिद्धार्थनगर : तैनात 29 फर्जी शिक्षक हुए बर्खास्त, बीएसए ने अभिलेख फर्जी मिलने पर की कार्रवाई, अब तक 90 शिक्षक हो चुके हैं बर्खास्त

सिद्धार्थनगर : तैनात 29 फर्जी शिक्षक हुए बर्खास्त, बीएसए ने अभिलेख फर्जी मिलने पर की कार्रवाई, अब तक 90 शिक्षक हो चुके हैं बर्खास्त।





 व्हाट्सप के जरिये जुड़ने के लिए क्लिक करें।

Wednesday, September 18, 2019

सिद्धार्थ नगर : बीएसए ने जान का खतरा बताकर डीएम से मांगी सुरक्षा, फर्जी शिक्षकों से जुड़े अभिलेख भी असुरक्षित

सिद्धार्थ नगर : बीएसए ने जान का खतरा बताकर डीएम से मांगी सुरक्षा, फर्जी शिक्षकों से जुड़े अभिलेख भी असुरक्षित।




 व्हाट्सप के जरिये जुड़ने के लिए क्लिक करें।

Wednesday, May 22, 2019

सिद्धार्थनगर : जालौन निवासी शिक्षिका का हाथ-पैर बांधकर हत्या, शव भी जलाया

जालौन निवासी शिक्षिका का हाथ-पैर बांधकर हत्या, शव भी जलाया




Wednesday, May 1, 2019

सिद्धार्थनगर : अत्यधिक गर्मी के दृष्टिगत कक्षा 1 से 12 तक के विद्यालयों के संचालन का समय 6 से 11 बजे तक किए जाने सम्बन्धी आदेश जारी, देखें

सिद्धार्थनगर : अत्यधिक गर्मी के दृष्टिगत कक्षा 1 से 12 तक के विद्यालयों के संचालन का समय 6 से 11 बजे तक किए जाने सम्बन्धी आदेश जारी, देखें

Friday, March 29, 2019

सिद्धार्थनगर : बेसिक शिक्षा बिभाग के बाबू को एसटीएफ ने किया गिरफ्तार. फर्जी शिक्षक भर्ती घोटाले के मामले में पूछताछ के लिये की गिरफ्तारी. फर्जी शिक्षक मामले में चल रही है जांच. एसटीएफ के रडार पर है जिले का शिक्षा विभाग

सिद्धार्थनगर : बेसिक शिक्षा बिभाग के बाबू को एसटीएफ ने किया गिरफ्तार. फर्जी शिक्षक भर्ती घोटाले के मामले में पूछताछ के लिये की गिरफ्तारी. फर्जी शिक्षक मामले में चल रही है जांच. एसटीएफ के रडार पर है जिले का शिक्षा विभाग


Sunday, February 17, 2019

सिद्धार्थनगर : हाजिरी लगा कर गायब रहने वाले शिक्षकों पर कसेगी नकेल, अब शिक्षकों की ऑनलाइन लोकेशन होगी ट्रेस


हाजिरी लगा कर गायब रहने वाले शिक्षकों पर कसेगी नकेल, अब शिक्षकों की ऑनलाइन लोकेशन होगी ट्रेस


Thursday, December 27, 2018

सिद्धार्थनगर : दिनांक 01/04/2017 तक प्राथमिक विद्यालयों में कार्यरत सहायक अध्यापकों की वरिष्ठता सूची उपलब्ध कराने हेतु सभी बीईओ को निर्देश जारी, देखें

सिद्धार्थनगर : दिनांक 01/04/2017 तक प्राथमिक विद्यालयों में कार्यरत सहायक अध्यापकों की वरिष्ठता सूची उपलब्ध कराने हेतु सभी बीईओ को निर्देश जारी, देखें

Sunday, November 11, 2018

सिद्धार्थनगर : फर्जी शिक्षकों की तलाश शुरू, बस स्टेशन के पास से दो फर्जी शिक्षकों को किया गिरफ्तार

फर्जी शिक्षकों की तलाश शुरू, बस स्टेशन के पास से दो फर्जी शिक्षकों को किया गिरफ्तार


Tuesday, August 28, 2018

सिद्धार्थनगर में 38 फर्जी शिक्षकों की बर्खास्तगी का मामला : मास्टर माइंड बताया जा रहा भाटपाररानी (देवरिया) का निवासी, सात सालों में बदल गई मास्टरमाइंड की लाइफ स्टाइल

सिद्धार्थनगर में 38 फर्जी शिक्षकों की बर्खास्तगी का मामला : मास्टर माइंड बताया जा रहा भाटपाररानी (देवरिया)  का निवासी, सात सालों में बदल गई मास्टरमाइंड की लाइफ स्टाइल


सिद्धार्थनगर बीएसए दफ्तर से फर्जी शिक्षकों के दस्तावेज चोरी, बीएसए ने लिपिकों पर जताया संदेह, बर्खास्त फर्जी शिक्षकों में सर्वाधिक देवरिया जिले के

सिद्धार्थनगर बीएसए दफ्तर से फर्जी शिक्षकों के दस्तावेज चोरी, बीएसए ने लिपिकों पर जताया संदेह, बर्खास्त फर्जी शिक्षकों में सर्वाधिक देवरिया जिले के


Sunday, August 26, 2018

सिद्धार्थनगर : कूटरचित प्रमाणपत्रों के सहारे नौकरी हथियाने वाले 38 शिक्षकों को बीएसए ने किया बर्खास्त, आपराधिक धाराओं में मुकदमा दर्ज करने तथा वेतन रिकवरी का निर्देश भी जारी

सिद्धार्थनगर : जनपद में कूटरचित प्रमाणपत्रों के सहारे परिषदीय विद्यालयों में नौकरी हथियाने वाले 38 शिक्षकों के विरुद्ध बेसिक शिक्षा विभाग ने बड़ी कार्रवाई करते हुए सेवा से बर्खास्त कर दिया है। साथ ही अब तक प्राप्त वेतन की रिकवरी करते हुए आपराधिक धाराओं में प्राथमिकी दर्ज कराने का भी निर्देश दिया गया है। परिषदीय विद्यालयों में सितंबर 2016 में यहां लगभग पांच सौ सहायक अध्यापकों की नियुक्ति हुई थी। नियुक्ति के समय से ही फर्जी प्रमाणपत्रों के आधार पर नौकरी पाने वालों की शिकायतें चल रहीं थीं। नियुक्ति पाने से वंचित कुछ अभ्यर्थियों ने जांच की मांग को लेकर उसी समय से मोर्चा खोल रखा था। मंगलवार को उन्होंने जब बीएसए कार्यालय पर आत्मदाह का प्रयास किया तो विभाग के ऊपर फर्जी शिक्षकों के विरुद्ध कार्रवाई करने का दबाव बढ़ गया। प्रकरण की गंभीरता को देखते हुए कुछ दिन पहले जिलाधिकारी कुणाल सिल्कू ने मुख्य विकास अधिकारी हर्षिता माथुर की अध्यक्षता में तीन सदस्यीय जांच टीम गठित की थी। टीम में एसडीएम सदर व जिला विद्यालय निरीक्षक भी शामिल थे। टीम ने प्रमाणपत्रों का सत्यापन कराया जिसमें 38 शिक्षकों के प्रमाणपत्र कूटरचित पाए गए। इस आधार पर बेसिक शिक्षा अधिकारी राम सिंह ने शनिवार को इन शिक्षकों का सेवा समाप्ति का आदेश जारी किया। साथ ही संबंधित खंड शिक्षा अधिकरियों को आपराधिक धाराओं में मुकदमा पंजीकृत कराने के साथ अब तक प्राप्त वेतन की रिकवरी का निर्देश दिया है।

फिर फर्जी शिक्षकों के कारनामे से कांपा जिला :

 भारत-नेपाल सीमा स्थित इस जिले में नटवरलालों का गिरोह डेढ़ दशक से सक्रिय है। शनिवार को एक बार फिर 38 प्राथमिक विद्यालयों के शिक्षक बर्खास्त कर दिए गए हैं। हालांकि विभाग को पूर्व से फर्जी शिक्षकों के विषय में आशंका थी। यहां अर्से से जालसाज फर्जी शिक्षकों के भर्ती का ठेका ले रहे हैं। वर्ष 2009 में जिला शिक्षण व प्रशिक्षण संस्थान में लगी आग को भी उसी का हिस्सा माना जा रहा है। जिला बेसिक शिक्षाधिकारी ने पखवारा भर पूर्व खतरा भांपकर ही जिलाधिकारी से सुरक्षा की गुहार लगाई थी। एक साथ 38 फर्जी शिक्षकों की बर्खास्तगी की कार्रवाई से यह स्पष्ट है कि जिले में अभी जालसाजों का गठजोड़ मजबूत है। यह बताना जरूरी है कि यहां जालसाजों का गठजोड़ नया नहीं है। पिछले 15 वर्षों से उनकी भूमिका पर सवाल उठता रहा है, पर किसी न किसी तरह उनकी फाइल दबा दी जाती है। इस बार भी आशंका यही व्यक्त की जा रही है। सूबे में 16438 शिक्षकों के भर्ती के तहत यहां भी उनके अभिलेखों की जांच चल रही है। प्रबल आशंका है कि इसमें बड़े पैमाने पर फर्जी शिक्षक शामिल हैं। सुरक्षा की मांग से जांच और भी महत्वपूर्ण हो गई है। गंभीरता से जांच हो तो जिले में पांच सौ से अधिक शिक्षक फर्जी निकल सकते हैं।
केस एक : 13 मार्च 2013 जिले में फर्जी शिक्षकों के विरुद्ध चलाए जा रहे अभियान के तहत न्यायालय के आदेश पर 2009-10 के 36 शिक्षकों के विरुद्ध विभाग ने मुकदमा दर्ज करवाया गया। यह मुकदमा सदर थाने में तत्कालीन बीएसए भूपेंद्र नरायन सिंह की तहरीर पर दर्ज किया गया। इन फर्जी शिक्षकों में ज्यादातर शिक्षक देवरिया, गोरखपुर, संतकबीरनगर, मऊ, आजमगढ़, बहराइच के रहने वाले थे। उन्हें 2009 में जिले में नियुक्ति मिली थी। पूर्व में ही मुकदमे के लिए आदेश मिले थे, पर उनकी सेटिंग इतनी मजबूत थी कि इनके विरुद्ध कार्रवाई नहीं हो पाई थी। मुकदमा दर्ज होने के बावजूद इसका कोई नतीजा नहीं निकला।

केस दो : 10 मई 2013 को फर्जी शिक्षक उपेंद्र प्रसाद सिंह का मामला सामने आ गया। इस प्रकरण में एक ही नाम, वल्दियत और एक ही मार्कशीट पर जिले में एक जुलाई 2009 में कैथवलिया रामनाथ भनवापुर में पहली ज्वानिंग कराई गई। इसके बाद उसी नाम और उसी मार्कशीट से 29 सितंबर 2009 को फिर से बेलहसा खुनियांव में विभाग ने नई ज्वानिंग करा दी थी। जांच में पता चला था कि दोनों उपेंद्र प्रसाद सिंह की हाईस्कूल और इंटरमीडिएट की मार्कशीट कानपुर के गांधी इंटर कालेज से बनवाई गई है। बीएससी भी दोनों ने जनता कॉलेज इटावा से किया था। दोनों के रोल नंबर भी हाईस्कूल और बीएससी तक एक ही रहे हैं। विभाग इसे पकड़ने में नाकाम रहा। असली उपेंद्र प्रसाद सिंह आखिर कौन है ? इसका खुलासा नहीं हो सका।
केस तीन : वर्ष 2009 में बांसी जिला शिक्षण व प्रशिक्षण संस्थान में आग लग गई। इसमें तमाम महत्वपूर्ण फाइलें जल गई। बांसी कोतवाली पुलिस को घटना की जांच सौंपी गई थी, पर इस जांच का भी कोई नतीजा नहीं निकल सका। जांच के बाद मामला टाय-टाय फिस्स है। आज भी तमाम महत्वपूर्ण दस्तावेज वहां से नहीं मिल पा रहे हैं।

कार्यवाही के लिए कुल 68 शिक्षकों की सौंपी थी सूची 

सिद्धार्थनगर में फर्जी शिक्षकों के विरुद्ध कार्रवाई के लिए संघर्षरत अभ्यर्थियों ने सूचना के अधिकार के तहत प्राप्त सूचनाओं के आधार पर विभाग को 68 फर्जी शिक्षकों की सूची सौंपी थी। हालांकि उनका यह भी मानना था कि जनपद में 100 से अधिक फर्जी शिक्षक कार्यरत हैं। इस प्रकार अभी भी बड़ी संख्या में फर्जी शिक्षक कार्रवाई की जद में नहीं आ सके हैं। उनका कहना है कि सिर्फ कुछ शिक्षकों की बर्खास्तगी करके जांच समिति को अपने कार्यो की इतिश्री नहीं समझ लेनी चाहिए बल्कि मामले में लिप्त तत्कालीन कर्मियों व अधिकारियों की भूमिका की भी जांच होनी चाहिए।

इन शिक्षकों पर हुई कार्रवाई : प्राथमिक विद्यालय पिपरसन पर तैनात कु.रीना, प्रावि झकहिया रंजेश सिंह, प्रावि जोमखुंडा आलोक पाण्डेय, प्रावि दुल्हा खुर्द साहबजादा सिंह, प्रावि हिसामुद्दीनपुर अंशुमान कुमार श्रीवास्तव, प्रावि हौसिलाबाद मोहन सिंह, प्रावि हटवा राकेश सिंह, प्रावि भड़ही उर्फ मिश्रौलिया वंदना सिंह, प्रावि गोटुटवा जितेंद्र कुमार सिंह, प्रावि करौंदा नानकार रागिनी सिंह, प्रावि गोहनिया ताज अतुल कुमार सिंह, प्रावि हरैया द्वितीय आदित्य सिंह, प्रावि गनेशपुर रियाजुद्दीन, प्रावि फरेनी रीना श्रीवास्तव, प्रावि जिवराए राजन सिंह, प्रावि जमैती-जमैता अमित कुमार, प्रावि तेनुआ सुषमा सिंह, प्रावि गौरडीह अमितेंद्र शेखर मिश्र, प्रावि गनवरिया बुजुर्ग ज्ञानेंद्र कुमार सिंह, प्रावि धौरहरा पूरबडीह छोटेलाल, प्राविजमुनी गो¨वदलाल गुप्ता, प्रावि जलालपुर कृपानिधान यादव, प्रावि जामडीह विवेक राय,प्रावि इमिलिया जनूबी ललित सिंह, प्रावि अमहट अंकित कुमार श्रीवास्तव, प्रावि हिलांगी नानकार भोरिकनाथ यादव, प्रावि गुजरौलिया सूर्यदेव सिंह, प्रावि गो¨वदपुर आनंद शेखर, प्रावि गोरया घनश्याम तिवारी, प्रावि गिरधरपुर राजेश कुमार सिंह, प्रावि धरूआर शशिकांत त्रिपाठी, प्रावि घनश्यामपुर मनोज कुमार द्विवेदी, प्रावि झहराव अविनाश कुमार सिंह, प्रावि वरवां प्रिया यादव, प्रावि घरूआर इंद्रदेव, प्रावि केवटलिया कुमारी शिल्पी गुप्ता, प्रावि गुजरौलिया हरिशंकर कुमार गुप्ता, प्रावि डड़ऊजोत जंमेजय सिंह शामिल हैं।