DISTRICT WISE NEWS

अंबेडकरनगर अमरोहा अमेठी अलीगढ़ आगरा आजमगढ़ इटावा इलाहाबाद उन्नाव एटा औरैया कन्नौज कानपुर कानपुर देहात कानपुर नगर कासगंज कुशीनगर कौशांबी कौशाम्बी गाजियाबाद गाजीपुर गोंडा गोण्डा गोरखपुर गौतमबुद्ध नगर गौतमबुद्धनगर चंदौली चन्दौली चित्रकूट जालौन जौनपुर ज्योतिबा फुले नगर झाँसी झांसी देवरिया पीलीभीत फतेहपुर फर्रुखाबाद फिरोजाबाद फैजाबाद बदायूं बरेली बलरामपुर बलिया बस्ती बहराइच बागपत बाँदा बांदा बाराबंकी बिजनौर बुलंदशहर बुलन्दशहर भदोही मऊ मथुरा महराजगंज महोबा मिर्जापुर मीरजापुर मुजफ्फरनगर मुरादाबाद मेरठ मैनपुरी रामपुर रायबरेली लखनऊ लख़नऊ लखीमपुर खीरी ललितपुर वाराणसी शामली शाहजहाँपुर श्रावस्ती संतकबीरनगर संभल सहारनपुर सिद्धार्थनगर सीतापुर सुलतानपुर सुल्तानपुर सोनभद्र हमीरपुर हरदोई हाथरस हापुड़

Tuesday, September 15, 2015

दबाव बनाने के लिए कल शिक्षामित्र घेरेंगे विधान भवन

उच्च न्यायालय के आदेश के खिलाफ और सरकार पर रास्ता निकालने के लिए दबाव बनाने की खातिर शिक्षामित्रों ने कल विधानभवन के घेराव की घोषणा कर रखी है।

लोक निर्माण मंत्री शिवपाल यादव ने शिक्षामित्रों को दिलाया भरोसा

राज्य के लोक निर्माण विभाग मंत्री शिवपाल सिंह यादव ने शिक्षामित्रों को भरोसा दिलाया है कि सरकार उनके साथ है। सरकार शिक्षामित्रों के हित में रास्ता निकालने के लिए प्रयासरत है। उन्होंने शिक्षामित्रों से हताश या निराश नहीं होने की अपील करते हुए कहा कि उन्हें धैर्य  रखना चाहिए। शिक्षामित्र अपने जान माल का नुकसान नहीं करें।

आजम खान बोले ; शिक्षामित्रों के हक की लडाई सरकार उच्चतम न्यायालय तक लडेगी

नगर विकास और अल्पसंख्यक कल्याण मंत्री मोहम्मद आजम खां ने आज वाराणसी में कहा कि शिक्षामित्रों के हक की लडाई सरकार उच्चतम न्यायालय तक लडेगी। बेरोजगारी दूर करने के लिए शिक्षामित्रों को नौकरी दी गयी थी, लेकिन नियमों में कुछ खामियां रह जाने की वजह से उनकी नौकरी चली गयी। शिक्षामित्र हताश न हों, उन्हें नयाय मिलने तक सरकार उनके हक की लडाई लडेगी।

राज्यपाल राम नाईक ने शिक्षामित्रों से संयम बरतने की अपील की

राज्यपाल राम नाईक ने शिक्षामित्रों से संयम बरतने की अपील करते हुए कोई गलत कदम नहीं उठाने का सुझाव दिया। श्री नाईक ने कहा कि केन्द्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री स्मृति ईरानी और मुख्यमंत्री अखिलेश यादव रास्ता निकालने में लगे हैं, हो सकता है कि कोई रास्ता निकल आये। उन्होंने कहा कि वैसे भी सरकार के पास उच्चतम न्यायालय में जाने का विकल्प खुला है। संवैधानिक व्यवस्था में कोई न/न कोई रास्ता निकल ही आयेगा।

शिक्षामित्रों का आंदोलन जारी, प्राथमिक स्कूलों में पढ़ाई ठप

हाबाद उच्च न्यायालय के एक लाख 74 हजार शिक्षामित्रों को सहायक अध्यापक के रुप में समायोजित किये जाने सम्बन्धी आदेश को रद्द करने के खिलाफ शिक्षामित्रों का आन्दोलन आज भी जारी रहा। न्यायालय ने 12 सितम्बर को उत्तर प्रदेश सरकार के शिक्षामित्रों को सहायक अध्यापक के रुप में समायोजित करने सम्बन्धी आदेश को निरस्त कर दिया था।

न्यायालय के आदेश के बाद शिक्षामित्रों में उबाल है। कुशीनगर में आज फिल्म शोले के अंदाज में महिला शिक्षामित्र पानी की टंकी पर चढ गयी। उसने आत्महत्या की धमकी दी। बमुश्किल उसे समझा-बुझाकर टंकी से उतारा गया। लखनऊ की जीपीओ पार्क पर गांधी प्रतिमा के सामने शिक्षामित्रों ने धरना दिया।

तीन हजार शिक्षामित्रों ने मांगी 'मौत' दिया राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री के नाम ज्ञापन

आगरा: हाईकोर्ट के निर्णय के बाद शिक्षामित्रों का आक्रोश लगातार बढ़ता जा रहा है। सोमवार को विद्यालयों में तालाबंदी कर उन्होंने कलक्ट्रेट पर हंगामा काटा। इच्छा मृत्यु की अनुमति के लिए राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री के नाम ज्ञापन दिया।

सहायक अध्यापक पद पर समायोजन रद होने के बाद से जिले के करीब तीन हजार शिक्षामित्रों में गम के साथ आक्रोश भी है। रविवार को केंद्रीय मंत्री के घेराव के बाद सोमवार को सुबह सभी शिक्षामित्र डायट परिसर पहुंच गए। यहां पर बैठक में सभी ने एक स्वर में राष्ट्रपति से इच्छा मृत्यु की अनुमति देने की मांग उठाई। ज्ञापन देने के लिए सभी दोपहर करीब 12 बजे जुलूस के रूप में कलक्ट्रेट चल दिए। इस दौरान एमजी रोड पर केवल शिक्षामित्र ही नजर आ रहे थे। डीएम कार्यालय का गेट बंद होने पर सभी एसएसपी कार्यालय के सामने धरने पर बैठ गए। वे 'न्याय दो या इच्छा मृत्यु दो' के नारे लगा रहे थे। डीएम की अनुपस्थिति में एसीएम द्वितीय अरुन कुमार ने शिक्षामित्रों से ज्ञापन लिया। इसके बाद सभी लोग वापस डायट पहुंचे और आंदोलन की रणनीति पर विचार किया। शिक्षामित्र संघ के प्रदीप उपाध्याय ने बताया कि केंद्र सरकार के खिलाफ आंदोलन और तेज किया जाएगा।

लग गया जाम

शिक्षामित्रों के जुलूस से पचकुइयां चौराहे पर जाम लग गया। भीड़ जब एमजी रोड पर पहुंची, तो वहां भी यातायात व्यवस्था गड़बड़ा गई। ज्ञापन देकर उनके डायट लौटने पर भी जाम लग गया।

आधे विद्यालय रहे बंद

शिक्षामित्रों ने समायोजन निरस्त होने पर विद्यालय बंदी का एलान किया है। सोमवार को एक भी शिक्षामित्र विद्यालय नहीं गया। सुबह सभी ने विद्यालयों में तालाबंदी कर शिक्षण कार्य नहीं होने दिया। कुछ शिक्षकों ने भी शिक्षामित्रों का समर्थन करते हुए विद्यालय बंद कर दिए। शिक्षामित्र नेता वीरेंद्र छौंकर ने बताया कि जिले में करीब आधे विद्यालय बंद रहे।

पुलिस बल था तैनात

कलक्ट्रेट में शिक्षामित्रों के प्रदर्शन को देखते हुए भारी पुलिस बल तैनात किया गया था। डायट परिसर से ही पुलिस उन पर नजर रखे हुए थी। हालांकि शिक्षामित्रों ने शांतिपूर्वक प्रदर्शन किया।

लेखा कार्यालय हो गया खाली

डायट परिसर में शिक्षामित्रों की बैठक के दौरान किसी ने बीएसए के लेखा कार्यालय में खबर उड़ा दी कि शिक्षामित्र रुका हुआ मानदेय और वेतन लेने आ रहे हैं। इस पर पूरा कार्यालय ही खाली हो गया।

दो शिक्षामित्र बेहोश

प्रदर्शन के दौरान कलक्ट्रेट में दो शिक्षामित्रों की तबियत बिगड़ गई। बिचपुरी की आरती सिंह और जगनेर ब्लॉक के रिपुदमन बेहोश हो गए। इन्हें एंबुलेंस से इलाज के लिए भेजा गया।

समायोजन रद्द होने का दर्द : सोचा था अब मजदूरी नहीं करनी पड़ेगी वही कइयों के टूट गए रिश्ते

गरा: अभी एक साल भी नहीं हुआ, जब शिक्षामित्र से सहायक अध्यापक बनने की खुशी मिली थी। ऐसा लगा मानो वर्षो की तपस्या का फल मिल गया। अब बच्चों को पालने के लिए रात को चौकीदारी नहीं करनी पडे़गी, लेकिन सब कुछ खत्म हो गया। यह दर्द है बरौली अहीर के शिक्षामित्र रतीराम का।

बरौली अहीर निवासी रतीराम वर्तमान में जैतपुर ब्लॉक में प्राथमिक विद्यालय में सहायक अध्यापक पद पर तैनात हैं। इनकी आर्थिक स्थिति तंग है। मानदेय में परिवार का भरणपोषण नहीं हो पाता था। इसलिए दिन में विद्यालय में बच्चों को पढ़ाने के बाद रात में चौकीदार करते थे। इतना ही नहीं छुट्टी के दिन मजदूरी भी करते थे। रतीराम ने बताया कि एक साल पहले सहायक अध्यापक बनने पर वेतन 30 हजार रुपए हो गया तो उन्हें लगा कि अब सारे कष्ट मिट जाएंगे। मगर अच्छे दिन आने से पहले ही सारी खुशियां मिट गई। रतीराम का कहना है कि कोर्ट के इस निर्णय से वह बहुत परेशान हैं। समझ नहीं आ रहा है कि क्या करें। ऐसा ही कुछ हाल नगर क्षेत्र में तैनात शिक्षामित्र विकास का है। घर में वृद्ध मां है। बड़ा भाई मानसिक रूप से बीमार है। खुद का भी परिवार है। विकास ने बताया कि 14 साल से इसी आस पर नौकरी कर रहे थे कि एक दिन परमानेंट हो जाएंगे और अच्छा वेतन मिलेगा। उम्मीद पूरी भी हुई। वेतन मिला तो खुशी भी बहुत हुई। मगर, अब फिर से 3500 रुपए में परिवार चलाना मुश्किल होगा। पुराने दिन के बारे में सोचते हुए उनकी आंखों में आंसू आ गए।

अब फिर कर्जा लेना पडे़गा

शिक्षामित्रों ने बताया कि 3500 रुपए मानदेय में किसी का भी परिवार नहीं चलता। ऐसे में अधिकतर शिक्षामित्र कर्जे में डूबे थे। समायोजन के बाद एक साथ मिले वेतन से कर्जा उतार दिया। मगर, अब फिर से वही स्थिति सामने आ गई है।

-------

कइयों के टूटे गए रिश्ते

कोर्ट के निर्णय के बाद कई शिक्षामित्रों को तगड़ा झटका लगा है। इस झटके से उनके परिवार वाले भी परेशान हैं। सहायक अध्यापक बनने पर बेटों के लिए अच्छा रिश्ता तलाशा। लड़की वालों ने भी सरकारी नौकरी देख रिश्ता तय करने में देर न लगाई। मगर, जैसे ही कोर्ट का निर्णय आया लड़की वालों ने भी हाथ खींच लिए। सैंया के राजीव शर्मा और तेहरा के नंदकिशोर समेत करीब एक दर्जन शिक्षामित्र ऐसे हैं जिनका संबंध दो दिन में टूट गया है।

अटल बिहारी बाजपेई को श्रद्धांजलि देने में हेडमास्टर निलंबित

अटल बिहारी बाजपेई को श्रद्धांजलि देने में हेडमास्टर निलंबित

बेसिक शिक्षा मंत्री रामगोविंद चौधरी का शिक्षामित्रों के नाम अपील का मजमून

मंत्री जी ने की अपील जीवन है महत्वपूर्ण
हताश और निराश होने की आवशयकता नहीं

Monday, September 14, 2015

समायोजन रद्द होने को लेकर स्कूल बंद होने की आशंका

त्रों का समायोजन निरस्त होने के बाद से उनके तैनाती को लेकर अभी तक बने असमंजस की स्थिति से जिले भर के कई स्कूलों पर ताला बंद होने की दशा सामने आ सकती है। इसे लेकर विभाग को मध्य सत्र में ही बडे पैमाने पर तबादले और सम्बद्धीकरण का कार्य करना पड सकता है। हलांकि अभी तक इसे लेकर कोई निर्देश नहीं मिलने से विभाग भी अपनी आगामी रणनीति तय नहीं कर पा रहा है।



जिले भर के विभिन्न विद्यालयों में वर्तमान में शिक्षक पद पर समायोजित होने के बाद शिक्षामित्र से शिक्षक बने लोग ही इंचार्ज के रुप में कार्यभार देख रहे हैं। उनकी तैनाती को देखते हुए ही विभाग द्वारा बाद में शिक्षकों की नियुक्ति भी किया गया था। अब समायोजन निरस्?त होने के बाद से शिक्षामित्र संगठनों के द्वारा विद्यालयों पर कार्य करने से इंकार कर दिया गया है। इसके साथ ही उनके मूल विद्यालय पर वापसी आदि को लेकर भी कोई निर्णय नहीं लिया जा सका है। इससे जिले भर में अनेक विद्यालयों पर ताला खुलने को लेकर संकट की दशा सामने आ सकती है। सोमवार को शिक्षामित्रों के जिले पर प्रदर्शन के दौरान भी इसी तरह के मामले सामने आए। इससे बेसिक शिक्षा को मध्य सत्र में व्यवस्था को चाकचौबंद करने को लेकर भी कठिन दौर से गुजरना पड सकता है तथा नए शिक्षकों की नियुक्ति होने तक शिक्षकों की कमी की समस्या झेल रहे विभाग को और भी संकट के दौर से गुजरना पड सकता है। जानकारों का कहना है कि यदि सभी को मूल विद्यालय पर वापस किया जाय तो भी बडे स्तर पर सम्बद्धता अथवा समायोजन के बिना कार्य को पटरी पर लाना भी एक बडी चुनौती होगी।

बहराइच-श्रावस्ती के 50 फीसदी से अधिक प्राथमिक विद्यालयों में ताला लटकता रहा

बहराइच/श्रावस्ती। इलाहाबाद हाईकोर्ट के फैसले से क्षुब्ध शिक्षामित्र सोमवार को हड़ताल पर रहे। इसके चलते बहराइच-श्रावस्ती के 50 फीसदी से अधिक प्राथमिक विद्यालयों में ताला लटकता रहा। 

बहराइच में शिक्षामित्रों ने कलेक्ट्रेट के धरनास्थल पर सभा कर राष्ट्रपति से इच्छा मृत्यु मांगते हुए उन्हें फैक्स भेजा। वहीं, श्रावस्ती में भी जनसभा कर जुलूस निकाला गया। इस दौरान दो शिक्षामित्र बेहोश भी हो गए।

यहां कई स्थानों पर स्कूलों में तालाबंदी को लेकर शिक्षामित्रों और शिक्षकों में झड़प भी हुई। शिक्षामित्रों ने तहसील तिराहे पर प्रदर्शन कर प्रधानमंत्री को संबोधित ज्ञापन उपजिलाधिकारी भिनगा को सौंपा।

सहायक शिक्षक के पद पर शिक्षामित्रों का समायोजन रद्द करने के फैसले से शिक्षामित्रों में उबाल है। नौकरी गंवाने के सदमे से रविवार को बहराइच की एक महिला शिक्षामित्र की मौत भी हो गई।

हाईकोर्ट के निर्णय के विरोध में शिक्षामित्रों ने हड़ताल की घोषणा की थी। उसके तहत सोमवार को एक भी समायोजित शिक्षक और शिक्षामित्र स्कूल नहीं पहुंचे। 

इस कारण जिले के 50 फीसदी से अधिक प्राथमिक विद्यालयों में ताले लटके� रहे। पूरी तरह से पाढ़ाई ठप रही। सुबह आठ बजे छात्र-छात्राएं बस्ता लेकर स्कूल पहुंचे तो जरूर लेकिन बैरंग लौटने को मजबूर रहे। 

उधर, शिक्षामित्रों ने कलेक्ट्रेट के धरनास्थल पर सभा की। इसकी अध्यक्षता करते हुए शिक्षामित्र शिक्षक कल्याण समिति के जिलाध्यक्ष दीनानाथ दीक्षित ने न्यायालय के निर्णय को शिक्षामित्रों और समायोजित शिक्षकों के लिए अहितकारी बताते हुए निर्णय को वापस लेने की मांग की। 

सभी शिक्षामित्रों ने नौकरी नहीं तो जिंदगी नहीं की नारेबाजी कर राष्ट्रपति को संबोधित पत्र फैक्स से भेजा है। पत्र में जिलाध्यक्ष की अगुवाई में समायोजित शिक्षकों और शिक्षामित्रों ने इच्छा मृत्यु प्रदान करने की गुहार लगाई है। 

संगठन के प्रवक्ता बलराम बाजपेई ने कहा कि हड़ताल पूरी तरह सफल रही है। शिक्षामित्र और समायोजित शिक्षक किसी भी कीमत पर अपने भविष्य के साथ खिलवाड़ नहीं होने देंगे। 

उधर, उत्तर प्रदेशीय प्राथमिक शिक्षामित्र संघ के प्रांतीय प्रवक्ता शिवश्याम मिश्र ने आरपार के संघर्ष का ऐलान किया है। इस मौके पर नंदिनी सिंह, राजकुमार, अजय शुक्ला, शमशेर अली, रामगोपाल, हेमराज, विनोद, रामअचल, अनिल कुमार, दिनेश, अर्चना सिंह समेत सैकड़ों की संख्या में शिक्षामित्र मौजूद रहे। 

स्कूल बंद करने को लेकर शिक्षक-शिक्षामित्रों में झड़प

श्रावस्ती। प्राथमिक शिक्षामित्र संघ की ओर से सोमवार को जूनियर हाईस्कूल भिनगा में राष्ट्रीय अध्यापक शिक्षा परिषद के विरुद्ध विशाल जनसभा की गई। 

शिक्षामित्रों ने जूनियर हाईस्कूल से ईदगाह तिराहे तक शांति मार्च निकाला। इस दौरान शिक्षामित्र रेशमा खातून और शाहद अचानक बेहोश हो गए। दोनों का इलाज सीएचसी भिनगा में कराया गया है। 

वहीं, स्कूल बंद करने को लेकर पहली बार शिक्षक और शिक्षामित्र आमने-सामने आ गए। गिलौला व इकौना के कई विद्यालयों में शिक्षक व शिक्षामित्रों में खूब झड़प हुई। हालांकि,� अन्य स्कूलों में पूरी तरह तालाबंदी रही। 

प्रदर्शन के बाद उपजिलाधिकारी भिनगा श्रीराम सचान को सौंपे ज्ञापन में शिक्षामित्रों ने कहा है कि उच्च न्यायालय के इस फैसले से सदमे में आए कई शिक्षामित्रों ने जहर खाकर अपनी जान दे दी, जिससे उनके परिवार का सहारा छिन गया है। करीब 80 हजार शिक्षामित्र 40-45 वर्ष के करीब पहुंच चुके हैं। यदि उन्हें शिक्षक पद से हटाया गया तो वह कहीं के नहीं रहेंगे। 

शिक्षामित्रों ने प्रधानमंत्री से हस्तक्षेप कर शिक्षक परीक्षा पात्रता में छूट प्रदान करने की मांग की है। इस मौके पर प्राथमिक शिक्षामित्र संघ के अध्यक्ष निर्मल शुक्ल व आदर्श शिक्षामित्र वेलफेयर एसोसिएशन के अध्यक्ष लक्ष्मन प्रसाद बौद्ध समेत काफी संख्या में शिक्षामित्र मौजूद रहे।

बेमियादी धरना आज से
बहराइच। शिक्षामित्र शिक्षक कल्याण समिति के प्रवक्ता बलराम बाजपेई ने बताया कि हक और अधिकार की मांग को लेकर मंगलवार सुबह 10 बजे से कलेक्ट्रेट के धरनास्थल पर अनिश्चितकालीन धरना-प्रदर्शन शुरू किया जाएगा। जब तक न्यायालय का निर्णय वापस नहीं होगा, आंदोलन चलेगा।

ठेके पर शिक्षा : शिक्षामित्र समायोजन के अवैध घोषित किये जाने के आगे पीछे का सम्यक विश्लेषण

ठेके पर शिक्षा : शिक्षामित्र समायोजन के अवैध घोषित किये जाने के आगे पीछे का सम्यक विश्लेषण

अलीगढ़ बीएसए ने जबरजस्ती तालाबंदी पर जारी किया वैधानिक और प्रशासनिक कार्यवाही किये जाने का आदेश

अलीगढ़ बीएसए ने जबरजस्ती तालाबंदी पर जारी किया  वैधानिक और प्रशासनिक कार्यवाही  किये जाने का आदेश  

शिक्षामित्रों ने HC फैसले के खिलाफ प्रदर्शन कर कहा-आतंकवादियों को मिलती है ऐसी सजा

एटा. प्रदेश के एक लाख 72 हजार शिक्षामित्रों का हाईकोर्ट ने सहायक अध्‍यापक के रूप में समायोजन रद्द कर दिया। अब मामले में यूपी के अलग-अलग जिलों में इसका विरोध होने लगा है। सोमवार को जिले में हजारों शिक्षामित्रों ने सड़कों पर उतरकर न्यायपालिका और केंद्र सरकार के विरोध में प्रदर्शन किया। साथ ही केंद्र सरकार का पुतला भी फूंका। शिक्षामित्रों ने उप जिलाधिकारी सुनील कुमार को भारत के मुख्य न्यायाधीश को संबोधित एक ज्ञापन सौंपा। इसके अलावा उत्तर प्रदेश दूरस्थ बीटीसी शिक्षक संघ ने भी पीएम और राष्ट्रपति को संबोधित दो ज्ञापन दिए। प्रदर्शन के दौरान एक महिला शिक्षामित्र संजू यादव डीएम कार्यालय के सामने बेहोश होकर गिर पड़ीं। दो अन्य शिक्षामित्र विनीता यादव और कृष्णा यादव जुलूस निकालते समय बेहोश होकर गिर पड़ी। तीनों को एटा के जिला अस्‍पताल में भर्ती कराया गया, जहां उनका इलाज चल रहा है। अन्‍य प्रदेशों में शिक्षामित्रों को नियमित स्थायी शिक्षक बनाया तो यूपी में क्‍यों नहीं? ज्ञापनों में कहा गया कि शिक्षामित्रों को महाराष्ट्र, गुजरात और उत्तराखंड में नियमित स्थायी शिक्षक बनाया गया है तो यूपी के शिक्षक शिक्षामित्र कैसे अयोग्य हो सकते हैं? ज्ञापन में यह भी कहा गया है कि पिछले 15 सालों से सरकार ने शिक्षामित्रों से जनगणना, बालगणना, विधानसभा और लोकसभा के चुनाव में काम लिया। अब झूठी दलीलों के माध्यम से ऐसा निर्णय दिया गया, जैसे किसी आतंकवादी को सजा दी जाती है। इसके अलावा एक लाख 72 हजार शिक्षामित्रों को न्याय नहीं मिलने पर उन्‍होंने राष्ट्रपति से इच्छामृत्यु की मांग की। जज अौर उनकी बेंच के खिलाफ सीबीआई जांच कराने की मांग उत्तर प्रदेश शिक्षामित्र संघ एटा के संरक्षक राजेश गुप्ता ने पीएम नरेंद्र मोदी से इस मामले की सीबीआई जांच करवाने की मांग की। साथ ही राष्ट्रपति और भारत के मुख्य न्यायाधीश से इलाहाबाद हाईकोर्ट के जज चंद्रचूड़ सिंह और उनकी बेंच के खिलाफ सीबीआई जांच की मांग की।

यूपी- शिक्षामित्रों के गुस्से का शिकार हुईं स्मृति ईरानी

लखनऊ । इलाहाबाद उच्च न्यायालय के शिक्षामित्रों को सहायक अध्यापक बनाये जाने के निर्णय को निरस्त किये जाने से गुस्साये शिक्षा मित्रों की नाराजगी का शिकार सोमवार को केन्द्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री स्मृति ईरानी बनीं। ईरानी लखनऊ में ड़ा राम मनोहर लोहिया विश्वविद्यालय में पाठ्यक्रमों को लेकर आयोजित सम्मेलन में भाग लेने आई थीं, उसी समय कुछ शिक्षामित्र वहां पहुंच गए और नारेबाजी करने लगे। नारेबाजी के समय हालांकि ईरानी सम्मेलन को विश्वविद्यालय के अन्दर सम्बोधित कर रही थी। तभी शिक्षामित्र बाहर से नारेबाजी करने लगे। स्मृति ईरानी मध्य क्षेत्र के चार राज्यों के शिक्षा मंत्रियों के साथ राममनोहर लोहिया लॉ यूनिवर्सिटी में मीटिंग कर रही थीं। इसमें यूपी, मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और उत्तराखण्ड के शिक्षामंत्री और अधिकारी हिस्सा ले रहे थे। सभी राज्यों के अधिकारी अपनी शिक्षा नीति का प्रदर्शन कर रहे थे। यूपी से इस मीटिंग में बेसिक शिक्षा मंत्री रामगोविंद चौधरी, माध्यमिक शिक्षा मंत्री महबूब अली, शिक्षा विभाग के प्रमुख सचिव, सचिव, निदेशक और सचिव उच्च शिक्षा अनिल गर्ग मौजूद थे। इस बीच राजधानी के गांधी प्रतिमा स्थल पर प्रदर्शन कर रहे शिक्षामित्रों को मानव संसाधन मंत्री स्मृति ईरानी के शहर में होने की खबर मिली। इसके बाद सभी उनके कार्यक्रम स्थल की ओर बढ़ गए। लोहिया यूनिवर्सिटी में पहुंचकर शिक्षामित्रों ने उनसे मिलने का समय मांगा, लेकिन समय नहीं मिला। केंद्रीय मंत्री के इनकार करने पर आक्रोशित शिक्षामित्र यूनिवर्सिटी के बाहर ही नारेबाजी करते हुए धरने पर बैठ गए। उनका कहना था कि केंद्रीय मंत्री उन्हें न्याय दें या इच्छामृत्यु। केंद्र सरकार नई शिक्षा नीति का प्रस्ताव फाइनल तैयार करना चाहती है। इसके लिए कई स्तरों मीटिंग की जा रही हैं। नई शिक्षा नीति में शिक्षा की गुणवत्ता और कौशल विकास पर विशेषतौर पर ध्यान दिया जा रहा है।

उग्र हुआ शिक्षामित्रों का विरोध प्रदर्शन,पूरे यूपी में स्कूलें ठप

 इलाहाबाद हाईकोर्ट के समायोजन संबंधी आदेश से दुखी शिक्षा मित्रों का विरोध प्रदर्शन सोमवार को उग्र हो गया। कक्षाओं के बहिष्कार और स्कूलों में तालाबंदी के बाद प्रदेश के विभिन्न ब्लॉकों और जिलो में सैकडों शिक्षामित्रों ने जमकर प्रदर्शन किया। इलाहाबाद हाईकोर्ट की ओर से समायोजन रद्द किए जाने के विरोध में शिक्षा मित्रों ने पूरे प्रदेश में प्रदर्शन किया। इस दौरान उन्होंने स्कूलों में कामकाज ठप कर दिया और जमकर नारेबाजी की।

कई जगहों पर एबीएसए के कार्यालयों का घेराव कर जमकर नारेबाजी की। फैजाबाद में शिक्षा मित्र एक दिवसीय सामूहिक अवकाश पर चले गए। उन्होंने बीआरसी कार्यालय पर धरना दिया और कहा कि प्रधानमंत्री व मानव संसाधन मंत्रालय को इस बारे में ज्ञापन भेजेंगे। सुलतानपुर व अमेठी में भी शिक्षा मित्रों ने स्कूल बंद कर विरोध जताया। बाराबंकी में आंदोलन जारी रखते हुए शिक्षा मित्र स्कूलों में नहीं गए। इस दौरान डायट में उन्होंने जमकर नारेबाजी की। यही हाल अम्बेडकरनगर में भी देखने को मिला। गुस्साए शिक्षामित्रों ने विद्यालयों में शिक्षण कार्य का बहिष्कार कर कलेक्ट्रेट पर धरना दिया। जबकि बहराइच में शिक्षा मित्रों ने सामूहिक अवकाश लेते हुए फैसले के खिलाफ नाराजगी जताई। 

कुशीनगर के तमकुहीराज के 176 शिक्षा मित्रों ने राष्ट्रपति से इ्च्छामृत्यु की अनुमति मांगी। वे रास्ता जाम कर प्रदर्शन कर रहे हैं। गोरखपुर के एक तिहाई से अधिक स्कूलों में पढाई नहीं हो सकी। शिक्षा मित्र नगर निगम पार्क में रणनीति बना रहे हैं । यही हाल पpमी उत्तर प्रदेश का रहा। बिजनौर में शिक्षामित्र सभी ब्लाक संसाधन केन्द्रों (बीआरसी) पर आठ बजे पहुंचे और जबरदस्त प्रदर्शन किया। शिक्षामित्रों के कार्य बहिष्कार से बुनियादी शिक्षा की रीढ टूट गई हैं। लगभग 800 स्कूलों की शिक्षा प्रभावित हुई। सभी बीआरसी केन्द्रों पर शिक्षामित्रों ने प्रदर्शन किया। 

सहारनपुर के गुणारसा बीआरसी पर शिक्षा मित्रों ने तालाबंदी की। अन्य सभी बीआरसी पर प्रदर्शन किया गया। बुलंदशहर में बीआरसी पर प्रदर्शन के बाद शिक्षा मित्र राजेबाबू पार्क में एकत्र हुए और आगे की रणनीति बनाई। बागपत में शिक्षामित्र विद्यालयों में तो गए लेकिन उन्होंने बच्चों को पढाया नहीं। दोपहर बाद वे मेरठ के लिए रवाना हो गए जहां के शिक्षामित्रों के साथ आगे की रणनीति बनाएंगे। मुजफ्फरनगर में बीआरसी पर शिक्षा मित्रों ने प्रदर्शन किया। प्रदर्शनकारियों में महिलाओं और लडकियों की भी काफी संख्या है। उन्होंने सडक पर लेटकर अपना विरोध जताया। 

प्रदर्शनकारियों का कहना है कि 18 सितंबर के पहले उनकी कोशिश प्रधानमंत्री से मिलने की है। उनका कहना है कि समायोजन के संबंध में हुई तकनीकी त्रुटि दूर करने का अधिकार अब केन्द्र सरकार के पास है। लिहाजा, केन्द्र सरकार इस मामले में हस्तक्षेप कर सकती है। इसलिए प्रधानमंत्री से भी हस्तक्षेप का आग्रह किया जा रहा है। सोमवार को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के बनारस में रवीन्द्रपुरी स्थित जनसंपर्क कार्यालय पर पहुंचे और प्रदर्शन शुरू कर दिया। शिक्षामित्रों ने एलान किया कि अगले तीन दिन में मोदी ने मिलने का समय नहीं दिया तो 18 को पूरे प्रदेश से शिक्षा मित्र बनारस पहुचेंगे। 18 को ही मोदी बनारस आ रहे हैं। उधर, भदोही में भी शिक्षामित्रों ने बीजेपी सांसद वीरेंद्र सिंह का आवास घेरा और ज्ञापन सौंपा।

उरई जनपद में शिक्षामित्र मामले पर एकजुट हुए शिक्षक संगठनों में बवाल

शिक्षामित्रों को सहायक अध्यापक न बनाये जाने के उच्च न्यायालय के फैसले के बाद अब शिक्षामित्रों की नौकरी छिन जाने के मामले ने शिक्षक संगठनों में भी उबाल भर दिया है। विभिन्न शिक्षक संगठनों और शिक्षामित्रों ने सोमवार को रघुवीर धाम में बैठक की और सुप्रीम कोर्ट में अच्छी पैरवी कर नौकरी बचाने के लिए संघर्ष का आह्वान किया। साथ ही शिक्षामित्र संघर्ष समिति का गठन किया गया।
बैठक को संबोधित करते हुए वरिष्ठ शिक्षक नेता रामराजा द्विवेदी ने कहा कि यह सरकार की लचर पैरवी का परिणाम है कि शिक्षामित्रों के सामने यह स्थिति उत्पन्न हुई है। फिर भी प्रदेश सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में लड़ाई लड़ने की बात कही है इससे शिक्षामित्रों को कुछ राहत मिली है। महेंद्र भाटिया ने कहा कि शिक्षामित्रों की नौकरी छिनने का असर न केवल उन पर बल्कि उनके परिवार पर भी पड़ रहा है इसलिए सरकार को तुरंत ऐसा निर्णय लेना चाहिए, जिससे कि शिक्षामित्रों के मुंह का निवाला न छिन सके। इंद्रजीत विश्वकर्मा ने कहा कि जो भी आवश्यक परिवर्तन केंद्र सरकार द्वारा एनसीटीई द्वारा करवाया जाना है उसके लिए जंतर-मंतर से लेकर सुप्रीम कोर्ट तक लड़ाई लड़ी जाएगी। ठाकुरदास यादव और राजेंद्र राजपूत ने कहा कि शिक्षामित्रों के हक के लिए सभी शिक्षक संगठन मिलकर लड़ाई लड़ेंगे। इस मौके पर युद्धवीर कंथरिया, किशोरी शरण शांडिल्य, महेश प्रताप, दिनेश यादव, रणकेंद्र ¨सह, कृष्णबिहारी, राधाकृष्ण द्विवेदी, प्रवीण परिहार, जितेंद्र द्विवेदी, अर्चना सुमन, काशीप्रसाद, नितिन पाल और नीरज समेत कई शिक्षक और शिक्षामित्र मौजूद रहे।

must watch @PrimeDebate tonight on @ETVUPLIVE 8pm




महोबा - बीएसए कार्यालय पर शिक्षामित्रों का प्रदर्शन, प्रदर्शन में सहायक अध्यापिका को हार्ट-अटैक

महोबा - बीएसए कार्यालय पर शिक्षामित्रों का प्रदर्शन, प्रदर्शन में सहायक अध्यापिका को हार्ट-अटैक, आईसीयू में भर्ती

बरेली - शिक्षामित्रों ने पीएम मोदी का पुतला फूंका, एनएच-24 जाम लगाकर फूंका पुतला, समायोजन रद्द

बरेली - शिक्षामित्रों ने पीएम मोदी का पुतला फूंका, एनएच-24 जाम लगाकर फूंका पुतला, समायोजन रद्द होने से नाराज हैं शिक्षामित्र

हाथरस - शिक्षामित्रो ने सांसद आवास का किया घेराव,पीएम को संबोधित ज्ञापन सांसद प्रतिनिधि को सौपा

हाथरस - शिक्षामित्रो ने सांसद आवास का किया घेराव,पीएम को संबोधित ज्ञापन सांसद प्रतिनिधि को सौपा,2 शिक्षामित्रों की हालत बिगड़ी

शाहजहांपुर - शिक्षामित्रो के बीमार होने का लगा तांता,5 शिक्षामित्र अस्पताल मे भर्ती

शाहजहांपुर - शिक्षामित्रो के बीमार होने का लगा तांता,5 शिक्षामित्र अस्पताल मे भर्ती,कोर्ट के फैसले से बीमार हो रहे शिक्षामित्र

लखीमपुर खीरी-शिक्षामित्रों ने किया कार्य बहिष्कार,काली पट्टी बांधकर ब्लॉक मुख्यालयो पर प्रदर्शन

लखीमपुर खीरी-शिक्षामित्रों ने किया कार्य बहिष्कार,काली पट्टी बांधकर ब्लॉक मुख्यालयो पर प्रदर्शन,जिले के कई स्कूलों में की तालाबंदी

सुल्तानपुर-शिक्षामित्रों ने किया कार्य बहिष्कार,ब्लॉकों के केन्द्रों पर जमा होकर बना रहे रणनीति

सुल्तानपुर-शिक्षामित्रों ने किया कार्य बहिष्कार,ब्लॉकों के केन्द्रों पर जमा होकर बना रहे रणनीति,हाईकोर्ट के आदेश के विरोध में कार्य बहिष्कार

कानपुर देहात-शिक्षामित्रों ने स्कूलों मे किया कार्य बहिष्कार

कानपुर देहात-शिक्षामित्रों ने स्कूलों मे किया कार्य बहिष्कार,हाईकोर्ट के आदेश के विरोध में कार्य बहिष्कार

शिक्षामित्रों का प्राथमिक स्कूलों में कार्य बहिष्कार,कोर्ट के फैसले के विरोध मे शिक्षामित्र लामबंद

शिक्षामित्रों का प्राथमिक स्कूलों में कार्य बहिष्कार,कोर्ट के फैसले के विरोध मे शिक्षामित्र लामबंद,शिक्षामित्र से बनाए थे सहायक अध्यापक

कन्नौज-बहाली की मांग को लेकर शिक्षामित्रों का प्रदर्शन,रेलवे ट्रैक पर हजारों शिक्षामित्र बैठे

कन्नौज-बहाली की मांग को लेकर शिक्षामित्रों का प्रदर्शन,रेलवे ट्रैक पर हजारों शिक्षामित्र बैठे,सदर संसाधन केन्द्र के पास प्रदर्शन

वाराणसी-शिक्षामित्रों ने लहुरावीर चौराहे पर जाम लगाकर किया प्रदर्शन

वाराणसी-शिक्षामित्रों ने लहुरावीर चौराहे पर जाम लगाकर किया प्रदर्शन,शिक्षामित्रों ने राष्ट्रपति से लगाई इच्छामृत्यु की गुहार

यूपी-हाईकोर्ट के फैसले के खिलाफ कन्नौज,संभल,लखनऊ में शिक्षामित्रों का प्रदर्शन

यूपी-हाईकोर्ट के फैसले के खिलाफ कन्नौज,संभल,लखनऊ में शिक्षामित्रों का प्रदर्शन,शिक्षामित्रों ने प्राथमिक स्कूलो में पढ़ाई की ठप

मथुरा-कलेक्ट्रेट पर शिक्षामित्रों का प्रदर्शन,हाईकोर्ट के फैसले का विरोध

मथुरा-कलेक्ट्रेट पर शिक्षामित्रों का प्रदर्शन,हाईकोर्ट के फैसले का शिक्षामित्रों ने किया विरोध,बहाली की मांग को लेकर प्रदर्शन

वाराणसी-पीएम के जनसंपर्क कार्यालय को शिक्षामित्रों ने घेरा

वाराणसी-पीएम के जनसंपर्क कार्यालय को शिक्षामित्रों ने घेरा,समायोजन की मांग को लेकर लामबंद,कोर्ट के फैसले के विरोध में प्रदर्शन

नई शिक्षा नीति पर लखनऊ में अहम बैठक, मानव संसाधन मंत्री स्मृति ईरानी ले रहीं बैठक

नई शिक्षा नीति पर लखनऊ में अहम बैठक, मानव संसाधन मंत्री स्मृति ईरानी ले रहीं बैठक, छत्तीसगढ़,मध्य प्रदेश,उत्तराखंड के शिक्षा मंत्री मौजूद

आज़मगढ़ - कुंवर सिंह उद्यान में शिक्षामित्रों का प्रदर्शन, हाईकोर्ट के फैसले के खिलाफ कर रहे प्रदर्शन

आज़मगढ़ - कुंवर सिंह उद्यान में शिक्षामित्रों का प्रदर्शन, हाईकोर्ट के फैसले के खिलाफ कर रहे प्रदर्शन, समायोजन की मांग को लेकर हुए लामबंद

आगरा - हजारों की संख्या में शिक्षामित्र पहुंचे कलेक्ट्रेट, न्याय की मांग को लेकर कर रहे प्रदर्शन

आगरा - हजारों की संख्या में शिक्षामित्र पहुंचे कलेक्ट्रेट, न्याय की मांग को लेकर कर रहे प्रदर्शन, फांसी दो या न्याय दो की लगा रहे गुहार

मैनपुरी - शिक्षामित्र ने फांसी लगाकर जान देने का किया प्रयास

मैनपुरी - शिक्षामित्र ने फांसी लगाकर जान देने का किया प्रयास, धरने के दौरान शिक्षामित्र ने फांसी लगाने की कोशिश की

हरदोई - धरना दे रही महिला शिक्षामित्र बेहोश, गांधी मैदान में शिक्षामित्रों का प्रदर्शन

हरदोई - धरना दे रही महिला शिक्षामित्र बेहोश, गांधी मैदान में शिक्षामित्रों का प्रदर्शन, हाईकोर्ट के फैसले के खिलाफ प्रदर्शन

लखनऊ-मंत्री स्मृति ईरानी को ज्ञापन देंगे शिक्षामित्र संघ,शिक्षामित्र संघ के लोग पहुंच रहे ज्ञापन देने

लखनऊ-मंत्री स्मृति ईरानी को ज्ञापन देंगे शिक्षामित्र संघ,शिक्षामित्र संघ के लोग पहुंच रहे ज्ञापन देने, आरएमएल विधि विवि में चल रहा कार्यक्रम

Wednesday, May 20, 2015

सीतापुर : 30 सितंबर के नामांकन के आधार पर होगा रसोइया चयन, बीएसए द्वारा जारी विज्ञप्ति देखें

सीतापुर : 30 सितंबर के नामांकन के आधार पर होगा रसोइया चयन, बीएसए द्वारा जारी विज्ञप्ति देखें

Wednesday, May 13, 2015

बुलंदशहर : पल्स पोलियो कार्यक्रम में प्रतिभाग करने वाले शिक्षकों को उक्त दिवस का प्रतिकर अवकाश स्वीकृत करने के सम्बन्ध में बीएसए ने जारी किए आदेश, आदेश प्रति देखें


पल्स पोलियो कार्यक्रम में प्रतिभाग करने वाले शिक्षकों को उक्त दिवस का प्रतिकर अवकाश स्वीकृत करने के सम्बन्ध में बीएसए ने जारी किए आदेश, आदेश प्रति देखें

Tuesday, May 12, 2015

बुलंदशहर : पोलियो ड्यूटी के सापेक्ष प्रतिकर अवकाश दिए जाने के सम्बन्ध में बीएसए बुलंदशहर द्वारा जारी आदेश


 बुलंदशहर : पोलियो ड्यूटी के सापेक्ष प्रतिकर अवकाश दिए जाने के सम्बन्ध में बीएसए बुलंदशहर द्वारा जारी आदेश

जनपदवार अपडेट हेतु जिला के नाम पर क्लिक करे!

अंबेडकरनगर अमरोहा अमेठी अलीगढ़ आगरा इटावा इलाहाबाद उन्नाव एटा औरैया कन्नौज कानपुर कानपुर देहात कासगंज कुशीनगर कौशांबी गाजियाबाद गाजीपुर गोण्डा गोरखपुर चंदौली चंदौसी चित्रकूट जालौन झांसी देवरिया पीलीभीत प्रतापगढ़ फतेहपुर फर्रुखाबाद फिरोजाबाद फैजाबाद बदायूं बरेली बलरामपुर बलिया बस्ती बहराइच बाँदा बागपत बाराबंकी बिजनौर बुलंदशहर भदोही मऊ मथुरा महाराजगंज महोबा मिर्जापुर मुजफ्फरनगर मुरादाबाद मेरठ मैनपुरी रामपुर रायबरेली लखनऊ लखीमपुर खीरी ललितपुर वाराणसी शामली शाहजहाँपुर श्रावस्ती संतकबीरनगर संभल सहारनपुर सिद्धार्थनगर सीतापुर सुल्तानपुर सोनभद्र हमीरपुर हरदोई हाथरस