DISTRICT WISE NEWS

अंबेडकरनगर अमरोहा अमेठी अलीगढ़ आगरा आजमगढ़ इटावा इलाहाबाद उन्नाव एटा औरैया कन्नौज कानपुर कानपुर देहात कासगंज कुशीनगर कौशांबी कौशाम्बी गाजियाबाद गाजीपुर गोण्डा गोरखपुर गौतमबुद्धनगर चन्दौली चित्रकूट जालौन जौनपुर ज्योतिबा फुले नगर झाँसी देवरिया पीलीभीत फतेहपुर फर्रुखाबाद फिरोजाबाद फैजाबाद बदायूं बरेली बलरामपुर बलिया बस्ती बहराइच बागपत बाँदा बांदा बाराबंकी बिजनौर बुलंदशहर बुलन्दशहर भदोही मऊ मथुरा महराजगंज महोबा मीरजापुर मुजफ्फरनगर मुरादाबाद मेरठ मैनपुरी रामपुर रायबरेली लखनऊ लख़नऊ लखीमपुर खीरी ललितपुर वाराणसी शामली शाहजहाँपुर श्रावस्ती संतकबीरनगर संभल सहारनपुर सिद्धार्थनगर सीतापुर सुल्तानपुर सोनभद्र हमीरपुर हरदोई हाथरस हापुड़

Monday, May 30, 2016

बदायूं : कार्यालय को निर्देश हुए प्राप्त, नए सत्र से सुधरेगी बच्चों की सेहत,  कटे फलों का नहीं होगा वितरण

परिषदीय विद्यालयों के ग्रीष्मावकाश के बाद यहां पढ़ने वाले बच्चों की सेहत सुधरी नजर आएगी। हर बच्चे को सप्ताह में एक दिन पौष्टिक आहार के रूप में फल वितरित करने करने का निर्देश बेसिक शिक्षा विभाग को प्राप्त हो गया है। हर सोमवार को फल खिलाए जाएंगे। उस दिन अवकाश होने पर अगले शिक्षण दिवस में फल दिए जाएंगे। बच्चे को दिए जाने के वाले एक फल की कीमत चार रुपये अनुमानित की गई है। ग्रीष्मावकाश के बाद पहले सोमवार से योजना का क्रियान्वयन शुरू हो जाएगा।विद्यालयों में पढ़ने वाले कक्षा एक से कक्षा आठ तक के बच्चों को दोपहर का भोजन कराए जाने का प्रावधान है। बच्चों को मानसिक तौर पर मजबूत बनाने के लिए शासन ने हर बुधवार को उन्हें दूध दिए जाने का आदेश जारी किया था। कुछ विद्यालयों में इसका पालन किया जाने लगा है तो कुछ विद्यालयों का स्टाफ अपनी जिम्मेदारी समझने का तैयार ही नहीं हैं और दूध का वितरण नहीं कर रहा है। बच्चों की सेहत सुधारने को शासन ने हर बच्चे को फल दिए जाने का आदेश दिया था, लेकिन विभाग को प्राप्त न होने की वजह से कुछ स्पष्ट नहीं था। अब विभाग को संबंधित निर्देश प्राप्त हो गए हैं। जिसके अंतर्गत बच्चों को अमरूद, केला, सेब, नाशपाती, चीकू, आंड़ू, संतरा, शरीफा आदि मौसमी व ताजे फलों का वितरण किया जाएगा। रविवार के अवकाश के बाद सोमवार के दिन बच्चों को विद्यालय की ओर आकर्षित करने की वजह से सोमवार के दिन का चयन किया गया है। विद्यालय पहुंचते ही बच्चों को फलों का वितरण कर दिया जाएगा, जिससे उन्हें पर्याप्त कैलोरी मिल सकेगी। विद्यालय में फलों को व्यवस्थित रुप से रखा जाएगा। छोटे आकार का फल होने पर फल की संख्या बढ़ाई जाएगी। एसएमसी के सदस्य भी इस दौरान उपस्थित रहेंगे। परिवर्तन लागत की तरह फल मद में धनराशि भेजी जाएगी। एमडीएम योजना की जिला समन्वयक हिना खान ने बताया कि निर्देश प्राप्त हो गए हैं। ग्रीष्मावकाश के बाद फलों का वितरण कराया जाएगा।कटे फलों का नहीं होगा वितरण, किसी भी प्रकार के संक्रामक रोग से बचाने के लिए बच्चों को कटे फल जैसे पपीता, तरबूज, खरबूज का वितरण नहीं किया जाएगा। साथ ही सड़े-गले फलों का वितरण नहीं होगा।

No comments:
Write comments