DISTRICT WISE NEWS

अंबेडकरनगर अमरोहा अमेठी अलीगढ़ आगरा आजमगढ़ इटावा इलाहाबाद उन्नाव एटा औरैया कन्नौज कानपुर कानपुर देहात कानपुर नगर कासगंज कुशीनगर कौशांबी कौशाम्बी गाजियाबाद गाजीपुर गोंडा गोण्डा गोरखपुर गौतमबुद्ध नगर गौतमबुद्धनगर चंदौली चन्दौली चित्रकूट जालौन जौनपुर ज्योतिबा फुले नगर झाँसी झांसी देवरिया पीलीभीत फतेहपुर फर्रुखाबाद फिरोजाबाद फैजाबाद बदायूं बरेली बलरामपुर बलिया बस्ती बहराइच बागपत बाँदा बांदा बाराबंकी बिजनौर बुलंदशहर बुलन्दशहर भदोही मऊ मथुरा महराजगंज महोबा मिर्जापुर मीरजापुर मुजफ्फरनगर मुरादाबाद मेरठ मैनपुरी रामपुर रायबरेली लखनऊ लख़नऊ लखीमपुर खीरी ललितपुर वाराणसी शामली शाहजहाँपुर श्रावस्ती संतकबीरनगर संभल सहारनपुर सिद्धार्थनगर सीतापुर सुलतानपुर सुल्तानपुर सोनभद्र हमीरपुर हरदोई हाथरस हापुड़
Showing posts with label प्रदर्शन. Show all posts
Showing posts with label प्रदर्शन. Show all posts

Wednesday, November 18, 2020

बेसिक शिक्षा विभाग की 4000 उर्दू शिक्षकों की भर्ती में देरी के खिलाफ प्रदर्शन

बेसिक शिक्षा विभाग की 4000 उर्दू शिक्षकों की भर्ती में देरी के खिलाफ प्रदर्शन


अंबेडकरनगर। उर्दू शिक्षकों की भर्ती में लापरवाही बरते जाने का आरोप लगाते हुए मंगलवार को पीस पार्टी कार्यकर्ताओं ने कलेक्ट्रेट के निकट प्रदर्शन किया। कहा गया कि 4 हजार उर्दू शिक्षकों की भर्ती होनी थी, लेकिन शासन द्वारा जानबूझकर भर्ती प्रक्रिया को आगे नहीं बढ़ाया जा रहा है। इससे उर्दू शिक्षक बनने की उम्मीद लगाए युवक-युवतियों को तगड़ा झटका लगा है। चेतावनी देते हुए कहा गया कि यदि शीघ्र ही भर्ती प्रक्रिया नहीं शुरू की गई, तो कलेक्ट्रेट के निकट अनिश्चितकालीन धरना शुरू किया जाएगा।


जिलाध्यक्ष अफजाल अंसारी ने कहा कि प्रदेश में 4 हजार उर्दू शिक्षकों की भर्ती होनी थी। युवाओं ने इसके लिए आवेदन भी किया। इसके बाद से भर्ती प्रक्रिया आगे नहीं बढ़ सकी। आरोप लगाते हुए कहा कि शासन जानबूझकर भर्ती प्रक्रिया में विलंब कर रहा है। प्रदेश सरकार पर भेदभाव का आरोप लगाते हुए कहा कि इस प्रकार की उपेक्षा कतई बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। भाजपा ने सबका साथ, सबका विकास नारा दिया था, इसे अब भूल रही है।
अल्पसंख्यकों की लगातार उपेक्षा की जा रही है। उनके हित की अनदेखी की जा रही है। इसे कतई बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। मांग करते हुए कहा कि उर्दू शिक्षकों की भर्ती प्रक्रिया को अविलंब शुरू किया जाए। 


वक्ताओं ने कहा कि भर्ती प्रक्रिया न शुरू होने से बड़ी संख्या में बेरोजगार युवक युवतियां को तगड़ा झटका लगा है। कहा कि वर्ष 2016 में इसे लेकर राष्ट्रीय आह्वान पर पीस पार्टी कार्यकर्ताओं ने 56 दिन का धरना दिया था।


उस समय भर्ती प्रक्रिया शीघ्र शुरू करने का आश्वासन दिया गया था, लेकिन अब तक नहीं शुरू हो सकी। चेतावनी देते हुए कहा गया कि यदि शीघ्र ही भर्ती प्रक्रिया नहीं शुरू की गई, तो कलेक्ट्रेट के निकट अनिश्चितकालीन धरना दिया जाएगा। बाद में राज्यपाल को संबोधित शिकायतीपत्र नायब तहसीलदार को सौंपा गया। इस दौरान हाजी वलीउल्लाह, गुलाम रसूल, मोहम्मद अख्तर, हाजी मुनीर, धर्मदेव, सरदार आलम आदि मौजूद रहे।

Friday, October 30, 2020

संविदा खत्म करने के विरोध में कस्तूरबा विद्यालय के शिक्षकों का धरना प्रदर्शन

संविदा खत्म करने के विरोध में कस्तूरबा विद्यालय के शिक्षकों का धरना प्रदर्शन

 
लखनऊ। कस्तूरबा गांधी बालिका विद्यालय इम्प्लॉइज वेलफेयर एसोसिएशन ने संविदा समाप्ति के विरोध में गुरुवार को शिक्षा निदेशालय पर धरना प्रदर्शन किया गया।


संगठन के सुनील तिवारी ने बताया कि 2005 से सेवारत संविदा कर्मी शिक्षक/ शिक्षिका ओ की संविदा सितंबर 2020 में जारी एक आदेश के आधार पर खत्म की जा रही है। इसके विरोध में बीते दिनों आमरण अनशन किया गया। प्रदर्शन के दौरान उच्च अधिकारियों नेशिक्षकों की समस्याओं को दूर करने का आश्वासन दिया था। लेकिन अभी तक कोई कार्रवाई नहीं की गई है। 26 अक्टूबर से दोबारा धरना पर बैठ गए हैं।

Wednesday, October 28, 2020

69000 शिक्षक भर्ती में नियुक्ति न मिलने के विरोध में निकाला प्रोटेस्ट मार्च

69000 शिक्षक भर्ती में नियुक्ति न मिलने के विरोध में निकाला प्रोटेस्ट मार्च


परिषदीय विद्यालयों में सहायक अध्यापकों के 69000 पदों के सापेक्ष 31277 सहायक अध्यापकों की भर्ती प्रक्रिया के विरोध में अभ्यर्थी लामबंद हो गए हैं। मंगलवार को अभ्यर्थियों ने चंद्रशेखर आजाद पार्क में बैठक की।

उसके बाद वहां से कलेक्ट्रेट तक मार्च निकाला और मुख्यमंत्री को संबोधित ज्ञापन एडीएम को सौंपा। उसके बाद वह प्रदेश सरकार के विरोध में नारेबाजी करते हुए शिक्षा निदेशालय पहुंचे और उप सचिव या भूषण चतुर्वेदी को ज्ञापन । उनकी मांग है कि उन्हें जल्द से जल्द नियुक्ति दी जाए। इस मौके पर दिनेश सिंह यादव, रवींद्र यादव, बढ्री प्रसाद शुक्ल, अभेंद्र, विकास मिश्र आदि मौजूद रहे।

Thursday, October 22, 2020

69000 भर्ती आवेदन में त्रुटि संशोधन की मांग को लेकर तीसरे दिन धरना, झाड़ू लगा कर की गांधीगिरी

69000 भर्ती आवेदन में त्रुटि संशोधन की मांग को लेकर तीसरे दिन धरना, झाड़ू लगा कर की गांधीगिरी


स्कूली शिक्षा महानिदेशक से आश्वासन मिलने के बाद भी संतुष्ट नहीं अभ्यर्थी
 
प्राइमरी स्कूलों में 69000 सहायक अध्यापक भर्ती के आवेदन में त्रुटि संशोधन की मांग को लेकर अभ्यर्थियों ने बुधवार को लगातार तीसरे दिन बेसिक शिक्षा परिषद कार्यालय के बाहर धरना दिया। अपनी मांगों के समर्थन में अभ्यर्थियों ने परिसर में झाड़ू लगाकर गांधीगिरि भी की।


हालांकि उनसे मिलने कोई अधिकारी नहीं पहुंचा। वाराणसी से धरने में पहुंची एक अभ्यर्थी शालिनी पांडेय फूट-फूटकर रोने लगी। 31277 अभ्यर्थियों की सूची में शामिल शालिनी ने वाराणसी में काउंसिलिंग करा ली है लेकिन प्राप्तांक के कॉलम में 825 की जगह 835 लिखा होने के कारण उसे नियुक्ति पत्र देने से मना कर दिया गया है।


अभ्यर्थियों का कहना है कि महानिदेशक स्कूली शिक्षा विजय किरन आनंद ने मंगलवार को पांच सदस्यीय प्रतिनिधिमंडल से लखनऊ में मुलाकात की थी लेकिन त्रुटि संशोधन को लेकर कोई ठोस पहल नहीं हो रही। दूसरी ओर शासन ने 31277 की लिस्ट में शामिल अभ्यर्थियों को नियुक्ति पत्र जारी करने का आदेश भी बुधवार को दे दिया है। ऐसे में मामूली त्रुटि के कारण हाई मेरिट वाले सैकड़ों अभ्यर्थी बाहर हो रहे हैं। पुलिस की चेतावनी के कारण अभ्यर्थियों ने प्रतिदिन सुबह 10 से शाम 5 बजे तक धरना देने का निर्णय लिया है।

Wednesday, October 21, 2020

त्रुटि संशोधन को लेकर चल रहा धरना समाप्त, 5 अभ्यर्थियों का प्रतिनिधि मण्डल महानिदेशक स्कूली शिक्षा से मिलने के लिए रवाना

त्रुटि संशोधन को लेकर चल रहा धरना समाप्त, 5 अभ्यर्थियों का प्रतिनिधि मण्डल महानिदेशक स्कूली शिक्षा से मिलने के लिए रवाना


परिषदीय प्राथमिक स्कूलों में 69000 शिक्षक भर्ती के आवेदन में त्रुटि संशोधन की मांग लेकर पांच अभ्यर्थियों का प्रतिनिधमंडल मंगलवार दोपहर महानिदेशक स्कूली शिक्षा विजय किरन आनंद से मुलाकात करने लखनऊ रवाना हो गया। फोर्स के दबाव और अफसरों के आश्वासन के बाद सोमवार रात तकरीबन 10.30 बजे अभ्यर्थियों ने धरना समाप्त किया था।


मंगलवार सुबह 11 बजे फिर दर्जनों महिलाओं समेत बड़ी संख्या में अभ्यर्थी शिक्षा निदेशालय स्थित बेसिक शिक्षा परिषद कार्यालय के बाहर धरने पर बैठ गए। उसके बाद उप सचिव अनिल कुमार ने मौके पर पहुंचकर पांच अभ्यर्थियों का नाम मांगा और उन्हें लखनऊ महानिदेशक से मुलाकात करने के लिए भेज दिया। उसके बाद लगभग एक बजे धरना समाप्त हो गया।


 आजमगढ़ के आशीष त्रिपाठी, रायबरेली के हिमांशु पांडेय और उन्नाव की बबली पाल समेत पांच लोग लखनऊ गए हैं। अभ्यर्थियों का कहना है कि हाईकोर्ट से लेकर सुप्रीम कोर्ट तक ने आवेदन में त्रुटि सुधार के आदेश दिए हैं। इसके बावजूद बेसिक शिक्षा परिषद के अफसर सुनने को तैयार नहीं है। दूसरी तरफ 31277 अभ्यर्थियों की लिस्ट निकालकर नियुक्ति पत्र भी जारी कर दिया, जो सरासर उनके साथ अन्याय है।


प्रयागराज : शिक्षा निदेशालय के बाहर धरना-प्रदर्शन और पुलिस से नोकझोंक करने के मामले में सिविल लाइंस पुलिस ने 125 अभ्यर्थियों के खिलाफ मुकदमा कायम किया है। एफआइआर उपनिरीक्षक शमी आलम की तहरीर पर दर्ज की गई है। पुलिस का कहना है कि शिक्षक भर्ती में अपनी मांगों को लेकर सोमवार को आरके गौतम की अगुवाई में करीब सवा सौ अभ्यर्थी शिक्षा निदेशालय के बाहर धरना-प्रदर्शन कर रहे थे। अभ्यर्थी रात में भी धरना दे रहे थे। पुलिसकर्मियों ने जब उन्हें समझाते हुए धरना समाप्त करने के लिए कहा तो अभ्यर्थी उनसे उलझ गए। इंस्पेक्टर सिविल लाइंस र¨वद्र प्रताप सिंह का कहना है कि 125 अभ्यर्थियों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कर विवेचना की जा रही है।

Tuesday, October 20, 2020

69000 भर्ती : त्रुटि संशोधन के लिए घेरा परिषद मुख्यालय, नहीं हुआ अब तक आदेश

69000 भर्ती :  त्रुटि संशोधन के लिए घेरा परिषद मुख्यालय, नहीं हुआ अब तक आदेश
 

प्रयागराज : परिषदीय स्कूलों की 69000 सहायक अध्यापक भर्ती का विवाद थम नहीं रहा है। लिखित परीक्षा के आवेदन फार्म में संशोधन की मांग को लेकर अभ्यर्थियों ने सोमवार को परिषद मुख्यालय का घेराव किया। उनका कहना है कि परिषद सचिव ने वादे के मुताबिक दो दिन बाद भी निर्देश जारी नहीं किया है। देर रात तक अभ्यर्थी परिसर में ही जमे रहे और पुलिस के समझाने पर भी वहां से जाने का तैयार नहीं हुए।


ज्ञात हो कि न्याय मोर्चा के अमर बहादुर गौतम ने 16 अक्टूबर से जो 69 घंटे की भूख हड़ताल पर शुरू की थी। उनकी मांग थी कि आनलाइन आवेदन में संशोधन का मौका दिया जाए। शनिवार को बेसिक शिक्षा परिषद सचिव ने आश्वासन दिया था कि वे आवेदन फार्म में त्रुटि करने वाले सभी अभ्यíथयों को संशोधन का मौका देंगे, लेकिन सोमवार तक सचिव की ओर से कोई भी लिखित आदेश जारी हुआ तो कई जिलों के अभ्यर्थियों ने परिषद मुख्यालय पर पहुंचकर आंदोलन शुरू कर दिया है। 


सोमवार को हजारों अभ्यर्थी त्रुटि सुधार के लिए परिषद के प्रांगण में ही आंदोलन कर रहे हैं, कुछ लोग भूख हड़ताल पर भी बैठे हुए हैं उनकी मांग है कि संशोधन का मौका भूख हड़ताल जारी रखेंगे। यहां लखनऊ की प्रीति कुमारी, रायबरेली की सरस्वती, बागपत की पूजा वर्मा, गाजीपुर की रीना चौहान, अयोध्या की रीता, चित्रकूट की सोनम, आगरा के राजमणि आदि रहे।

नई शिक्षक भर्ती की मांग को लेकर सड़क पर उतरे डीएलएड प्रशिक्षु

नई शिक्षक भर्ती की मांग को लेकर सड़क पर उतरे डीएलएड प्रशिक्षु

 
प्रयागराज। डीएलएड 2017 बैच के प्रशिक्षुओं ने प्राथमिक विद्यालयों के लिए नई शिक्षक भर्ती की मांग को लेकर सोमवार को मुख्यमंत्री को संबोधित ज्ञापन जिलाधिकारी को सौंपा।


डीएलएड प्रशिक्षुओं का कहना हे कि 2018 के बाद से कोई शिक्षक भर्ती घोषित नहीं की गई। ऐसे में डीएलएड पास करने बाद से 2017 बैच के दो लाख प्रशिक्षु बेकार बैठे हैं। उनका कहना था कि हम सभी उत्तर प्रदेश शिक्षक पात्रता परीक्षा और केंद्रीय शिक्षक पात्रता परीक्षा पास कर चुके हैं। ऐसे में सरकार तत्काल शिक्षक भर्ती की घोषणा करे।

Saturday, October 17, 2020

बीटीसी/डीएलएड प्रशिक्षुओं पर लाठी, बेसिक शिक्षा निदेशालय का घेराव करने पहुंचे थे प्रशिक्षु

बीटीसी/डीएलएड प्रशिक्षुओं पर लाठी, बेसिक शिक्षा निदेशालय का घेराव करने पहुंचे थे प्रशिक्षु

 
लखनऊ : बीएलएड और बीटीसी प्रशिक्षुओं को प्रमोट करने की मांग को लेकर बेसिक शिक्षा निदेशालय का घेराव करने पहुंचे प्रशिक्षुओं को शुक्रवार रात पुलिस ने दौड़ा-दौड़कर पीटा।


पुलिस की लाठी से बचने के लिए कोई गलियों में घुसा तो कोई दुकानों में। पुलिस ने वहां से भी उनको पीटकर खदेड़ दिया। आरोप है कि लाठीचार्ज में महिला प्रशिक्षुओं के कपड़े फट गए। प्रशिक्षु घायल हो गए उन्हें अस्पताल ले जाया गया।


 ईको गार्डेन में 12 अक्टूबर से प्रमोशन की मांग को लेकर धरने पर बैठे बीएलएड और बीटीसी की महिला और पुरुष प्रशिक्षु शुक्रवार रात टुकड़ों में वहां से निकलकर निशातगंज स्थित बेसिक शिक्षा निदेशालय पहुंचे। यहां डीएलएड संयुक्त प्रशिक्षु मोर्चा संघ के प्रदेश अध्यक्ष रजत सिंह की अगुआाई में सभी नारेबाजी कर रहे थे। महानगर समेत कई थानों की पुलिस मौके पर पहुंच गई। 


पुलिस ने प्रशिक्षुओं को हटाने का प्रयास किया तो उनकी नोकझोंक शुरू हो गई। आरोप है कि पुलिस ने प्रशिक्षुओं पर लाठीचार्ज कर दिया। महिला और पुरुष प्रशिक्षु भागे तो पुलिस ने उन्हें दौड़ा-दौड़ाकर पीटा। इसमें अंकित पटेल, राजेश, मीनाक्षी समेत 10-12 प्रशिक्षु घायल हो गए। मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष रजत सिंह का आरोप है कि पुलिस ने उनके मोबाइल भी छीन लिए।

Tuesday, October 13, 2020

डीएलएड 2017 एवं 2018 तृतीय सेमेस्टर के अभ्यर्थियों ने प्रोन्नत की मांग को लेकर शिक्षामंत्री के आवास पर किया प्रदर्शन

डीएलएड 2017 एवं 2018 तृतीय सेमेस्टर के अभ्यर्थियों ने प्रोन्नत की मांग को लेकर शिक्षामंत्री के आवास पर किया प्रदर्शन।

लखनऊ :  डीएलएड-2017 और 2018 तृतीय सेमेस्टर के प्रशिक्षुओं ने सोमवार को प्रोन्नत करने की मांग को लेकर बेसिक शिक्षा राज्यमंत्री सतीश चंद्र द्विवेदी के लालबाग स्थित आवास पर नारेबाजी कर प्रदर्शन किया।

 पहले पुलिस ने उन्हें हटाया फिर बसों में बैठकर दूर ले जाकर छोड़ दिया। प्रशिक्षुओं का कहना है कि सेमेस्टर परीक्षा 26 से 28 मार्च 2020 को प्रस्तावित थी, लेकिन लॉकडाउन के चलते रोक दी गई। अब डीएलएड दो वर्षीय प्रशिक्षण 5 जुलाई 2020 को पूरा हो गया है, लेकिन तृतीय सेमेस्टर की परीक्षाएं नहीं हुई। 

डीएलएड -2018 के तृतीय सेमेस्टर और 2019 के प्रथम सेमेस्टर के प्रशिक्षुओं को विसंगतिपूर्ण प्रोन्नति से कई अभ्यर्थियों का साल खराब हो जाएगा। 2018 बैच के जिन प्रशिक्षुओं के प्रथम और द्वितीय सेमेस्टर में एक या दो विषय में बैक लगा था उन्हें प्रोन्नत नहीं किया गया है। प्रोन्नत नहीं होने वाले प्रशिक्षुओं को तृतीय सेमेस्टर के सभी विषयों की परीक्षा देनी होगी। इसलिए बिना शर्त सभी को प्रोन्नत किया जाए।

Sunday, October 11, 2020

कक्षोन्नति पाने को डीएलएड प्रशिक्षुओं ने किया प्रदर्शन, बैक पेपर वालों को एक सेमेस्टर पीछे करने का आरोप, कक्षोन्नति समान रूप से करने की मांग

कक्षोन्नति पाने को डीएलएड प्रशिक्षुओं ने किया प्रदर्शन, बैक पेपर वालों को एक सेमेस्टर पीछे करने का आरोप, कक्षोन्नति समान रूप से करने की मांग

 
प्रयागराज : डीएलएड प्रशिक्षुओं को कक्षोन्नति देने के आदेश के दूसरे ही दिन शनिवार को बड़ी संख्या में प्रशिक्षुओं ने प्रदर्शन किया। उनकी मांग है कि कक्षोन्नति का आदेश समान रूप से लागू हो। 2018 सेमेस्टर के पहले व दूसरे सेमेस्टर में जिनका बैक पेपर आया है, वे एक सेमेस्टर पीछे हो रहे हैं। परीक्षा संस्था ने सितंबर में इम्तिहान नहीं कराया। युवा मंच ने प्रशासन के माध्यम से मुख्यमंत्री को ज्ञापन भेजा है साथ ही अल्टीमेटम दिया है कि 72 घंटे में निर्णय न होने पर बड़ा आंदोलन होगा।


प्रयागराज के बालसन चौराहे पर डीएलएड 2018 तृतीय सेमेस्टर के प्रशिक्षु एकजुट हुए। उनकी मांग है कि सभी की चतुर्थ सेमेस्टर की परीक्षा कराई जाए, जबकि बैक पेपर वालों को पहले तीसरे सेमेस्टर का इम्तिहान देना होगा और बाद में चौथे सेमेस्टर की परीक्षा होगी। शासन ने साढ़े तीन लाख से अधिक को प्रोन्नति देने का निर्देश दिया था, जबकि कक्षोन्नति सिर्फ ढाई लाख से अधिक को ही मिल सकी है। 


प्रशिक्षुओं ने प्रदर्शन के बाद एसडीएम सदर को सौंपा। परीक्षा संस्था 80 हजार प्रशिक्षुओं से भेदभाव कर रही है। प्रमोट करने में विसंगतियों को दूर कर किया जाए। युवा मंच के अध्यक्ष अनिल सिंह, सतेन्द्र सिंह सीटू ने कहा कि चतुर्थ सेमेस्टर की परीक्षा के साथ ही बैक पेपर कराने में किसी तरह का कोई समस्या नहीं है फिर भी बैक पेपर वाले सभी प्रशिक्षुओं को परेशान किया जा रहा है।

Saturday, October 10, 2020

संविदा समाप्ति के विरोध में कस्तूरबा गांधी की शिक्षिकाओं का प्रदर्शन

संविदा समाप्ति के विरोध में कस्तूरबा गांधी की शिक्षिकाओं का प्रदर्शन


संविदा समाप्त किए जाने को लेकर आंदोलनरत कस्तूरबा गांधी आवासीय बालिका विद्यालय के शिक्षक- शिक्षिकाओं ने रविवार को भी हजरतगंज स्थित गांधी प्रतिमा पर प्रदर्शन करने की कोशिश की। पुलिस ने इन शिक्षिकाओं को हिरासत में लेकर ईको गार्डेन भेज दिया।


शिक्षिकाओं ने बताया कि एक शासनादेश के जरिए 2006 से सेवारत संविदा शिक्षक व शिक्षाकाओं की संविदा समाप्त की जा रही है। महामारी के दौर ने संविदा समाप्त करने से शिक्षक सड़क पर आ जाएंगे।

 
संविदा समाप्ति के विरोध में कस्तूरबा गांधी आवासीय बालिका विद्यालय की शिक्षिकाओं ने शुक्रवार को भी हजरतगंज स्थित गांधी प्रतिमा पर प्रदर्शन किया। पुलिस ने शिक्षिकाओं को हिरासत में लेकर ईको गार्डेन भेज दिया। 


यहां भी शिक्षिकाओं ने अपना विरोध जारी रखा। प्रदर्शन के दौरान कई जिलों से आई शिक्षक शामिल रही। शिक्षिकाओं ने बताया कि उन्होंने इन विद्यालयों की शुरुआत की है। घर-घर जाकर लड़कियों को अपने भरोसे पर पढ़ने के लिए विद्यालयों में जाए। अब एक शासनादेश के जरिए 2006 से सेवारत संविदा शिक्षक व शिक्षाकाओं की संविदा समाप्त की जा रही है। शिक्षिका आशा ने बताया कि महामारी के दौर ने संविदा समाप्त करने से शिक्षक सड़क पर आ जाएंगे।

Wednesday, October 7, 2020

69000 शिक्षक भर्ती : त्रुटि सुधारने का मौका देने की मांग को लेकर शिक्षामित्रों ने दिया धरना

69000 शिक्षक भर्ती : त्रुटि सुधारने का मौका देने की मांग को लेकर शिक्षामित्रों ने दिया धरना

 
69 हजार सहायक अध्यापक भर्ती में आवेदन पत्र में हुई त्रुटि के कारण चयन से वंचित रह रहे शिक्षा मित्रों ने बेसिक शिक्षा निदेशालय पर धरना प्रदर्शन किया। शिक्षामित्रों ने निदेशक सवेंद्र विक्रम सिंह और महानिदेशक विजय किरन आनंद से मौका देने की मांग की।


शिक्षामित्रों ने बताया कि 69 हजार सहायक अध्यापक भर्ती में शिक्षामित्रों ने 65 प्रतिशत से अधिक अंक प्राप्त कर परीक्षा उत्तीर्ण की। नियमानुसार उन्हें अधिकतम 25 भारांक का लाभ मिलना चाहिए। लेकिन परीक्षा के आवेदन पत्र में त्रुटिवश विशिष्ट बीटीसी की जगह बीटीसी फीड होने से उन्हें शिक्षा मित्रों को मिलने वाले भारांक से वंचित किया जा रहा है।


शिक्षामित्रों ने त्रुटि सुधार का मौका देने की मांग की। प्रदर्शन करने वालों में टेट पास शिक्षा मित्र संघ के अध्यक्ष अभय कुमार सिंह, अनुभा वर्मा, शशि वर्मा, देवेश त्रिपाठी और रागिनी सिंह शामिल थे।

Tuesday, June 16, 2020

69000 सहायक अध्यापक भर्ती : फॉर्म में संशोधन के लिए अभ्यर्थियों ने मांगा मौका

69000 सहायक अध्यापक भर्ती : फॉर्म में संशोधन के लिए अभ्यर्थियों ने मांगा मौका


प्रयागराज। परिषदीय प्राथमिक विद्यालयों में 69000 सहायक अध्यापक भर्ती के फॉर्म में पूर्णांक प्राप्तांक समेत अन्य गलतियां करने वाले अभ्यर्थियों ने सोमवार को बेसिक शिक्षा परिषद कार्यालय के बाहर प्रदर्शन किया।


 अभ्यर्थियों का कहना है कि सर्वर की खराबी, कैफे वाले की कम जानकारी और स्वयं की मानवीय त्रुटि के कारण पूर्णांक, प्राप्तांक, रोल नंबर व कैटेगरी आदि में गलती हो गई। अब इन अभ्यर्थियों को भर्ती प्रक्रिया से बाहर किया जा रहा है। 

Thursday, February 13, 2020

फतेहपुर : नवनियुक्त शिक्षकों को नियुक्ति के बाद 16 माह का वेतन भुगतान न होने से जताई नाराजगी, कलेक्ट्रेट में किया प्रदर्शन

फतेहपुर : नवनियुक्त शिक्षकों को नियुक्ति के बाद 16 माह का वेतन भुगतान न होने से जताई नाराजगी, कलेक्ट्रेट में किया प्रदर्शन।




 व्हाट्सप के जरिये जुड़ने के लिए क्लिक करें।

Friday, February 7, 2020

माध्यमिक : लंबित मांगो को लेकर शिक्षकों ने निदेशालय पर किया प्रदर्शन

माध्यमिक : लंबित मांगो को लेकर शिक्षकों ने निदेशालय पर किया प्रदर्शन।










 व्हाट्सप के जरिये जुड़ने के लिए क्लिक करें।

Thursday, December 19, 2019

माध्यमिक : वित्तविहीन शिक्षकों ने किया प्रदर्शन, मांगा 25 हजार रुपए मानदेय

माध्यमिक : वित्तविहीन शिक्षकों ने किया प्रदर्शन, मांगा 25 हजार रुपए मानदेय।












 व्हाट्सप के जरिये जुड़ने के लिए क्लिक करें।

Thursday, October 17, 2019

तदर्थ प्रधानाचार्यों को नियमित करने की मांग, प्रदर्शन, नारेबाजी कर चतुर्थ कर्मचारियों की नियुक्ति खोलने की भी की मांग


तदर्थ प्रधानाचार्यों को नियमित करने की मांग, प्रदर्शन, नारेबाजी कर चतुर्थ कर्मचारियों की नियुक्ति खोलने की भी की मांग।





 व्हाट्सप के जरिये जुड़ने के लिए क्लिक करें।

Friday, October 11, 2019

पुरानी पेंशन बहाली को शिक्षकों ने जलाई मशाल, सरकार के खिलाफ आंदोलन का ऐलान, छह नवम्बर को लखनऊ की सड़कों पर होगा विशाल प्रदर्शन

पुरानी पेंशन बहाली को शिक्षकों ने जलाई मशाल, सरकार के खिलाफ आंदोलन का ऐलान, छह नवम्बर को लखनऊ की सड़कों पर होगा विशाल प्रदर्शन।








 व्हाट्सप के जरिये जुड़ने के लिए क्लिक करें।

Tuesday, June 25, 2019

सहायता प्राप्त माध्यमिक विद्यालयों के शिक्षकों ने घेरा निदेशालय, शिक्षकों के स्थानांतरण पर निर्णय नहीं होने से आक्रोशित शिक्षक संघ

सहायता प्राप्त माध्यमिक विद्यालयों के शिक्षकों ने घेरा निदेशालय, शिक्षकों के स्थानांतरण पर निर्णय नहीं होने से  आक्रोशित शिक्षक संघ।







 व्हाट्सप के जरिये जुड़ने के लिए क्लिक करें।

Thursday, February 21, 2019

प्राथमिक विद्यालयों में सहायक अध्यापक पद पर बहाल किए जाने हेतु विधानसभा जा रहे शिक्षामित्रों को पुलिस ने रोका, शिक्षामित्रों ने किया हंगामा, 10 महीने से दे रहे हैं धरना, सरकार की उपेक्षा से हैं नाराज


प्राथमिक विद्यालयों में सहायक अध्यापक पद पर बहाल किए जाने हेतु विधानसभा जा रहे शिक्षामित्रों को पुलिस ने रोका, शिक्षामित्रों ने किया हंगामा।




सहायक अध्यापक पद पर बहाली की मांग को लेकर विधान भवन कूच के लिए निकले शिक्षामित्रों को पुलिस ने खदेड़ा


गांधी प्रतिमा पर शिक्षा मित्रों ने किया प्रदर्शन।
लखनऊ: आम शिक्षक शिक्षामित्र असोसिएशन उत्तर प्रदेश का धरना प्रदर्शन ईको गार्डन में 18 मई से लगातार चल रहा है। सिर के बाल मुंडवाने और तर्पण करने के बाद भी कोई सुनवाई न होने पर शिक्षामित्रों ने बुधवार को विधान भवन के लिए कूच कर दिया। ऐसे में विधानसभा मार्ग पर प्रदर्शन के लिए आमादा शिक्षामित्रों को प्रशासन ने खदेड़कर आवाजाही सामान्य करवाई।


असोसिएशन की प्रदेश अध्यक्ष उमा देवी के नेतृत्व में सहायक अध्यापक पद पर बहाली की मांग कर रहे शिक्षामित्रों ने दोपहर 12:30 बजे दारुलशफा से विधान भवन की ओर बढ़ने लगे। इस पर वहां तैनात पुलिस ने उन्हें हजरतगंज स्थित गांधी प्रतिमा परिसर में जाने को कहा। इस पर प्रदर्शनकारी हरजतगंज चौराहे से चारबाग जाने वाले मार्ग पर दोपहर 12:45 पर बैठ गए। ऐसे में 15 मिनट तक जाम लग गया। इस पर पुलिस ने हलका बल प्रयोग कर प्रदर्शनकारियों को गांधी प्रतिमा परिसर की ओर खदेड़ दिया। प्रदर्शनकारी सरकार विरोधी नारेबाजी कर गिरफ्तारी की मांग करने लगे। आखिरकार शाम 4 बजे प्रशासन ने सभी को सरकारी वाहन से ईको गार्डन रवाना कर दिया। आंदोलन में शामिल प्रमोद मणि ने बताया कि इस दौरान प्रदर्शनकारी सूचिता उपाध्याय की तबीयत भी खराब हो गई थी।