DISTRICT WISE NEWS

अंबेडकरनगर अमरोहा अमेठी अलीगढ़ आगरा आजमगढ़ इटावा इलाहाबाद उन्नाव एटा औरैया कन्नौज कानपुर कानपुर देहात कासगंज कुशीनगर कौशांबी गाजियाबाद गाजीपुर गोण्डा गोरखपुर गौतमबुद्धनगर चन्दौली चित्रकूट जालौन जौनपुर ज्योतिबा फुले नगर झाँसी देवरिया पीलीभीत फतेहपुर फर्रुखाबाद फिरोजाबाद फैजाबाद बदायूं बरेली बलरामपुर बलिया बस्ती बहराइच बागपत बाँदा बांदा बाराबंकी बिजनौर बुलंदशहर बुलन्दशहर भदोही मऊ मथुरा महराजगंज महोबा मीरजापुर मुजफ्फरनगर मुरादाबाद मेरठ मैनपुरी रामपुर रायबरेली लखनऊ लख़नऊ लखीमपुर खीरी ललितपुर वाराणसी शामली शाहजहाँपुर श्रावस्ती संतकबीरनगर संभल सहारनपुर सिद्धार्थनगर सीतापुर सुल्तानपुर सोनभद्र हमीरपुर हरदोई हाथरस हापुड़

Sunday, August 22, 2117

अब तक की सभी खबरें एक साथ एक जगह : प्राइमरी का मास्टर ● इन के साथ सभी जनपद स्तरीय अपडेट्स पढ़ें



स्क्रॉल करते जाएं और पढ़ते जाएं सभी खबरें एक ही जगह। जिस खबर को आप पूरा पढ़ना चाहें उसे क्लिक करके पढ़ सकते हैं।

    Monday, July 23, 2018

    कुशीनगर : अंग्रेजी माध्यम विद्यालयों में वर्ष 2017-18 और 2018-19 में हुए नामांकन का कक्षावार विवरण निर्धारित प्रारूप पर उपलब्ध कराने को सभी बीईओ को निर्देश जारी, देखें

    कुशीनगर : अंग्रेजी माध्यम विद्यालयों में वर्ष 2017-18 और 2018-19 में हुए नामांकन का कक्षावार विवरण निर्धारित प्रारूप पर उपलब्ध कराने को सभी बीईओ को निर्देश जारी, देखें।

    एनसीईआरटी की पुस्तकों में क्यूआर कोड की प्रक्रिया शुरू, शैक्षणिक सत्र-2019 से लागू करने की उम्मीद

    एनसीईआरटी की पुस्तकों में क्यूआर कोड की प्रक्रिया शुरू, शैक्षणिक सत्र-2019 से लागू करने की उम्मीद


    गोरखपुर : शिक्षकों के समायोजन को हरी झंडी, विद्यालय में मानक से ज्यादा नही होंगे शिक्षक

    शिक्षकों के समायोजन को हरी झंडी, विद्यालय में मानक से ज्यादा नही होंगे शिक्षक


    देवरिया : सरकारी स्कूल का नाम रख दिया इस्लामिया प्राइमरी स्कूल, डीएम ने बीएसए को दिए जांच के निर्देश, होगी सख्त कार्रवाई

    देवरिया : सरकारी स्कूल का नाम रख दिया इस्लामिया प्राइमरी स्कूल, डीएम ने बीएसए को दिए जांच के निर्देश, होगी सख्त कार्रवाई।

    फतेहपुर : दांदो में नही है स्कूल, नदी पार कर फतेहपुर जिले के स्कूलों में पढ़ने जाते हैं बच्चे

    फतेहपुर : दांदो में नही है स्कूल, नदी पार कर फतेहपुर जिले के स्कूलों में पढ़ने जाते हैं बच्चे।

    महराजगंज : जिले के अंदर समायोजन और पारस्परिक स्थानांतरण हेतु डीएम की अध्यक्षता में समिति गठित, शिक्षक-छात्र अनुपात निर्धारण में शिक्षामित्र की गिनती नहीं

    महराजगंज : बेसिक शिक्षा विभाग द्वारा लंबे समय बाद किए जाने वाले शिक्षकों के समायोजन/ पारस्परिक स्थानांतरण को लेकर तैयारी शुरू कर दी गई है। शासन ने जिले के अंदर स्थानांतरण को पूरा कराने के लिए डीएम की अध्यक्षता में समिति गठित की है। अधिकतम 40 व न्यूनतम 20 छात्र-छात्रओं पर एक शिक्षकों की तैनाती का निर्देश दिया गया है, यह भी कहा गया है कि जिस परिषदीय स्कूल में सरप्लस शिक्षक होंगे वहां से संख्या के आधार पर जूनियर शिक्षकों को हटाया जाएगा तथा उस विद्यालय पर किसी की तैनाती नहीं की जाएगा। बेसिक शिक्षा विभाग के सचिव ने बेसिक शिक्षा अधिकारी को पत्र भेजकर समायोजन/पारस्परिक स्थानांतरण की नीति जारी करते हुए पांच अगस्त तक समस्त कार्यवाही पूरा कराने का निर्देश दिया है। जिले में लगभग एक हजार से अधिक ऐसे शिक्षक है जिन्हें लंबे समय से जिले के अंदर होने वाले स्थानांतरण व समायोजन का इंतजार है। पिछले वर्ष ही यह प्रक्रिया शुरू हो रही थी मगर वह पूरी नहीं हो पाई। इस बार शासन ने 30 सितंबर 2017 के बच्चों के नामांकन के आधार पर पर प्रक्रिया प्रारंभ कराने के लिए समिति गठित किया है। डीएम की अध्यक्षता में गठित इस समिति में बीएसए सदस्य सचिव होंगे। डायट प्राचार्य द्वारा नामित एक सदस्य व मुख्यालय पर कार्यरत खंड शिक्षा अधिकारी को सदस्य के रूप में रखा गया है। नामांकित विद्यार्थियों की संख्या में शिक्षक छात्र अनुपात सिर्फ शिक्षकों पर ही लागू होंगे, शिक्षामित्रों को उसमें नहीं जोड़ा जाएगा।

    दिव्यांग,महिला व गंभीर बीमारी से ग्रसित शिक्षकों को नजदीकी विद्यालय में मिलेगी तैनाती

    समायोजन में जूनियर शिक्षकों को छोड़ना होगा विद्यालय1समायोजन में छात्र व शिक्षक के मानक को पूरा न करने वाले जूनियर शिक्षकों को विद्यालय छोड़ना होगा। प्राथमिक विद्यालय में प्रति शिक्षक अधिकतम 40 तो न्यूनतम 20 का मानक रखा गया है। समायोजन करने के दौरान समिति को इस बिंदु पर विशेष ध्यान देते हुए निर्णय लेना होगा। इस बात का भी ध्यान रखना होगा कि समायोजन में कोई विद्यालय एकल न हो जाए।


    स्थानांतरण व समायोजन प्रक्रिया पर चल रही कार्यवाही -बीएसए

    जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी जगदीश शुक्ल ने बताया कि जिले के अंदर पारस्परिक स्थानांतरण/ समायोजन का दिशा निर्देश जारी हो गया है। जल्द ही प्रक्रिया प्रारंभ होगी।सरप्लस विद्यालयों से शिक्षक हटाए जाएंगे मगर वहां तैनाती नहीं होगी।


    शिक्षा के नवाचार की प्रयोगशाला बन गया मऊ का बेसिक शिक्षा महोत्सव, दक्षता और प्रतिभा से अपने काम की छाप छोड़ने वाले शिक्षक नवाजे गए पुरस्कार और प्रोत्साहन से 


    मऊ : शहर के नगर पालिका कम्युनिटी हाल में बेसिक शिक्षा महोत्सव के दूसरे दिन अपनी दक्षता और प्रतिभा से देश और प्रदेश में अपने काम की छाप छोड़ने वाले व कई पुरस्कारों से नवाजे गए शिक्षकों ने अपनी सफलता की कहानी बयां करनी शुरू की तो हर हाथ तालियां बजाने को विवश हो जा रहा था। पावर प्वाइंट पर प्रस्तुति के जरिए प्राथमिक शिक्षा के द्रोणाचार्यों ने जहां पढ़ने-पढ़ाने की तरकीब के खजाने लुटाए, वहीं समूचा स्थल शिक्षा के नवाचारों की प्रयोगशाला में तब्दील हो गया। प्राइमरी को कान्वेंट से भी आगे निकाल देने के सपने को साकार करने वालों कहानी सुन और देख जिले के शिक्षकों ने भी मन ही मन बड़े बदलाव का संकल्प लिया। 



    ■ हजारों ने देखा प्राइमरी को कान्वेंट से आगे निकलने की कहानी 


    ■  रंगारंग प्रस्तुतियों के बीच बोलता रहा मेधावी शिक्षकों का काम




    बेसिक शिक्षा के निदेशक सर्वेंद्र विक्रम बहादुर सिंह ने बतौर मुख्य अतिथि बेहतर काम करने वाले शिक्षकों की सराहना की, और कहा कि शिक्षक आत्मविश्वास के साथ अपने कर्तव्य का निर्वहन करें तो कामयाबी का इतिहास स्वत: बनता चला जाएगा। एसएसए एवं एससीइआरटी के संयुक्त निदेशक अजय कुमार सिंह ने शिक्षक ठान लें तो हर प्राइमरी स्कूल कान्वेंट को कड़ी चुनौती दे सकते हैं। सहायक शिक्षा निदेशक बेसिक आजमगढ़ योगेंद्र प्रताप सिंह ने महोत्सव को सराहनीय कदम बताया और शिक्षकों से नवाचारों के अधिक से अधिक इस्तेमाल की अपील की। 



    एनसीईआरटी दिल्ली के प्रोफेसर बीपी सिंह ने स्कूल को बेहतर बनाने के टिप्स दिए। गोरखपुर के बेसिक शिक्षा अधिकारी बीएन सिंह ने शिक्षकों का उत्साहवर्धन किया। बीएसए मऊ ओपी त्रिपाठी ने कहा कि संकल्प सच्चा हो तो हर सपना पूरा होगा।प्राथमिक विद्यालय रहजनियां के बच्चों ने शानदार सांस्कृतिक प्रस्तुति से सबको मंत्रमुग्ध किया। 



    आइसीटी इनोवेटर्स ग्रुप मऊ के संयोजक एवं रकौली प्रावि के प्रधानाध्यापक ने अतिथियों का आभार व्यक्त किया। महोत्सव का संचालन अंजनी सिंह, अर¨वद पांडेय तथा सुनील सिंह ने संयुक्त रूप से किया। 



    इनकी प्रस्तुति रही सराहनीय : मेरठ से यतिका पुंडीर, हापुड़ से कोमल त्यागी, आजमगढ़ से प्रज्ञा राय, बुलंदशहर से फिरोज खान, सहारनपुर से विशाखा चौहान, मऊ से अंजनी कुमार सिंह, सुमित यादव, प्रवीण श्रीवास्तव, धर्मराज, अर¨वद सिंह आदि ने अपने नवाचारों की प्रस्तुति दी। 



    इस अवसर पर बीईओ राजेश चतुर्वेदी, चंद्रभूषण पांडेय, माधवेंद्र पांडेय, संजीव सिंह, डा.अजीत सिंह, लेखाधिकारी सर्वशिक्षा अभियान मनोज कुमार तिवारी, डीसी बालिका शिक्षा अखिलेश सिंह, डीसी अमित तिवारी, जिला व्यायाम शिक्षक सहेंद्र सिंह, मास्टर ट्रेनर आभा त्रिपाठी आदि उपस्थित थे।












    वित्त विहीन शिक्षकों का धरना 28 जुलाई को, समान वेतन और पुरानी पेंशन और निःशुल्क चिकित्सा सुविधा होगी मुख्य मांग

    वित्त विहीन शिक्षकों का धरना 28 जुलाई को, समान वेतन और पुरानी पेंशन और निःशुल्क चिकित्सा सुविधा होगी मुख्य मांग।


    देश भर के सभी विश्वविद्यालयों को उत्तर पुस्तिकाओं के पुनर्मूल्यांकन हेतु बनाने होंगे दिशा निर्देश

    देश भर के सभी विश्वविद्यालयों को उत्तर पुस्तिकाओं के पुनर्मूल्यांकन हेतु बनाने होंगे दिशा निर्देश।


    महराजगंज : परिषदीय विद्यालय में चलता मिला इस्लामिया स्कूल, बीएसए ने बीईओ को सौंपी पूरे प्रकरण के जांच करने की जिम्मेदारी

    महराजगंज : देवरिया में अभी प्राथमिक विद्यालयों को इस्लामिया स्कूल में तब्दील करने का मामला चल ही रहा था कि महराजगंज जिले के परतावल विकास खंड में स्थित जद्दू पिपरा में भी इसी तरह का मामला प्रकाश में आया है। गांव में स्थित स्कूल इस्लामिया प्राथमिक विद्यालय जद्दू पिपरा के नाम से जाना जाता है। यहां व्यवस्था का संचालन परिषदीय विद्यालयों की तरह है लेकिन यह स्कूल शुक्रवार को बंद रहता है और रविवार को पढ़ाई होती है। शुक्रवार को स्कूल खोलने को लेकर स्थानीय लोगों द्वारा कई बार संबंधित विभाग में शिकायत भी की गई लेकिन हर स्तर पर अनसुनी होने से यह विद्यालय मनमाने ढर्रे पर चल रहा है। वर्तमान में इस विद्यालय में 55 बच्चों का नामांकन है। बीएसए ने खंड शिक्षा अधिकारी परतावल को सौंपी जांच।55 बच्चे हैं नामांकित, शुक्रवार को होती छुट्टी। परंपरा व रूढ़ियां विद्यालय संचालन में बाधक नहीं बनेंगी। इस्लामिया प्राथमिक विद्यालय जद्दू पिपरा का मामला संज्ञान में आया है। पूरे प्रकरण की जांच कराई जाएगी। नियमानुसार विद्यालय का संचालन सुनिश्चित किया जाएगा।


    लखनऊ : आरटीई : स्कूल मनमानी ओर उतारू, विभाग फिलहाल नोटिस देने तक सीमित, 12 हजार बच्चों में से 8 हजार को दाखिला नही

     स्कूल मनमानी ओर उतारू, विभाग फिलहाल नोटिस देने तक सीमित, 12 हजार बच्चों में से 8 हजार को दाखिला नही

    सीतापुर : समायोजन से पूरी होगी शिक्षकों की मुराद, शासन ने 5 अगस्त तक प्रक्रिया पूर्ण करने के दिए निर्देश

    सीतापुर : समायोजन से पूरी होगी शिक्षकों की मुराद, शासन ने 5 अगस्त तक प्रक्रिया पूर्ण करने के दिए निर्देश।

    विश्वविद्यालय अधिनियम में संशोधन के लिए सरकार को सौंपी रिपोर्ट, राज्य विश्वविद्यालय रोकें शिक्षकों की भर्तियां : राज्यपाल

    बोले राज्यपाल

    राज्य ब्यूरो, लखनऊ : विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (यूजीसी) के निर्देश के बावजूद कुछ राज्य विश्वविद्यालयों द्वारा शिक्षकों की भर्ती प्रक्रिया जारी रखने को राज्यपाल राम नाईक ने अनुचित बताया है। उन्होंने कहा कि भले ही राज्य विश्वविद्यालय स्वायत्तशासी शिक्षण संस्थान हैं लेकिन, यदि यूजीसी और केंद्र सरकार के मानव संसाधन विकास मंत्रलय की ऐसी मंशा है तो उन्हें शिक्षकों की भर्तियां अग्रिम आदेश तक रोक देनी चाहिए। उन्होंने कहा कि यदि यूजीसी के निर्देश के बाद भी राज्य विश्वविद्यालयों में शिक्षकों की भर्तियां जारी हैं तो मैं इसकी जांच कराऊंगा।

    नाईक रविवार को राज्यपाल के तौर पर अपने चार साल का कार्यकाल पूरा होने पर राजभवन में मीडिया से रूबरू थे। वह राज्य विश्वविद्यालयों के कुलाधिपति भी हैं। विश्वविद्यालयों में अनुसूचित जाति/जनजाति के शिक्षकों के आरक्षण की मौजूदा व्यवस्था में बदलाव को लेकर केंद्र सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में विशेष अनुमति याचिका दाखिल की है। इसके मद्देनजर यूजीसी ने सभी केंद्रीय और राज्य विश्वविद्यालयों को मौजूदा व्यवस्था के तहत हो रहीं शिक्षकों की भर्तियां रोकने के लिए कहा है। यूजीसी के निर्देश के बावजूद प्रदेश के कुछ राज्य विश्वविद्यालय भर्ती प्रक्रिया जारी रखे हैं जिस पर राज्यपाल से सवाल हुआ था।

    भगवाकरण से मेरा सरोकार नहीं : राज्य विश्वविद्यालयों के भगवाकरण के सवाल पर राज्यपाल ने कहा कि विश्वविद्यालय स्वायत्तशासी संस्थान हैं और उनके कुलपतियों को काम करने की आजादी है। भगवाकरण के संदर्भ में मेरी ओर से कोई हस्तक्षेप नहीं होता है।

    अधिनियम में संशोधन के लिए सरकार को सौंपी रिपोर्ट : राज्यपाल ने बताया कि राज्य विश्वविद्यालय अधिनियम में संशोधन के लिए उनके विधि परामर्शी की अध्यक्षता में गठित समिति ने कुल 42 बैठकें कर जो रिपोर्ट तैयार की है, वह सरकार को सौंपी जा चुकी है। अब इस पर सरकार कार्यवाही करेगी।

    शैक्षिक कैलेंडर पर हो रहा अमल : राज्यपाल ने कहा कि विश्वविद्यालयों में शैक्षिक कैलेंडर का अनुपालन हो रहा है। इस सत्र में सभी राज्य विश्वविद्यालयों के दीक्षांत समारोह की तारीखें तय हो गई हैं।

    तीन भाषाओं में पुस्तक का अनुवाद : राज्यपाल ने बताया कि उनकी किताब चरैवेति! चरैवेति!! का अनुवाद जर्मन, फारसी और अरबी भाषाओं में भी हो रहा है। तीनों भाषाओं में अनूदित संस्करणों का अगस्त अंत तक विमोचन होगा।’यूजीसी के निर्देश के बावजूद भर्ती जारी रहने की कराऊंगा जांच भगवाकरण के आरोपों को किया खारिजविश्वविद्यालयों में अराजकता चिंताजनक

    विश्वविद्यालयों में अराजकता और ¨हसा को चिंताजनक बताने के साथ राज्यपाल ने कहा कि प्रदेश के केंद्रीय विश्वविद्यालयों में बीते दिनों कुछ ऐसी घटनाएं घटीं लेकिन उनके कामकाज से मेरा सीधा संबंध नहीं है। रही बात लखनऊ विश्वविद्यालय में बीते दिनों हुई ¨हसात्मक घटना की, तो अगले दिन मुंबई से लौटते ही मैंने कुलपति, पुलिस अफसरों और सरकार को तलब कर मामले की जानकारी ली थी। उसी दिन हाईकोर्ट ने भी मामले का स्वयमेव संज्ञान ले लिया। अदालत में मामला विचाराधीन होने की वजह से मेरा अब इस मामले में बोलना ठीक नहीं है लेकिन, विश्वविद्यालयों में शांति होना बहुत जरूरी है जिसे बनाये रखने का दायित्व विद्यार्थियों, शिक्षकों, समाज और पत्रकारों पर भी है।

    होने चाहिए छात्रसंघ चुनाव

    राज्यपाल ने विश्वविद्यालयों में छात्रसंघ चुनाव का फिर समर्थन किया। यह भी जोड़ा कि अभी विश्वविद्यालयों में दाखिले की प्रक्रिया चल रही है। इसके बाद पढ़ाई शुरू होगी। पढ़ाई शुरू होने के बाद ही छात्रसंघ चुनाव होने चाहिए। 

    शिक्षा के स्तर को बेहतर बनाने की दिशा में तेजी से हो रहा काम, अब 16 दिन में होंगी बोर्ड परीक्षाएं : उपमुख्यमंत्री

    जासं, कानपुर : नकल विहीन परीक्षा कराने में सरकार सफल रही है। पूर्व में ढाई माह तक बोर्ड परीक्षा होती थी लेकिन, हमने एक माह में बिना किसी बाधा के नकल विहीन परीक्षा का आयोजन किया। अब बोर्ड परीक्षा 16 दिन में पूरी होगी। ये बातें उप मुख्यमंत्री डा. दिनेश शर्मा ने कही। रविवार को विश्व जागृति मिशन के तत्वावधान में सिद्धि धाम आश्रम बिठूर में आयोजित समारोह में वे पत्रकारों से मुखातिब थे। उन्होंने कहा कि यूपी बोर्ड में अब एनसीईआरटी का पाठ्यक्रम लागू कर दिया गया है। शिक्षा के स्तर को बेहतर बनाने की दिशा में तेजी से काम हो रहा है। पूर्व की सरकार में एक वर्ष में 48 स्कूल मॉडल बनते थे। हमारी सरकार ने 200 स्कूलों को मॉडल स्कूल में परिवर्तित किया। सौभाग्य योजना से गरीबों को बिजली का कनेक्शन और उज्जवला योजना के माध्यम से गैस कनेक्शन दिया गया। स्वच्छ भारत मिशन योजना के तहत तेजी से शौचालय बनाए जा रहे हैं। उन्होंने यह भी कहा कि जहां संत होते हैं वहीं वसंत होता है। 

    छात्राओं तक लाभ पहुंचाने के लिए चलेगा प्रचार अभियान, मौलाना आजाद एजुकेशन फाउंडेशन ने दी जानकारी, अल्पसंख्यक छात्राओं का बढ़ेगा 15 फीसद वजीफा

    फैसला

    नई दिल्ली, प्रेट्र: केंद्रीय अल्पसंख्यक कार्य मंत्रलय की ओर से स्कूली छात्रओं को दी जाने वाली छात्रवृत्ति में 15 फीसद तक की बढ़ोतरी का किया गया है। वहीं मंत्रलय की अधीनस्थ संस्था मौलाना आजाद एजुकेशन फाउंडेशन (एमएईएफ) ने स्कूली लड़कियों के लिए चलाई जाने वाली बेगम हजरत महल राष्ट्रीय छात्रवृत्ति योजना के कुल बजट में बढ़ोतरी के फैसले के साथ यह भी निर्णय लिया है कि इस साल आक्रामक प्रचार अभियान चलाया जाएगा ताकि ज्यादा से ज्यादा छात्रएं छात्रवृत्ति का लाभ ले सकें।

    एमएईएफ के सचिव रिजवानुर रहमान ने बताया कि वर्ष 2017-18 में इस योजना के तहत करीब 1,15,000 लड़कियों को छात्रवृत्ति दी गई थी। इसके लिए करीब 78 करोड़ रुपये का बजट निर्धारित था। इस बार बजट को लगभग 90 करोड़ रुपये करने का लिया गया है। इस बारे में हमने मंत्रलय को अवगत करा दिया है। रहमान ने कहा कि देशभर में एमएईएफ के करीब 300 गरीब नवाज कौशल विकास केंद्र चल रहे हैं। इनके माध्यम से भी छात्रवृत्ति योजना के बारे में जागरूकता फैलाई जा रही है। बता दें कि अभी तक आवेदन करने वाली नौवीं और 10वीं कक्षा की लड़कियों को सालाना पांच-पांच हजार रुपये और 11वीं और 12वीं कक्षा की छात्रओं को छह-छह हजार रुपये मिलते हैं।’

    Sunday, July 22, 2018

    महराजगंज : बीएसए ने जे०ई०एस०/ए०ई०एस० सम्बन्धित परिषदीय विद्यालयों में 23 जुलाई को निकलने वाली जागरुकता रैली के सम्बन्ध में जारी किया दिशानिर्देश, आदेश देखें

    महराजगंज : बीएसए ने जे०ई०एस०/ए०ई०एस० सम्बन्धित परिषदीय विद्यालयों में 23 जुलाई को निकलने वाली जागरुकता रैली के सम्बन्ध में जारी किया दिशानिर्देश, आदेश देखें-

    महराजगंज : बीएसए ने गर्मी के दृष्टिगत परिषदीय विद्यालयों के संचालन समय में परिवर्तन के प्रस्ताव पर डीएम की अनुमति मिलने पर ही लागू होने और तब तक विद्यालय पूर्ववत संचालित होने के सम्बन्ध में जारी किया कार्यालय ज्ञाप

    महराजगंज : बीएसए ने गर्मी के दृष्टिगत परिषदीय विद्यालयों के संचालन समय में परिवर्तन का प्रस्ताव डीएम को उपलब्ध कराने तथा अनुमति मिलने के बाद ही संचालन समय में परिवर्तन होने के सम्बन्ध जारी किया कार्यालय ज्ञाप।

    गौतमबुद्ध नगर : परिषदीय/सहायता प्राप्त/कस्तूरबा विद्यालयों में शिक्षा की गुणवत्ता उन्नयन हेतु अभिभावक-अध्यापक बैठक (पीटीएम) आयोजित किये जाने सम्बन्धी बीएसए के निर्देश जारी, देखें

    गौतमबुद्ध नगर : परिषदीय/सहायता प्राप्त/कस्तूरबा विद्यालयों में शिक्षा की गुणवत्ता उन्नयन हेतु अभिभावक-अध्यापक बैठक (पीटीएम) आयोजित किये जाने सम्बन्धी बीएसए के निर्देश जारी, देखें



    देवरिया : अंतर्जनपदीय स्थानांतरण के फलस्वरूप जनपद में कार्यभार ग्रहण कर चुके शिक्षकों के पदस्थापन हेतु काउंसलिंग विज्ञप्ति जारी, काउंसलिंग तिथि सहित अन्य विवरण देखें

    अंतर्जनपदीय स्थानांतरण के फलस्वरूप जनपद में कार्यभार ग्रहण कर चुके शिक्षकों के पदस्थापन हेतु काउंसलिंग विज्ञप्ति जारी, काउंसलिंग तिथि सहित विवरण देखें