DISTRICT WISE NEWS

अंबेडकरनगर अमरोहा अमेठी अलीगढ़ आगरा आजमगढ़ इटावा इलाहाबाद उन्नाव एटा औरैया कन्नौज कानपुर कानपुर देहात कानपुर नगर कासगंज कुशीनगर कैसरगंज कौशांबी कौशाम्बी गाजियाबाद गाजीपुर गोंडा गोण्डा गोरखपुर गौतमबुद्ध नगर गौतमबुद्धनगर चंदौली चन्दौली चित्रकूट जालौन जौनपुर ज्योतिबा फुले नगर झाँसी झांसी देवरिया पीलीभीत फतेहपुर फर्रुखाबाद फिरोजाबाद फैजाबाद बदायूं बरेली बलरामपुर बलिया बस्ती बहराइच बागपत बाँदा बांदा बाराबंकी बिजनौर बुलंदशहर बुलन्दशहर भदोही मऊ मथुरा महराजगंज महाराजगंज महोबा मिर्जापुर मीरजापुर मुजफ्फर नगर मुजफ्फरनगर मुज़फ्फरनगर मुरादाबाद मेरठ मैनपुरी मैनपूरी रामपुर रायबरेली लखनऊ लख़नऊ लखीमपुर खीरी ललितपुर वाराणसी शामली शाहजहाँपुर श्रावस्ती संतकबीरनगर संभल सहारनपुर सिद्धार्थनगर सीतापुर सुलतानपुर सुल्तानपुर सोनभद्र हमीरपुर हरदोई हाथरस हापुड़

Sunday, August 22, 2117

अब तक की सभी खबरें एक साथ एक जगह : प्राइमरी का मास्टर ● इन के साथ सभी जनपद स्तरीय अपडेट्स पढ़ें



स्क्रॉल करते जाएं और पढ़ते जाएं सभी खबरें एक ही जगह। जिस खबर को आप पूरा पढ़ना चाहें उसे क्लिक करके पढ़ सकते हैं।

    Sunday, December 17, 2017

    29334 गणित-विज्ञान भर्ती के अंतर्गत उ0प्रा0वि0 में नियुक्ति प्राप्त लेकिन कार्यभार ग्रहण न कर पाने वाले अभ्यर्थियों को निर्धारित तिथि तक कार्यभार ग्रहण करने हेतु विज्ञप्ति जारी, जनपदवार विज्ञप्ति देखें, लगातार अपडेटेड

     29334 गणित-विज्ञान भर्ती के अंतर्गत उ0प्रा0वि0 में नियुक्ति प्राप्त लेकिन कार्यभार ग्रहण न कर पाने वाले अभ्यर्थियों को निर्धारित तिथि तक कार्यभार ग्रहण करने हेतु विज्ञप्ति जारी, जनपदवार विज्ञप्ति देखें
























    Saturday, December 16, 2017

    सोनभद्र : होली पर्व को दृष्टिगत रख वेतन से आयकर कटौती के सम्बन्ध में


    होली पर्व को दृष्टिगत रख वेतन से आयकर कटौती के सम्बन्ध में

    गोरखपुर : लोक शिक्षा केंद्रों पर दिनांक 17 दिसम्बर 2017 को साक्षरता परीक्षा कराने के सम्बन्ध में


    लोक शिक्षा केंद्रों पर दिनांक 17 दिसम्बर 2017 को साक्षरता परीक्षा कराने के सम्बन्ध में

    प्रतापगढ़ : शिक्षामित्रों के मानदेय भुगतान में हुई गड़बड़ी, दूसरे के खाते में डाल दिया मानदेय


    शिक्षामित्रों के मानदेय भुगतान में हुई गड़बड़ी, दूसरे के खाते में डाल दिया मानदेय

    वाराणसी : आरक्षण के तहत पदोन्नति का शिक्षकों को मिला था लाभ,198 अध्यापकों का किया गया डिमोशन

    परिषदीय विद्यालयों में एससी/एसटी के आरक्षण का लाभ पाकर पदोन्नत हुए 198 अध्यापकों को पदावनत कर दिया गया है। वहीं पदोन्नति पाने वाले 238 सहायक अध्यापकों का वेतनवृद्धि फ्रीज कर दिया गया है। वरिष्ठता क्रम में सामान्य की श्रेणी के अध्यापकों के समकक्ष वेतन पहुंचने के बाद उनका इंक्रीमेंट जारी किया जाएगा। इसे लेकर एससी/एसटी संवर्ग के अध्यापकों में खलबली मची है। बहरहाल हाईकोर्ट के आदेश पर पदावनत होने के कारण एससी/एसटी संवर्ग का कोई भी अध्यापक बोलने को तैयार नहीं है। 1आरक्षण के तहत जनपद के परिषदीय विद्यालयों में एससी/एसटी संवर्ग 436 अध्यापकों की पदोन्नति 15 नवंबर 1997 से लेकर 20 अप्रैल 2012 के बीच हुआ था। हाईकोर्ट ने फरवरी 2017 को आदेश दिया कि पदोन्नति में आरक्षण का लाभ नहीं दिया जा सकता है। इसके तहत विभिन्न विभागों में आरक्षण से पदोन्नत हुए एससी/एसटी संवर्ग के अध्यापकों व कर्मचारियों को बैक कर दिया गया था। वहीं परिषदीय विद्यालयों के आरक्षण से पदोन्नत हुए एससी/एसटी संवर्ग के अध्यापकों को अब तक बैक नहीं किया गया था। इस संबंध में दाखिल एक याचिका पर हाईकोर्ट, इलाहाबाद इसे गंभीरता से लिया और बीएसए से तत्काल कार्रवाई करने का निर्देश दिया। 1हाईकोर्ट के निर्देश पर जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी बृजभूषण चौधरी ने आरक्षण से पदोन्नत हुए एससी/एसटी संवर्ग के अध्यापकों के पदावनत का आदेश जारी कर दिया। उन्होंने बताया कि जूनियर हाईस्कूल में कार्यरत 198 सहायक अध्यापकों को पदावनत करते हुए उन्हें प्राथमिक विद्यालय में कर दिया गया है। इतना ही नहीं उनकी तैनाती भी प्राथमिक विद्यालय में कर दी गई है। वहीं वरिष्ठता क्रम में 238 सहायक अध्यापक अब पदोन्नति के हकदार हो गए थे। इसके चलते उनको पदावनत नहीं किया गया लेकिन उनकी पदोन्नति सामान्य वर्ग के अध्यापकों से पहले हो गई थी। इसके चलते उन्हें वर्तमान में सामान्य वर्ग से अधिक वेतन मिल रहा है। सामान्य वर्ग के समकक्ष वेतन पहुंचने तक उनकी वेतन वृद्धि नहीं होगी।’

    पदोन्नति पाने वाले 238 सहायक शिक्षकों की वेतन वृद्धि फ्रीज
    >सामान्य श्रेणी के शिक्षकों के समकक्ष वेतन पहुंचने के बाद होगा जारीएक दर्जन की छिनी कुर्सी आरक्षण का लाभ पाकर करीब एक दर्जन एससी/एसटी संवर्ग के अध्यापक हेड मास्टर बन गए थे। पदावनत होने के बाद उनकी हेड मास्टर की कुर्सी भी चली गई है।

    बुलंदशहर : अनुपस्थित शिक्षको पर कसा शिकंजा, अब सेल्फी भेजने में मनमानी नही कर सकेंगे शिक्षक


    अनुपस्थित शिक्षको पर कसा शिकंजा, अब सेल्फी भेजने में मनमानी नही कर सकेंगे शिक्षक

    शाहजहाँपुर : एसडीएम ने किया निरीक्षण, 136 बच्चों को पढ़ाती मिली एक शिक्षामित्र


    एसडीएम ने किया निरीक्षण, 136 बच्चों को पढ़ाती मिली एक शिक्षामित्र

    हरदोई : शिक्षामित्र संघ के धनवसूली की जांच, शिकायत मिलने के बाद जिलाधिकारी ने पुलिस अधीक्षक, बीएसए को सौंपी जांच

    शिक्षामित्रों से अध्यापक की कुर्सी चल गई है। अब उनके संगठन में खींचतान मची है। उत्तर प्रदेश प्राथमिक शिक्षामित्र संघ के जिला संरक्षक की तरफ से जिलाध्यक्ष समेत छह अन्य पदाधिकारियों पर लगाए गए सनसनीखेज आरोपों की जांच पुलिस अधीक्षक और जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी को सौंपी गई है। जिलाधिकारी ने इस संबंध में 20 दिसंबर तक पूरी आख्या मांगी है।  बावन विकास खंड के ग्राम हुसैनपुर सहोरा निवासी उत्तर प्रदेश प्राथमिक शिक्षामित्र संघ के जिला संरक्षक प्रकाश चंद्र ने संघ के जिलाध्यक्ष मनीराम राजपूत, आय व्यय निरीक्षक राम सिंह, पिहानी ब्लाक अध्यक्ष राघवेंद्र शर्मा, जिला उपाध्यक्ष सुनील कुमार, जिला महामंत्री राम प्रताप यादव के साथ शिक्षामित्र शिवसागर पर शिक्षामित्रों से समायोजन बहाली के नाम गुमराह करके प्रति शिक्षामित्र से पांच से 20 हजार रुपये तक की अवैध वसूली करने का आरोप लगाया था। जिला संरक्षक का आरोप है कि अवैध वसूली का मामला उन्होंने जब उठाया तो उनके साथ भी अभद्रता हुई। बीएसए समेत अन्य अधिकारियों के शिकायत के बाद जिलाधिकारी तक मामला पहुंचाया गया। जिसे जिला प्रशासन ने गंभीरता से लिया है और इस मामले में कार्रवाई के लिए पुलिस अधीक्षक और बेसिक शिक्षा अधिकारी को पत्र भेजा गया है। प्रभारी अधिकारी शिकायत की तरफ से इस मामले में 20 दिसंबर तक पूरी जानकारी मांगी गई है। जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी मसीहुज्जमा सिद्दीकी ने बताया कि पूरी जांच कराई जा रही है।

    सीतापुर : स्वच्छ विद्यालय पुरस्कार योजना के तहत सभी सविधाओं का किया दावा, जिले के 190 स्कूलों ने जताई दावेदारी


    स्वच्छ विद्यालय पुरस्कार योजना के तहत सभी सविधाओं का किया दावा, जिले के 190 स्कूलों ने जताई दावेदारी

    आंगनबाड़ी वर्करों ने नारेबाजी कर जताया विरोध , राज्यकर्मी बनाने और मानदेय बढ़ाने के लिए कर रही हैं प्रदर्शन, आंगनबाड़ी वर्करों को पुलिस ने रोका

    लक्ष्मण मेला मैदान में आंगनबाड़ी वर्करों ने नारेबाजी कर विरोध जताया।•

    मानदेय बढ़ाने और राज्य कर्मचारी बनाने की मांग को लेकर आंगनबाड़ी वर्करों का प्रदर्शन शुक्रवार को लक्ष्मण मेला मैदान में 55वें दिन भी जारी रहा। इस दौरान सड़क पर प्रदर्शन करने जा रहीं वर्कर को पुलिस ने रोककर वापस लक्ष्मण मेला मैदान भेज दिया।

    महिला आंगनबाड़ी कर्मचारी संघ 13 सूत्रीय मांगों लेकर करीब दो माह से धरना प्रदर्शन कर रहा है। संघ की जिला अध्यक्ष रामदेवी वर्मा ने बताया कि सरकार उनकी मांगें पूरी नहीं कर रही है। इससे वर्कर्स आहत हैं। मौके पर संघ की महामंत्री नीलम पांडेय, कोषाध्यक्ष सुशीला गुप्ता, अमरेंद्र सिंह, गुड्डू सिंह, प्रेम कुमारी, अनुपमा, गुप्ता दीप्ति सिंह, अंजलि सिंह, अनीता नेगी, उर्मिला, सुषमा, सुमन, शशिपाल समेत सैकड़ों वर्कर्स मौजूद रहीं।

    सरकारी नौकरी कर रहे फर्जी टॉपर होंगे बर्खास्त, उन्नाव और खीरी के राजकीय विद्यालयों में तैनात दो शिक्षक और शिक्षिकाओं के अंकपत्र मिले फर्जी


    सरकारी नौकरी कर रहे फर्जी टॉपर होंगे बर्खास्त, उन्नाव और खीरी के राजकीय विद्यालयों में तैनात दो शिक्षक और शिक्षिकाओं के अंकपत्र मिले फर्जी

    9342 एलटी ग्रेड शिक्षकों की भर्ती के मामले में नया विज्ञापन जारी करने पर हाईकोर्ट ने लगाई रोक, प्रदेश सरकार से मांगा जवाब  



    प्रदेश के राजकीय इंटर कालेजों में 9342 एलटी ग्रेड शिक्षकों की भर्ती के मामले में नया विज्ञापन जारी करने पर इलाहाबाद हाईकोर्ट ने रोक लगा दी है। इस संबंध में प्रदेश सरकार से जवाब मांगा है। कोर्ट ने सरकार को छूट दी है कि पूर्व में हो चुकी चयन प्रक्रिया के तहत वह चाहे तो नियुक्ति प्रक्रिया आगे बढ़ा सकती है। चयन में शामिल अभ्यर्थियों ने प्रक्रिया पूरी होने के बाद भर्ती का नियम बदलने के निर्णय को चुनौती दी है। 


    यह आदेश न्यायमूर्ति सुनीत कुमार ने राहुल सिंह और हिमांशु शुक्ला सहित दर्जनों अभ्यर्थियों की याचिका पर सुनवाई कर दिया है। याचिका पर सुनवाई आठ फरवरी को होगी। याचीगणों के अधिवक्ता मान बहादुर आदि का कहना था कि राजकीय इंटर कालेजों में एलटी ग्रेड शिक्षकों की भर्ती का विज्ञापन 19 दिसंबर 2016 को जारी हुआ था। चयन प्रक्रिया क्वालिटी प्वाइंट मार्क्‍स यानी शैक्षिक मेरिट के आधार पर पूरी की। केवल मेरिट सूची जारी होनी थी, इस बीच सरकार ने नियम बदले और चयन में लिखित परीक्षा को भी शामिल किया। अधियाचन उप्र लोकसेवा आयोग को भेज लिखित परीक्षा से नियुक्ति प्रक्रिया पूरी करने को कहा है। अभ्यर्थियों ने इसी को हाईकोर्ट में चुनौती दी है। भर्ती प्रक्रिया शुरू होने के बाद बीच में नियम नहीं बदले जा सकते हैं। 


    आयोग छह मई को करा रहा परीक्षा : उप्र लोकसेवा आयोग में प्रशिक्षित स्नातक शिक्षक पुरुष व महिला संवर्ग की लिखित परीक्षा कराने के लिए गुरुवार को ही परीक्षा कार्यक्रम जारी है। इम्तिहान छह मई 2018 को होना प्रस्तावित है। शासन ने बीते वर्ष तक रिक्त पदों की लिखित परीक्षा कराने के निर्देश से पद भी बढ़े हैं।




    बोर्ड की हाईस्कूल व इंटरमीडिएट परीक्षा 2018 इस बार प्रतियोगी परीक्षाओं की तर्ज पर, अब उपस्थिति पंजिका में दर्ज होगा बुकलेट नंबर


     बोर्ड की हाईस्कूल व इंटरमीडिएट परीक्षा 2018 इस बार प्रतियोगी परीक्षाओं की तर्ज पर होगी। बोर्ड प्रशासन ने नकल पर अंकुश लगाने के लिए अहम निर्णय किया है। परीक्षार्थियों को अब उपस्थिति पंजिका में उत्तरपुस्तिका का बुकलेट नंबर भी दर्ज करना होगा। परीक्षार्थियों को नाम व अनुक्रमांक भरने के साथ ही यह प्रक्रिया हर दिन करनी होगी। इसका रिकॉर्ड संबंधित केंद्र व्यवस्था सुरक्षित रखेंगे और विवाद होने की स्थिति में इसे मजबूत आधार के रूप में प्रस्तुत किया जाएगा। 1माध्यमिक शिक्षा परिषद यानी यूपी बोर्ड की लिखित परीक्षा छह फरवरी से होनी है। परीक्षा नकलविहीन कराने के लिए तमाम प्रयास हो रहे हैं। इस बार प्रदेश भर के 50 संवेदनशील जिलों में कोडिंग (क्रमांकित) वाली उत्तरपुस्तिकाएं मुहैया कराई जानी हैं। बोर्ड ने यह कदम इसलिए उठाया है, ताकि परीक्षार्थियों की कॉपियों की अदला-बदली न हो सके। ज्ञात हो कि 2017 की परीक्षा में भी प्रदेश के 31 जिलों में कोडिंग वाली कॉपियों पर ही इम्तिहान हुआ था। ऐसे में उत्तरपुस्तिका किसी दशा में बदली न जा सके इसके लिए परीक्षार्थियों से ही उपस्थिति पंजिका पर बुकलेट यानी कॉपी का क्रमांक अंकित कराया जाएगा। बोर्ड परीक्षा में यह नियम है कि परीक्षार्थी को सबसे पहले कॉपी मुहैया कराई जाती है उसमें परीक्षार्थी पूरा अंकन करते हैं। उसी के साथ उपस्थिति पंजिका में वह अपना नाम व अनुक्रमांक दर्ज करते हैं। अब उसी में एक कॉलम बुकलेट सीरीज का भी होगा। इस कदम से यदि कॉपी का कवर बदलने का भी प्रयास हुआ तो कोडिंग वाली कॉपियों में खुद स्पष्ट हो जाएगा। बोर्ड प्रशासन की मानें तो जल्द ही इस संबंध में केंद्र व्यवस्थापकों को दिशा-निर्देश जारी होंगे और इसका कड़ाई से अनुपालन कराने को कहा जाएगा। यह नियम इस वर्ष संवेदनशील में ही लागू हो रहा है, क्योंकि उन्हीं जिलों में क्रमांकित कॉपियां जा रही हैं। केंद्र व्यवस्थापक उपस्थिति पंजिका को सुरक्षित रखेंगे, ताकि जरूरत पड़ने पर उसे साक्ष्य के रूप में प्रस्तुत किया जा सके। अगले वर्षो में सभी जिलों में इन्हीं कॉपियों पर इम्तिहान होगा, तब यह निर्देश सबके लिए होगा। वहीं, परीक्षार्थियों की उपस्थिति भेजने के लिए पिछले वर्ष का पैटर्न यथावत रहेगा, जिसमें परीक्षा खत्म होते ही हर जिले को वेबसाइट पर उपस्थित परीक्षार्थियों का ब्योरा होता है।

    उत्तरपुस्तिकाओं की अदला-बदला रोकने के लिए पहली बार प्रयोग 1’>>प्रदेश के संवेदनशील 50 जिलों में परीक्षार्थियों को करना होगा अंकनये हैं संवेदनशील 50 जिले 1अलीगढ़, आगरा, मथुरा, हाथरस, एटा, मैनपुरी, फीरोजाबाद, कासगंज, शाहजहांपुर, बदायूं, मुरादाबाद, संभल, इलाहाबाद, कौशांबी, हरदोई, कानपुर नगर, कानपुर देहात, फतेहपुर, चित्रकूट, गाजीपुर, आजमगढ़, बलिया, देवरिया, जौनपुर, गोंडा, अंबेडकर नगर, सुलतानपुर, भदोही, संतकबीर नगर, सिद्धार्थ नगर, कुशीनगर, मेरठ, गाजियाबाद, बागपत, मुजफ्फर नगर, बरेली, जेपी नगर, बिजनौर, उन्नाव, बाराबंकी, इटावा, औरैया, प्रतापगढ़, जालौन, बांदा, महराजगंज, फैजाबाद, बहराइच, बस्ती व मऊ।

    एनसीईआरटी की किताबें मार्च तक बाजार में होंगी उपलब्ध, शासन की मंजूरी मिलने के बाद यूपी बोर्ड ने तेज की प्रक्रिया, नए सत्र से पहले ही हर हाल में पुस्तकें मुहैया कराने की तैयारी

     यूपी बोर्ड के करीब 25 हजार विद्यालयों में नए सत्र से बदला हुआ पाठ्यक्रम लागू होना है। बोर्ड प्रशासन पाठ्यक्रम बदलने की तैयारियां पूरी कर चुका है साथ ही शासन ने भी इस पर मुहर लगा दी है। ऐसे में छात्र-छात्रओं को नए सत्र से पहले ही एनसीईआरटी की तर्ज पर तैयार पाठ्यक्रम के अनुरूप पुस्तकें मुहैया कराने की प्रक्रिया शुरू हो गई है। 


    माध्यमिक शिक्षा परिषद यानी यूपी बोर्ड के स्कूलों में सीबीएसई की तर्ज पर छात्र-छात्रओं को एनसीईआरटी के पाठ्यक्रम की पढ़ाई होनी है। सिलेबस को लेकर यूपी बोर्ड और एनसीईआरटी के बीच का अंतर खत्म करने में बोर्ड इधर कई माह से सक्रिय रहा है। 


    बोर्ड को इसमें भी सफलता मिल गई है। शासन ने नया पाठ्यक्रम लागू करने का निर्देश दिया है। कुछ माह पहले ही बोर्ड ने इस संबंध में प्रस्ताव भेजकर शासन से अनुमति मांगी थी। अब बोर्ड पाठ्य पुस्तकों को मार्च तक प्रकाशित कराने की तैयारियों में जुटा है। बोर्ड सचिव नीना श्रीवास्तव ने बताया कि नए पाठ्यक्रम की पुस्तकें मार्च के आखिर तक मार्केट में पर्याप्त मात्र में उपलब्ध होंगी। पाठ्यपुस्तकों को छपवाने के लिए टेंडर आदि की प्रक्रिया भी शीघ्र ही शुरू होगी, ताकि समय पर किताबें छात्र-छात्रओं को मिल सके। 


    ज्ञात हो कि एक अप्रैल से नया सत्र शुरू होना है। सचिव का दावा है कि किताबें उपलब्ध कराने में किसी प्रकार की समस्या नहीं होगी। पाठ्य पुस्तकों को लागू करने से लेकर उनकी छपाई कराने की समय सीमा तय कर दी गई है। विद्यालय संचालक पाठ्यक्रम में बदलाव को लेकर पहले से अवगत हैं, उन्हें नए सिरे से भी निर्देश भेजे जाएंगे।’


    उप्र लोकसेवा आयोग ने राजकीय इंटर कालेज व डायट प्रवक्ताओं के परिणाम किए घोषित, राजकीय इंटर कॉलेजों और डायट को मिले 88 प्रवक्ता

     उप्र लोकसेवा आयोग ने राजकीय इंटर कालेज व डायट प्रवक्ताओं के परिणाम शुक्रवार को घोषित कर दिए। इसमें प्रवक्ता वाणिज्य के नौ पदों, डायट में प्रवक्ता अंग्रेजी के 79 पदों के परिणाम के अलावा प्राविधिक शिक्षा विभाग में कर्मशाला अनुदेशक लौह कला के आठ पदों पर साक्षात्कार में सफल अभ्यर्थियों के परिणाम जारी हुए। आयोग ने इसे अपनी वेबसाइट पर भी उपलब्ध कराया है। 1आयोग ने उप्र राज्य शैक्षिक अनुसंधान और प्रशिक्षण परिषद, इसकी इकाइयों, डायट में प्रवक्ता अंग्रेजी के 79 पदों (17 पद अनुसूचित जाति, एक पद अनुसूचित जनजाति, 22 ओबीसी, 39 पद अनारक्षित के अलावा क्षैतिज आरक्षण के आधार पर एक पद स्वतंत्रता संग्राम सेनानी, तीन पद भूतपूर्व सैनिक, 15 पद महिला, तीन पद दिव्यांग अभ्यर्थियों के लिए आरक्षित) के 2013-14 में विज्ञापन के आधार पर सीधी भर्ती के तहत नियमित चयन के लिए साक्षात्कार चार से आठ दिसंबर 2017 तक कराया। साक्षात्कार के बाद शीर्ष पर रहने वाले 79 अभ्यर्थियों का चयन कर उनकी सूची जारी की। आयोग ने कहा है कि अनुसूचित जनजाति का अभ्यर्थी उपलब्ध न होने के कारण सूची में क्रमांक 77 पर अंकित अनुसूचित जाति के अभ्यर्थी का चयन संगत शासनादेश में दी गई व्यवस्था के अनुसार किया गया है। आयोग ने उप्र अधीनस्थ शिक्षा सेवा (पुरुष संवर्ग), के अंतर्गत राजकीय इंटर कालेजों में प्रवक्ता वाणिज्य के 2009-10 में विज्ञापित नौ पदों (तीन पद अनुसूचित जाति, एक पद ओबीसी और पांच पद अनारक्षित) पर सीधी भर्ती के तहत नियमित चयन के लिए आठ दिसंबर को अभ्यर्थियों का साक्षात्कार कराया। आयोग ने प्राविधिक शिक्षा विभाग में कर्मशाला अनुदेशक लौह कला के आठ पदों (चार पद अनारक्षित, दो अन्य पिछड़ा वर्ग, दो अनुसूचित जाति तथा एक पद उप्र की महिलाओं के लिए क्षैतिज रूप से आरक्षित) का विज्ञापन 29 दिसंबर 2012 को प्रकाशित किया था। इन आठ पदों के सापेक्ष 212 अभ्यर्थियों ने ऑनलाइन आवेदन किए थे।

    झाँसी : राष्ट्रीय शैक्षिक महासंघ ने की पदोन्नति की माँग, विभिन्न समस्याओं को लेकर बीएसए को दिया ज्ञापन

    झाँसी : राष्ट्रीय शैक्षिक महासंघ ने की पदोन्नति की माँग, विभिन्न समस्याओं को लेकर बीएसए को दिया ज्ञापन