DISTRICT WISE NEWS

अंबेडकरनगर अमरोहा अमेठी अलीगढ़ आगरा आजमगढ़ इटावा इलाहाबाद उन्नाव एटा औरैया कन्नौज कानपुर कानपुर देहात कानपुर नगर कासगंज कुशीनगर कौशांबी कौशाम्बी गाजियाबाद गाजीपुर गोंडा गोण्डा गोरखपुर गौतमबुद्ध नगर गौतमबुद्धनगर चंदौली चन्दौली चित्रकूट जालौन जौनपुर ज्योतिबा फुले नगर झाँसी झांसी देवरिया पीलीभीत फतेहपुर फर्रुखाबाद फिरोजाबाद फैजाबाद बदायूं बरेली बलरामपुर बलिया बस्ती बहराइच बागपत बाँदा बांदा बाराबंकी बिजनौर बुलंदशहर बुलन्दशहर भदोही मऊ मथुरा महराजगंज महोबा मिर्जापुर मीरजापुर मुजफ्फरनगर मुरादाबाद मेरठ मैनपुरी रामपुर रायबरेली लखनऊ लख़नऊ लखीमपुर खीरी ललितपुर वाराणसी शामली शाहजहाँपुर श्रावस्ती संतकबीरनगर संभल सहारनपुर सिद्धार्थनगर सीतापुर सुलतानपुर सुल्तानपुर सोनभद्र हमीरपुर हरदोई हाथरस हापुड़
Showing posts with label अनशन. Show all posts
Showing posts with label अनशन. Show all posts

Tuesday, June 2, 2020

69000 : आवेदन में संशोधन के लिए अनशन शुरू, परीक्षा में सफलता के बाद भी अनशन के लिए मजबूर

69000 : आवेदन में संशोधन के लिए अनशन शुरू, परीक्षा में सफलता के बाद भी अनशन के लिए मजबूर


प्रयागराज। एक ओर बेसिक शिक्षा परिषद एवं एनआईसी 69 हजार सहायक अध्यापक भर्ती काउंसलिंग के लिए अभ्यर्थियों की मेरिट लिस्ट जारी करने की तैयारी में है. दूसरी ओर शिक्षक भर्ती आवेदन में संशोधन की मांग को लेकर सोमवार को अभ्यर्थी शिक्षा निदेशालय में जमे रहे। परीक्षा में सफल रोहित तिवारी एवं उनके कई दूसरे साधी सचिव, बेसिक शिक्षा परिषद मे है लेकिन वह कार्यालय पर अनशन पर बैठे। 


उनका कहना है कि अभ्यर्थी अभ्यर्थियों ने कहा, शपथ पत्र लेकर काउंसलिंग सचिव से मिलकर अपनी बात रखना चाहते में शामिल होने का उनसे नहीं मिल रहे। ऐसे में मांग पूरी होने तक उनका अनशन मौकादें सचिव जारी रहेगा। कौशांबी से आए आशुतोष श्रीवास्तव को प्राप्तांक, पूर्णांक में संशोधन कराना है, वह सचिव से मिलना चाहते हैं।


 सहारनपुर के सुमित कुमार यादव भी सचिव से मिलने आए थे लेकिन सचिव के न होने से मुलाकात नहीं हो सकी। उन्होंने गलती से ओबीसी की जगह एससी कैटेगरी भर दिया है। आजमगढ़ से आए मानिक चंद गुप्ता को बीएड के पूर्णाक में संशोधन कराना है। इन सभी अभ्यर्थियों का कहना है कि बेसिक शिक्षा परिषद सचिव उनसे शपथ पत्र लेकर काउंसलिंग में शामिल होने का मौका दें।

Tuesday, January 29, 2019

माध्यमिक शिक्षा परिषद के अधीन सभी सेवाओं में 06 माह की अवधि तक हड़ताल पर रोक लगाए जाने के सम्बन्ध में

बोर्ड परीक्षा के मद्देनजर सरकार ने लगाई माध्यमिक शिक्षा में हड़ताल पर छह महीने की रोक।


माध्यमिक शिक्षा परिषद के अधीन सभी सेवाओं में 06 माह की अवधि तक हड़ताल पर रोक लगाए जाने के सम्बन्ध में

Sunday, January 20, 2019

पुरानी पेंशन बहाली के लिए कल करेंगे प्रदर्शन, पुरानी पेंशन बहाली मंच ने कहा 6 से 12 फरवरी के बीच होगी महाहड़ताल

पुरानी पेंशन बहाली के लिए कल करेंगे प्रदर्शन, पुरानी पेंशन बहाली मंच ने कहा 6 से 12 फरवरी के बीच होगी महाहड़ताल

Wednesday, June 13, 2018

सीएम योगी से आज होगी शिक्षामित्रों की मुलाकात,  मुख्यमंत्री के सामने 6 सूत्रीय मांग रखकर समायोजन के लिए पुरजोर आवाज उठाने की तैयारी

सीएम योगी से आज होगी शिक्षामित्रों की मुलाकात,  मुख्यमंत्री के सामने 6 सूत्रीय मांग रखकर समायोजन के लिए पुरजोर आवाज उठाने की तैयारी। 

Tuesday, May 8, 2018

टीईटी धारकों को मुख्यमंत्री से बात कराने का मिला आश्वासन, भूख हड़ताल खत्म करके क्रमिक अनशन शुरू

टीईटी धारकों को मुख्यमंत्री से बात कराने का मिला आश्वासन, भूख हड़ताल खत्म करके क्रमिक अनशन शुरू।


Monday, February 5, 2018

803 प्रशिक्षु कर रहें नियुक्ति की मांग, प्रशिक्षु शिक्षकों का अस्पताल में भी अनशन


803 प्रशिक्षु कर रहें नियुक्ति की मांग, प्रशिक्षु शिक्षकों का अस्पताल में भी अनशन

Friday, February 2, 2018

प्रशिक्षु शिक्षकों का आंदोलन लंबा खिंचने के आसार, मांगें पूरी न होने पर कफन ओढ़ सांकेतिक अंत्येष्टि का एलान


इलाहाबाद : शिक्षा निदेशालय प्रांगण में प्रशिक्षु शिक्षकों का आंदोलन लंबा खिंचने के आसार हैं। बेमियादी अनशन अब भी जारी है। प्रशिक्षु शिक्षकों का कहना है कि मौलिक नियुक्ति मिले बिना नहीं हटेंगे। कहा कि मांगें पूरी न होने पर कफन ओढ़ लेंगे और अपनी सांकेतिक अंत्येष्टि करेंगे।

प्रशिक्षु शिक्षक संघर्ष मोर्चा के अध्यक्ष संदीप पांडेय ने बताया कि उनके साथी भोजराज सिंह और रामसजीवन विश्वकर्मा की सेहत गिरती जा रही है, जबकि सरकार कोई सुध नहीं ले रही है। चेतावनी दी कि सरकार उनकी मौलिक नियुक्ति का आदेश जारी नहीं करती है तो अनशनकारी प्रशिक्षु शिक्षक कफन ओढ़कर अपनी सांकेतिक अंत्येष्टि करने को बाध्य होंगे। गुरुवार को अनशन स्थल पर काफी संख्या में प्रशिक्षु शिक्षक शामिल रहे।

Wednesday, November 15, 2017

परिणाम न आया तो 25 से अनशन करेंगे बीटीसी 2014 के प्रशिक्षु, धरना दे रहे प्रशिक्षुओं ने दिया अल्टीमेटम

इलाहाबाद : बीटीसी 2014 के चतुर्थ सेमेस्टर का परीक्षा परिणाम इसी माह घोषित कराने पर अड़े प्रशिक्षुओं ने अल्टीमेटम दिया है कि यदि 24 नवंबर तक उनका रिजल्ट न आया तो वह सभी 25 नवंबर से अनशन शुरू करेंगे। बीटीसी संयुक्त मोर्चा संघ उप्र परीक्षा नियामक प्राधिकारी कार्यालय में पिछले नौ दिन से धरना दे रहा है।


प्रशिक्षुओं ने विरोध का अनूठा तरीका अपनाया है वह परिसर में स्वच्छता व पौधरोपण का भी कार्य कर रहे हैं। कहना है कि प्रदेश के 44 हजार से अधिक युवाओं का भविष्य दांव पर लगा है। यहां अभिषेक त्रिपाठी आदि मौजूद थे।

Wednesday, October 25, 2017

प्रशिक्षु शिक्षकों ने फिर शुरू किया अनशन, नियुक्तिपत्र न जारी होने से नाराजगी

प्रशिक्षु शिक्षकों ने फिर शुरू किया अनशन, नियुक्तिपत्र न जारी होने से नाराजगी

Monday, October 9, 2017

प्रशिक्षु शिक्षकों की हालत बिगड़ी : मौलिक नियुक्ति को लेकर शिक्षा निदेशालय में आमरण अनशन रविवार को भी जारी, करवाचौथ के बाद भी महिलाएं रही डटी

इलाहाबाद  :  प्राथमिक स्कूलों में सहायक अध्यापक पद पर मौलिक नियुक्ति को लेकर शिक्षा निदेशालय में प्रशिक्षु शिक्षकों का आमरण अनशन रविवार को पांचवें दिन भी जारी रहा। डॉक्टरों की टीम ने रविवार सुबह चार अनशनकारियों का स्वास्थ्य परीक्षण किया जिसमें उनकी हालत नाजुक मिली। सूचना पर एसीएम द्वितीय शिवानी सिंह पुलिसबल के साथ 11 बजे अनशन स्थल पर पहुंचीं और चारों अनशनकारियों को बेली अस्पताल में भर्ती करा दिया।

रामसजीवन विश्वकर्मा, भोजराज सिंह, चंद्रसेन, नाहर सिंह एवं अश्वनी कुमार चार अक्तूबर से आमरण अनशन पर हैं। अश्वनी कुमार की तबीयत शनिवार रात में ही बिगड़ने पर बेली अस्पताल में भर्ती करा दिया गया था। 72,825 प्रशिक्षु शिक्षक चयन-2011 के तहत 2016 में चयनित ये प्रशिक्षु शिक्षक अपना छह महीने का सैद्धांतिक एवं क्रियात्मक प्रशिक्षण पूरा कर चुके हैं और मौलिक नियुक्ति के लिए सारी योग्यताएं पूरी करते हैं।छह माह के प्रशिक्षण का परिणाम 30 अगस्त को परीक्षा नियामक प्राधिकारी ने घोषित किया लेकिन 39 दिनों बाद भी ये प्रशिक्षु अपनी तैनाती के लिए शासन से आदेश की प्रतीक्षा कर रहे हैं।

निदेशालय में 20 दिनों से धरना दे रहे दो दर्जन से अधिक जिलों के प्रशिक्षुओं में कई महिलाएं भी हैं जो रविवार को करवाचौथ का व्रत होने के बावजूद अपने घर नहीं गईं। प्रशिक्षुओं का कहना है कि जब तक उनकी नियुक्ति का आदेश जारी नहीं होता वे धरना समाप्त नहीं करेंगे।

Friday, October 6, 2017

मौलिक नियुक्ति की माँग को लेकर प्रशिक्षु शिक्षकों का अनशन अब भी जारी, अनशन खत्म कराने की प्रशासनिक कवायद हुई फेल

इलाहाबाद : प्राथमिक विद्यालयों में मौलिक नियुक्ति की मांग कर रहे प्रशिक्षु शिक्षकों का अनशन खत्म कराने की प्रशासनिक कोशिश गुरुवार को असफल साबित हुई। 16 दिन से अनवरत आंदोलन कर रहे प्रशिक्षु शिक्षकों ने मांग पूरी न होने पर इसे बेमियादी कर दिया है, वहीं उनसे वार्ता करने गईं सिटी मजिस्ट्रेट शिवानी सिंह को लौटना पड़ा।

अनशन पर बैठे सचिव बेसिक शिक्षा परिषद कार्यालय के सामने रामसजीवन विश्वकर्मा, भोजराज सिंह, चंद्रसेन, नाहर सिंह, अश्वनी कुमार का कहना है कि प्रशिक्षु शिक्षक चयन-2011 के तहत वर्ष 2016 में चयनित प्रशिक्षु शिक्षक अपना छह माह का सैद्धांतिक एवं क्रियात्मक प्रशिक्षण पूरा कर चुके हैं। परीक्षा नियामक प्राधिकारी की ओर से जुलाई में आयोजित लिखित परीक्षा पास करने के साथ मौलिक नियुक्ति के लिए आवश्यक सारी अर्हताएं पूरी कर चुके हैं, फिर भी मौलिक नियुक्ति का शासनादेश जारी नहीं हो रहा है। इनके समर्थन में कई जिलों से प्रशिक्षु शिक्षकों के आने का क्रम शुरू हो गया है।

Thursday, October 5, 2017

बीएड और यूपी-टीईटी पास ने भीख मांग जताया विरोध, महिला अभ्यर्थी आज से करेंगी आमरण अनशन


भीख मांग गरीब बच्चों के लिए खरीदी स्टेशनरी

बीएड व यूपी टीईटी पास अभ्यर्थियों ने बताया कि उत्तर प्रदेश सरकार ने 6 वर्षों से बीएड पास अभ्यर्थियों के लिए कोई नौकरी नहीं निकाली है। सिर्फ बीटीसी प्रशिक्षितों को नौकरी दी जा रही है। ऐसे में उन्हें 6 वर्षों से नियुक्ति के लिए दर-दर भटकना पड़ रहा है। अभ्यर्थियों ने बताया कि अपनी मांगों को लेकर दर्जनों बार प्रदर्शन किया लेकिन सरकार ने नहीं हमारी नहीं सुनी। बीएड-टेट 2011 महिला याचना संगठन की संरक्षक लखनऊ की प्रीति सिंह और रुखसाना खान ने बताया कि योग्य होने और कोर्ट के निर्देश के बावजूद इतने वर्षों से हमारे साथ नाइंसाफी हो रही है। प्रीति और रुखसाना ने बताया कि प्रदेश में 90 हजार अभ्यर्थी हैं शिक्षक की नियुक्ति पाने के लिए भटक रहे हैं। अब तक हमारी नौकरी के लिए हमारी अहर्ता आयु भी निकल गई। आज हमारी नौबत भीख मांगने की आ गई है, इसलिए हमने बुधवार को भीख मांगकर विरोध जताया।

अभ्यर्थियों ने आरोप लगाया कि शिक्षक नियुक्ति का मामला लटका कर सरकारों ने हमें ओवर ऐज कर दिया है। इसकी वजह से अब हमें किसी दूसरे महकमे में भी नौकरी नहीं मिलेगी। उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने पहले वादा किया था कि प्रदेश में बीजेपी की सरकार आते ही मांगें पूरी की जाएंगी लेकिन ऐसा नहीं हुआ। 

...तो कहीं नहीं मिलेगी नौकरी
दिन में भीख मांगने के बाद शाम को इन अभ्यर्थियो ने दारुलशफा से गांधी प्रतिमा तक कैंडल मार्च निकाला। बीएड टेट-2011 महिला याचना संगठन ने ऐलान किया है कि गुरुवार से लक्ष्मण मेला मैदान पर 40 महिला अभ्यर्थी अमरण अनशन पर रहेंगी।

Saturday, August 26, 2017

परिषद ने शासन को भेजा भर्तियों का प्रत्यावेदन, टीईटी बेरोजगार संघ का अनशन खत्म

 

इलाहाबाद : भर्तियां शुरू कराने की मांग को लेकर अनशन कर रहे अभ्यर्थियों का रक्तचाप खतरनाक स्तर तक बढ़ने से प्रतियोगियों आक्रोश रहा। अपर सचिव अशोक कुमार गुप्ता ने चार सूत्रीय मांगों को शासन को भेज दिया है। अभ्यर्थियों की मांगे पूरा करने के आश्वासन पर बीएड उत्थान जन मोर्चा व टीईटी-बेरोजगार संघ के पदाधिकारियों ने अनशन को खत्म कर दिया है। 


आंदोलन के पांचवे दिन शिक्षा निदेशालय में अनशन बैठे अखिलेश की तबियत बिगड़ गई थी,उन्हें बेसिक शिक्षा परिषद के अपर सचिव ने जूस पिलाकर अनशन समाप्त कराया। उन्होंने कहा कि आरटीई एक्ट व एनसीटीई के प्रावधानों को लागू कराने की सरकार की प्रतिबद्धता है और माध्यमिक विद्यालयों में इन प्रावधानों का अनुपालन कराने के लिए बेसिक शिक्षा परिषद की नियमावली में संशोधन की मांग पूरी तौर पर जायज है और युवाओं को उम्मीद करनी चाहिए कि शासन उनकी मांगे पूरी की जाएंगी।


 अभ्यर्थी अखिलेश यादव, स्वराज अभियान के प्रदेश कार्यसमिति सदस्य राजेश सचान ने खाली पदों पर भर्तियां शुरू करने किया गया वादा कहीं एक और जुमला न साबित हो। यहां सिकंदर सिंह, हरेंद्र सिंह, सतेंद्र सिंह, छैया कुशवाहा, संगीता, उदय सिंह लोधी, राजेश गुप्ता, अशोक महादेव, उमा शंकर मौजूद रहे।


Friday, August 25, 2017

टीईटी बेरोजगारों को मिला संगठनों का समर्थन, भर्ती प्रक्रिया शुरू करने को लेकर शिक्षा निदेशालय में चल रहा है आमरण अनशन

टीईटी बेरोजगारों को मिला संगठनों का समर्थन, भर्ती प्रक्रिया शुरू करने को लेकर शिक्षा निदेशालय में चल रहा है आमरण अनशन।।

Wednesday, August 23, 2017

शिक्षामित्रों का आंदोलन खत्म,  सीएम योगी से डेढ़ घंटे की चर्चा के बाद तीन सदस्यीय कमेटी शिक्षामित्रों के प्रत्यावेदन पर करेगी विचार, आश्रम पद्दति की तरह समान कार्य समान वेतन के फ़ार्मूले का मिला आश्वासन

■ लखनऊ-शिक्षामित्रों का आंदोलन खत्म,  सीएम योगी से डेढ़ घंटे की चर्चा के बाद तीन सदस्यीय कमेटी शिक्षामित्रों के प्रत्यावेदन पर करेगी विचार, आश्रम पद्दति की तरह समान कार्य समान वेतन के फ़ार्मूले का मिला आश्वासन ।

★ शिक्षामित्रों ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मुलाकात के बाद  आंदोलन स्थगित कर दिया है। मुख्यमंत्री ने समान कार्य, समान वेतन की मांग पर विचार करने का आश्वासन दिया है। 


★ वहीं इनकी मांगों पर विचार करने के लिए विभागीय अपर मुख्य सचिव राज प्रताप सिंह, प्रमुख सचिव सूचना अवनीश अवस्थी और लखनऊ के जिलाधिकारी कौशल राज शर्मा की कमेटी भी बनाई है। शिक्षा मित्रों ने मुख्यमंत्री से अनुरोध किया था कि वह उनके सामने अपनी पीड़ा व्यक्त करना चाहते हैं। लिहाजा मुख्यमंत्री ने बुधवार को शिक्षामित्रों से मुलाकात की। एक घण्टे से ज्यादा चली मुलाकात में शिक्षा मित्रों की ओर से आदर्श शिक्षा मित्र वेलफेयर एसोसिएशन के प्रदेश अध्यक्ष जितेन्द्र शाही और उप्र प्राथमिक शिक्षा मित्र संघ के प्रदेश अध्यक्ष गाजी इमाम आला समेत कई नेता मौजूद रहे। शिक्षामित्रों ने मांग रखी है कि आश्रम पद्धति के स्कूली शिक्षकों की तरह  समान कार्य, समान वेतन पर सहमति दिया जाए। 



★ आश्रम पद्धति के स्कूलों में 11 माह 29 दिन का मानदेय दिया जाता है।  मुख्यमंत्री ने कहा कि कमेटी इस पर विचार करेगी। वहीं योगी आदित्यनाथ ने अगले तीन दिनों में बैठक कर शिक्षामित्रों की मांगों पर विचार करने के निर्देश भी दिए। शिक्षामित्र 17 से 19 अगस्त तक जिलों में प्रदर्शन कर  21 अगस्त से लखनऊ में डेरा डाले थे। लखनऊ के लक्ष्मण मेला स्थल पर शिक्षामित्रों ने 21-22 अगस्त को सत्याग्रह किया और 23 अगस्त को जेल भरो आंदोलन का कार्यक्रम था लेकिन प्रशासन ने शिक्षा मित्रों से इंतजार करने को कहा और बताया कि मुख्यमंत्री मुलाकात के लिए समय दे सकते हैं। लिहाजा गिरफ्तारियां नहीं हो पाईं।




■ लखनऊ शिक्षामित्र अपडेट : शिक्षामित्रों का प्रदर्शन, सीएम योगी से मिल सकते हैं। शिक्षामित्रों के अनुसार सीएम योगी ने 4 बजे मिलने का दिया समय।





 शिक्षामित्र-संकट पर एमएलसी देवेन्द्र प्रताप सिंह ने अपर मुख्य सचिव को लिखा पत्र : टीईटी पास शिक्षामित्रों को अध्यापक के रूप में नियुक्त किया जाए , शेष को स्कूल व्यवस्थापक का पद सृजित कर किया जाए समायोजित


■ लखनऊ-शिक्षामित्रो को समझना चाहिए ये निर्णय सरकार का नहीं है,शिक्षामित्रों की तकलीफ हम समझ रहे हैं, निवारण में जुटे हैं-डिप्टी सीएम केशव मौर्य का बयान।



■ शिक्षामित्र प्रदर्शन : आज तीसरे दिन भी लक्षमण मेला मैदान में डटे हैं।  2 बजे गिरफ्तारी देने जाएंगे हजरतगंज।
■ शिक्षामित्र प्रदर्शन : शिक्षामित्रों के मामले में सरकार सख्त, गिरफ्तारी के लिए लगाई गई 200 बसें, आज करेंगे जेल भरो आंदोलन।


Tuesday, August 22, 2017

नजीर बना शिक्षामित्रों का प्रदर्शन, कई संगठनों ने दिया समर्थन तो शांति से अनशन की बनाई राह, विधानसभा नहीं घेरने का मंच से किया एलान

सेल्फी से हाजिरी
पहली बार ऐसा हुआ, जब किसी प्रदर्शन में पहुंचे लोगों को अपनी हाजिरी साबित के लिए जिलाध्यक्ष को सेल्फी भेजने के लिए कहा गया था। बाद में जिलाध्यक्षों को डिजिटल हाजिरी का यह डेटा प्रदेश कमिटी को भेजना है।

अव्यवस्था से जूझे
इंटेलिजेंस ने करीब 60 हजार शिक्षामित्रों के आने की आशंका जताई थी। इसके बावजूद न कहीं बैरिकेडिंग की गई, न डायवर्जन। लक्ष्मण मेला मैदान में पीने के पानी की पर्याप्त व्यवस्था नहीं की गई, न मोबाइल शौचालय वैन थी। पानी के सिर्फ तीन टैंकर थे। शिक्षा मित्रों को इसमें से खुद पानी निकालना पड़ा।

संगठनों का समर्थन
उप्र प्राथमिक शिक्षामित्र संघ के प्रांतीय संगठन मंत्री श्रीराम द्विवेदी ने बताया कि अब तक उप्र प्राथमिक शिक्षक संघ, जूनियर शिक्षक संघ, उप्र कर्मचारी परिषद, किसान यूनियन समर्थन दे चुके हैं। राज्य कर्मचारी संयुक्त परिषद जेएन तिवारी गुट ने 11 सितंबर को प्रस्तावित एनक्सी घेराव में शिक्षा मित्रों की मांगें शामिल की हैं।

नजीर बन गया प्रदर्शन
शिक्षामित्रों का शांतिपूर्ण प्रदर्शन दूसरे संगठनों के लिए नजीर बन गया। सूत्रों के मुताबिक, कोर कमिटी ने सभी जिलाध्यक्षों को शांति बनाए रखने की सलाह दी थी। आयोजकों ने मंच से ही कहा कि वह न विधानभवन घेरेंगे, न ही किसी अधिकारी से बात। उनका लक्ष्य है कि सीएम से बात करवाई जाए।

और शिक्षामित्रों के सत्याग्रह की राह में हमसफर बना पूरा परिवार, कहीं पति तो कहीं बच्चे भी आये साथ

और शिक्षामित्रों के सत्याग्रह की राह में हमसफर बना पूरा परिवार, कहीं पति तो कहीं बच्चे भी आये साथ।


प्रदर्शन में कई महिला शिक्षामित्रों के साथ उनके पति भी शामिल हुए। सिर्फ इसलिए कि धरना स्थल तक पहुंचने और प्रदर्शन के दौरान उन्हें कोई तकलीफ न हो। इसके अलावा कई शिक्षामित्र ऐसी भी थीं, जिन्हें अपने बच्चों को भी साथ लाना पड़ा।





■  दुकान बंद कर साथ आए पति
बदायूं की नीलम गुप्ता अपने पति सर्वेश चन्द्र संग आईं। उन्होंने बताया कि धरने के कारण पति को अपनी दुकान बंद करनी पड़ी। यही नहीं, तीन बच्चों को पड़ोसियों के जिम्मे छोड़कर आना पड़ा है। बस से लखनऊ आईं नीलम ने कहा कि अब वह अध्यादेश जारी होने पर ही घर लौटेंगी।



■ डेढ़ साल के बच्चे को साथ लाना पड़ा
बहराइच की हफीजा बेगम पति मोहम्मद हनीफ संग आईं। उनके पति पेशे से दर्जी हैं। उन्हें भी अपनी दुकान इस धरने के लिए बंद करनी पड़ी और दो बच्चों को पड़ोसियों के भरोसे छोड़ कर आना पड़ा, जबकि डेढ़ साल के तीसरे बच्चे को मजबूरी में साथ लाना पड़ा। 




■ हरदोई से बाइक से आए दंपती
हरदोई की रीता देवी अपने पति प्रमोद कुमार संग धरना स्थल पहुंचीं। उनके पति उन्हें मोटरसाइकिल से धरना स्थल तक लाए। बताया कि उन्होंने यात्रा ढाई घंटे में पूरी की। उनके पति पेशे से किसान हैं। उन्होंने कहा कि जब तक शिक्षामित्रों की मांग पूरी नहीं होती, तब तक धरने से नहीं जाएंगे।




■ दादा-दादी की देखरेख में बच्चे
उन्नाव की प्रियंका मिश्रा पति नीलेश के साथ आईं। पेशे से सीए नीलेश ने बताया कि भले ही उन्हें कुछ दिन के लिए अपना काम बंद रखना पड़े, वह धरने में पत्नी का साथ जरूर देंगे। बताया कि इस संघर्ष में उनके माता-पिता भी अहम भूमिका अदा कर रहे हैं। दोनों की गैरमौजूदगी में बच्चों को देखभाल वही कर रहे हैं।


Monday, August 21, 2017

बीएड व टीईटी पास बेरोजगारों का निदेशालय पर आज से आमरण अनशन, मांगों को मंगवाने के लिए अड़े

बीएड व टीईटी पास बेरोजगारों का निदेशालय पर आज से आमरण अनशन, मांगों को मंगवाने के लिए अड़े।


Friday, August 11, 2017

टीईटी बेरोजगारों ने आमरण अनशन के लिए जनसंपर्क के दौरान सरकार पर चयन प्रक्रिया को बाधित करने का लगाया आरोप , 21 से निदेशालय पर शुरु होगा अनशन

टीईटी बेरोजगारों ने आमरण अनशन के लिए जनसंपर्क के दौरान सरकार पर चयन प्रक्रिया को बाधित करने का लगाया आरोप , 21 से निदेशालय पर शुरु होगा अनशन

Tuesday, June 6, 2017

समान शिक्षा के लिए 19 जून से अनशन, सन्दीप पांडेय द्वारा कोर्ट के आदेश को लागू करने की मांग


समान शिक्षा के लिए 19 जून से अनशन, सन्दीप पांडेय कोर्ट के आदेश को लागू करने की मांग