DISTRICT WISE NEWS

अंबेडकरनगर अमरोहा अमेठी अलीगढ़ आगरा आजमगढ़ इटावा इलाहाबाद उन्नाव एटा औरैया कन्नौज कानपुर कानपुर देहात कानपुर नगर कासगंज कुशीनगर कौशांबी कौशाम्बी गाजियाबाद गाजीपुर गोंडा गोण्डा गोरखपुर गौतमबुद्ध नगर गौतमबुद्धनगर चंदौली चन्दौली चित्रकूट जालौन जौनपुर ज्योतिबा फुले नगर झाँसी झांसी देवरिया पीलीभीत फतेहपुर फर्रुखाबाद फिरोजाबाद फैजाबाद बदायूं बरेली बलरामपुर बलिया बस्ती बहराइच बागपत बाँदा बांदा बाराबंकी बिजनौर बुलंदशहर बुलन्दशहर भदोही मऊ मथुरा महराजगंज महोबा मिर्जापुर मीरजापुर मुजफ्फरनगर मुरादाबाद मेरठ मैनपुरी रामपुर रायबरेली लखनऊ लख़नऊ लखीमपुर खीरी ललितपुर वाराणसी शामली शाहजहाँपुर श्रावस्ती संतकबीरनगर संभल सहारनपुर सिद्धार्थनगर सीतापुर सुलतानपुर सुल्तानपुर सोनभद्र हमीरपुर हरदोई हाथरस हापुड़
Showing posts with label फतेहपुर. Show all posts
Showing posts with label फतेहपुर. Show all posts

Sunday, February 21, 2021

फतेहपुर : शिक्षक संगठन तमाम; पर लटके हैं बेसिक शिक्षकों के कई काम

फतेहपुर : शिक्षक संगठन तमाम; पर लटके हैं बेसिक शिक्षकों के कई काम


नहीं हो रहे अब भी यह काम

▪️एक दशक बाद भी प्राथमिक सहायक शिक्षकों का प्रमोशन नहीं

▪️सैकड़ों शिक्षकों का वेतन बकाया अब भी बांकी शैक्षिक अभिलेखों के सत्यापन में नहीं दिखी तेजी। 

▪️प्रत्येक माह शिक्षकों को नहीं दी जाती वेतन पर्ची

▪️पेंशन, जीपीएफ एवं एनपीएस सम्बन्धी समस्याएं भी बरकरार 

▪️संख्या बल अधिक होने के बावजूद माशिसं से कमतर है बेसिक संघ 

▪️परिषदीय शिक्षकों को विधान परिषद में प्रतिनिधित्व की मांग

फतेहपुर : जिले में यूं तो शिक्षकों के कई संगठन हैं लेकिन शिक्षकों की समस्याएं विभिन्न मसलों पर जस की तस बनी हुई हैं। वेतन, एरियर, प्रमोशन जैसे कई मामलों पर संगठन शिक्षकों की मांग को पूरी नहीं करा सकें। सूत्र बताते हैं कि ये संगठन शिक्षकों की समस्याओं को लड़ने की बजाए अपने वर्चस्व की जंग लड़ते हैं।


जिले में इस समय प्राथमिक शिक्षक संघ के अलावा जूनियर संघ, अटेवा संघ, और राष्ट्रीय शैक्षिक महासंघ जैसे शिक्षक संगठन हैं जो बेसिक शिक्षा विभाग के अधीन सेवारत शिक्षकों की समस्याओं के लिए संघर्ष करने का जिम्मा संभाले हुए हैं। अटेवा ने पुरानी पेंशन के लिए जंग छेड़ी है तो वहीं दूसरे संगठन भी स्थानीय स्तर पर वेतन और एरियर के लिए संघर्ष का दावा कर रहे हैं। पिछली शिक्षक भर्तियों के अधीन सेवारत शिक्षकों का वेतन बकाया न मिलना, ससमय सत्यापन न होना और दशक बीतने के बावजूद प्राथमिक सहायक शिक्षकों का प्रमोशन न होना संगठनों को कटघरे में खड़ा कर रहा है।

ज्ञापनों का नहीं मिल सका अब तक फायदा : बीते समय में शिक्षक संगठनों ने अधिकारियों को कई ज्ञापन सौंपे है लेकिन धरातल पर इसका लाभ होता नहीं दिख रहा है।

Saturday, February 20, 2021

फतेहपुर : 70 कम्पोजिट विद्यालय होंगे हाईटेक, सुधरेगी हालत, बनेंगी विद्यालयों में लैब

फतेहपुर : 70 कम्पोजिट विद्यालय होंगे हाईटेक, सुधरेगी हालत, बनेंगी विद्यालयों में लैब

फतेहपुर :  जिले के 70 कंपोजिट विद्यालय हाईटेक होंगे। कक्षा तीन से आठ तक न्यूनतम 180 छात्र संख्या वाले कंपोजिट विद्यालयों का पायलट प्रोजेक्ट के तहत चयन होगा। इनमें गणित, विज्ञान और भाषा की पढ़ाई के लिए विशेष लैब बनाए जाएंगे। बेसिक शिक्षा विभाग ने विद्यालयों के चयन की प्रक्रिया शुरू कर दी है। नीति आयोग ने कक्षा तीन से आठ का शैक्षिक स्तर सुधारने के लिए पायलट प्रोजेक्ट के तहत काम शुरू किया है। इसके लिए देशभर में कुल 10 जिलों का चयन हुआ है। इनमें से छह जिले उत्तर प्रदेश के हैं, जिनमें फतेहपुर भी शामिल है। योजना के तहत कक्षा तीन से आठ तक के छात्र-छात्राओं को गणित, विज्ञान और भाषा की विशेष पढ़ाई की व्यवस्था की जानी है। इसके लिए चयनित 70 कंपोजिट विद्यालयों में इन विषयों की लैब स्थापित की जाएगी।


नीति आयोग का पत्र आते ही बेसिक शिक्षा विभाग ने तय मानक के अनुरूप कंपोजिट विद्यालयों का चयन प्रारंभ कर दिया है। इसमें ऐसे स्कूलों का चयन किया जाना है, जिनमें कक्षा तीन से आठ तक की न्यूनतम छात्र संख्या 180 से कम न हो। साथ ही आठ शिक्षकों की तैनाती हो। स्कूलों का चयन कर नीति आयोग को भेजा जाना है। मार्च के बाद चयनित स्कूलों में काम शुरू हो जाएगा।

बीएसए शिवेंद्र प्रताप सिंह का कहना है कि परिषदीय स्कूलों में गणित, विज्ञान और भाषा की शैक्षिक गुणवत्ता बढ़ाने के लिए नीति आयोग ने काम प्रारंभ कर दिया है। आयोग की मांग के अनुरूप जिले में 70 कंपोजिट विद्यालयों के चयन की प्रक्रिया प्रारंभ कर दी गई है।



क्या हैं कंपोजिट विद्यालय

फतेहपुर : बेसिक शिक्षा विभाग ने एक परिसर में संचालित एक से अधिक विद्यालयों का अलग-अलग अस्तित्व समाप्त करके उनका विलय कर कंपोजिट विद्यालय बना दिया है। इनमें कक्षा एक से लेकर आठ तक की कक्षाएं संचालित होती हैं। सिर्फ एक प्रधानाध्यापक और शेष सभी सहायक अध्यापक होते हैं।

Friday, February 19, 2021

फतेहपुर : सात ब्लाकों में 62 स्कूल कंडम, 33 ढहाए गए, छह ब्लाकों की सत्यापन सूची आना शेष

फतेहपुर : सात ब्लाकों में 62 स्कूल कंडम, 33 ढहाए गए, छह ब्लाकों की सत्यापन सूची आना शेष

फतेहपुर : बेसिक शिक्षा विभाग जर्जर स्कूलों को कंडम घोषित कराने की तैयारियों में जुटा है। चिह्नित 279 स्कूलों का सत्यापन तकनीकी कमेटी से कराने का काम जारी है। अब तक सात ब्लाकों से आई सूची में 62 स्कूल कंडम घोषित किए गए हैं। इनमें 33 भवनों को ढहाया जा चुका हैं।


बेसिक शिक्षा विभाग ने जिलेभर के कुल 2650 परिषदीय स्कूलों में 278 स्कूल भवन जर्जर चिहित किए थे। यह सूची जिला तकनीकी कमेटी को सत्यापन के लिए डीएम के माध्यम से सौंपी गई थी। कमेटी ने अब तक तेलियानी, मलवां, अमौली, देवमई, असोथर, विजयीपुर, धाता ब्लाकों के 62 स्कूल भवनों को कंडम घोषित कर सूची बीएसए को सौंपी है। बेसिक शिक्षा विभाग ने इन भवनों को नीलाम कर दिया है। नीलाम स्कूलों में 33 भवन ढहा दिए गए हैं इनका मलबा उठाया जा रहा है। 29 स्कूल भवन चालू महीने के अंत तक ढहा दिए जाएंगे। खास बात यह है कि कंडम स्कूल भवन ढहाए तो जा रहे हैं, लेकिन यहां पढ़ने वाले बच्चे कहां बैठाकर पढ़ाए जाएंगे, इसके लिए विभाग के पास कोई ठोस जवाब नहीं है।

Tuesday, February 16, 2021

फतेहपुर : प्रेरणा ज्ञानोत्सव मनाएगा बेसिक शिक्षा विभाग

फतेहपुर : प्रेरणा ज्ञानोत्सव मनाएगा बेसिक शिक्षा विभाग

फतेहपुर : एससीईआरटी सहायक निदेशक ने सोमवार को तेलियानी और हसवा ब्लाक संसाधन केंद्र का निरीक्षण किया। इस दौरान शिक्षकों को अभिभावकों से सामंजस्य बनाकर बच्चों को स्कूल बुलाने के लिए राजी करने के निर्देश दिए। इसके बाद बीएसए कार्यालय में बीईओ के साथ बैठक कर प्रेरणा ज्ञानोत्सव को मनाने के निर्देश दिए।


सहायक निदेशक राघवेंद्र सिंह बघेल ने तेलियानी ब्लाक के उच्च प्राथमिक विद्यालय मिश्रामऊ, अलादातपुर, बिलंदा और हसवा ब्लाक के उच्च प्राथमिक विद्यालय हसवा और ब्लाक संसाधन केंद्र का निरीक्षण किया।

निरीक्षण के दौरान सहायक निदेशक ने कोविड 19 की गाइड लाइन का पालन करते हुए कक्षाएं संचालित करने के निर्देश दिए। इस दौरान स्कूलों में सफाई, रखरखाव की व्यवस्था भी देखी।

शिक्षकों को अभिभावकों से समन्वय स्थापित कर बच्चों को शैक्षिक सुविधा मुहैया कराने के निर्देश दिए। इसके बाद सहायक निदेशक ने बीएसए कार्यालय में सभी बीईओ और समन्वयकों के साथ बैठक की।
बैठक में प्रेरणा ज्ञानोत्सव आयोजित करने के संबंध में चर्चा की। उन्होंने कहा कि प्रेरणा लक्ष्य प्राप्त करने के लिए बीईओ को एक टीम लीडर के रूप में अपने आप को विकसित करना होगा।

उन्होंने एआरपी, संकुल के शिक्षक और प्रधानाध्यापकों को कर्तव्य निष्ठा के साथ काम करने को कहा। बैठक में बीईओ मुख्यालय राकेश सचान समेत सभी बीईओ मौजूद रहे।

Tuesday, February 9, 2021

फतेहपुर : 350 सरकारी स्कूलों में अभी भी पीने का पानी नहीं, दो साल में भी कायाकल्प योजना नहीं सुधार पाई हालात

फतेहपुर : 350 सरकारी स्कूलों में अभी भी पीने का पानी नहीं, दो साल में भी कायाकल्प योजना नहीं सुधार पाई हालात


फतेहपुर :  बात चिंता की है और बेसिक शिक्षा विभाग की कार्यप्रणाली पर सवाल भी उठाती है। परिषदीय स्कूलों को मूलभूत सुविधाओं से संतृप्त करने के लिए दो साल पहले शुरू की गई कायाकल्प योजना बीच रास्ते ही दम तोड़ने लगी। आज तक इस योजना से एक भी विद्यालय संतृप्त नहीं हो सका। जिले के 350 विद्यालय तो ऐसे हैं जहां पीने के पानी तक की व्यवस्था नहीं है।


बड़ी उम्मीदों के साथ दो साल पहले लांच की गई यह योजना सरकारी अव्यवस्था की भेंट चढ़ गई। प्रधानों की भी बड़ी भूमिका तय की गई थी लेकिन उन्होंने भी इसमें कोई रुचि नहीं ली। योजना के तहत स्कूलों में संसाधन जुटाने के साथ सुंदरीकरण के काम कराने थे। पीने के पानी से लेकर रंगाई पुताई, फर्नीचर, शौचालय आदि की व्यवस्था की जानी थी। लेकिन जिले के 2650 स्कूलों में एक भी संतृप्त नहीं हुआ। 323 विद्यालयों में बालक, 248 में बालिका के लिए शौचालय नहीं हैं। 746 स्कूलों में वाटर हार्वेस्टिंग सिस्टम नहीं है। 1534 स्कूलों के शौचालयों में टायल्स नहीं लगे हैं। 101 स्कूलों में नि:शक्तों के लिए अलग से शौचालयों की व्यवस्था नहीं हो पाई है। 200 स्कूलों की अभी तक रंगाई पुताई तक नहीं कराई गई है। 600 स्कूलों में नि:शक्तों के लिए अभी तक रैंप नहीं बनाए गए हैं। 455 स्कूलों में वायरिंग नहीं है।

बेसिक शिक्षा विभाग के डीसी निर्माण एमएल वर्मा ने बताया कि शासन से जारी कायाकल्प योजना के मानक जिले के गिने चुने विद्यालयों में पूरे होंगे। बार-बार डीएम के माध्यम से पंचायत राज विभाग को लिखा पढ़ी कराने के बावजूद परिषदीय स्कूलों में संसाधनों की कमी है। ग्राम पंचायतों का कार्यकाल खत्म होने के बाद कुछ स्कूलों में प्रशासकों ने सुंदरीकरण काम शुरू कराया है। इसकी भी रिपोर्ट मांगी जा रही है।

एडेड स्कूलों को नहीं मिला लाभ
बेसिक शिक्षा विभाग के 50 एडेड स्कूलों को कायाकल्प योजना से बाहर रखा गया है। इन विद्यालयों में कार्यरत शिक्षकों के वेतन भत्ते के साथ छात्राओं को मिलने वाली अन्य सभी सुविधाएं तो मिलती हैं, लेकिन स्कूल भवनों की हालत बदतर है। इन स्कूलों को कायाकल्प योजना की पूरी तरह से दरकार हैै।

स्कूल के ऊपर से गुजरी लाइन हटाने का प्रावधान नहीं
कुछ परिषदीय स्कूलों को कायाकल्प योजना का लाभ भले ही मिला हो, लेकिन यहां पर पढ़ने वाले बच्चे असुरक्षित हैं। नगर क्षेत्र का प्राथमिक और उच्च प्राथमिक विद्यालय सथरियांव के ऊपर से एचटी लाइन गुजरी है। स्कूल में पढ़ने वाले बच्चों की जान को हर समय खतरा बना रहता है, लेकिन कायाकल्प योजना में इस समस्या के निराकरण का कोई प्रावधान नहीं है।


Saturday, February 6, 2021

फतेहपुर : शिक्षा विभाग से प्रधानों को लेना होगा नो-ड्यूज प्रमाण पत्र, कार्यकाल समाप्ति के बाद अदेयता प्रमाण पत्र लेना हुआ आवश्यक, आवंटित धनराशि का हिसाब पूरा होने के बाद मिलेगा प्रमाण पत्र

फतेहपुर : शिक्षा विभाग से प्रधानों को लेना होगा नो-ड्यूज प्रमाण पत्र, कार्यकाल समाप्ति के बाद अदेयता प्रमाण पत्र लेना हुआ आवश्यक, आवंटित धनराशि का हिसाब पूरा होने के बाद मिलेगा प्रमाण पत्र

फतेहपुर : कार्यकाल समाप्त होने के बाद ग्राम प्रधानों को अब शिक्षा विभाग अदेयता प्रमाण पत्र जारी करेगा। शिक्षा विभाग इस बात की पुष्टि करेगा कि ग्राम प्रधानों के पास विद्यालय से संबंधित कोई वस्तु व मिड डे मील के तहत खाद्यान्न शेष नहीं बचा है। मिड डे मील के संचालन में ग्राम प्रधानों का हस्तक्षेप समाप्त होने के साथ प्रशासन ने विद्यालय प्रबंध समिति के सहयोग से मिड डे मील का संचालन जारी रखने के भी निर्देश दिए हैं।




बीएसए शिवेन्द्र प्रताप सिंह ने बताया कि मध्यान्ह भोजन योजना व सर्व शिक्षा अभियान के तहत विद्यालयों को आवंटित धनराशि के खर्च में ग्राम प्रधानों का भी हस्तक्षेप रहता था। ग्राम प्रधान व प्रधान शिक्षक के संयुक्त हस्ताक्षर के जरिए ही धनराशि खर्च होती थी। कार्यकाल समाप्त होने के बाद सभी ग्राम प्रधानों को निर्देश दिए गए थे कि वह उपलब्ध खाद्यान्न व परिवर्तन लागत की धनराशि विभाग को सौंप दें। शासन ने निर्देश दिए थे कि इस बात की पुष्टि कर ली जाए कि किसी भी प्रधान के पास विद्यालय की कोई देयता नहीं बची है। इसके लिए प्रत्येक स्कूल के प्रधान शिक्षकों को जिम्मेदारी सौंपी गई है कि वह खाद्यान्न व किसी भी मद की आवंटित शासकीय धनराशि देय हो तो उसकी वसूली तत्काल करा लें। विद्यालय की कोई सामग्री यदि प्रधान के पास है तो उसे भी वापस लें। इसके बाद प्रधानों को अदेयता प्रमाण पत्र जारी किया जाए।

Wednesday, February 3, 2021

फतेहपुर : बेसिक शिक्षा विभाग ने 26 चतुर्थ श्रेणी कर्मचारियों को कराया CCC कंप्यूटर दक्षता कोर्स

फतेहपुर : बेसिक शिक्षा विभाग ने 26 चतुर्थ श्रेणी कर्मचारियों को कराया CCC कंप्यूटर दक्षता कोर्स


फतेहपुर : बेसिक शिक्षा विभाग ने ब्लाकों में लिपिक का काम करने के लिए संबद्ध 26 चतुर्थ श्रेणी कर्मचारियों को कोर्स ऑन कंप्यूटर कांसेप्ट (ट्रिपल सी) का कोर्स कराया हैं।



अब ये सभी कर्मचारी लिपिकीय काम करने के लिए पात्र बन गए हैं। मंगलवार को बीएसए शिवेंद्र प्रताप सिंह ने इन सभी कर्मचारियों को प्रमाणपत्र वितरित किए।
बेसिक शिक्षा निदेशक के आदेश पर एक साल पहले हर ब्लाक में स्नातक या इंटरमीडिएट कंप्यूटर का ज्ञान रखने वाले तीन-तीन चतुर्थ श्रेणी कर्मचारियों को संबद्ध करने के आदेश दिए थे।


पात्रता के अभाव में विजयीपुर, हथगाम, भिटौरा ब्लाक में एक भी कर्मचारी नहीं मिला था। कई ब्लाकों में तीन-तीन कर्मचारी नहीं मिल पाए थे।
ऐसे में पूरे जिले में कुल 26 चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी ही संबद्ध हो पाए थे। इन्हें शासन के निर्देश पर लिपिक पात्रता का विभागीय कंप्यूटर प्रशिक्षण ट्रिपल सी कराया गया हैं। इन सभी कर्मियों को मंगलवार को बीएसए शिवेंद्र प्रताप सिंह ने प्रमाण पत्र वितरित किए।

Tuesday, February 2, 2021

फतेहपुर : दोआबा छोड़ने वाले मास्साब 365 तो अब 487 देंगे दस्तक

फतेहपुर : दोआबा छोड़ने वाले मास्साब 365 तो अब 487 देंगे दस्तक

फतेहपुर : बेसिक शिक्षा विभाग द्वारा संचालित परिषदीय स्कूलों में तैनात शिक्षकों के मनचाहे जिले में जाने का इंतजार लगभग समाप्त हो गया है। सोमवार को नगर के क्षेत्र के यूआरसी समेत सभी बीआरसी में तबादला चाहने वाले शिक्षकों के नियुक्ति के समय जमा किए गए मूल प्रमाण पत्रों को वितरण किया गया | मंगलवार को सम्बंधित शिक्षकों को विभाग कार्यमुक्त करने की प्रक्रिया को पूरी करेगा।


लम्बे समय से विचाराधीन अंर्तजनपदीय तबादला प्रक्रिया अब गति पकड़ चुकी है। तबादला के तहत जिले से 365 शिक्षक शिक्षिकाएं नाता तोड़कर जाएंगे तो वहीं इनसे अधिक 487 शिक्षक जिले में दस्तक देंगे। सोमवारको नगर क्षेत्र के यूआरसी भवन में नियुक्ति के समय जमा किए गए मूल प्रमाण पत्रों को लेने के लिए शिक्षक शिक्षिकाओं की भीड़ रही ।

डीसी अशोक त्रिपाठी ने बताया कि करीब डेढ़ सौ शिक्षक शिक्षिकाओं ने यूआरसी से अपने मूल प्रमाण पत्र प्राप्त कर लिया है । इसी तरह से ब्लाक स्तर पर भी खंड शिक्षाधिकारियों के नेतृत्व में प्रक्रिया को अंजाम दिया गया। यूआरसी में बीईओ मुख्यालय राकेश सचान, डीसी अरुण मिश्रा समेत अन्य विभागीय कर्मचारी प्रमाण पत्र वितरण में लगे रहे।

आज कार्यमुक्त किए जाएंगे शिक्षक : अंर्तजनपदीय तबादला को लेकर आज यानि मंगलवार को गैर जिला जाने वाले शिक्षक शिक्षिकाओं को कार्यमुक्त किया जाएगा नगर क्षेत्र के यूआरसी भवन से सम्बंधित शिक्षकों को कार्यमुक्त की प्रक्रिया पूरी होगी । बीएसए शिवेन्द्र प्रताप सिंह ने बताया कि मंगलवार व बुधवार तक सभी 365 शिक्षकों को कार्यमुक्त कर दिया जाएगा।

फतेहपुर : अन्तर्जनपदीय स्थानांतरित शिक्षकों को कार्यालय में जमा मूल अभिलेख की वापसी शुरू

फतेहपुर : अन्तर्जनपदीय स्थानांतरित शिक्षकों को कार्यालय में जमा मूल अभिलेख की वापसी शुरू


नया अपडेट 👇

Monday, February 1, 2021

फतेहपुर : अंतर्जनपदीय स्थानांतरण कार्यमुक्ति/कार्यभार ग्रहण हेतु पत्रावली तैयार करने के संबंध में आवश्यक दिशा निर्देश जारी

फतेहपुर : अंतर्जनपदीय स्थानांतरण कार्यमुक्ति/कार्यभार ग्रहण हेतु पत्रावली तैयार करने के संबंध में आवश्यक दिशा निर्देश जारी।


Saturday, January 30, 2021

फतेहपुर : जनपदीय बेसिक शिक्षा परिषद अवकाश तालिका वर्ष 2021 करें डाउनलोड

फतेहपुर : जनपदीय बेसिक शिक्षा परिषद अवकाश तालिका वर्ष 2021 करें डाउनलोड।


फतेहपुर : पदोन्नति की स्थिति के सम्बन्ध अद्यतन अपडेट जारी

फतेहपुर : पदोन्नति की स्थिति  के सम्बन्ध अद्यतन अपडेट जारी



Tuesday, January 26, 2021

फतेहपुर : ARP के अवशेष पदों पर चयन हेतु विज्ञप्ति जारी, क्लिक करके देखें

फतेहपुर : ARP के अवशेष पदों पर चयन हेतु विज्ञप्ति जारी, क्लिक करके देखें।।


Monday, January 25, 2021

फ़तेहपुर : जिला प्रशासन द्वारा 26 जनवरी 2021 को गणतंत्र दिवस समारोह मनाए जाने हेतु निर्धारित कार्यक्रम व निर्देश जारी

फ़तेहपुर : जिला प्रशासन द्वारा 26 जनवरी 2021 को गणतंत्र दिवस समारोह मनाए जाने हेतु निर्धारित कार्यक्रम व निर्देश जारी।

फतेहपुर : अंतर्जनपदीय स्थानांतरण अंतर्गत कार्यमुक्ति संबंधी विज्ञप्ति, दिशा निर्देश व अधिकृत प्रपत्र जारी

फतेहपुर : अंतर्जनपदीय स्थानांतरण अंतर्गत कार्यमुक्ति संबंधी विज्ञप्ति, दिशा निर्देश व अधिकृत प्रपत्र जारी


Sunday, January 24, 2021

फतेहपुर : मध्यान्ह भोजन योजनान्र्तगत आच्छादित विद्यालयों में अध्ययनरत छात्रों को कोविड-19 के दृष्टिगत कनवर्जन कास्ट उपलब्ध कराये जाने के पश्चात अद्यतन सूचना प्राप्त कराए जाने के संबंध में।

फतेहपुर : मध्यान्ह भोजन योजनान्र्तगत आच्छादित विद्यालयों में अध्ययनरत छात्रों को कोविड-19 के दृष्टिगत कनवर्जन कास्ट उपलब्ध कराये जाने के पश्चात अद्यतन सूचना प्राप्त कराए जाने के संबंध में।



फतेहपुर : मिड डे मील योजना के निर्बाध संचालन हेतु खाता संचालन का दायित्व SMC अध्यक्ष व प्रधानाध्यापक / इंचार्ज के संयुक्त हस्ताक्षर से किये जाने विषयक आदेश जारी

फतेहपुर : मिड डे मील योजना के निर्बाध संचालन हेतु खाता संचालन का दायित्व SMC अध्यक्ष व प्रधानाध्यापक / इंचार्ज के संयुक्त हस्ताक्षर से किये जाने विषयक आदेश जारी

Saturday, January 23, 2021

फतेहपुर : समाप्त हो सकता हैं 83 परिषदीय स्कूलों का अस्तित्व, 30 छात्र संख्या वाले स्कूल बंद करने के फैसले से हड़कंप

फतेहपुर : समाप्त हो सकता हैं 83 परिषदीय स्कूलों का अस्तित्व, 30 छात्र संख्या वाले स्कूल बंद करने के फैसले से हड़कंप

फतेहपुर : जिले में 83 परिषदीय स्कूलों का अस्तित्व समाप्त होगा। इन स्कूलों के शिक्षक नजदीकी स्कूलों में समायोजित किए जाएंगे। बच्चों को नजदीकी परिषदीय या निजी स्कूलों में प्रवेश दिलाया जाएगा।


जिले में 2130 परिषदीय स्कूल संचालित हैं। इनमें 266 उच्च प्राथमिक, 1384 प्राथमिक और 480 कंपोजिट विद्यालय शामिल हैं। इनमें 83 स्कूल छात्र संख्या कम होने के कारण बंद हो सकते हैं।

शासन के 0-30 छात्र संख्या वाले परिषदीय स्कूल बंद करने के निर्णय से परिषदीय शिक्षकों में हड़कंप मच गया है। लंबे अरसे से इन स्कूलों में जमे शिक्षकों को अब दूर के स्कूलों में जाकर नौकरी करनी पड़ सकती है। ऐसे में इन स्कूलों में नियुक्त 100 से अधिक शिक्षकों की चिंताएं बढ़ गई हैं।

बीएसए शिवेंद्र प्रताप सिंह ने बताया कि अभी सिर्फ समाचार पत्रों में यह खबर छपी है। विभाग से ऐसा कोई निर्देश प्राप्त नहीं हुआ है। ऐसा आवश्यक नहीं है कि स्कूल बंद करने का फैसला लागू ही हो।उन्होंने जिले में कुछ स्कूलों की छात्र संख्या न्यून होने की बात  स्वीकार की है।


कंपोजिट श्रेणी मिलने से 150 स्कूल बंद होने से बचे

जिले में कंपोजिट स्कूल बनने के पहले सिर्फ प्राथमिक और उच्च प्राथमिक दो श्रेणी के कुल मिलाकर स्कूलों की संख्या 2650 थी एक ही परिसर में संचालित कई स्कूलों को मिलाकर कंपोजिट स्कूल बना दिया गया है। ऐसे में 0-30 छात्र संख्या वाले दो स्कूलों की संख्या मिलाकर बंद होने की सीमा रेखा पार कर ली है। सूत्रों की मानें, तो उस दरम्यान करीब ढाई सौ स्कूल इस बंदी के दायरे में शामिल होते।

फतेहपुर : 220 विद्यालयों को सात करोड़ की 'संजीवनी', चलेंगी स्मार्ट क्लासेज

फतेहपुर : 220 विद्यालयों को सात करोड़ की 'संजीवनी', चलेंगी स्मार्ट क्लासेज

फतेहपुर :  मूलभूत सुविधाओं से वंचित और जर्जर इमारतों में संचालित शहरी क्षेत्र के 220 परिषदीय विद्यालयों को 'संजीवनी' मिलने जा रही है। पूर्व जिलाधिकारी संजीव सिंह की ओर से भेजे गए प्रस्तावों पर केंद्र सरकार के नीति आयोग ने मंजूरी की मुहर लगा दी है। जिसके तहत शहरी क्षेत्र के 220 परिषदीय विद्यालयों के रंग रोगन कराने से लेकर उनका संपूर्ण कायाकल्प कराया जाएगा। जल्द ही ये सरकारी विद्यालय निजी विद्यालयों को टक्कर देते नजर आएंगे। इसके अतिरिक्त किसानों के लिए बीज भंडारण गृह के निर्माण और प्रेक्षागृह के नवीनीकरण के लिए भी नीति आयोग ने प्रस्तावों को स्वीकृति दी है।


पूर्व डीएम संजीव सिंह के प्रेक्षागृह के नवीनीकरण के लिए भी कार्यकाल के दौरान नीति आयोग की रैंकिंग में फतेहपुर ने अपना स्थान टॉप तीन में बनाया था। जिससे प्रोत्साहन के तौर पर नीति आयोग ने जनपद को 10 करोड़ रुपयों की सौगात दी थी। इस बजट से पूर्व डीएम संजीव सिंह ने शहरी क्षेत्र के 220 परिषदीय विद्यालयों का कायाकल्प कराने, प्रेक्षागृह का नवीनीकरण कराने और औग क्षेत्र में बीज भंडारण गृह बनवाने का प्रस्ताव भेजा था । शुक्रवार को नीति आयोग की बैठक में इन सभी प्रस्तावों को आयोग के मुख्य कार्यकारी अधिकारी अमिताभ कांत ने मंजूरी दे दी। इस बात की पुष्टि मौजूदा जिलाधिकारी अपूर्वा दुबे ने की। उन्होंने बताया कि पूर्व में भेजे गए प्रस्तावों को नीति आयोग से मंजूरी मिली है।

इस तरह से होंगे काम

प्रस्ताव के मुताबिक 7 करोड़ की लागत से शहरी क्षेत्र के 220 परिषदीय विद्यालयों में स्मार्ट क्लास का सेटअप लगाया जाएगा। इसके साथ ही इन सभी विद्यालयों की फर्श में टाइल्स लगवाने से लेकर, इनमें शौचालय बनवाने और इनका रंगरोगन कराने का काम किया जाएगा।



फतेहपुर : 220 स्कूलों में चलेंगी स्मार्ट क्लासेज

फतेहपुर : अति पिछड़ेपन के दाग से मुक्ति के लिए नीति आयोग ने शुक्रवार को जिला प्रशासन के तीन प्रस्तावों पर मुहर लगा दी है। आयोग से हरी झंडी मिलने के बाद जिले के 220 स्कूलों में स्मार्ट क्लासेज का संचालन शुरू होगा। जबकि सौ से अधिक बच्चों वाले 40 विद्यालयों का कायाकल्प होगा।

आयोग के मुख्य कार्यकारी अधिकारी अमिताभ कांत ने शुक्रवार को वीडियो कांप्रेसिंग के जरिए विकास गति के प्रगति पर चर्चा की। डीएम अपूर्वा दुबे ने स्कूलों में स्मार्ट क्लासेज चलाने, स्कूलों के कायाकल्प, बीज के लिए बफर भंडार और ऑडीटोरियम का शुभारंभ किए जाने का प्रस्ताव रखें। आयोग के सीईओ ने उस पर चर्चा करने के उपरांत स्वीकृत दे दी। सीडीओ सत्यप्रकाश ने बताया कि स्वीकृत मिलने के उपरांत 220 स्कूलों में स्मार्ट क्लासेज शुरू करने की तैयारी है। नगरीय क्षेत्र के 40 उन विद्यालयों का कायाकल्प कराया जाएगा। जहां बच्चों की संख्या सौ से अधिक है। वहीं औंग में 500 एमटी क्षमता का बीज स्टोर करने के लिए बफर गोदाम के निर्माण का प्रस्ताव गया था। आयोग ने 200 एमटी क्षमता गोदाम निर्मित कराने को स्वीकृति प्रदान कर दी है। इसी तरह ऑडीटोरियम के शुभारंभ को लेकर भी आयोग से अनुमति प्रदान की जा चुकी है। यहां डीएम सीडीओ के अलावा कृषि उपनिदेशक बृजेश सिंह समेत अधिकारी मौजूद रहे।


Friday, January 22, 2021

फतेहपुर : दो चरणों में जिले को मिले हैं करीब 476 शिक्षक-शिक्षिकाएं, पंचायत चुनाए कराएंगे नए मास्साब, डाटा फीड

फतेहपुर : दो चरणों में जिले को मिले हैं करीब 476 शिक्षक-शिक्षिकाएं, पंचायत चुनाए कराएंगे नए मास्साब, डाटा फीड

फतेहपुर : बेसिक शिक्षा विभाग को मिले करीब 476 शिक्षक-शिक्षिकाओं को पंचायत चुनाव सम्पन्न कराने की जिम्मेदारी मिलेगी। मार्च-अप्रैल में सम्भावित त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव के लिए डाटा फीड किया जा रहा है। कई ब्लॉकों में यह काम जोरों से चल रहा है।


जनपद को पहले चरण में 475 नए सहायक शिक्षक मिले थे। इसमें सभी ने काउंसिलिंग व ज्वाइनिंग ली थी। बाद में एक नए शिक्षक और मिल गए। तकरीबन 476 टीचर ने ज्वानिंग ली। इतने शिक्षक-शिक्षिकाएं मिलने से सरकारी काम करने में दिक्कत नहीं होगी । हालांकि दूसरे चरण में मिले शिक्षकों को अब तक प्राथमिक स्कूल आवंटित नहीं हुए हैं, लेकिन निर्वाचन पत्र पर पूरा ब्योरा नए शिक्षकों से पर ब्योरा नए से भरा लिया गया है। अब वह विवरण ऑनलाइन कम्प्यूटर पर फीड किया जा रहा है। इसमें नाम, पता, बैंक खाता का विवरण, पद व तैनाती स्थल आदि का विवरण दिया जा रहा है। बताया गया है कि सभी आवेदनों को कुछ ब्लॉकों में बांट दिया गया है, जिससे एक स्थान पर काम की अधिकता न रहे। सदर में भी ऑनलाइन फीडिंग का काम चलता रहा।


ज्वाइन करते ही मिली बड़ी जिम्मेदारी

लोकतंत्र में चुनाव अहम व्यवस्था है। बेसिक शिक्षा विभाग में ज्वाइन करने के बाद पंचायत चुनाव के लिए कार्मिकों की ड्यूटी मिलना भी जिम्मेदारी की बात है। कहा जा रहा है कि इससे हर क्षेत्र की जानकारी भी हो जाएगी। मतदान से पहले ट्रेनिंग भी दी जाएगी। इसके लिए शिक्षक काफी उत्सुक भी दिख रहे हैं।

मांगा गया विवरण उपलब्ध करा दिया गया

जिन नए शिक्षकों ने ज्वाइन कर लिया है और ट्रेजरी से भी प्रक्रिया पूरी हो गई है, उनकी ड्यूटी पंचायत चुनाव में लग सकती है। उच्चाधिकारियों द्वारा मांगा गया विवरण उपलब्ध करा दिया गया है।-शिवेन्द्र प्रताप सिंह, बीएसए