DISTRICT WISE NEWS

अंबेडकरनगर अमरोहा अमेठी अलीगढ़ आगरा आजमगढ़ इटावा इलाहाबाद उन्नाव एटा औरैया कन्नौज कानपुर कानपुर देहात कानपुर नगर कासगंज कुशीनगर कौशांबी कौशाम्बी गाजियाबाद गाजीपुर गोंडा गोण्डा गोरखपुर गौतमबुद्ध नगर गौतमबुद्धनगर चंदौली चन्दौली चित्रकूट जालौन जौनपुर ज्योतिबा फुले नगर झाँसी झांसी देवरिया पीलीभीत फतेहपुर फर्रुखाबाद फिरोजाबाद फैजाबाद बदायूं बरेली बलरामपुर बलिया बस्ती बहराइच बागपत बाँदा बांदा बाराबंकी बिजनौर बुलंदशहर बुलन्दशहर भदोही मऊ मथुरा महराजगंज महोबा मिर्जापुर मीरजापुर मुजफ्फरनगर मुरादाबाद मेरठ मैनपुरी रामपुर रायबरेली लखनऊ लख़नऊ लखीमपुर खीरी ललितपुर वाराणसी शामली शाहजहाँपुर श्रावस्ती संतकबीरनगर संभल सहारनपुर सिद्धार्थनगर सीतापुर सुलतानपुर सुल्तानपुर सोनभद्र हमीरपुर हरदोई हाथरस हापुड़
Showing posts with label फतेहपुर. Show all posts
Showing posts with label फतेहपुर. Show all posts

Wednesday, November 25, 2020

फतेहपुर : तम्बाकू मुक्त शैक्षिक संस्थानों (TOFEI) पर बेबीनार के आयोजन के सम्बन्ध में

फतेहपुर : तम्बाकू मुक्त शैक्षिक संस्थानों (TOFEI) पर बेबीनार के आयोजन के सम्बन्ध में।

फतेहपुर : स्कूलों को दिया बिजली विभाग ने अंधेरा, परिषदीय स्कूलों में करेक्शन को दिए गए 5.32 करोड़ दबा गया बिजली विभाग।

फतेहपुर : स्कूलों को दिया बिजली विभाग ने अंधेरा, परिषदीय स्कूलों में करेक्शन को दिए गए 5.32 करोड़ दबा गया बिजली विभाग।

फतेहपुर :  बिजली विभाग के खेल न्यारे हैं। ताजा मामला बेसिक शिक्षा विभाग से जुड़ा है। जिले के 1,550 परिषदीय विद्यालयों में बिजली कनेक्शन, वायरिंग और बिजली उपकरण की व्यवस्था की हुई पड़ताल में बड़ा खुलासा हुआ है। पता चला है कि बिजली विभाग इस मद में दी गई 5.32 करोड़ रुपये की धनराशि ही दबा गया। 1550 स्कूलों के लिए दी गई इस धनराशि से बिजली विभाग ने मात्र 227 में कनेक्शन किए और शेष 1323 स्कूलों को अपने हाल पर छोड़ दिया। यह स्थिति तब है जब बेसिक शिक्षा विभाग ने पहली किस्त 2008-09 में 851 स्कूलों में कनेक्शन के लिए 2 करोड़ 31 लाख 93 हजार 157 दे दी थी। आखिरी किस्त 2012-13 में 138 स्कूलों के लिए 38 लाख 65 हजार 254 रुपये की दी गई थी।


बेसिक शिक्षा विभाग ने 2008-09 से परिषदीय स्कूलों में बिजली कनेक्शन जोड़ने की मुहिम चलाई थी। इसके तहत पहले साल 851 स्कूल, दूसरे साल 2009 10 में 424 और फिर 37 स्कूल, 2011-12 में 100 स्कूल, 2012-13 में 138 स्कूलों में विजली कनेक्शन कराने के लिए एस्टीमेट धनराशि जमा की थी। इसके लिए प्रति स्कूल 26,988 रुपये के हिसाब से धनराशि जमा की गई थी। इसमें प्रति स्कूल 2200 रुपये कनेक्शन शुल्क, 1788 रुपये स्कूल में वायरिंग और 7500 रुपये पंखा और ट्यूबलाइट आदि सामान की खरीदारी के लिए बिजली विभाग को पैसा दिया गया था।


2008-09 से 2012-13 के मध्य इन चार सालों में किस्तों में जमा की इस भारी भरकम धनराशि से 1550 परिषदीय स्कूलों में से सिर्फ 227 में कनेक्शन हुए। बाकी स्कूलों अपने हाल पर छोड़ दिए गए।

बिजली कनेक्शन में हो रही देरी पर बिजली विभाग ने तब अपनी आपत्ति भी दर्ज कराई थी लेकिन बेसिक शिक्षा अधिकारी जैसे-जैसे बदलते गए मामला ठंडे बस्ते में जाता रहा। 2012 में तत्कालीन बीएसए आरपी यादव के तबादले के बाद फिर किसी भी बीएसए ने इस धनराशि के उपयोग को लेकर पता करना मुनासिब नहीं समझा। ऐसे में अब यह धनराशि बिजली विभाग के खजाने में ही गुम हो गई।

पिछले दिनों जब बेसिक शिक्षा विभाग ने परिषदीय स्कूलों में बिजली कनेक्शन के लिए फिर से पड़ताल कराई तो सालों से दबा यह मामला खुलकर सामने आ गया। बीएसए अब बिजली विभाग से हिसाब मांगने की तैयारी कर रहे हैं। जल्द बीएसए की तरफ से अधीक्षण अभियंता को पत्र भेजा जाएगा।

12 साल बाद भी बिजली विभाग परिषदीय स्कूलों में न तो कनेक्शन कर सका और न ही वायरिंग व बिजली उपकरण ही लगा सका। 5.32 करोड़ रुपये का भारी भरकम बजट ही बिजली विभाग दबा गया। यह बेहद गंभीर मामला है। पड़ताल में सारी जानकारी सामने आई है। बिजली विभाग के अधीक्षण अभियंता को पत्र भेजकर इस बारे में जानकारी ली जाएगी। - शिवेंद्र प्रताप सिंह, बीएसए।

जितनी एस्टीमेट धनराशि बेसिक शिक्षा विभाग ने जमा की होगी, उतने कनेक्शन जोड़े गए होंगे। अगर सभी कनेक्शन नहीं जोड़े गए हैं, तो बेसिक शिक्षा विभाग जमा धनराशि की रसीद प्रस्तुत करके शेष स्कूलों के कनेक्शन जुड़वा सकता है। मामला काफी पुराना है, बिना किसी साक्ष्य के कुछ सही बता पाना मुश्किल है।

आनंद कुमार शुक्ला, अधीक्षण अभियंता, बिजली विभाग।

Sunday, November 22, 2020

फतेहपुर : शिक्षा मंत्री द्वारा श्री अरबिंदो सोसाइटी के रूपांतरण कार्यक्रम के अंतर्गत 24 नवम्बर 2020 को आयोजित फेसबुक लाइव कार्यक्रम में अधिकारियों, शिक्षक एवं शिक्षिकाओं के प्रतिभाग करने के सम्बन्ध में

फतेहपुर : शिक्षा मंत्री द्वारा श्री अरबिंदो सोसाइटी के रूपांतरण कार्यक्रम के अंतर्गत 24 नवम्बर 2020 को आयोजित फेसबुक लाइव कार्यक्रम में अधिकारियों, शिक्षक एवं शिक्षिकाओं के प्रतिभाग करने के सम्बन्ध में।

Saturday, November 21, 2020

फतेहपुर : रिक्त 19 पदों के लिए 23 नवम्बर को होगी ARP चयन परीक्षा

फतेहपुर : रिक्त 19 पदों के लिए  23 नवम्बर को होगी ARP चयन परीक्षा।

फतेहपुर : ARP चयन हेतु लिखित परीक्षा में शामिल होने वाले अभ्यर्थियों की सूची एवं प्रवेश पत्र जारी, देखें।

फतेहपुर : बेसिक शिक्षा विभाग ने अकादमिक रिसोर्स पर्सन (एआरपी) के रिक्त 19 पदों को भरने के लिए 23 नवंबर को परीक्षा का आयोजन किया है। राजकीय इंटर कालेज में सुबह 11.30 बजे से दोपहर एक बजे तक चयन परीक्षा होगी। परीक्षा में कुल 22 आवेदक शामिल होंगे।




जिले के परिषदीय स्कूलों की पठन पाठन व्यवस्था में सुधार के लिए बेसिक शिक्षा विभाग में 70 एआरपी के पद सृजित हैं इनमें 51 कार्यरत हैं। पहले हुई चयन परीक्षा में कुल 54 आवेदकों का चयन किया गया था, लेकिन चयन के बावजूद तीन ने ज्वाइन नहीं किया था। इस तरह से रिक्त 19 पदों को भरने के लिए बेसिक शिक्षा विभाग ने दोबारा प्रक्रिया शुरू की है। इन पदों के लिए कुल 22 शिक्षकों ने आवेदन किया है। परीक्षा सुबह 11.30 बजे से दोपहर एक बजे तक होगी। बीएसए शिवेंद्र प्रताप सिंह ने बताया कि परीक्षा की तैयारी पूरी हो गई है। जिला शिक्षा एवं प्रशिक्षण संस्थान ने प्रश्नपत्र तैयार कर लिया है। प्रश्नपत्र जिला शिक्षा एवं प्रशिक्षण संस्थान के डबल लॉक में सुरक्षित हैं। परीक्षा के आधा घंटे पहले प्रश्नपत्र परीक्षा केंद्र भेजे जाएंगे।


Friday, November 20, 2020

फतेहपुर : Digital Classroom Instructional Plan प्रतियोगिता के आयोजन के सम्बन्ध में

फतेहपुर : Digital Classroom Instructional Plan प्रतियोगिता के आयोजन के सम्बन्ध में।



फतेहपुर : आई0सी0टी0 आधारित कक्षा-शिक्षण प्रतियोगिता के सम्बन्ध में।

फतेहपुर : आई0सी0टी0 आधारित कक्षा-शिक्षण प्रतियोगिता के सम्बन्ध में।


फतेहपुर : चयन वेतनमान स्वीकृत आदेश दिनांक 19 नवम्बर 2020 जारी, देखें सूची

फतेहपुर : चयन वेतनमान स्वीकृत आदेश दिनांक 19 नवम्बर 2020 जारी, देखें सूची।




Wednesday, November 18, 2020

फतेहपुर : फोटोग्राफी प्रतियोगिता के सम्बन्ध में आदेश जारी, देखें

फतेहपुर : फोटोग्राफी प्रतियोगिता के सम्बन्ध में आदेश जारी, देखें।


फतेहपुर : नए बर्तनों में भोजन खाएंगे परिषदीय स्कूलों के बच्चे, तीन करोड़ से स्कूलों के किचन शेड होंगे अपडेट।

फतेहपुर : नए बर्तनों में भोजन खाएंगे परिषदीय स्कूलों के बच्चे, तीन करोड़ से स्कूलों के किचन शेड होंगे अपडेट।

फतेहपुर :  परिषदीय स्कूलों के किचनशेड अपडेट करने की तैयारी है। पुराने और जर्जर भोजन पकाने के बर्तन बदलकर आधुनिक तरीके के खरीदे जाएंगे। मध्यान्ह भोजन प्राधिकरण ने तीन करोड़ 35 लाख 45 हजार की धनराशि खर्च करने की योजना बनाई है। प्राधिकरण ने बेसिक शिक्षा विभाग से तीन दिन के अंदर किचन शेडों की स्थिति की रिपोर्ट मांगी है।


जिले भर के 2650 परिषदीय स्कूलों में मध्यान्ह भोजन पकाने के लिए किचन शेड बने हैं। इनमें पुराने बर्तन और बड़ी तादाद में लकड़ी जलित चूल्हों का उपयोग हो रहा है। ऐसे में प्राधिकरण ने सभी शेडों को अपडेट करने का निर्णय लिया है। पुराने जर्जर बर्तन बदलकर नए बर्तनों की खरीद की जाएगी। इसी के साथ गैस सिलेंडर और भट्ठियां खरीदने की योजना है। खाद्यान सुरक्षित रखने के लिए स्टील की टंकियों खरीदी जानी है। इसमें आने वाले खर्च में 201.27 लाख रुपये केंद्र और 134.18 लाख की धनराशि केंद्र सरकार खर्च करेगी। 



मध्यान्ह भोजन प्राधिकरण के निदेशक विजयकरन आनंद ने बीएसए से तीन दिन के अंदर सभी स्कूलों के किचन शेडों की स्थिति की रिपोर्ट मांगी है। जिला समन्वयक आशीष दीक्षित ने बताया कि न्यूनतम छात्र संख्या वाले स्कूल को 10 हजार रुपये का बजट इस योजना में आवंटित किया जाएगा। इसके बाद 51 से 150 तक, 151 से 250 तक तथा 251 से अधिक तक तीन श्रेणियों में स्कूलों का आवंटन कर यह धनराशि मानक के अनुसार आवंटित की जाएगी।

Wednesday, November 11, 2020

फतेहपुर : डीआई कार्यालय का खतरे में अस्तित्व, लिपिकों को बीआरसी से किया गया सम्बद्ध।

डीआइ दफ्तर का अस्तित्व हुआ खत्म, ब्लाकों में बैठेंगे लिपिक।

फतेहपुर : सालों साल से चल रहे डीआइ दफ्तर (खंड शिक्षाधिकारी कार्यालय) में तालाबंदी कर दी गई है। डीआइ कार्यालय का अस्तित्व खत्म हो गया है। डीएम के निर्देश पर बीएसए ने कार्यालय में बैठकर विभागीय कार्य करने वाले लिपिकों को ब्लाक संसाधन कार्यालय (बीआरसी) में बैठने के निर्देश दिए हैं। लिपिक अब मुख्यालय के बजाए ब्लाकों में दायित्व निर्वहन करेंगे। प्रशासन के इस निर्णय से लिपिकों में भारी असंतोष फैल गया है। जिला प्रशासन के निर्णय के विरोध में हड़ताल आदि का बिगुल बज सकता है। अगर राज्य कर्मचारी संयुक्त परिषद इस मामले में दखल देता है तो आने वाले समय में जिला प्रशासन के लिए यह मामला टेढ़ी खीर बन जाएगा।



जिला पंचायत की बिल्डिंग में आजादी के बाद से डीआइ कार्यालय संचालित हो रहा है। जिसमें जिले के 13 ब्लाकों में तैनात शिक्षक-शिक्षिकाओं के तमाम विभागीय कार्य और लेखाजोखा तैयार होता है। हर ब्लाक का लिपिक यहां पर बैठक कर विभागीय कार्य संपादित करता है। करीब आठ माह पूर्व डीएम ने कार्यालय का औचक निरीक्षण किया था। जिसमें बीएसए को निर्देशित किया था कि इस कार्यालय को खत्म कर दिया जाए। ब्लाक कार्यालय में लिपिकों की तैनाती कर दी जाए। लिपिकों के द्वारा सारे कार्य वहीं से संपादित किए जाएं। जिसके क्रम में विभाग ने तालाबंदी कर दी है। बीएसए शिवेंद्र प्रताप सिंह ने बताया कि डीएम के निर्देश पर डीआइ कार्यालय से लिपिकों के बैठकर कार्य संपादन रोक लगा दी गई है। ब्लाकवार तैनाती पाए लिपिक ब्लाक संसाधन कार्यालय में जाकर काम करेंगे। डीआइ कार्यालय से किसी प्रकार का काम नहीं होगा। कार्यालय में तालाबंदी रहेगी। यहां पर रखे अभिलेख ब्लाक संसाधन कार्यालय में ले जाएंगे।


फतेहपुर : डीआई कार्यालय का खतरे में अस्तित्व, लिपिकों को बीआरसी से किया गया सम्बद्ध।

फतेहपुर। जिला पंचायत भवन स्थित बेसिक शिक्षा विभाग के डीआई (डिस्ट्रिक्ट इंस्पेक्टर) कार्यालय का अस्तित्व समाप्त कर दिया गया है। कार्यालय के सभी लिपिक ब्लाक संसाधन केंद्रों से संबद्ध कर दिए गए हैं। मंगलवार से चपरासी को भी बीएसए कार्यालय बुला लिया गया। डीआई कार्यालय में 11 लिपिक और एक चपरासी की नियुक्ति थी। इनमें एक लिपिक पहले से बीएसए कार्यालय में संबद्ध है। सोमवार को बीएसए शिवेंद्र प्रताप सिंह ने 10 लिपिकों को ब्लॉक संसाधन केंद्रों से संबद्ध कर वहीं पर नियमित बैठने का आदेश जारी किया है। बीईओ मुख्यालय राकेश सचान ने बताया कि अब कोई भी कार्य डीआई कार्यालय से नहीं होंगे। डीआई कार्यालय से संबंधित कार्य के लिए शिक्षक ब्लॉक संसाधन केंद्र पहुंचे।

Tuesday, November 10, 2020

फतेहपुर : ऑपरेशन कायाकल्प के अंतर्गत परिषदीय विद्यालयों को 14 पैरामीटर से असंतृप्त मूलभूत अवस्थापना सुविधाओं से संतृप्त किए जाने के सम्बन्ध में।

फतेहपुर : ऑपरेशन कायाकल्प के अंतर्गत परिषदीय विद्यालयों को 14 पैरामीटर से असंतृप्त मूलभूत अवस्थापना सुविधाओं से संतृप्त किए जाने के सम्बन्ध में।

फतेहपुर : मानव सम्पदा पोर्टल के माध्यम से अवकाश दिए जाने के सम्बन्ध में

फतेहपुर : मानव सम्पदा पोर्टल के माध्यम से अवकाश दिए जाने के सम्बन्ध में।

फतेहपुर : मानव सम्पदा पोर्टल पर लंबित न रहे कोई अवकाश, बीएसए ने समस्त बीईओ को दिया निर्देश।

समीक्षा

▪️बेसिक शिक्षा विभाग में आनलाइन अवकाश की है व्यवस्था

▪️बीएसए ने कहा पोर्टल में लंबित न रहने पाए कोई अवकाश

फतेहपुर : शासन द्वारा बेसिक शिक्षा विभाग में मानव सम्पदा पोर्टल के जरिए आनलाइन प्रणाली की शुरूआत करने का फैसला बेसिक शिक्षकों के लिए भले ही राहत भरा साबित हो रहा है लेकिन समीक्षा के बाद सामने आया है कि अब भी अनेक अवकाश पोर्टल पर लंबित रहते हैं। राज्य स्तर पर हुई समीक्षा के बाद बीएसए ने सभी बीईओ को निर्देश दिए हैं कि किसी भी स्थिति में छुट्टियों को पेडिंग न किया जाए।

पिछले वर्ष से बेसिक शिक्षा विभाग के शिक्षकों को मानव संपदा पोर्टल के माध्यम से आनलाइन अवकाश दिया जा रहा है। इनमें आकस्मिक, सीसीएल, मेडिकल व मातृत्व जैसे अवकाश शामिल हैं । इसके लिए प्रत्येक शिक्षक को एक यूजर आईडी उपलब्ध कराया गया है। इस यूनिक यूजर आईडी के आधार पर ही शिक्षक अवकाश के लिए आनलाइन आवेदन करते हैं। राज्य स्तर पर हुई समीक्षा के बाद पाया गया है कि कई जिलों में आवेदित तिथि बीत जाने के बाद भी अवकाश स्वीकृत नहीं किया गया है। इसके अलावा लंबित अवकाश भी काफी अधिक हैं। इस स्थिति को देखते हुए बीएसए शिवेन्द्र प्रताप सिंह ने सभी खंड शिक्षा अधिकारियों से कहा कि मानव संपदा पोर्टल में सभी अवकाश आवेदनों को निर्धारित अवधि में निपटाया जाए।

फतेहपुर : बेसिक शिक्षा परिषदीय शिक्षकों/ शिक्षणेत्तर कर्मचारियों को वर्ष 2019-20 के बोनस भुगतान के देयक प्रस्तुत करने के सम्बन्ध में

फतेहपुर : बेसिक शिक्षा परिषदीय शिक्षकों/ शिक्षणेत्तर कर्मचारियों को वर्ष 2019-20 के बोनस भुगतान के देयक प्रस्तुत करने के सम्बन्ध में।

फतेहपुर : बेसिक शिक्षा परिषदीय शिक्षकों/ शिक्षणेत्तर कर्मचारियों को वर्ष 2019-20 के बोनस भुगतान के देयक प्रस्तुत करने के सम्बन्ध में

फतेहपुर : बेसिक शिक्षा परिषदीय शिक्षकों/ शिक्षणेत्तर कर्मचारियों को वर्ष 2019-20 के बोनस भुगतान के देयक प्रस्तुत करने के सम्बन्ध में।

Monday, November 9, 2020

फतेहपुर : चार ब्लॉक के स्कूलों का होगा कायाकल्प, खनन विभाग के बजट से बदलेगी सूरत, तैयार हो रहा एस्टीमेट।

फतेहपुर : चार ब्लॉक के स्कूलों का होगा कायाकल्प, खनन विभाग के बजट से बदलेगी सूरत, तैयार हो रहा एस्टीमेट।

फतेहपुर : जिले के चार ब्लॉकों के परिषदीय स्कूलों का खनन विभाग के बजट से कायाकल्प कराया जाएगा। धाता, विजयीपुर, असोथर, अमौली ब्लॉक के करीब 800 स्कूलों को इसका लाभ मिलेगा। बेसिक शिक्षा विभाग इन स्कूलों में सुंदरीकरण कराने में आने वाले खर्च का एस्टीमेट तैयार कर रहा है।


जिले में नगर समेत 14 ब्लॉकों में 2650 परिषदीय स्कूल संचालित हैं इनमें धाता, विजयीपुर, असोथर, अमौली ब्लॉक यमुना तटवर्ती क्षेत्र में आते हैं। इन्हीं ब्लॉकों के विभिन्न यमुना घाटों में भारी तादाद में मौरंग खनन होता है। साल में अरबों रुपये मौरंग खनन से शासन को राजस्व मिलता है। मौरंग खनन होने के कारण इन चारों ब्लॉक क्षेत्र की अधिकांश सड़कें सालभर में नष्ट हो जाती हैं। साल में अरबों रुपये राजस्व की अदायगी करने वाले यह चारों ब्लॉक मौरंग खनन से मिलने वाले राजस्व के उपयोग से पूरी तरह से वंचित हैं। इन चारों ब्लाक क्षेत्र में करीब 800 परिषदीय स्कूल हैं। इनमें कुछ स्कूलों का ग्राम पंचायतों ने कायाकल्प कराया दिया है, लेकिन अभी तक बड़ी तादाद में स्कूलों की हालत दयनीय है। ऐसे में बेसिक शिक्षा विभाग ने यमुना तटवर्ती ब्लाकों के परिषदीय स्कूलों का सुंदरीकरण कराने के लिए खनन विभाग का सहारा लेने का निर्णय लिया है।


खनन विभाग के बजट से जरूरत के हिसाब से स्कूलों की रंगाई पुताई, टूटी फूटी मरम्मत, दरवाजे, खिड़की, टाइल्स, पेयजल की व्यवस्था, विद्युतीकरण का काम कराया जाएगा। बेसिक शिक्षा विभाग ने इन चारों ब्लाकों के स्कूलों की स्थिति की रिपोर्ट सूचीबद्ध किया है। इसके बाद काम के हिसाब से आने वाले खर्च का एस्टीमेट तैयार किया जा रहा है। बीएसए शिवेंद्र प्रताप सिंह ने बताया कि शासन के निर्देश पर यमुना तटवर्ती चार ब्लाकों के स्कूलों का सुंदरीकरण कराने के लिए अनुमानित खर्च का व्योरा तैयार कराया जा रहा है। एस्टीमेट बनाकर खनन विभाग को भेजा जाएगा।

Saturday, November 7, 2020

फतेहपुर : शिक्षकों के ‘सम्मान का काम भूल गया विभाग

फतेहपुर : शिक्षकों के ‘सम्मान का काम भूल गया विभाग


बेसिक शिक्षा विभाग शिक्षकों के सम्मान को प्राथमिकता देना बिसर गया है। शिक्षक दिवस के मौके पर विभाग ने सभी ब्लॉकों से उत्कृष्ट शिक्षकों की सूची तलब की थी। इनका सम्मान डीएम के द्वारा किया जाना था लेकिन विभाग दो माह बाद भी उदासीन है। पिछले वर्ष सर्वाधिक नामांकन वाले विद्यालयों के शिक्षकों का सम्मान का सफर कागज से निकलकर हकीकत नहीं बन सका।




जनवरी 2019 में तत्कालीन डीएम आंजनेय सिंह ने उत्कृष्ट शिक्षकों को सम्मानित कर उनका मान बढ़ाया था। बीएसए शिवेन्द्र प्रताप सिंह ने इस वर्ष भी शिक्षक दिवस के मौके पर सभी ब्लॉकों से ऐसे पांच शिक्षकों की सूची मांगी थी जिनकी सेवा आला दर्जे की हो। इस पर अधिकांश बीईओ ने निर्धारित समय पर सूची मुख्यालय भेजकर चयनित शिक्षकों को सूचित कर दिया। शिक्षक दिवस बीतने के बाद करीब दो माह बाद भी विभाग ने इस मसले पर चुप्पी साध रखी है। सूत्र बताते हैं कि विभाग के रवैये से शिक्षकों में नाराजगी है। उनका तर्क है कि यदि सम्मान नहीं करना था तो फिर इसके लिए कदम भी नहीं बढ़ाए जाने चाहिए।


पिछले वर्ष भी यही था हाल


गत सत्र में बेसिक शिक्षा निदेशक ने कहा था कि सभी जिलों में उन विद्यालयों के शिक्षकों का सम्मान किया जाएगा जो नामांकन के मामले में अव्वल रहे हों। जिले में भी इस आदेश का प्रचार प्रसार किया गया लेकिन जब सम्मान की बात आई तो विभाग पीछे हट गया। ब्लॉकों से सूची जाने के बाद भी सर्वाधिक नामांकन वाले विद्यालयों के शिक्षकों का सम्मान नहीं किया गया।

Friday, November 6, 2020

फतेहपुर : शिक्षकों को लंबे समय से प्रमोशन का इंतजार, एक दशक से अधिक समय बीतने के बाद भी नहीं हुआ प्रमोशन।

फतेहपुर : शिक्षकों को लंबे समय से प्रमोशन का इंतजार, एक दशक से अधिक समय बीतने के बाद भी नहीं हुआ प्रमोशन।

फतेहपुर : जिले में बेसिक शिक्षा विभाग में कार्यरत शिक्षकों की पदोन्नति का इंतजार बढ़ता ही जा रहा है। एक दशक से अधिक सेवा अवधिहोने के बाद भी जिले में प्राथमिक सहायक शिक्षकों को प्रमोशन नहीं मिला। वहीं दूसरी ओर दूसरे जिलों में कहीं तीन वर्ष तो कहीं पांच वर्ष की सेवा के बाद पदोन्नति होने से शिक्षकों की कुंठा बढ़ती जा रही है। कोर्ट एवं सरकारी आदेशों के बाद लंबित पदोन्नति प्रक्रिया अब तक शुरू नहीं हो सकी है।

गत विधान सभा चुनाव के पहले से ही अपने प्रमोशन की मांग कर रहे बेसिक शिक्षकों ने अपने प्रमोशन के लिए पहले चुनावी प्रक्रिया समाप्त होने का इंतजार किया। कई माह पूर्व प्राथमिक स्कूलों के प्रधानाध्यापकों एवं उच्च प्राथमिक स्कूलों के सहायक अध्यापकों का प्रमोशन होने के बाद उम्मीद जगी थी कि विभाग जल्द ही प्राथमिक स्कूलों के सहायक शिक्षकों का भी प्रमोशन कर देगा । इसके लिए विभाग ने गत तीस दिसंबर को पहल भी कर दी थी। विभाग ने ब्लाकवार वरष्ठिता सूची को पुनः परीक्षणोपरांत मुख्यालय भेजने के आदेश दिए थे। ब्लॉकों में वरष्ठिता सूची को अंतिम रूप भी दिया जा चुका था। इसके बाद चुनाव की रणभेरी बज गई। चुनाव खत्म होने के बाद फिर से पदोन्नति की मांग उठी तो विभाग ने वार्षिक परीक्षा एवं अन्य कामों पर अमल शुरूकर दिया। कई जिलों में शिक्षकों को जहां तीन वर्ष की सेवा में ही पदोन्नति का लाभ मिल गया।


कोर्ट एवं विभागीय आदेशों से भी बाधा

पदोन्नति को लेकर कई तरह के पेंच भी सामने आए। कभी टीईटी की अनिवार्यता को लेकर पेंच फंसा तो कभी समायोजन के बाद पदोन्नति करने जैसे फैसलों ने बाधा पहुंचाई। अन्तर्जनपदीय तबादले के लिए आवेदन करने वाले तमाम शिक्षकों को बिना प्रमोशन के ही जिले से जाना पड़ सकता है।

Thursday, November 5, 2020

फतेहपुर : नव नियुक्त शिक्षकों की एक सप्ताह में बनेगी सर्विस बुक, पोर्टल पर होगी अपलोड

फतेहपुर : नव नियुक्त शिक्षकों की एक सप्ताह में बनेगी सर्विस बुक, पोर्टल पर होगी अपलोड।

फतेहपुर : बीते माह नव नियुक्ति पाए शिक्षक-शिक्षिकाओं की सर्विस बुक एक सप्ताह में तैयार करने के निर्देश दिए हैं। तैयार सर्विस बुक को मानव संपदा पोर्टल में अपलोड कराए जाने के निर्देश दिए थे। सचिव के निर्देश पर विभाग में तेजी से काम शुरू हो गया है।

बेसिक शिक्षा विभाग में 69 हजार शिक्षकों की भर्ती में 31 हजार शिक्षक-शिक्षिकाओं ने नियुक्ति पाई है। सहायक अध्यापक के तहत 479 शिक्षक-शिक्षिकाएं तैनाती पाए हैं। बीती भर्तियों में सहायक अध्यापकों की सर्विस बुक सालों साल तक नहीं बनती रही हैं।


इधर दो सालों से विभाग ने हर शिक्षक और कर्मचारियों की ऑनलाइन कुंडली तैयार की है। मानव संपदा पोर्टल के तहत जिले में तैनात शिक्षकों का समूचा ब्यौरा ऑनलाइन किया गया है। बीएसए शिवेंद्र प्रताप सिंह ने बताया कि नव नियुक्त शिक्षक-शिक्षिकाओं की सर्विस बुक एक सप्ताह में तैयार किए जाने का निर्देश है।

आदेश

▪️जिले में 479 शिक्षक-शिक्षिकाओं ने नियुक्ति पाई थी।

▪️सचिव बेसिक शिक्षा परिषद ने बीएसए को दिया निर्देश

▪️चयनित अभ्यर्थियों को प्रवेश का कल तक मिलेगा मौका।


फतेहपुर : राज्य व्यवसायिक प्रशिक्षण परिषद ने प्रवेश हेतु तीसरे चरण की सूची जारी की है। जिसके सापेक्ष राजकीय औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थान बिंदकी व सिविल लाइन ने सूची के अनुसार प्रवेश प्रारंभ कर दिए हैं। प्रवेश के लिए अंतिम अवसर कल (शुक्रवार) तक दिया गया है। प्रवेश कराने वाले अभ्यर्थियों को सभी शैक्षिक प्रमाणपत्र, अंकपत्र, जूनियर हाई स्कूल (कक्षा आठ) के अन्य जनपदों के अभ्यर्थी अपने उक्त अंक पत्र को मूल जिले बीएसए से सत्यापित कराकर लाना होगा। कॉशनमनी 300 रुपये एवं प्रशिक्षण शुल्क 40 रुपये प्रति माह की दर से प्रवेश के समय ही देय होगा।

फतेहपुर : अभी 53% ही हुआ स्वेटर वितरण, हीलाहवाली के चलते बच्चों को समय से नहीं मिल पा रहे स्वेटर

फतेहपुर : अभी 53% ही हुआ स्वेटर वितरण, हीलाहवाली के चलते बच्चों को समय से नहीं मिल पा रहे स्वेटर।

लापरवाही ::

31 अक्तूबर तक परिषदीय स्कूलों में स्वेटर वितरण के थे निर्देश

हीलाहवाली के चलते बच्चों को समय से नहीं मिल रहे स्वेटर

फतेहपुर : बेसिक शिक्षा विभाग द्वारा संचालित सभी परिषदीय स्कूलों में भले ही कोरोना संक्रमण को देखते हुए बच्चों के लिए स्कूल न खोले गए हों, लेकिन उनको दी जाने वाली निशुल्क सुविधाओं का दौर जारी है। यूनीफार्म वितरण के बाद बच्चों को सर्दी आने से पूर्व स्वेटर वितरण किए जाने का शासन से फरमान जारी हुआ और इसकी समय सीमा 31 अक्टूबर रखी गई लेकिन जिले में अभी तक मात्र 53 प्रतिशत ही स्वेटरों का वितरण हो पाया है।


शासन स्तर से सभी परिषदीय विद्यालयों में बच्चों को 31 अक्तूबर तक स्वेटर वितरण कराने के निर्देश दिए गए थे। समय सीमा निकलने के बाद भी शत प्रतिशत स्वेटरों का वितरण नहीं हो पाया है। ऐसे में सर्दी के मौसम में बच्चे बिना स्वेटर के ही रहने को मजबूर है। परिषदीय विद्यालयों में पढ़ने वाले बच्चों को किताबें, ड्रेस, बैग, जूता मोजा के साथ स्वेटर वितरण कराने की भी योजना है। जिले के करीब 2 लाख 44 हजार छात्र-छात्राओं को स्वेटरवितरण किया जाना है।


जैम पोर्टल से हुई है स्वेटरों की खरीद : परिषदीय विद्यालयों में पढ़ने वाले बच्चों को स्वेटर वितरण कराने के लिए शासन स्तर पर टेंडर प्रक्रिया कराई गई। जैम पोर्टल से टेंडर प्रक्रिया पूरी होने पर फर्म स्वेटर की आपूर्ति शुरू होती है, फिर बीआरसी से सम्बंधित विद्यालयों के जिम्मेदार बच्चों तक पहुंचाते हैं। सभी बच्चों तक जल्द से जल्द स्वेटर पहुंचाने के प्रयास हो रहे हैं। 

क्या बोले जिम्मेदार..

जिला समन्वयक जितेन्द्र सिंह ने बताया कि शासन स्तर से 31 अक्तूबर तक स्वेटर वितरण कराने के निर्देश दिए गए थे। सभी बच्चों के लिए स्वेटर की आपूर्ति हो चुकी है। विद्यालय स्तर से स्वेटर का वितरण जारी है। अभी तक 53 प्रतिशत से अधिक वितरण हो चुका है, जल्द ही शत प्रतिशत स्वेटर वितरण की प्रक्रिया पूरी करा दी जाएगी। इसके लिए अध्यापकों को निर्देश जारी किए गए हैं।

Tuesday, November 3, 2020

फतेहपुर : परिषदीय विद्यालयों में विद्युत संयोजन तथा अवस्थापना सुविधाओं से संतृप्त कराने के सम्बन्ध में

फतेहपुर : परिषदीय विद्यालयों में विद्युत संयोजन तथा अवस्थापना सुविधाओं से संतृप्त कराने के सम्बन्ध में।