DISTRICT WISE NEWS

अंबेडकरनगर अमरोहा अमेठी अलीगढ़ आगरा आजमगढ़ इटावा इलाहाबाद उन्नाव एटा औरैया कन्नौज कानपुर कानपुर देहात कासगंज कुशीनगर कौशांबी कौशाम्बी गाजियाबाद गाजीपुर गोण्डा गोरखपुर गौतमबुद्धनगर चन्दौली चित्रकूट जालौन जौनपुर ज्योतिबा फुले नगर झाँसी देवरिया पीलीभीत फतेहपुर फर्रुखाबाद फिरोजाबाद फैजाबाद बदायूं बरेली बलरामपुर बलिया बस्ती बहराइच बागपत बाँदा बांदा बाराबंकी बिजनौर बुलंदशहर बुलन्दशहर भदोही मऊ मथुरा महराजगंज महोबा मीरजापुर मुजफ्फरनगर मुरादाबाद मेरठ मैनपुरी रामपुर रायबरेली लखनऊ लख़नऊ लखीमपुर खीरी ललितपुर वाराणसी शामली शाहजहाँपुर श्रावस्ती संतकबीरनगर संभल सहारनपुर सिद्धार्थनगर सीतापुर सुल्तानपुर सोनभद्र हमीरपुर हरदोई हाथरस हापुड़

Friday, October 28, 2016

पदोन्नति में मनमानी से नाराज़ शिक्षकों का बीएसए कार्यालय पर हंगामा, शिक्षकों को दी गई मुकदमा दर्ज करने की धमकी

पडरौना, कुशीनगर : पदोन्नति की मांग को लेकर नाराज शिक्षकों ने गुरुवार को सारी मर्यादाओं को तोड़ते हुए पहले डायट परिसर में हंगामा किया फिर बीएसए कार्यालय पहुंच हंगामा खड़ा कर जमकर बवाल काटा। तोड़फोड़ का प्रयास भी किया तो सड़क जाम करने का प्रयास किया। इसको लेकर पूरे पांच घंटे तक गहमा-गहमी का माहौल बना रहा। बीएसए लेखा कार्यालय में जाकर छिपे रहे। पुलिस के पहुंचने के बाद बाहर निकले और शिक्षकों के प्रतिनिधि मंडल से बातचीत के बाद माहौल शांत हुआ और शिक्षक माने। जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी ने शिक्षकों की मांगों से ऊपर के अधिकारियों को अवगत कराने का आश्वासन दिया। पदोन्नति की सूची जारी न होने से 2011 बैच के पदोन्नति पाने वाले शिक्षकों का समूह पहले डायट पहुंचा। दोपहर 2 बजे तक कोई जिम्मेदार अधिकारी वहां नहीं पहुंचा तो 3 बजे बीएसए कार्यालय पहुंचे। इनका आरोप था कि विभागीय कर्मचारी व अधिकारी जानबूझकर पदोन्नति नहीं कर रहे हैं। शासन ने सितंबर में ही तीन साल नौकरी पूरी कर चुकी महिला शिक्षक तथा पांच वर्ष की नौकरी पूरी कर चुके शिक्षकों के पदोन्नति का आदेश दिया है। बुधवार को सभी शिक्षकों को डायट पर बुलाया गया था, लेकिन वहां प्रमोशन की सूची नहीं चस्पा की गई थी। आक्रोशित शिक्षकों ने बंद बीएसए दफ्तर और लेखाधिकारी कार्यालय के दरवाजे को तोड़ने का प्रयास भी किया। बीएसए मुर्दाबाद के नारे लगाए तथा पडरौना-कसया मार्ग कुछ देर के लिए जाम करने का प्रयास किया। मौके पर मौजूद चौकी इंचार्ज शेष बहादुर ने समझाकर सड़क से शिक्षकों को हटाया। अपना कार्यालय छोड़ लेखा कार्यालय में खुद को कमरे में बंद किए बीएसए के खिलाफ नारेबाजी करते हुए दरवाजा पीटने लगे। माहौल बिगड़ने की सूचना पर कोतवाल राय साहब सिंह यादव फोर्स के साथ पहुंचे। कार्यालय शिक्षकों को बाहर निकाला और बीएसए से वार्ता की पेशकश रखी। शिक्षकों पर मुकदमा दर्ज करने की धमकी भी दी। शिक्षकों ने जूनियर शिक्षक संघ अध्यक्ष राजेन्द्र सिंह, विशिष्ट बीटीसी एसो. के प्रदेश मीडिया प्रभारी राजेश शुक्ल और सुमित त्रिपाठी सहित पांच शिक्षकों को वार्ता के लिए भेजा। शासन से दिशा-निर्देश की बात कहकर बीएसए ने मामले को फिलहाल टाल दिया ओर कहा कि मांग को लेकर ऊपर के अधिकारियों को सूचित कर दिया गया है। इस दौरान आभा राय, अर्चना देवी, श्वेता पाठक, प्रभात चतुर्वेदी, अविनाश शुक्ल, अजय सिंह, विनोद कुमार, राजन कुमार, दशरथ वर्मा, प्रभाकर यादव आदि मौजूद रहे।

No comments:
Write comments