DISTRICT WISE NEWS

अंबेडकरनगर अमरोहा अमेठी अलीगढ़ आगरा आजमगढ़ इटावा इलाहाबाद उन्नाव एटा औरैया कन्नौज कानपुर कानपुर देहात कानपुर नगर कासगंज कुशीनगर कैसरगंज कौशांबी कौशाम्बी गाजियाबाद गाजीपुर गोंडा गोण्डा गोरखपुर गौतमबुद्ध नगर गौतमबुद्धनगर चंदौली चन्दौली चित्रकूट जालौन जौनपुर ज्योतिबा फुले नगर झाँसी झांसी देवरिया पीलीभीत फतेहपुर फर्रुखाबाद फिरोजाबाद फैजाबाद बदायूं बरेली बलरामपुर बलिया बस्ती बहराइच बागपत बाँदा बांदा बाराबंकी बिजनौर बुलंदशहर बुलन्दशहर भदोही मऊ मथुरा महराजगंज महाराजगंज महोबा मिर्जापुर मीरजापुर मुजफ्फर नगर मुजफ्फरनगर मुज़फ्फरनगर मुरादाबाद मेरठ मैनपुरी मैनपूरी रामपुर रायबरेली लखनऊ लख़नऊ लखीमपुर खीरी ललितपुर वाराणसी शामली शाहजहाँपुर श्रावस्ती संतकबीरनगर संभल सहारनपुर सिद्धार्थनगर सीतापुर सुलतानपुर सुल्तानपुर सोनभद्र हमीरपुर हरदोई हाथरस हापुड़

Sunday, July 9, 2017

मां होंगी सरकार का कैमरा, मासूम मुस्कान में नजर आई शिक्षा की मजबूत बुनियाद

गोरखपुर गांव की पगडंडी से कतारबद्ध होकर जा रहे मासूम चेहरों पर दिखी मुस्कान में सर्व शिक्षा अभियान के मजबूत बुनियाद की झलक साफ नजर आई। सुसज्जित स्कूल डेस और कापी-किताब से भरा बैग लेकर घर लौटते बच्चों के चेहरे पर ‘खूब पढ़ेंगे, आगे बढ़ेंगे’ का आत्मविश्वास झलक रहा था। प्राथमिक शिक्षा की ढांचागत व्यवस्था को सुदृढ़ बनाने में मुख्यमंत्री की अभिरुचि से आहलादित बेसिक शिक्षा निदेशक ही नहीं शिक्षा राज्यमंत्री भी अपने अभिभाषण में उनके प्रति कृतज्ञता का बोध कराती रहीं।

गोरखपुर दौरे के पहले कार्यक्रम में शहीद साहब शुक्ला के घर से निकलने के बाद मुख्यमंत्री आदित्यनाथ सर्व शिक्षा अभियान के स्कूल चलो अभियान का हिस्सा बनें। प्राथमिक एवं उच्च प्राथमिक विद्यालय, कनइल के प्रागंण में आयोजित भव्य समारोह के दौरान बीस छात्र-छात्रओंको उन्होंने अपने हाथ से स्कूल बैग, ड्रेस और कापी किताब का वितरण किया। मंच पर आने वाले हर बच्चे से मुख्यमंत्री ने नाम, कक्षा पूछने के साथ मेहनत से पढ़ने की नसीहत दी। छात्र-छात्रओं के साथ शिक्षा विभाग के अधिकारियों और शिक्षकों को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि कहा कि शिक्षक का दायित्व चाणक्य का है। अध्यापकों, शिक्षकों से ये आग्रह है कि बच्चों को इस प्रकार की व्यवस्था दें कि वह पढ़ाई के साथ-साथ खेलकूद और राष्ट्रभक्ति से भी ओतप्रोत हों। शिक्षा राष्ट्रभक्ति से ओतप्रोत नहीं होगी तो उसके कोई मायने नहीं हैं। हमारा ये मंत्रलय डेढ़ करोड़ छात्र-छात्रओं को बैग, कापी किताब के साथ डेस का वितरण कर रहा है, जो खुद में आश्चर्यजनक है। डेढ़ लाख से अधिक विद्यालयों में तैनात छह लाख शिक्षक, ग्राम सभाओं के साथ मिलकर बच्चों को शिक्षित करने का काम करेंगे तो उप्र साक्षरता के मामले में देश का सर्वोच्च राज्य बन जाएगा। इस पूरे महीने हमें ये काम करना है कि कोई ड्रेस, कापी किताब या बैग पाने से वंचित न रह जाए। मुख्यमंत्री ने इसके बाद गरीबों के लिए चलाई जा रही केंद्र और राज्य सरकार की योजनाओं पर भी प्रकाश डाला। बिजली, राशन या अन्य योजनाओं का लाभ दिलाने में किसी भी प्रकार की धांधली करने वालों को सख्त सजा देने की बात कही। इसके पहले मुख्यमंत्री ने दीप प्रज्ज्वलन के साथ कार्यक्रम की शुरूआत की। आर्यकन्या इंटर कालेज की छात्रओं ने स्वागत गान प्रस्तुत किया। संचालन सहायक अध्यापिका ऋक ऋचा पांडेय ने किया।कनइल में बच्चों को स्कूल बैग व कापी-किताब वितरित करते मुख्यमंत्री ’ जागरणकनइल में बच्चों को स्कूल बैग व कापी-किताब वितरित करते मुख्यमंत्री ’ जागरणकनइल में आयोजित ड्रेस व पुस्तक वितरण समारोह में उपस्थित

बच्चे स्कूल में मां होंगी सरकार का कैमरा

बेसिक शिक्षा राज्यमंत्री अनुपमा जायसवाल ने कहा कि बच्चों का ख्याल जिस तरह से उनकी मां रखती है वैसा कोई नहीं रख सकता। हर गांव में छह माताओं की एक समिति गठित कर रहे हैं। हर दिन एक मां स्कूल में मौजूद रहकर बच्चों के लिए उपलब्ध कराई जा रही सुविधाओं की निगरानी करेंगी। यही मां सरकार का सीसी कैमरा होंगी। हर विद्यालय कैमरे की नजर में रहेगा।

प्रधान ने सौंपा ज्ञापन

बेलीपार : मझगांवा के प्रधान कैलाश ने मुख्यमंत्री को पांच सूत्रीय ज्ञापन सौंपा। इसमें उन्होंने गांव में चकबंदी कराने, शिवमंदिर से पूर्व माध्यमिक विद्यालय तक सड़क को पिच कराने, मझगांवा से कनइल मार्ग के पिच की मरम्मत, गांव में शवदाह गृह के अलावा सामूहिक भवन, पंचायत भवन व आगनबाड़ी केंद्र बनवाने की मांग की है।इन बच्चों को मिली ड्रेस मुख्यमंत्री के हाथों से ड्रेस, बैग पाने वाले प्राथमिक विद्यालय कनइल प्रथम व द्वितीय, पूर्व माध्यमिक विद्यालय कनइल, प्राथमिक विद्यालय मझगांवा, प्राथमिक विद्यालय मलांव प्रथम व द्वितीय, कस्तूरबा गांधी आवासीय बालिका विद्यालय कौड़ीराम, खोराबार, चरगांवा, सहजनवां के बच्चों समेत कुल 500 बच्चों को ड्रेस कापी किताब का वितरण किया गया।

No comments:
Write comments