DISTRICT WISE NEWS

अंबेडकरनगर अमरोहा अमेठी अलीगढ़ आगरा आजमगढ़ इटावा इलाहाबाद उन्नाव एटा औरैया कन्नौज कानपुर कानपुर देहात कानपुर नगर कासगंज कुशीनगर कैसरगंज कौशांबी कौशाम्बी गाजियाबाद गाजीपुर गोंडा गोण्डा गोरखपुर गौतमबुद्ध नगर गौतमबुद्धनगर चंदौली चन्दौली चित्रकूट जालौन जौनपुर ज्योतिबा फुले नगर झाँसी झांसी देवरिया पीलीभीत फतेहपुर फर्रुखाबाद फिरोजाबाद फैजाबाद बदायूं बरेली बलरामपुर बलिया बस्ती बहराइच बागपत बाँदा बांदा बाराबंकी बिजनौर बुलंदशहर बुलन्दशहर भदोही मऊ मथुरा महराजगंज महाराजगंज महोबा मिर्जापुर मीरजापुर मुजफ्फर नगर मुजफ्फरनगर मुज़फ्फरनगर मुरादाबाद मेरठ मैनपुरी मैनपूरी रामपुर रायबरेली लखनऊ लख़नऊ लखीमपुर खीरी ललितपुर वाराणसी शामली शाहजहाँपुर श्रावस्ती संतकबीरनगर संभल सहारनपुर सिद्धार्थनगर सीतापुर सुलतानपुर सुल्तानपुर सोनभद्र हमीरपुर हरदोई हाथरस हापुड़

Sunday, November 19, 2017

जिवि निरीक्षकों ने कराई किरकिरी, यूपी बोर्ड मुख्यालय में मची हलचल, जल्द कई जिलों के डीआईओएस पर होगी बड़ी कार्यवाही

इलाहाबाद : परीक्षा केंद्र निर्धारण में जिला विद्यालय निरीक्षकों की मनमानी की खबर दैनिक जागरण में शनिवार के अंक में ‘परीक्षा केंद्रों की मलाई, शिक्षा माफिया ने खाई’ शीर्षक से प्रकाशित होते ही यूपी बोर्ड मुख्यालय में हलचल मच गई है। बोर्ड की किरकिरी होते देख सचिव नीना श्रीवास्तव ने सभी जिला विद्यालय निरीक्षकों को आपत्तियों के निस्तारण संबंधी निर्देश भेजा है, जिसमें उन्होंने खुद ही उनकी कार्यशैली पर नाराजगी जताई। कहा है कि जिला विद्यालय निरीक्षकों की शिथिलता और गैर जिम्मेदारीपूर्ण कार्यवाही से जनमानस में परिषद की छवि धूमिल हो रही है।



सूबे में जिस तरह से परीक्षा केंद्र निर्धारण में जिला विद्यालय निरीक्षकों ने ‘खेल’ किया उससे न केवल देश की सबसे बड़ी परीक्षा संस्था उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षा परिषद की साख पर बट्टा लगा है बल्कि इससे नकल विहीन परीक्षा कराने की योगी सरकार की मंशा पर भी कुठाराघात हुआ है। र बोर्ड सचिव ने जारी किए पत्र में कहा है कि इससे बोर्ड की छवि धूमिल हो रही है। परीक्षा केंद्रों का समग्र निर्धारण केवल और केवल प्रधानाचार्यो की ओर से विद्यालयों के संबंध में अपलोड की गई और जिला विद्यालय निरीक्षकों की ओर से प्रमाणित की गई आधारभूत सूचनाओं के आधार पर ही केंद्र निर्धारण नीति के अनुसार निरपेक्ष रूप से एक कंप्यूटर साफ्टवेयर से तैयार कराया गया है। इसमें कहीं-कहीं जो भी त्रुटियां/विसंगतियां प्रकाश में आई हैं वह जिलों की ओर से उपलब्ध कराई गई त्रुटिपूर्ण अंकित सूचनाओं जिनका निवारण जिला विद्यालय निरीक्षकों की ओर से समय के अंतर्गत नहीं कराया गया, उसी के चलते त्रुटियां प्रकाश में आ रही हैं। 




उधर जिस तरह से परीक्षा केंद्र निर्धारण में लापरवाही हुई है वह कहीं न कहीं भारी धन उगाही की ओर भी इशारा कर रही है जो कि जांच का विषय है, जबकि बोर्ड सचिव नीना श्रीवास्तव के कड़े शब्दों में भेजे गए पत्र ने इस बात को भी जाहिर कर दिया है कि जल्द ही सूबे में कई जिला विद्यालय निरीक्षकों पर कार्रवाई तय है।


No comments:
Write comments