DISTRICT WISE NEWS

अंबेडकरनगर अमरोहा अमेठी अलीगढ़ आगरा आजमगढ़ इटावा इलाहाबाद उन्नाव एटा औरैया कन्नौज कानपुर कानपुर देहात कासगंज कुशीनगर कौशांबी गाजियाबाद गाजीपुर गोण्डा गोरखपुर गौतमबुद्धनगर चन्दौली चित्रकूट जालौन जौनपुर ज्योतिबा फुले नगर झाँसी देवरिया पीलीभीत फतेहपुर फर्रुखाबाद फिरोजाबाद फैजाबाद बदायूं बरेली बलरामपुर बलिया बस्ती बहराइच बागपत बाँदा बांदा बाराबंकी बिजनौर बुलंदशहर बुलन्दशहर भदोही मऊ मथुरा महराजगंज महोबा मीरजापुर मुजफ्फरनगर मुरादाबाद मेरठ मैनपुरी रामपुर रायबरेली लखनऊ लख़नऊ लखीमपुर खीरी ललितपुर वाराणसी शामली शाहजहाँपुर श्रावस्ती संतकबीरनगर संभल सहारनपुर सिद्धार्थनगर सीतापुर सुल्तानपुर सोनभद्र हमीरपुर हरदोई हाथरस हापुड़

Tuesday, October 30, 2018

यूपी बोर्ड में अगले सत्र से पढ़ाई जाएगी वैदिक गणित, जल्द आएंगी किताबें, विद्या भारती संस्था की ओर से भेजा गया था प्रस्ताव

 शिक्षा निदेशक ने जारी की परीक्षा केंद्र तय करने की समय सारिणी• केंद्रों की सूचना प्रकाशित किया जाना :10 नवंबर• प्रस्तावित केंद्रों पर आपत्तियां लेना : 15 नवंबर तक• आपत्तियों का निस्तारण कर मंडलीय कमिटी को भेजना : 20 नवंबर तक• मंडलीय कमिटी की मुहर लगना : 26 नवंबर तक• फाइनल सूची उप्र सचिव माध्यमिक संस्कृत शिक्षा परिषद की मेल upmsplucknow@gmail.com पर भेजी जाएगी।• 91 हजार परीक्षार्थी 

देंगे परीक्षाएं• एनबीटी, लखनऊ : वर्ष 2019 की उत्तर प्रदेश माध्यमिक संस्कृत बोर्ड परीक्षाएं फरवरी के दूसरे सप्ताह से शुरू होंगी। इसके लिए परीक्षा केंद्रों का निर्धारण ऑफलाइन मोड से आठ नवंबर तक जिला स्तर पर किया जाएगा। इस संबंध में माध्यमिक शिक्षा निदेशक विनय कुमार पांडेय ने डीआईओएस को समय सारिणी के अनुसार केंद्र बनाने के निर्देश जारी किए हैं। पिछले साल ये परीक्षाएं मार्च में शुरू हुई थीं।

परीक्षाओं के लिए केंद्र बनाने में शिक्षा विभाग ने तीन कैटेगिरी तय की है। सबसे पहले एडेड संस्कृत माध्यमिक स्कूलों अथवा महाविद्यालयों को केंद्र बनाया जाएगा। जहां ऐसे स्कूल नहीं होंगे तो प्राइवेट संस्कृत माध्यमिक स्कूलों को प्राथमिकता दी जाएगी। यदि ये भी न मिलें तो राजकीय व एडेड स्कूलों को केंद्र बनाया जाएगा। केंद्रों का निर्धारण डीआईओएस की अध्यक्षता में बनने वाली कमिटी करेगी। इसमें राजकीय इंटर कॉलेज के वरिष्ठ प्रिंसिपल, बीएसए और एडेड संस्कृत माध्यमिक स्कूल के वरिष्ठ प्रिंसिपल बतौर सदस्य शामिल होंगे।
परीक्षाएं फरवरी में, 8 तक बनेंगे सेंटर• एनबीटी संवाददाता, लखनऊ 

यूपी बोर्ड में अब वैदिक गणित पढ़ाई जाएगी। इसके लिए बोर्ड की ओर से सिलेबस पर काम लगभग पूरा हो गया है और जल्द ही बाजार में इसकी किताबें भी आ जाएंगी। अगले सत्र से स्कूलों में इसे लागू कर दिया जाएगा। यह प्रस्ताव विद्या भारती अखिल भारतीय शिक्षा संस्थान की ओर से बोर्ड को भेजा गया था जिस पर बोर्ड ने सहमति जता दी है। 

विद्या भारती की ओर से सोमवार को एक प्रेसवार्ता का आयोजन किया गया। इसमें संस्थान के महामंत्री ललित बिहारी गोस्वामी ने बताया कि हमारी शिक्षा राष्ट्र केंद्रित नहीं है, इसमें पश्चिमी सभ्यता की छाप है। इसको दूर करने और अपनी शिक्षा को देश केंद्रित बनाने के लिए बोर्ड को 32 बिंदुओं का प्रस्ताव भेजा था। इसमें वैदिक गणित को बोर्ड ने स्वीकृत कर लिया है। इसके अलावा इतिहास को सही तरीके से प्रस्तुत करने और कई योद्धाओं जिनकी गाथाएं नहीं है उन्हें शामल करने का भी प्रस्ताव है। अब अगले सत्र में जितने बदलाव हो जाएंगे उसके बाद संस्थान फिर से अन्य बदलावों को लागू करने के लिए प्रयास करेगा। 

खेलकूद समारोह आज से : विद्या भारती की ओर से मंगलवार से राष्ट्रीय खेलकूद समारोह की शुरुआत होगी। प्रेस वार्ता में पूर्वी यूपी के संगठन मंत्री डोमेश्वर साहू ने बताया कि यह समारोह तीन दिन चलेगा, इसमें सभी प्रदेशों से 785 खिलाड़ी शामिल होंगे। इसमें ज्यादातर एथलेटिक्स की प्रतियोगिताएं होंगी। इसके अलावा

एनबीटी, लखनऊ :  राजधानी  में  सरकारी  प्राइमरी  और  जूनियर  स्कूलों  की  अर्द्धवार्षिक  परीक्षाएं मंगलवार से शुरू होंगी। इसके लिए स्कूलों में प्रश्न पत्र भेजे जा चुके हैं। बीएसए डॉ. अमर कांत सिंह ने बताया कि पहली पाली में कक्षा दो से पांच और छह से आठ में हिन्दी विषय की परीक्षा होगी। इसका समय सुबह 9.30 से 11.30 बजे तक निर्धारित है। वहीं, दोपहर पाली में 12.30 बजे से 2.30 बजे तक संस्कृत/ उर्दू विषय की परीक्षा होगी। कक्षा एक की सभी विषयों की परीक्षाएं मौखिक होंगी।
प्राइमरी, जूनियर स्कूलों की अर्द्धवार्षिक परीक्षाएं आज से
कई ऐसे खिलाड़ी जिन्होंने राष्ट्रीय स्तर पर प्रतिनिधित्व किया है उन्हें सम्मानित किया जाएगा। समारोह का उद्‌घाटन मुख्यमंत्री करेंगे जबकि समापन में ग्रहमंत्री राजनाथ शामिल होंगे।
गणित के शिक्षक डीके सिंह ने बताया कि वैदिक गणित में संस्कृत के सूत्रों से गणित के सूत्रों को पढ़ाया जाता है। इससे कैलकुलेशन काफी आसान हो जाता है। बारह साल पहले भी इसे शुरू किया गया था लेकिन एक दो साल में ही इसे बंद कर दिया गया। हालांकि, अब तक इसका कोई सिलेबस और किताबें नहीं आईं हैं।

No comments:
Write comments