DISTRICT WISE NEWS

अंबेडकरनगर अमरोहा अमेठी अलीगढ़ आगरा आजमगढ़ इटावा इलाहाबाद उन्नाव एटा औरैया कन्नौज कानपुर कानपुर देहात कानपुर नगर कासगंज कुशीनगर कैसरगंज कौशांबी कौशाम्बी गाजियाबाद गाजीपुर गोंडा गोण्डा गोरखपुर गौतमबुद्ध नगर गौतमबुद्धनगर चंदौली चन्दौली चित्रकूट जालौन जौनपुर ज्योतिबा फुले नगर झाँसी झांसी देवरिया पीलीभीत फतेहपुर फर्रुखाबाद फिरोजाबाद फैजाबाद बदायूं बरेली बलरामपुर बलिया बस्ती बहराइच बागपत बाँदा बांदा बाराबंकी बिजनौर बुलंदशहर बुलन्दशहर भदोही मऊ मथुरा महराजगंज महाराजगंज महोबा मिर्जापुर मीरजापुर मुजफ्फर नगर मुजफ्फरनगर मुज़फ्फरनगर मुरादाबाद मेरठ मैनपुरी मैनपूरी रामपुर रायबरेली लखनऊ लख़नऊ लखीमपुर खीरी ललितपुर वाराणसी शामली शाहजहाँपुर श्रावस्ती संतकबीरनगर संभल सहारनपुर सिद्धार्थनगर सीतापुर सुलतानपुर सुल्तानपुर सोनभद्र हमीरपुर हरदोई हाथरस हापुड़

Friday, October 13, 2017

फतेहपुर : अब वीरान पड़े मॉडल स्कूलों में संचालित होंगे केंद्रीय विद्यालय, सीएम की मंशा के बाद संचालन की उम्मीद हुई जिंदा


फतेहपुर : सब कुछ दुरुस्त रहा तो जिले के मॉडल स्कूलों में केंद्रीय स्कूल संचालित हो सकेंगे। बदहाली के दौर से गुजर रही मॉडल स्कूलों की इमारतों में केंद्रीय स्कूल खोलने के लिए सीएम ने मंशा जताई है। सीएम से हुई वार्ता के क्रम में डायरेक्टर ने डीआइओएस को पत्र लिखकर भेजी जाने वाली टीम को सर्वे कराने के आदेश दिए हैं। 


शासन ने ग्रामीणांचल में मॉडल स्कूल खोलकर नौनिहालों को हाईटेक शिक्षा दिए जाने का सपना देखा था। शासन द्वारा देखा गया सपना धराशाई हो गया। कभी केंद्रीय पाठ्यक्रम तो कभी यूपी बोर्ड तो कभी पीपीपी मॉडल पर स्कूलों के संचालन का सपना देखा गया था। तीनों विकल्प समय जाते फाइलों में सीमित होकर रह गए। करोड़ों रुपये की लागत से इमारतें का पुरसाहाल करने के लिए कदम बढ़ाए हैं। सीएम योगी आदित्य नाथ और केंद्रीय विद्यालय के डायरेक्टर के संग लखनऊ में एक वार्ता हुई। जिसमें सीएम की ओर से मॉडल स्कूलों में केंद्रीय विद्यालय संचालित करने की मंशा जताई और कहाकि इन विद्यालयों की लोकेशन और इमारतों का भौतिक सत्यापन केंद्रीय विद्यालय प्रबंधन द्वारा करा लिया जाए। जिस पर जिले में पत्र आने से खुशी दौड़ पड़ी है। 



राष्ट्रीय माध्यमिक शिक्षा अभियान के सहायक लेखाधिकारी आनंद विक्रम सिंह ने बताया कि शासन से पत्र आया है। जिसमें मॉडल स्कूलों की इमारतों में केंद्रीय विद्यालय खोले जाने को लेकर सर्वे होगा। जिले में कितने मॉडल स्कूलों में केंद्रीय विद्यालय संचालित हो सकेंगे इसका निर्णय केंद्रीय स्कूल प्रबंधन करेगा। 



■ जीआइसी में केंद्रीय स्कूल के संचालन को मिल चुकी है हरी झंडी : जिले में एक केंद्रीय स्कूल खोले जाने की मांग 1984 से की जा रही है। इसके लिए अगस्त माह में डीएम स्तर पर हुई बैठक में भवन के अभाव में राजकीय इंटर कॉलेज की नई इमारत में केंद्रीय विद्यालय खोले जाने का निर्णय लिया जा चुका है। आवासीय सुविधा के लिए बंद पड़ी कताई मिल के परिसर का उपयोग किया जा सकेगा। जानकारों की मानें तो नए सत्र से केंद्रीय विद्यालय में कक्षा 1 से 5 तक की कक्षाएं संचालित होंगी। 


■ जिले में छह मॉडल स्कूलों की इमारतें तैयार : जिले में मॉडल स्कूल योजना का क्रियान्वयन वर्ष 2010-11 हुआ था। जिसके तहत हसवा ब्लाक के दनियालपुर, तेलियानी ब्लाक के अलादातपुर, ऐरायां के ऐलई, भिटौरा ब्लाक के लतीफपुर, बहुआ ब्लाक के बहुआ कस्बे में और हथगाम ब्लाक के अमिलिहापाल में 3 करोड़ 2 लाख रुपये से इमारतें तैयार की गई है।

No comments:
Write comments