DISTRICT WISE NEWS

अंबेडकरनगर अमरोहा अमेठी अलीगढ़ आगरा आजमगढ़ इटावा इलाहाबाद उन्नाव एटा औरैया कन्नौज कानपुर कानपुर देहात कासगंज कुशीनगर कौशांबी गाजियाबाद गाजीपुर गोण्डा गोरखपुर गौतमबुद्धनगर चन्दौली चित्रकूट जालौन जौनपुर ज्योतिबा फुले नगर झाँसी देवरिया पीलीभीत फतेहपुर फर्रुखाबाद फिरोजाबाद फैजाबाद बदायूं बरेली बलरामपुर बलिया बस्ती बहराइच बागपत बाँदा बाराबंकी बिजनौर बुलंदशहर बुलन्दशहर भदोही मऊ मथुरा महराजगंज महोबा मीरजापुर मुजफ्फरनगर मुरादाबाद मेरठ मैनपुरी रामपुर रायबरेली लखनऊ लख़नऊ लखीमपुर खीरी ललितपुर वाराणसी शामली शाहजहाँपुर श्रावस्ती संतकबीरनगर संभल सहारनपुर सिद्धार्थनगर सीतापुर सुल्तानपुर सोनभद्र हमीरपुर हरदोई हाथरस हापुड़

Sunday, May 13, 2018

भ्रष्टाचार पर अंकुश के लिए शिक्षकों को पोर्टल से ही वेतन की तैयारी, पोर्टल से रुकेगा मदरसा शिक्षकों का फर्जीवाड़ा

प्रदेश में अनुदानित मदरसे 1अनुदानित मदरसे-5601मदरसा आधुनिकीकरण-8171 1मिनी आइटीआइ-120

फर्जी मदरसों पर अंकुश लगाने के बाद प्रदेश सरकार अब मदरसा शिक्षकों का फर्जीवाड़ा रोकने जा रही है। इसके लिए मदरसा पोर्टल का सहारा लिया जाएगा। इसी पोर्टल की मदद से प्रदेश भर के मदरसा शिक्षकों को सीधे उनके खाते में वेतन दिया जाएगा। इससे जिलों में होने वाले भ्रष्टाचार पर भी अंकुश लगेगा। साथ ही तय समय पर एक साथ पूरे प्रदेश के मदरसा शिक्षकों को वेतन मिल जाएगा।1प्रदेश की योगी सरकार ने मदरसों की मनमानी रोकने के लिए मदरसा पोर्टल तैयार किया है। इसमें सभी मदरसों को पंजीकृत किया गया है। कागजों में चलने वाले मदरसे पहले ही सिस्टम से बाहर हो गए हैं। अब अगली कड़ी में सरकार मदरसा शिक्षकों का फर्जीवाड़ा रोकने जा रही है। अभी मदरसा शिक्षक दो-दो, तीन-तीन मदरसों में नाम दर्ज कराए हैं। पोर्टल से वेतन देने से सारी गड़बड़ियां खत्म हो जाएंगी। वर्तमान व्यवस्था के अनुसार अल्पसंख्यक कल्याण विभाग सभी जिलों को पहले बजट आवंटित करता है इसके बाद जिला अल्पसंख्यक कल्याण अधिकारी मदरसा शिक्षकों का वेतन जारी करते हैं। इस व्यवस्था में कई जिलों में गड़बड़ियां हो रही हैं। जिनसे सुविधा शुल्क मिल जाता है उनका वेतन जल्द बना दिया जाता है जबकि बाकी लोग इंतजार करते रहते हैं। मदरसा शिक्षकों को समय पर वेतन न मिलने का मुद्दा सदन तक में कई बार लाया गया।

No comments:
Write comments