DISTRICT WISE NEWS

अंबेडकरनगर अमरोहा अमेठी अलीगढ़ आगरा आजमगढ़ इटावा इलाहाबाद उन्नाव एटा औरैया कन्नौज कानपुर कानपुर देहात कानपुर नगर कासगंज कुशीनगर कैसरगंज कौशांबी कौशाम्बी गाजियाबाद गाजीपुर गोंडा गोण्डा गोरखपुर गौतमबुद्ध नगर गौतमबुद्धनगर चंदौली चन्दौली चित्रकूट जालौन जौनपुर ज्योतिबा फुले नगर झाँसी झांसी देवरिया पीलीभीत फतेहपुर फर्रुखाबाद फिरोजाबाद फैजाबाद बदायूं बरेली बलरामपुर बलिया बस्ती बहराइच बागपत बाँदा बांदा बाराबंकी बिजनौर बुलंदशहर बुलन्दशहर भदोही मऊ मथुरा महराजगंज महाराजगंज महोबा मिर्जापुर मीरजापुर मुजफ्फर नगर मुजफ्फरनगर मुज़फ्फरनगर मुरादाबाद मेरठ मैनपुरी मैनपूरी रामपुर रायबरेली लखनऊ लख़नऊ लखीमपुर खीरी ललितपुर वाराणसी शामली शाहजहाँपुर श्रावस्ती संतकबीरनगर संभल सहारनपुर सिद्धार्थनगर सीतापुर सुलतानपुर सुल्तानपुर सोनभद्र हमीरपुर हरदोई हाथरस हापुड़

Monday, August 21, 2017

ललितपुर : राष्ट्रीय शैक्षिक महासंघ ने ज्ञापन सौंप उठाई समस्याओं के निस्तारण की माँग, न्यायालय के आदेश के बाद भी लगाई जा रही गैर शैक्षणिक ड्यूटियों पर जताई कड़ी प्रतिक्रिया

राष्ट्रीय शैक्षिक महासंघ उ0प्र0 जनपद - ललितपुर  के प्रतिनिधि मण्डल ने जिलाध्यक्ष - रविकांत ताम्रकार के प्रतिनिधित्व में जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी , ललितपुर श्री अम्बरीष यादव से मुलाक़ात कर शिक्षको की निम्नलिखित मांगो से अवगत कराकर शिक्षको की समस्याएं शीघ्र निस्तारित करने को कहा ।

( 1 ) -  शासनादेश , मान0 उच्च न्यायालय के आदेश व विभागीय निर्देशो के विरूद्ध निज स्वार्थ / निज लाभार्थ  शिक्षको , अनुदेशको की धड़ल्ले से ब्लॉक स्तरीय कार्यालयों व अन्य स्कूलो में लगाईं गई अस्थाई ड्यूटियों को तत्काल प्रभाव से निरस्त कर शिक्षको व अनुदेशको को मूल विद्यालय भेजा जाए ।

( 2 ) - " दिनांक - 01-01-2006  व 01-12-2008 के मध्य
पदोन्नत वरिष्ठ व कनिष्ठ शिक्षको द्वारा चुने गए विकल्पानुसार दो वेतनमान संरचना ( अपुनरीक्षित व पुनरीक्षित ) में पदोन्नत वेतनमान होते हुए भी लाभ अनुमन्य होने पर दिनांक 01-01-2006 व 01-12-2008 के मध्य काल्पनिक रूप से वेतन निर्धारण होने पर वरिष्ठ शिक्षक का वेतन शासनादेशानुसार कनिष्ठ शिक्षक से कम निर्धारित नही होकर कनिष्ठ शिक्षक के बराबर निर्धारित होगा एवम शासनादेशों में कही भी आरक्षित जाति या विज्ञान वर्ग के शिक्षको के वेतन निर्धारण की अलग से कोई व्यवस्था उल्लिखित नही है ।
  अतः शासनादेशानुसार चुने गए विकल्पानुसार वरिष्ठ शिक्षक का वेतन कनिष्ठ शिक्षक के वेतन के बराबर निर्धारित कर अविलंब वेतन विसंगति दूर की जाए ।

( 3 ) - शासन के निर्देशो के उपरान्त भी विद्यालयो में नही जाने वाले व साफ़ सफाई कार्य नही करने वाले सफाई कर्मियो के विरूद्ध अनुशासनात्मक कार्यवाही की जाए एवम शासन के निर्देशो के क्रम में प्रधानाध्यापकों द्वारा सफाई कर्मियो की दी गई मासिक उपस्थिति के आधार पर ही वेतन भुगतान किया जाए
तथा जिला पूर्ति  अधिकारी कार्यालय द्वारा मनमाने ढंग से सफाई कर्मियो के किये जा रहे वेतन भुगतान पर तत्काल प्रभाव से रोक लगाई जाए ।

( 4 ) -  भ्रष्टाचार के चलते शिक्षिकाओं के C C L  व मैटरनिटी लीव को स्वीकृत नही किया जता है व कई सप्ताह तक कार्यालय में लंबित रखा जाता है     अतः अत्यंत विषम परिस्थितियों में लिए जाने वाले C C L व मातृत्व अवकाश की एक निश्चित समय सीमा तय कर अवकाश स्वीकृत किये जाए ।

( 5 ) - अराजक / अनाधिकृत व्यक्तियो तथा तथाकथित  पत्रकारो को विद्यालय परिसर में विभागाध्यक्ष / मान0 जिलाधिकारी के अनुमति पत्र एवम् परिचय पत्र के बिना प्रवेश पर तत्काल रोक लगाईं जाए ।

( 6 ) - खण्ड शिक्षा अधिकारियो द्वारा शासनादेशानुसार व शासन से धनराशि प्राप्त होने के मद्देनजर भी  विद्यालयवार रुटचार्ट के अनुसार निः शुल्क पाठ्य पुस्तके विद्यालय दर विद्यालय उपलब्ध नही कराई गई है एवम प्रधानाध्यापको द्वारा स्वयम् निज व्यय कर पुस्तको का उठान किया गया है  उसके उपरांत भी कतिपय संकुल प्रभारियो द्वारा प्रधानाध्यापकों  से अवैध धनराशि की मांग की जा रही है
जिसकी जांच कर दोषियों के विरूद्ध अनुशासनात्मक कार्यवाही की जाए 
  तथा सम्पूर्ण विषयो की निः शुल्क पाठ्य पुस्तके रुटचार्ट के अनुसार विद्यालयवार उपलब्ध कराई जाए ।

( 7 ) - जब तक किसी शिक्षक ने की संगीन अपराध या वित्तीय अनियमितता ना की हो तथा उसका अपराध सिद्ध होकर उसे न्यायालय से सजा न मिली हो  तब तक किसी भी शिक्षक का वेतन नही रोका जा सकता है   क्योकि वेतन रोकना अनुशासनात्मक कार्यवाही की प्रक्रिया से शासित होता है जिसमे तात्कालिकता के प्रकरण में जिलाधिकारी की अनुमति से उक्त शिक्षक को प्रतीक्षा में रख उसका स्थायी अनुमोदन निदेशक बेसिक शिक्षा द्वारा तथ्यों के आधार पर लिया जाता है अतः अपराध सिद्ध ना होने पर किसी शिक्षक का वेतन ना रोका जाए ।

( 8 ) - शैक्षिक गुणवत्ता के मद्देनजर निरीक्षण सकारात्मक दृष्टिकोण रखते हुए किये जाए एवम निरीक्षण में कमी पाये जाने पर कमियो में सुधार कराते हुए सुधार के 2 अवसर प्रदान किये जाए  व कमी के कारणों को  समझ जाए ।

( 9 ) - " अध्यापक सेवा नियमावली - 1981 , शासनादेशों , मान0 उच्च न्यायालय के आदेश व विभागीय निर्देशो के अनुपालनार्थ प्रधानाध्यापक पूर्व माध्यमिक विद्यालय के पदों पर पदोन्नति प्रक्रिया शीघ्रति शीघ्र सम्पन्न की जाए ।

( 10 ) - खण्ड शिक्षा अधिकारी ब्लॉक वार द्वारा नियम विरूद्ध तरीके से विद्यालयो का चार्ज वरिष्ठ शिक्षको नही देकर निज लाभार्थ कनिष्ठ शिक्षको को दिलवाये गए है जिसकी जांच कर दोषी खण्ड शिक्षा अधिकारी वार के विरूद्ध अनुशासनात्मक कार्यवाही की जाए ।

( 11 ) - खण्ड शिक्षा अधिकारियो की लापरवाही के चलते शिक्षको के कालातीत हो चुके वेतन अवशेषो का अविलम्ब भुगतान किया जाए व दोषियों के विरूद्ध कार्यवाही  की जाए ।

( 12 ) - शिक्षको के वित्तीय वर्ष 2016-17  के लंबित वेतन अवशेषो का अविलम्ब भुगतान कराया जाए ।

अनुदेशको की मानदेय धनराशि का प्रतिमाह भुगतान किया जाना सुनिश्चित किया जाये एवम मानदेय संशोधन समयानुसार ना भेजने वाले खण्ड शिक्षा अधिकारियो के विरूद्ध अनुशासनात्मक कार्यवाही अमल में लायी जाए ।


     संगठन की उक्त मांगो को गंभीरता से दृष्टिगत करते हुए श्रीमान् जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी श्री अम्बरीष यादव जी ने उक्त सभी मांगो को  शीघ्र ही निस्तारित कर पूर्ण करने को आश्वस्त किया ।

  इस अवसर पर जिला महामंत्री - हरभजन सिंह सिसौदिया , जिला कोषाध्यक्ष - कैलाश चंद्र राणा , अध्यक्ष ब्लॉक वार - कमलदास साध , मंत्री ब्लॉक वार वीर सिंह कुशवाहा , कोषाध्यक्ष ब्लॉक वार - शंकरलाल सेन , उमाशंकर राठौर , अम्बरीष विश्वकर्मा पुष्पेन्द्र जैन एवम अनुदेशक वेलफेयर एसोशियेशन मंडल अध्यक्ष - अंशु नामदेव उपस्थित रहे ।








No comments:
Write comments