DISTRICT WISE NEWS

अंबेडकरनगर अमरोहा अमेठी अलीगढ़ आगरा आजमगढ़ इटावा इलाहाबाद उन्नाव एटा औरैया कन्नौज कानपुर कानपुर देहात कासगंज कुशीनगर कौशांबी गाजियाबाद गाजीपुर गोण्डा गोरखपुर गौतमबुद्धनगर चन्दौली चित्रकूट जालौन जौनपुर ज्योतिबा फुले नगर झाँसी देवरिया पीलीभीत फतेहपुर फर्रुखाबाद फिरोजाबाद फैजाबाद बदायूं बरेली बलरामपुर बलिया बस्ती बहराइच बागपत बाँदा बांदा बाराबंकी बिजनौर बुलंदशहर बुलन्दशहर भदोही मऊ मथुरा महराजगंज महोबा मीरजापुर मुजफ्फरनगर मुरादाबाद मेरठ मैनपुरी रामपुर रायबरेली लखनऊ लख़नऊ लखीमपुर खीरी ललितपुर वाराणसी शामली शाहजहाँपुर श्रावस्ती संतकबीरनगर संभल सहारनपुर सिद्धार्थनगर सीतापुर सुल्तानपुर सोनभद्र हमीरपुर हरदोई हाथरस हापुड़

Sunday, April 1, 2018

सीबीएसई पेपर लीक : 10वीं का साइंस और सोशल साइंस का पेपर भी हुआ था लीक, समय रहते कदम न उठाने पर उठ रहे सवाल

नई दिल्ली : सीबीएसई प्रश्नपत्र लीक प्रकरण की जांच में जुटी झारखंड पुलिस ने शनिवार को बड़ा रहस्योद्घाटन करते हुए बताया कि दसवीं का गणित का ही नहीं बल्कि साइंस और सोशल साइंस का पेपर भी लीक हुआ था।

चतरा के एसपी अखिलेश बी वारियर ने प्रेस कांफ्रेंस कर कहा कि परीक्षा के दिन परीक्षा केंद्र से ही वाट्सएप के जरिये साइंस और सोशल साइंस के पर्चे भी लीक कर दिए गए थे, जबकि गणित का पेपर परीक्षा शुरू होने के 18 घंटे पहले ही वाट्सएप और सोशल मीडिया के जरिये चतरा पहुंच गया था। वहां कोचिंग संचालक ने पांच-पांच हजार रुपये तक में प्रश्नपत्र बेचे। उधर दिल्ली-एनसीआर में शनिवार को पांच जगहों पर छापे मारे गए। दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच ने शनिवार को दस और लोगों से पूछताछ की। अब तक कुल 60 लोगाों से पूछताछ हो चुकी है।


चतरा के एसपी ने बताया कि पटना के छात्रों के पास पेपर कहां से आया, इसकी पड़ताल चल रही है। वहीं दिल्ली पुलिस के सीनियर अधिकारी लगातार संपर्क में हैं। इस प्रकरण को लेकर विशेष जांच टीम (एसआइटी) का गठन किया गया था, जिसकी दो टीमें पटना और गया में भी छापेमारी कर रही हैं। पटना से दो छात्रों को गिरफ्तार कर चतरा लाया गया है। तीन कोचिंग संचालकों को भी गिरफ्तार किया गया है। अब तक कुल 12 लोगों को गिरफ्तार किया गया है। इनमें शामिल छात्रों को हजारीबाग रिमांड होम जबकि तीन कोचिंग संचालकों को जेल भेज दिया गया।

संचालकों में स्टडी विजन नामक कोचिंग सेंटर के संचालक पंकज सिंह और सतीश पांडेय शामिल हैं। सतीश विद्यार्थी परिषद का जिला संयोजक है। शनिवार को इलाहाबाद हाईकोर्ट ने इस मामले में एक याचिका की सुनवाई करते हुए सीबीएसई को नोटिस जारी किया।

■ झारखंड पुलिस ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर बताया कि परीक्षा के दिन लीक हुए थे पर्चे
■ दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच ने दस और लोगों से की पूछताछ

बड़ा सवाल अब भी बरकरार
पेपर लीक की जानकारी जब सीबीएसई को पहले ही मिल चुकी थी, तो उसने समय रहते कदम क्यों नहीं उठाया? 27 मार्च की रात 1.39 बजे सीबीएसई की चेयरपर्सन अनिता कारवाल के ई-मेल एड्रेस पर 10वीं मैथ्स का पेपर लीक होने की सूचना मिल गई थी। ई-मेल भेजने वाला दिल्ली का 10वीं का छात्र है। फिर भी सीबीएसई ने कदम क्यों नहीं उठाया।

दिल्ली पुलिस ने 28 मार्च को इस आधार पर पहला केस दर्ज किया था। रेवाड़ी में 13 मार्च को 12वीं का केमिस्ट्री का पेपर परीक्षा से पहले वायरल हुआ था। सुबह साढे 10 बजे बोर्ड के पंचकूला स्थित आफिस प्रति भेज दी गई थी।

■ पिता के अकाउंट से भेजा था ई-मेल: गूगल ने जानकारी दी है कि 10वीं के छात्र ने पिता के अकाउंट से अनिता कारवाल को ई-मेल भेजा था।

दिल्ली में प्रिंसिपल व दो शिक्षक हिरासत में
नई दिल्ली : सीबीएसई की 10वीं व 12वीं बोर्ड परीक्षा के पेपर लीक मामले में क्राइम ब्रांच ने बवाना के एक पब्लिक स्कूल के प्रधानाचार्य और दो शिक्षकों को हिरासत में लिया है।

No comments:
Write comments