DISTRICT WISE NEWS

अंबेडकरनगर अमरोहा अमेठी अलीगढ़ आगरा आजमगढ़ इटावा इलाहाबाद उन्नाव एटा औरैया कन्नौज कानपुर कानपुर देहात कानपुर नगर कासगंज कुशीनगर कौशांबी कौशाम्बी गाजियाबाद गाजीपुर गोंडा गोण्डा गोरखपुर गौतमबुद्ध नगर गौतमबुद्धनगर चंदौली चन्दौली चित्रकूट जालौन जौनपुर ज्योतिबा फुले नगर झाँसी झांसी देवरिया पीलीभीत फतेहपुर फर्रुखाबाद फिरोजाबाद फैजाबाद बदायूं बरेली बलरामपुर बलिया बस्ती बहराइच बागपत बाँदा बांदा बाराबंकी बिजनौर बुलंदशहर बुलन्दशहर भदोही मऊ मथुरा महराजगंज महोबा मिर्जापुर मीरजापुर मुजफ्फरनगर मुरादाबाद मेरठ मैनपुरी रामपुर रायबरेली लखनऊ लख़नऊ लखीमपुर खीरी ललितपुर वाराणसी शामली शाहजहाँपुर श्रावस्ती संतकबीरनगर संभल सहारनपुर सिद्धार्थनगर सीतापुर सुलतानपुर सुल्तानपुर सोनभद्र हमीरपुर हरदोई हाथरस हापुड़

Thursday, April 28, 2016

सीतापुर : उर्दू में नियुक्ति, मृतक आश्रित का अंकपत्र, शिक्षक का दस्तावेज बना गड़बड़ी का पोटली, मामला बेहद पेचीदा


इसे महज इत्तेफाककहेंगे अथवा साजिश के तहत रचा गया कुचक्र। एक कागजात पर दो जिलों में नौकरी का मामला सामने आने के आरोपों के घेरे में आए शिक्षक रामचंद्र के दस्तावेजों में घालमेल सामने आ रहा है। परसेंडी ब्लॉक में तैनात रामचंद्र की तैनाती वर्ष 1996 में हुई थी और उसने सेवारत बीटीसी का प्रशिक्षण भी प्राप्त किया था। चौंकाने वाला तथ्य है कि डायट प्राचार्य सीतापुर ने रामचंद्र का जो अंकपत्र जारी किया था उस पर मृतक आश्रित दर्ज है। उससे हैरान करने वाली बात यह है कि रामचंद्र के पिता सधारीलाल खेती करते थे और किसी भी सरकारी सेवा में नही रहे। ऐसा ही रामचंद्र के दस्तावेजों पर अमेठी में नौकरी करने वाले उसके भाई बदलू के साथ भी हुआ है। परसेंडी ब्लॉक के प्राथमिक विद्यालय चिलमा में प्रधानाध्यापक पद पर कार्यरत रामचंद्र के मूल दस्तावेज में सेवारत बीटीसी 2010 के अंकपत्र पर मृतक आश्रित दर्ज है। तत्कालीन डायट प्राचार्य सीतापुर द्वारा जारी अंकपत्र का क्रमांक एम 1082 है। उधर रामचंद्र के ही नाम से अमेठी जिले के बहादुरपुर ब्लॉक के पूर्व माध्यमिक विद्यालय सराय महेशा में तैनात इनके भाई बदलू का सुल्तानपुर डायट प्राचार्य द्वारा वर्ष 2014 में अंकपत्र जारी किया गया था। इस अंकपत्र का क्रमांक 14000632 है और इस पर भी सेवारत बीटीसी मृतक आश्रित दर्ज है। रामचंद्र के नियुक्ति पत्र में साफ अंकित है कि 6 जुलाई वर्ष 1996 में उसने रेउसा ब्लॉक के प्राथमिक विद्यालय सेमरा जदीद में उर्दू शिक्षक के रूप में तैनाती हुई है। ऐसे में सेवारत बीटीसी के अंकपत्र पर मृतक आश्रित कैसे दर्ज है। ऐसे में जाहिर है कि कथित रामचंद्र के नाम पर अमेठी जिले से सरकारी पगार लेने वाले बदलू ने जालसाजी करके नौकरी हथियाई है। इससे इतर रामचंद्र की मूल सेवा पुस्तिका का लापता हो जाना और बगैर किसी कारण के दूसरी सेवा पंजिका बनवाया जाना निश्चित रूप से किसी साजिश की तरफ इशारा कर रहा है। सेवारत बीटीसी अंकपत्र पर मृतक आश्रित दर्ज होने का मामला बेहद पेचीदा है। इस पूरे मामले की जांच आने के बाद ही हकीकत सामने आ सकेगी। शिक्षक रामचंद्र के मामले की जांच कराई जा रही है।

No comments:
Write comments