DISTRICT WISE NEWS

अंबेडकरनगर अमरोहा अमेठी अलीगढ़ आगरा आजमगढ़ इटावा इलाहाबाद उन्नाव एटा औरैया कन्नौज कानपुर कानपुर देहात कानपुर नगर कासगंज कुशीनगर कौशांबी कौशाम्बी गाजियाबाद गाजीपुर गोंडा गोण्डा गोरखपुर गौतमबुद्ध नगर गौतमबुद्धनगर चंदौली चन्दौली चित्रकूट जालौन जौनपुर ज्योतिबा फुले नगर झाँसी झांसी देवरिया पीलीभीत फतेहपुर फर्रुखाबाद फिरोजाबाद फैजाबाद बदायूं बरेली बलरामपुर बलिया बस्ती बहराइच बागपत बाँदा बांदा बाराबंकी बिजनौर बुलंदशहर बुलन्दशहर भदोही मऊ मथुरा महराजगंज महोबा मिर्जापुर मीरजापुर मुजफ्फरनगर मुरादाबाद मेरठ मैनपुरी रामपुर रायबरेली लखनऊ लख़नऊ लखीमपुर खीरी ललितपुर वाराणसी शामली शाहजहाँपुर श्रावस्ती संतकबीरनगर संभल सहारनपुर सिद्धार्थनगर सीतापुर सुलतानपुर सुल्तानपुर सोनभद्र हमीरपुर हरदोई हाथरस हापुड़

Monday, August 10, 2020

बीईओ बोलीं, 10 हजार से नीचे नहीं हो पाएगा काम, वायरल वीडियो के खलबली मचाने के बाद दी प्रतिकूल प्रविष्टि, बीएसए ने बताया आरोपों को निराधार



----------- ----------- ----------- ----------- --------

बीईओ बोलीं, 10 हजार से नीचे नहीं हो पाएगा काम,  वायरल वीडियो के खलबली मचाने के बाद दी प्रतिकूल प्रविष्टि, बीएसए ने बताया आरोपों को निराधार


हरदोई: बेसिक शिक्षा विभाग में वायरल वीडियो ने खलबली मचा दी है। खंड शिक्षा अधिकारी शाहाबाद शुचि गुप्ता की एक सेवानिवृत्त अध्यापक से बातचीत के वायरल वीडियो के अनुसार..मास्टर साहब, हम क्या बताएं इसमें, हमें तो बीएसए को भी देना पड़ता है। बीएसए साहब को क्या हम पैसे अपने पास से देंगे। आप से तो कोई ज्यादा मांगे भी नहीं हैं, केवल 10 हजार रुपये की बात हुई है। आप पता कर लो कि हम बाकी का कितने में कर रहे हैं। जितना बीएसए को देना है उतना तो पूरा हो जाए हमारा।. .नहीं मास्टर साहब इससे कम हम क्या कर लें। आप हमारे घर आए थे तो हमने आपकी बात रख ली। बात यह है कि हमें तो फाइलें गिनकर बीएसए को हिसाब देना पड़ता है। कम से कम उनके खर्चा भर को तो निकल आए। बीएसए को पता होता है कि इतने लोग रिटायर हो रहे हैं। दस हजार रुपये में हम क्या उन्हें देंगे और क्या खुद रखेंगे। दस में भी चलो उनके भर का मिल जाए हमें नहीं मिल रहा है तब भी कोई बात नहीं। ..हालांकि यह वीडियो पुराना बताया जा रहा है और इसके चर्चा में आने पर 31 जुलाई को बीएसए, बीईओ को कारण बताओ नोटिस जारी कर चुके थे, लेकिन शनिवार रात सोशल मीडिया पर छाए वीडियो ने खलबली मचा दी है।


वायरल वीडियो के अनुसार खंड शिक्षा अधिकारी शुचि गुप्ता से कोई सेवानिवृत्त अध्यापक अपनी फाइल निस्तारण की बात कहता है। उससे पूर्व में 10 हजार रुपये की बात हुई और रुपयों के लिए ही वह बीईओ से मिलने आया। फोन पर किसी से बात करने के बाद बीईओ सेवानिवृत्त अध्यापक से मुखातिब होती हैं और 10 हजार रुपये से कम में काम न हो पाने की बात कहती हैं। इतना ही नहीं वह अन्य सेवानिवृत्त अध्यापकों का भी हवाला देती हैं कि किसी ने कोई सिफारिश नहीं लगवाई। सभी आए और अपना हिसाब कर काम करा ले गए। 


भाजपा जिलाध्यक्ष के गांव के एक सेवानिवृत्त अध्यापक की भी वह नजीर देती हैं। कहती हैं कि वह तो अध्यक्ष जी के रिश्तेदार थे, लेकिन कोई सिफारिश नहीं कराई, रुपये दिए और काम करवाया। वह खंड शिक्षा अधिकारी और अध्यापक के बीच आपसी रिश्तों का भी हवाला देती हैं। करीब छह मिनट 28 सेकेंड के वीडियो में अध्यापक कुछ अन्य के लिए भी पूछता है तो वह कहती हैं कि उनसे 18 हजार रुपये लिए, अपनी जल्दी फाइल करवा लो। शाहाबाद में किसी भी दिन चले आना और चुपचाप रुपये देना बस। बीईओ के रुपये मांगने के वीडियो की बात संज्ञान में आने पर 31 जुलाई को ही बीईओ शुचि गुप्ता को कारण बताओ नोटिस जारी कर तीन दिन में जवाब मांगा गया था। बीईओ उनका नाम लेकर जो भी बात कह रही हैं वह पूरी तरह निराधार है। रुपये मांगने के वीडियो पर बीईओ शुचि गुप्ता को प्रतिकूल प्रविष्टि देते हुए कार्रवाई के लिए शासन को लिखा गया है।


वीडियो पुराना है, पूरी साजिश करके आवाज बदलकर इसे बनाया गया है और इसके नाम पर ब्लैकमेलिग की भी कोशिश की गई। पत्रावली निस्तारण के नाम पर कोई रुपये नहीं मांगे, उनके ऊपर लगाए गए आरोप गलत हैं। - हेमंतराव, बीएसए


नया अपडेट ☝️
--------------- ---------------- --------------- -------
पुराना अपडेट 👇

हरदोई : फाइलें गिनकर बीएसए को पहुंचाना होता है हिस्सा, वायरल वीडियो में बीईओ का खुलासा, बीएसए ने थमाया नोटिस




● काम में लापरवाही पर भरखनी बीईओ को नोटिस
● बीएसए ने तीन दिन में मांगा जवाब, कार्रवाई की चेतावनी
● सोशल साइट पर वायरल वीडियो में पेंशन के पैसे मांगने का भी आरोप



हरदोई। शिक्षा विभाग के कामों में लापरवाही बरतने और सोशल साइट पर पेंशन की धनराशि मांगने के आरोप के बाद बीएसए ने भरखनी खंड शिक्षा अधिकारी (बीईओ) को कारण बताओ नोटिस जारी कर तीन दिन के अंदर जवाब मांगा है। बीएसए ने चेतावानी दी कि संतोषजनक जवाब न मिलने पर कार्रवाई की जाएगी।  बीएसए हेमंत राव ने बताया कि भरखनी बीईओ शुचि गुप्ता के पास शाहाबाद का भी अतिरिक्त प्रभार है। 


मिशन प्रेरणा से संबंधित कार्य, कंपोजिट ग्रांट से कराए गए कामों की फीडिंग, एमडीएम डाटा आदि की फीडिंग में दोनों ब्लाक पिछड़े हुए हैं। इसके अलावा विकास खंड भरखनी में विद्युतीकरण भी कम है। मानव संपदा के तहत अपलोडिंग भरखनी 53 प्रतिशत, नगर पंचायत पाली 29 प्रतिशत और शाहाबाद में सिर्फ 43 प्रतिशत हुई है। बार-बार पत्र लिखने के बाद भी अगर काम में प्रगति नहीं आ रही है, तो यह अनुशासन हीनता की श्रेणी में आता है। 


इसी तरह सोशल साइट पर एक वीडियो वायरल हो रहा है। इसमें पेंशन से रुपये भी मांगे जा रहे हैं, इन सब आरोपों के बाद उनको कारण बताओ नोटिस जारी किया गया। तीन दिन का समय दिया गया है, यदि तीन दिन के बाद मिले स्पष्टीकरण से संतुष्टी न हुई तो उनके कार्रवाई करने की बात कही।


● खंड शिक्षा अधिकारी को कारण बताओ नोटिस जारी

● हरदोई विकास खंड भरखनी-शाहाबाद का एक वीडियो वायरल हुआ है. जिसमें रुपये मांगने की बात कही गई है।...



हरदोई : विकास खंड भरखनी-शाहाबाद का एक वीडियो वायरल हुआ है,. जिसमें रुपये मांगने की बात बताई जा रही है। बीएसए ने वीडियो के साथ ही कार्यों में उदासीनता पर उन्हें कारण बताओ नोटिस जारी किया है।


बीएसए हेमंत राव ने खंड शिक्षा अधिकारी भरखनी/शाहाबाद शुचि गुप्ता को जारी पत्र में कहा गया है कि 31 जुलाई 2010 को सोशल मीडिया पर पेंशनर से धनराशि मांगे जाने का वीडियो वायरल हुआ है, जो अत्यंत निदाजनक व आपकी अनुशासनहीनता का प्रतीक है। इस कृत्य से विभाग की छवि खराब हुई है। ऐसा प्रतीत होता है कि आपके द्वारा जानबूझ कर विभाग की छवि धूमिल की गई। इसके अलावा मिशन प्रेरणा से संबंधित कार्यो के संबंध में दिशा निर्देश जारी किए गए थे। मगर विकास खंड भरखनी और शाहाबाद का कार्य पूर्ण नहीं कराया गया, जो आदेशों की अवहेलना है। बीएसए ने खंड शिक्षा अधिकारी से तीन दिन के अंदर स्पष्टीकरण उपलब्ध कराने के निर्देश दिए हैं।


खबर साभार :  दैनिक जागरण / अमर उजाला

No comments:
Write comments