DISTRICT WISE NEWS

अंबेडकरनगर अमरोहा अमेठी अलीगढ़ आगरा आजमगढ़ इटावा इलाहाबाद उन्नाव एटा औरैया कन्नौज कानपुर कानपुर देहात कानपुर नगर कासगंज कुशीनगर कौशांबी कौशाम्बी गाजियाबाद गाजीपुर गोंडा गोण्डा गोरखपुर गौतमबुद्ध नगर गौतमबुद्धनगर चंदौली चन्दौली चित्रकूट जालौन जौनपुर ज्योतिबा फुले नगर झाँसी झांसी देवरिया पीलीभीत फतेहपुर फर्रुखाबाद फिरोजाबाद फैजाबाद बदायूं बरेली बलरामपुर बलिया बस्ती बहराइच बागपत बाँदा बांदा बाराबंकी बिजनौर बुलंदशहर बुलन्दशहर भदोही मऊ मथुरा महराजगंज महोबा मिर्जापुर मीरजापुर मुजफ्फरनगर मुरादाबाद मेरठ मैनपुरी रामपुर रायबरेली लखनऊ लख़नऊ लखीमपुर खीरी ललितपुर वाराणसी शामली शाहजहाँपुर श्रावस्ती संतकबीरनगर संभल सहारनपुर सिद्धार्थनगर सीतापुर सुलतानपुर सुल्तानपुर सोनभद्र हमीरपुर हरदोई हाथरस हापुड़
Showing posts with label देवरिया. Show all posts
Showing posts with label देवरिया. Show all posts

Monday, August 10, 2020

देवरिया : दो फर्जी शिक्षक जल्द होंगे बर्खास्त, बीएसए के नोटिस का नहीं दिया जवाब

देवरिया : दो फर्जी शिक्षक जल्द होंगे बर्खास्त, बीएसए के नोटिस का नहीं दिया जवाब।

देवरिया :: परिषदीय विद्यालय में फर्जी मिले दो शिक्षक, शीघ्र ही बर्खास्त होंगे। यह शिक्षक जांच शुरू होने के बाद से ही फरार चल रहे हैं। इन शिक्षकों ने बीएसए की नोटिसों का जवाब नहीं दिया है। परिषदीय विद्यालयों में फर्जी शिक्षकों की जांच तेजी से चल रही है। अब तक 41 शिक्षकों के खिलाफ बर्खास्तगी की कार्रवाई हो चुकी है। इनमें से एक दर्जन से अधिक के खिलाफ केस दर्ज कराया जा चुका है। इसमें पुलिस जांच कर रही है।




दूसरी तरफ अन्य फर्जी शिक्षक भी सामने आ रहे हैं। ताजा मामला एक समान पैन कार्ड पर कार्यरत मिले शिक्षकों से जुड़ा है। बीएसए ने समान पैन कार्ड पर कार्यरत मिले सभी सभी शिक्षकों को नोटिस देकर पक्ष रखने को कहा था। इसमें से दो शिक्षकों ने नोटिस का जवाबनहीं दिया। बीएसएफ की तरफ से दूसरी और तीसरी नोटिस भेजी गयी पर दोनों शिक्षकों ने जवाब नहीं दिया। अब प्रेस विज्ञप्ति प्रकाशित कर सूचना दी गयी है। सूत्रों का कहना है कि दोनो शिक्षक जांच में फर्जी पाए गए हैं। इसके चलते नोटिस पर उपस्थित नहीं हो रहे हैं।

● जांच शुरू होने के बाद से विद्यालय से हैं फरार

• बीएसए के नोटिस का भी नहीं दिया जवाब

जिले में अब तक हो चुकी है 41 शिक्षकों की बर्खास्तगी।

कस्तूरबा के शिक्षकों के खिलाफ हो रही है जांच : फर्जी शिक्षकों के मामले में जिले के कस्तूरबा आवासीय विद्यालय प्रदेश में अव्वल हैं। राज्य परियोजना में हुई जांच में 14 शिक्षक फर्जी मिले। इन्हें बीएसए ने बर्खास्त कर दिया है। 11 शिक्षकों के खिलाफ जांच चल रही है। प्रमाणपत्रों का सत्यापन कराया जा रहा है। फर्जी मिलने पर इनके खिलाफ भी कार्रवाई होगी। एक वार्डेन को किसी व्यक्ति की शिकायत पर बर्खास्त किया जा चुका था।


 व्हाट्सप के जरिये जुड़ने के लिए क्लिक करें।

Thursday, July 16, 2020

देवरिया : फर्जी और कूटरचित प्रमाण पत्रों पर नौकरी कर रहे KGBV के 14 शिक्षक बर्खास्त

देवरिया : फर्जी और कूटरचित प्रमाण पत्रों पर नौकरी कर रहे KGBV के 14 शिक्षक बर्खास्त।

देवरिया : फर्जी और कूटरचित प्रमाण पत्रों पर नौकरी कर रहे कस्तूरबा गांधी आवासीय विद्यालय की 14 शिक्षक बुधवार को बर्खास्त कर दिए गए। इनमें एक वार्डेन, आठ पूर्णकालिक, चार अंशकालिक और एक उर्दू शिक्षक शामिल हैं। यह कार्रवाई पांच सदस्यीय कमेटी की जांच रिपोर्ट के आधार पर हुई है। जिले के कस्तूरबा गांधी आवासीय बालिका विद्यालयों में फर्जी प्रमाण पत्रों पर बड़ी संख्या में नियुक्ति की शिकायत किसी ने शासन से की थी। इसी बीच  अनामिका प्रकरण सामने आने के बाद इसमें तेजी आ गई।





राज्य परियोजना कार्यालय के निर्देश पर मामले की जांच शुरूहुई। पांच सदस्यीय कमेटी गठित गई थी। जांच कमेटी में रामपुर कारखाना के बीईओ विनोद तिवारी, पथरदेवा के बीईओ डीएन चंद, सहायक वित्त एवं लेखाधिकारी डॉ.उपेंद्र मणि त्रिपाठी, डीसी प्रशिक्षण स्वप्निल कुमार मंगलम व डीसी बालिका त्रिभुवन नाथ पाण्डेय शामिल थे। 16 व 17 जून को शिक्षकों के प्रमाण पत्रों की मूल प्रति, आधार नंबर को बीएसए कार्यालय में जमा करा कर उनका सत्यापन शुरू किया गया।


 व्हाट्सप के जरिये जुड़ने के लिए क्लिक करें।

Wednesday, July 8, 2020

एक नाम, पैन नंबर से देवरिया व लखनऊ में नौकरी कर रही शिक्षिका, वेतन रोका

लखनऊ। लखनऊ और देवरिया में एक ही नाम, जन्मतिथि और पैन नंबर का मामला सामने आने के बाद जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी ने संबंधित शिक्षिका का वेतन रोक दिया है। जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी दिनेश कुमार का कहना है कि जांच के बाद ही कार्रवाई की जाएगी। तब तक की अवधि में शिक्षिका का वेतन रुका रहेगा। बीएसए दिनेश कुमार ने बताया कि पूर्व माध्यमिक विद्यालय सेवरिया में तैनात शिक्षिका और देवरिया में तैनात शिक्षिका के नाम, जन्मतिथि व पैन नंबर एक जैसे पाए गए हैं। लखनऊ की शिक्षिका के सभी दस्तावेजों की जांच की जा चुकी है। अब देवरिया के दस्तावेज जांचे जाने हैं। देवरिया के शिक्षा अधिकारियों के अनुसार शिक्षिका को प्रमाणपत्रों की जांच कराने के लिए मंगलवार तक का समय दिया गया था। जांच पूरी होने तक की अवधि में शिक्षिका का वेतन रोक दिया गया है। सत्यापन के लिये उपस्थित न होने से गहराया शक संबंधित शिक्षिका के मामले में सब कुछ सामान्य होने की उम्मीद काफी कम दिख रही है। एक नाम की दो शिक्षिकाएं होना तो संभव है पर पैन नंबर व जन्मतिथि भी एक हो जाए ऐसा व्यवहारिक नहीं है। देवरिया में तैनात शिक्षिका सत्यापन के लिए भी उपस्थित भी नहीं हो रही। इससे शक और बढ़ गया है। शुरुआती तौर पर तो यह एक ही प्रमाण पत्र पर दो जगह नौकरी करने का मामला नजर आ रहा है। बहरहाल पूरी स्थिति जांच के बाद ही साफ हो पाएगी

 

Thursday, June 25, 2020

देवरिया : फर्जी प्रमाणपत्र से नौकरी कर रही वार्डन बर्खास्त

देवरिया : फर्जी प्रमाणपत्र से नौकरी कर रही वार्डन बर्खास्त।

फर्जी प्रमाण से नौकरी कर रही वार्डन बर्खास्त

देवरिया। फर्जी प्रमाण पत्र पर नौकरी कर रही एक कस्तूरबा आवासीय विद्यालय की वार्डन को बुधवार को बर्खास्त कर दिया गया। उसके खिलाफ मुकदमा दर्ज कराने के साथ अब तक प्राप्त वेतन की वसूली की कार्रवाई भी की जाएगी। एक व्यक्ति की शिकायत पर हुई जांच में यह मामला सामने आया था।






 कस्तूरबा आवासीय विद्यालय लार की वार्डन रिचा वर्मा के फर्जी प्रमाण पर नौकरी करने की शिकायत एक व्यक्ति ने पिछले वर्ष राज्य परियोजना निदेशक (एसपीडी) सर्व शिक्षा अभियान से की थी। एसपी के निर्देश पर बीएसए ने तीन खंड शिक्षा अधिकारियों की समिति गठित कर जांच सौंपी थी।


 व्हाट्सप के जरिये जुड़ने के लिए क्लिक करें।

Wednesday, June 10, 2020

देवरिया के कस्तूरबा विद्यालयों में नियुक्ति का रेकॉर्ड ही गायब

देवरिया के कस्तूरबा विद्यालयों में नियुक्ति का रेकॉर्ड ही गायब

विभाग के पास सिर्फ मेरिट लिस्ट, पूर्व कर्मचारियों पर फोड़ा जा रहा ठीकरा


करतूरबा विद्यालयों में हुई नियुक्तियों के रेकॉर्ड गायब हैं। सिर्फ शिक्षकों-कर्मचारियों की मेरिट लिस्ट ही मौजूद है। -प्रकाश नारायण श्रीवास्तव, बीएसए

 देवरिया : एक नाम पर प्रदेश के कई कस्तूरबा विद्यालयों में नौकरी के मामले में तमाम जिलों में जांच के डर से हड़कंप मचा है। इस बीच देवरिया जिले में तो कस्तूरबा आवासीय विद्यालयों में हुई नियुक्तियों के सारे रेकॉर्ड ही गायब हो गए हैं। बीएसए दफ्तर में शिक्षकों व कर्मचारियों के रेकॉर्ड के नाम पर सिर्फ मेरिट लिस्ट भर मौजूद है। रेकॉर्ड संभालने की जिम्मेदारी जिन कर्मचारियों पर है, अब वे पूर्व में तैनात रहे कर्मचारियों के सिर ठीकरा फोड़ने में जुट गए हैं। मामला सामने आने के बाद बीएसए ने जांच की बात कही है।

देवरिया में 13 कस्तूरबा आवासीय विद्यालय हैं। इन विद्यालयों में कक्षा एक से आठवीं तक गरीब बच्चों की मुफ्त पढ़ाई होती है। यहां वॉर्डन के 13 पदों के सापेक्ष 11, पूर्णकालिक शिक्षक के 52 पदों के सापेक्ष 45 और अंशकालिक शिक्षक के 39 पदों के सापेक्ष 32 तैनातियां हैं। इसके अलावा 13 अकाउंटेंट, 39 रसोइये, और 13-13 चपरासी और चौकीदारों की नियुक्ति है। हैरत की बात यह है कि इन कर्मचारियों की नियुक्ति का कोई रेकॉर्ड जिला बेसिक शिक्षा विभाग के पास नहीं है। इस मामले का खुलासा तब हुआ, जब फरवरी में सलेमपुर क्षेत्र के एक कस्तूरबा विद्यालय में वॉर्डन की नियुक्ति से संबंधित शिकायत एसटीएफ से की गई थी।


एसटीएफ को भी नहीं मिली थी पूरी पत्रावली: फरवरी में नियुक्ति को लेकर हुई शिकायत के बाद एडी बेसिक ऑफिस ने कस्तूरबा विद्यालयों में नियुक्ति का ब्योरा मांगा गया था, लेकिन रेकॉर्ड नहीं मिला। वहीं, एसटीएफ को भी पूरे कागजात नहीं मिल पाए थे।

Wednesday, March 4, 2020

देवरिया : महिला शिक्षामित्र ने दुष्कर्म मारपीट और धमकी का दर्ज कराया केस, दुष्कर्म का आरोपी शिक्षक बीआरसी से गिरफ्तार

देवरिया : महिला शिक्षामित्र ने दुष्कर्म मारपीट और धमकी का दर्ज कराया केस, दुष्कर्म का आरोपी शिक्षक बीआरसी से गिरफ्तार