DISTRICT WISE NEWS

अंबेडकरनगर अमरोहा अमेठी अलीगढ़ आगरा आजमगढ़ इटावा इलाहाबाद उन्नाव एटा औरैया कन्नौज कानपुर कानपुर देहात कानपुर नगर कासगंज कुशीनगर कौशांबी कौशाम्बी गाजियाबाद गाजीपुर गोंडा गोण्डा गोरखपुर गौतमबुद्ध नगर गौतमबुद्धनगर चंदौली चन्दौली चित्रकूट जालौन जौनपुर ज्योतिबा फुले नगर झाँसी झांसी देवरिया पीलीभीत फतेहपुर फर्रुखाबाद फिरोजाबाद फैजाबाद बदायूं बरेली बलरामपुर बलिया बस्ती बहराइच बागपत बाँदा बांदा बाराबंकी बिजनौर बुलंदशहर बुलन्दशहर भदोही मऊ मथुरा महराजगंज महोबा मिर्जापुर मीरजापुर मुजफ्फरनगर मुरादाबाद मेरठ मैनपुरी रामपुर रायबरेली लखनऊ लख़नऊ लखीमपुर खीरी ललितपुर वाराणसी शामली शाहजहाँपुर श्रावस्ती संतकबीरनगर संभल सहारनपुर सिद्धार्थनगर सीतापुर सुलतानपुर सुल्तानपुर सोनभद्र हमीरपुर हरदोई हाथरस हापुड़
Showing posts with label मोबाइल. Show all posts
Showing posts with label मोबाइल. Show all posts

Tuesday, September 8, 2020

फतेहपुर : अब एंड्राएड फोन चलाना सीख रहे मास्साब, शिक्षकों के गले की फांस बना ऑनलाइन प्रशिक्षण

फतेहपुर : अब एंड्राएड फोन चलाना सीख रहे मास्साब, शिक्षकों के गले की फांस बना ऑनलाइन प्रशिक्षण।

फतेहपुर : कोरोना संक्रमण काल में भले ही बच्चों के लिए विद्यालय बंद चल रहे हों लेकिन शिक्षकों के लिए काम बढ़ता ही जा रहा है। बेसिक शिक्षा विभाग द्वारा संचालित परिषदीय विद्यालयों में इनदिनों सबकुछ आनलाइन कार्य सम्पादित करने में जोर दिया जा रहा है। जिससे खासकर बुजुर्ग शिक्षकों की परेशानी बढ़ रही है। इस उम्र में शिक्षक स्मार्ट एंड्रायड मोबाइल फोन चलाना सीखरहे हैं।

परिषदीय स्कूलों में ऑनलाइन प्रशिक्षण के लिए दीक्षा एप और मानव सम्पदा पोर्टल को लिंक करने के निर्देश दिए गए हैं। कुछ शिक्षक शिक्षकों ऐसे हैं जो एंड्रायड मोबाइल चलाने में सक्षम नहीं हैं। उन्हें प्रशिक्षण लेने में दिक्कत आ रही है। परिषदीय स्कूलों के शिक्षकों को आनलाइन प्रशिक्षित करने का शासन का फरमान उनके गले की फांस बन गया है। पहले तो चुनिंदा शिक्षकों को शासन के बताए ऐप डाउनलोड कराने के निर्देश थे। जैसे तैसे उनको डाउनलोड कर ही पाए थे कि शासन ने दीक्षा ऐप और मानव सम्पदा को लिंक करने के निर्देश जारी हो गए। लिंक करने के आदेश आते ही मोबाइल चलाने में अक्षम शिक्षक शिक्षकों का सिर दर्द बढ़ गया है।

कोरोना के चलते एक जगह पर भीड़ इकट्ठा करने पर मनाही है। इसके चलते आनलाइन प्रशिक्षण दिया जा रहा है। जनपद में लगभग 25 से 30 फीसद शिक्षकों की उम्र पचास से पचपन वर्ष के आसपास है। यह शिक्षक न तो तकनीकी रूप से दक्ष हैं और न ही मोबाइल पर प्रशिक्षण में सक्षम हैं। खासकर अधिकतर महिला शिक्षक ऐसी हैं जिनके लिए प्रशिक्षण में शामिल होना चुनौती है। कुछ दिनों पहले ही शासन ने शिक्षकों को ऑनलाइन प्रशिक्षित करने के लिए दीक्षा ऐप को मानव संपदा पोर्टल से लिंक का आदेश जारी कर दिया है। शिक्षकों को अब प्रशिक्षण प्राप्त करना होगा।



मोबाइल खरीदना आसान चलाना मुश्किल : बुजुर्ग शिक्षक

स्मार्ट फोन खरीदने में तो सक्षम हैं लेकिन उसे चलाने में उन्हें तमाम दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। 50 से 55 वर्ष पेन कागज के तहत काम निपटाने वाले बुजुर्ग शिक्षकों के लिए ऑनलाइन व्यवस्थाएं सिर दर्द बन रही हैं। ऐसे में ये मास्साब घर के बच्चों या फिर विद्यालय के युवा शिक्षकों से मदद ले रहे हैं।



शिक्षक संकुलों का गठन : न्याय पंचायत स्तर पर शिक्षक संकुलों का गठन किया गया है। ऑनलाइन प्रशिक्षण के लिए शिक्षकों को दीक्षा ऐप से मानव संपदा से लिंक करने समेत मोबाइल चलाने में आ रही दिक्कतों का निदान कर रहे हैं।विद्यालयों में जाकर शिक्षकों को बता रहे है।-राकेश सचान, बीईओ मुख्यालय


 व्हाट्सप के जरिये जुड़ने के लिए क्लिक करें।

Thursday, October 24, 2019

एप में दर्ज होंगे एसएमसी सदस्यों के फोन नम्बर, राज्य परियोजना निदेशक ने बीएसए को दिए निर्देश

एप में दर्ज होंगे एसएमसी सदस्यों के फोन नम्बर, राज्य परियोजना निदेशक ने बीएसए को दिए निर्देश।

👉🏻 यहां क्लिक करके देखें विस्तृत निर्देश




 व्हाट्सप के जरिये जुड़ने के लिए क्लिक करें।

Monday, August 19, 2019

परिषदीय विद्यालयों के प्र0अ0 को टैबलेट दिए जाने की तैयारी शुरू, विद्यार्थियों एवं शिक्षकों की हाजिरी का रखा जाएगा पूरा रिकॉर्ड, राज्य एवं जिला स्तर पर बनेगा कंट्रोल रूम

परिषदीय विद्यालयों के प्र0अ0 को टैबलेट दिए जाने की तैयारी शुरू, विद्यार्थियों एवं शिक्षकों की हाजिरी का रखा जाएगा पूरा रिकॉर्ड, राज्य एवं जिला स्तर पर बनेगा कंट्रोल रूम






Saturday, August 17, 2019

प्रेरणा से शिक्षक ले रहे प्रेरणा, उपस्थिति समेत योजनाओं के बेहतर संचालन का दावा, 3 जिलों के शिक्षकों को दी जा रही ट्रेनिंग



प्रेरणा से शिक्षक ले रहे प्रेरणा, उपस्थिति समेत योजनाओं के बेहतर संचालन का दावा, 3 जिलों के शिक्षकों को दी जा रही ट्रेनिंग। 



लखनऊ : इंटीग्रेटेड शिक्षा प्रणाली ‘प्रेरणा’ योजना को पायलट प्रोजेक्ट के रूप में 20 अगस्त को प्रदेश के सभी जिलों में लागू कर दिया जाएगा। बेसिक शिक्षा अधिकारी (बीएसए) अमरकांत सिंह ने बताया कि शिक्षकों को इस संबंध में ट्रेनिंग भी दी जा रही है, जो लगभग अंतिम चरण में है। इससे शिक्षकों के साथ संबंधित अधिकारियों को भी सारी जानकारी ऑन लाइन मिल सकेगी।



इसके तहत शिक्षकों का सेवा विवरण ऑनलाइन हो जाएगा, वह ऑनलाइन ही छुट्टी समेत सेवा विस्तार से संबंधित सभी आवेदन कर सकेंगे। शिक्षण प्रणाली में बेसिक शिक्षा विभाग द्वारा संचालित योजनाओं के बेहतर क्रियान्वयन के लिए यूपी डेस्को ने इंटीग्रेटेड फेमवर्क तैयार किया है। मानव संपदा शिक्षक अधिष्ठान मॉड्यूल, एसएमसी मॉड्यूल, उपस्थिति मॉड्यूल (फोटो अपलोड व जीपीएस लोकेशन) सहित होगा।