DISTRICT WISE NEWS

अंबेडकरनगर अमरोहा अमेठी अलीगढ़ आगरा आजमगढ़ इटावा इलाहाबाद उन्नाव एटा औरैया कन्नौज कानपुर कानपुर देहात कानपुर नगर कासगंज कुशीनगर कौशांबी कौशाम्बी गाजियाबाद गाजीपुर गोंडा गोण्डा गोरखपुर गौतमबुद्ध नगर गौतमबुद्धनगर चंदौली चन्दौली चित्रकूट जालौन जौनपुर ज्योतिबा फुले नगर झाँसी झांसी देवरिया पीलीभीत फतेहपुर फर्रुखाबाद फिरोजाबाद फैजाबाद बदायूं बरेली बलरामपुर बलिया बस्ती बहराइच बागपत बाँदा बांदा बाराबंकी बिजनौर बुलंदशहर बुलन्दशहर भदोही मऊ मथुरा महराजगंज महोबा मिर्जापुर मीरजापुर मुजफ्फरनगर मुरादाबाद मेरठ मैनपुरी रामपुर रायबरेली लखनऊ लख़नऊ लखीमपुर खीरी ललितपुर वाराणसी शामली शाहजहाँपुर श्रावस्ती संतकबीरनगर संभल सहारनपुर सिद्धार्थनगर सीतापुर सुलतानपुर सुल्तानपुर सोनभद्र हमीरपुर हरदोई हाथरस हापुड़

Friday, November 22, 2019

21 जनवरी को स्कूल कॉलेजों में तालाबंदी करेंगे शिक्षक, वार्ता विफल, हजारों शिक्षकों ने किया प्रदर्शन

21 जनवरी को स्कूल कॉलेजों में तालाबंदी करेंगे शिक्षक, वार्ता विफल, हजारों शिक्षकों ने किया प्रदर्शन। 

November 22, 2019  
राज्य ब्यूरो, लखनऊ: उत्तर प्रदेश शिक्षक महासंघ के आह्वान पर गुरुवार राजधानी के ईको गार्डेन में प्राइमरी स्कूल, माध्यमिक स्कूल व डिग्री कॉलेजों के हजारों शिक्षकों ने अपनी मांगों को लेकर प्रदर्शन किया। शिक्षक सम्मान बचाओ महारैली में शिक्षकों की भारी भीड़ देख पुलिस व प्रशासन के हाथ-पांव फूल गए।

 कई थानों की पुलिस मौके पर बुलाई गई। दोपहर करीब ढाई बजे शिक्षकों के प्रतिनिधिमंडल की डिप्टी सीएम डॉ. दिनेश शर्मा से वार्ता करवाई गई, लेकिन वह विफल हो गई। उन्होंने बेसिक शिक्षा विभाग से संबंधित प्रकरण पर वार्ता करने से इन्कार कर दिया। बेसिक शिक्षा मंत्री सतीश द्विवेदी प्रदेश से बाहर थे, ऐसे में डिप्टी सीएम उनसे फोन पर वार्ता की।


बेसिक शिक्षा मंत्री ने शिक्षकों के साथ 25 नवंबर को बैठक करने का आश्वासन दिया, मगर शिक्षक नहीं माने और आगे आंदोलन जारी रखने का फैसला किया। अब 21 जनवरी को प्रदेशभर में प्राइमरी स्कूल से लेकर डिग्री कॉलेजों तक में सामूहिक तालाबंदी होगी।उत्तर प्रदेश शिक्षक महासंघ के संरक्षक और विधान परिषद में शिक्षक दल के नेता ओम प्रकाश शर्मा व अध्यक्ष डॉ. दिनेश चंद्र शर्मा ने शिक्षकों की मांगें गिनाईं। उन्होंने कहा कि प्राइमरी स्कूलों में प्रेरणा एप से शिक्षकों को तीन बार सेल्फी भेजने के निर्देश हैं। ऐसे में न सिर्फ शिक्षकों के प्रति अविश्वसनीयता बढ़ती है बल्कि महिला शिक्षिकाओं की निजता से खिलवाड़ हो रहा है। 

वित्त विहीन स्कूलों के शिक्षकों को न्यूनतम 15 हजार रुपये मानदेय देने और सेवा नियमावली बनाने पर सरकार राजी हुई थी, लेकिन कुछ नहीं हुआ। वहीं पुरानी पेंशन स्कीम लागू करने, चिकित्सा प्रतिपूर्ति देने और डिग्री कॉलेज शिक्षकों की सेवानिवृत्त आयु 65 साल करने सहित कई मांगें हैं। शिक्षकों से ईको गार्डेन भर गया बल्कि उसकी चहारदीवारी के बाहर भी भारी संख्या में शिक्षक खड़े अपने नेताओं के भाषण सुनते रहे। प्रदर्शन में एमएलसी हेम सिंह पुंडीर, जगवीर किशोर जैन, ध्रुव कुमार त्रिपाठी, माध्यमिक शिक्षक संघ के प्रदेशीय मंत्री डॉ. आरपी मिश्र व प्राथमिक शिक्षक संघ के महामंत्री संजय सिंह आदि मौजूद रहे।

No comments:
Write comments