DISTRICT WISE NEWS

अंबेडकरनगर अमरोहा अमेठी अलीगढ़ आगरा आजमगढ़ इटावा इलाहाबाद उन्नाव एटा औरैया कन्नौज कानपुर कानपुर देहात कानपुर नगर कासगंज कुशीनगर कौशांबी कौशाम्बी गाजियाबाद गाजीपुर गोंडा गोण्डा गोरखपुर गौतमबुद्ध नगर गौतमबुद्धनगर चंदौली चन्दौली चित्रकूट जालौन जौनपुर ज्योतिबा फुले नगर झाँसी झांसी देवरिया पीलीभीत फतेहपुर फर्रुखाबाद फिरोजाबाद फैजाबाद बदायूं बरेली बलरामपुर बलिया बस्ती बहराइच बागपत बाँदा बांदा बाराबंकी बिजनौर बुलंदशहर बुलन्दशहर भदोही मऊ मथुरा महराजगंज महोबा मिर्जापुर मीरजापुर मुजफ्फरनगर मुरादाबाद मेरठ मैनपुरी रामपुर रायबरेली लखनऊ लख़नऊ लखीमपुर खीरी ललितपुर वाराणसी शामली शाहजहाँपुर श्रावस्ती संतकबीरनगर संभल सहारनपुर सिद्धार्थनगर सीतापुर सुलतानपुर सुल्तानपुर सोनभद्र हमीरपुर हरदोई हाथरस हापुड़

Wednesday, December 11, 2019

यूपी बोर्ड : अब 12वीं में भी मिलेगा पूरक परीक्षा का मौका, माध्यमिक शिक्षा विभाग ने तैयार किया मसौदा, 2020 से लागू करने का प्रस्ताव

अब 12वीं में भी मिलेगा पूरक परीक्षा का मौका, माध्यमिक शिक्षा विभाग ने तैयार किया मसौदा, 2020 से लागू करने का प्रस्ताव।


यूपी बोर्ड : इंटर में फेल होने पर दे सकेंगे कंपार्टमेंट परीक्षा

  • December 11, 2019


राज्य ब्यूरो, लखनऊ : यूपी बोर्ड की वर्ष 2020 की इंटरमीडिएट परीक्षा में फेल होने पर परीक्षार्थी कंपार्टमेंट परीक्षा दे सकेंगे। यह सुविधा अभी तक यूपी बोर्ड की हाईस्कूल परीक्षा में एक विषय में फेल होने वाले परीक्षार्थियों को ही मिलती है। अब हाईस्कूल व इंटरमीडिएट दोनों परीक्षाओं में दो विषयों में फेल होने पर परीक्षार्थी कंपार्टमेंट परीक्षा दे सकेंगे।
मार्कशीट पर यह नहीं लिखा जाएगा कि विद्यार्थी कंपार्टमेंट परीक्षा देकर पास हुआ है। यह जानकारी उप मुख्यमंत्री डॉ. दिनेश शर्मा ने दी। लोक भवन में आयोजित पत्रकार वार्ता में उन्होंने कहा कि कंपार्टमेंट परीक्षा की सुविधा देने के इस प्रस्ताव पर जल्द शासन की मुहर लगाई जाएगी। परीक्षा के नाम पर विद्यार्थियों को घबराहट न हो, इसलिए मूल्यांकन पद्धति में बदलाव किया जा रहा है। यूपी बोर्ड में राष्ट्रीय अनुसंधान और प्रशिक्षण परिषद (एनसीईआरटी) का पाठ्यक्रम लागू करने के बाद अब परीक्षा के पैटर्न में भी केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) व काउंसिल फॉर इंडियन स्कूल सर्टिफिकेट एग्जामिनेशन (सीआइएससीई) की तर्ज पर बदलाव किया जाएगा। सीबीएसई में अंग्रेजी विषय में पास होने पर दो विषय में फेल होने पर भी कंपार्टमेंट परीक्षा की सुविधा मिलती है। वहीं सीआइएससीई में अंग्रेजी सहित दो विषय में पास होने पर विद्यार्थी को बाकी विषयों में कंपार्टमेंट परीक्षा देने की सुविधा दी जाती है। उनकी मार्कशीट में यह नहीं लिखा जाता कि वह कंपार्टमेंट परीक्षा देकर पास हुए हैं।
यूपी बोर्ड की परीक्षा सिर्फ 14 दिनों में खत्म होगी। पहले एक विषय के दो-दो पेपर थे, अब इसे एक-एक किया गया है। बोर्ड परीक्षा की मानीटरिंग वेबकॉस्टिंग के माध्यम से होगी। उप मुख्यमंत्री डॉ. दिनेश शर्मा ने बताया कि कोचिंग संस्थानों की मनमानी पर रोक लगाने के लिए जल्द कोचिंग अधिनियम बनाया जाएगा। सरकारी माध्यमिक स्कूलों में नए सत्र से ऑनलाइन कक्षाएं पढ़ाई जाएंगी। हर जिले में इसके लिए पांच-पांच शिक्षकों का चयन किया जाएगा।
यूपी बोर्ड के टॉपर्स की कापियां ऑनलाइन न हो पाने पर मीडिया द्वारा पूछे गए सवाल पर उप मुख्यमंत्री ने कहा कि टॉपर्स के साथ-साथ सभी विद्यार्थियों की कापियां ऑनलाइन करनी होंगी जो संभव नहीं है। ऐसे में सूचना का अधिकार अधिनियम (आरटीआइ) के माध्यम से कापियां देखी जा सकती हैं।

’ हाईस्कूल में थी सुविधा, दो विषयों में फेल छात्र दे सकेंगे परीक्षा
’कोचिंग संस्थानों पर शिकंजा कसने को बनेगा अधिनियम : दिनेश शर्मा

















 व्हाट्सप के जरिये जुड़ने के लिए क्लिक करें।

No comments:
Write comments