DISTRICT WISE NEWS

अंबेडकरनगर अमरोहा अमेठी अलीगढ़ आगरा आजमगढ़ इटावा इलाहाबाद उन्नाव एटा औरैया कन्नौज कानपुर कानपुर देहात कानपुर नगर कासगंज कुशीनगर कौशांबी कौशाम्बी गाजियाबाद गाजीपुर गोंडा गोण्डा गोरखपुर गौतमबुद्ध नगर गौतमबुद्धनगर चन्दौली चित्रकूट जालौन जौनपुर ज्योतिबा फुले नगर झाँसी झांसी देवरिया पीलीभीत फतेहपुर फर्रुखाबाद फिरोजाबाद फैजाबाद बदायूं बरेली बलरामपुर बलिया बस्ती बहराइच बागपत बाँदा बांदा बाराबंकी बिजनौर बुलंदशहर बुलन्दशहर भदोही मऊ मथुरा महराजगंज महोबा मिर्जापुर मीरजापुर मुजफ्फरनगर मुरादाबाद मेरठ मैनपुरी रामपुर रायबरेली लखनऊ लख़नऊ लखीमपुर खीरी ललितपुर वाराणसी शामली शाहजहाँपुर श्रावस्ती संतकबीरनगर संभल सहारनपुर सिद्धार्थनगर सीतापुर सुलतानपुर सुल्तानपुर सोनभद्र हमीरपुर हरदोई हाथरस हापुड़
Showing posts with label आंदोलन. Show all posts
Showing posts with label आंदोलन. Show all posts

Friday, December 14, 2018

गोण्डा : प्रमोशन में दिलचस्पी नहीं ले रहे अफसर,राष्ट्रीय शैक्षिक महासंघ के पदाधिकारियों ने बैठक कर आंदोलन की बनाई रणनीति

गोण्डा : प्रमोशन में दिलचस्पी नहीं ले रहे अफसर,राष्ट्रीय शैक्षिक महासंघ के पदाधिकारियों ने बैठक कर आंदोलन की बनाई रणनीति।

Tuesday, October 30, 2018

महराजगंज : अपनी मांगों को लेकर संघर्षरत रसोइयों ने आंदोलन के तीसरे दिन किया भिक्षाटन, 15 नवम्बर से लखनऊ में प्रस्तावित धरने की बनाई रणनीति

महराजगंज : राष्ट्रीय मध्याह्न् भोजन रसोइया फ्रंट ने आंदोलन के तीसरे दिन आज सोमवार को हाथों में कटोरा लेकर भिक्षाटन किया। इसके बाद मुख्यालय पर धरना देकर अपने हक की आवाज बुलंद की। जिलाध्यक्ष संध्या देवी के नेतृत्व में रसोइयों ने जिलाधिकारी, पुलिस अधीक्षक, विकास भवन, उप संभागीय परिवहन कार्यालय, जिला विद्यालय निरीक्षक, जिला बेसिक अधिकारी कार्यालय, जिला अस्पताल पर भिक्षाटन किया। इसके बाद जिला मुख्यालय पर पहुंचकर धरना दिया। इस दौरान जिलाध्यक्ष ने कहा कि बेसिक शिक्षा अधिकारी द्वारा रसोइयों को जान-बूझकर प्रधानाध्यापक एवं अध्यापिकाओं के माध्यम से उत्पीड़न कराया जा रहा है, जिससे जिले भर में बड़ी संख्या में अकारण रसोइयों को निकाला गया है। इन्हें बहाल किया जाए। जिला संरक्षक राजेंद्र प्रसाद ने कहा कि अगर हमारी मांगों पर विचार नहीं किया तो सरकार को आगामी 2019 के चुनाव में इसका खामियाजा भुगतना पड़ेगा। जिला सचिव हेमवंता देवी ने कहा कि रसोइयों का ग्राम प्रधान व प्रधानाध्यापक दोनों मिलकर उत्पीड़न करते हैं। इन समस्याओं को लेकर जिले की सभी रसोइया 15 नवंबर को लखनऊ में धरना देकर अपनी एकजुटता का परिचय देंगी। इस दौरान जालंधर प्रसाद, रामसेवक, सरोज देवी, महेश, शीला, रामसेवक, संतलाल, अंबिका यादव, श्रीराम, अंबिका यादव, बदरी प्रसाद, मंजू देवी, कालिंदी, राधिका, बिंदू, सविता आदि उपस्थित रहे।

Thursday, October 11, 2018

कर्मचारी महासंघ ने 23 अक्टूबर की रैली को लेकर बनाई रणनीति, पुरानी पेंशन बहली की मांग को लेकर देश भर में आंदोलन चलाने का निर्णय

कर्मचारी महासंघ ने 23 अक्टूबर की रैली को लेकर बनाई रणनीति, पुरानी पेंशन बहली की मांग को लेकर देश भर में आंदोलन चलाने का निर्णय।



लखनऊ : संविदाकर्मियों को नियमित करने, चतुर्थ श्रेणी पदों को पुनर्जीवित करने और पुरानी पेंशन योजना बहाल करने सहित 14 सूत्रीय मांगों को लेकर उप्र राज्य कर्मचारी महासंघ 23 अक्टूबर को राजधानी के ईको गार्डन में रैली आयोजित करने जा रहा है। महासंघ पदाधिकारियों ने रैली में लाखों कर्मचारियों के शामिल होने का दावा किया है।1महासंघ अध्यक्ष कमलेश मिश्र ने गुरुवार को पत्रकारों को बताया कि मांगों पर राज्य सरकार द्वारा कोई कार्यवाही न किए जाने के कारण रैली के जरिये सरकार तक आवाज पहुंचाने की तैयारी की गई है। अखिल भारतीय राज्य सरकारी कर्मचारी महासंघ के उपाध्यक्ष एसपी सिंह ने बताया कि रैली के जरिए राज्यपाल को ज्ञापन भेजा जाएगा। सिंह ने कहा कि विश्व बैंक के दबाव में केंद्र सरकार द्वारा सरकारी व्यवस्था को पूरी तरह ध्वस्त किया जा रहा है। इस स्थिति में उन्होंने कर्मचारियों के उत्पीड़न को चरम पर बताया।1राज्य कर्मचारी महासंघ के संरक्षक लल्लन पांडे ने बताया कि रैली के लिए मुख्य सचिव को नौ अक्टूबर को नोटिस दे दी गई है। इसकी प्रति राज्यपाल के सचिव को भी भेजी गई है। पांडे ने कहा कि पेंशन कर्मचारियों का अधिकार है और राज्य सरकार यदि चाहे तो पुरानी पेंशन बहाल कर सकती है।राज्य ब्यूरो, लखनऊ : संविदाकर्मियों को नियमित करने, चतुर्थ श्रेणी पदों को पुनर्जीवित करने और पुरानी पेंशन योजना बहाल करने सहित 14 सूत्रीय मांगों को लेकर उप्र राज्य कर्मचारी महासंघ 23 अक्टूबर को राजधानी के ईको गार्डन में रैली आयोजित करने जा रहा है। महासंघ पदाधिकारियों ने रैली में लाखों कर्मचारियों के शामिल होने का दावा किया है।1महासंघ अध्यक्ष कमलेश मिश्र ने गुरुवार को पत्रकारों को बताया कि मांगों पर राज्य सरकार द्वारा कोई कार्यवाही न किए जाने के कारण रैली के जरिये सरकार तक आवाज पहुंचाने की तैयारी की गई है। अखिल भारतीय राज्य सरकारी कर्मचारी महासंघ के उपाध्यक्ष एसपी सिंह ने बताया कि रैली के जरिए राज्यपाल को ज्ञापन भेजा जाएगा। सिंह ने कहा कि विश्व बैंक के दबाव में केंद्र सरकार द्वारा सरकारी व्यवस्था को पूरी तरह ध्वस्त किया जा रहा है। इस स्थिति में उन्होंने कर्मचारियों के उत्पीड़न को चरम पर बताया।1राज्य कर्मचारी महासंघ के संरक्षक लल्लन पांडे ने बताया कि रैली के लिए मुख्य सचिव को नौ अक्टूबर को नोटिस दे दी गई है। इसकी प्रति राज्यपाल के सचिव को भी भेजी गई है। पांडे ने कहा कि पेंशन कर्मचारियों का अधिकार है और राज्य सरकार यदि चाहे तो पुरानी पेंशन बहाल कर सकती है।


Tuesday, September 4, 2018

बीएड - टीईटी वाले 5 सितम्बर को करेंगे अटल आंदोलन, 2012 में एकेडमिक आधार पर शुरू भर्ती की नियुक्ति पूरी करने की मांग

बीएड - टीईटी वाले 5 सितम्बर को करेंगे अटल आंदोलन, 2012 में एकेडमिक आधार पर शुरू भर्ती की नियुक्ति पूरी करने की मांग। 


Saturday, June 23, 2018

पुरानी पेंशन बहाली के लिए खोला मोर्चा, केंद्रीय व राज्य कर्मचारी संगठन हुए एकजुट, हड़ताल व आंदोलन की बनी रणनीति

पुरानी पेंशन बहाली के लिए खोला मोर्चा, केंद्रीय व राज्य कर्मचारी संगठन हुए एकजुट, हड़ताल व आंदोलन की बनी रणनीति

Friday, April 27, 2018

महराजगंज : पुरानी पेंशन बहाली के मुद्दे पर 30 अप्रैल को दिल्ली में प्रस्तावित आंदोलन में दिल्ली जाएंगे 550 से अधिक शिक्षक व कर्मचारी

महराजगंज : पुरानी पेंशन बहाली के मुद्दे को लेकर 30 अप्रैल को सदी का सबसे बड़ा आंदोलन होगा। आंदोलन को सफल बनाना शिक्षकों व कर्मचारियों की जिम्मेदारी है, बड़ी संख्या में शिक्षक कार्यक्रम में मौजूद रहकर अपनी ताकत का एहसास कराएं। यह बातें गुरुवार को सदर ब्लाक संसाधन केंद्र में आयोजित अटेवा पेंशन बचाओ मंच की बैठक को संबोधित करते हुए जिलाध्यक्ष राजेश जायसवाल ने कही। उन्होंने कहाकि हमें सरकार को पुरानी पेंशन बहाली के लिए मजबूर कर देना है, यह तभी संभव है जब सभी अपना योगदान देंगे। जिला महामंत्री टीपी सिंह ने कहा कि जिले से लगभग 550 शिक्षक व कर्मचारी दिल्ली जाएंगे व आंदोलन को गति प्रदान करेंगे। संरक्षक महेंद्र कुमार वर्मा ने कहा कि बिना एकजुटता के हमारी मांगे पूरी नहीं हो सकती, रैली को सफल बनाने के लिए सभी अपने दायित्वों का निर्वहन करें। आदित्यनाथ शुक्ला ने कहा कि यह आंदोलन सभी के लिए मिल का पत्थर साबित होगा।1 इस दौरान शिवप्रताप सिंह, दिलीप विश्वकर्मा, प्रेमकिशन, गोपाल पटेल, प्रयागनाथ मिश्र, रूपक वर्मा, समर पाल, आशीष यादव, मुकेश, शक्तिशरण पाठक, जगदंबा, उमेश मिश्र, नीलिमा सिंह, अजय कुमार, योगेश कुमार, हीरालाल, राजेश निषाद, सुबाष यादव, अजय भाष्कर आदि मौजूद रहे।