DISTRICT WISE NEWS

अंबेडकरनगर अमरोहा अमेठी अलीगढ़ आगरा आजमगढ़ इटावा इलाहाबाद उन्नाव एटा औरैया कन्नौज कानपुर कानपुर देहात कानपुर नगर कासगंज कुशीनगर कौशांबी कौशाम्बी गाजियाबाद गाजीपुर गोंडा गोण्डा गोरखपुर गौतमबुद्ध नगर गौतमबुद्धनगर चंदौली चन्दौली चित्रकूट जालौन जौनपुर ज्योतिबा फुले नगर झाँसी झांसी देवरिया पीलीभीत फतेहपुर फर्रुखाबाद फिरोजाबाद फैजाबाद बदायूं बरेली बलरामपुर बलिया बस्ती बहराइच बागपत बाँदा बांदा बाराबंकी बिजनौर बुलंदशहर बुलन्दशहर भदोही मऊ मथुरा महराजगंज महोबा मिर्जापुर मीरजापुर मुजफ्फरनगर मुरादाबाद मेरठ मैनपुरी रामपुर रायबरेली लखनऊ लख़नऊ लखीमपुर खीरी ललितपुर वाराणसी शामली शाहजहाँपुर श्रावस्ती संतकबीरनगर संभल सहारनपुर सिद्धार्थनगर सीतापुर सुलतानपुर सुल्तानपुर सोनभद्र हमीरपुर हरदोई हाथरस हापुड़

Monday, May 9, 2022

फतेहपुर : अफसरों ने गोद ले लिए 53 विद्यालय, बनेंगे मॉडल स्कूल, डीएम ने चयनित विद्यालयों व अफसरों की सूची की जारी,अवस्थापना व सुविधाओं पर जोर

फतेहपुर : अफसरों ने गोद ले लिए 53 विद्यालय,बनेंगे मॉडल स्कूल, डीएम ने चयनित विद्यालयों व अफसरों की सूची की जारी,अवस्थापना व सुविधाओं पर जोर
 
फतेहपुर : डीएम अपूर्वा दुबे ने जिले के 53 परिषदीय स्कूलों को गोद लेने के आदेश दिए हैं। चयनित विद्यालयों एवं अफसरों की सूची जारी करते हुए उन्होंने शासन की मंशा के मुताबिक इन विद्यालयों में अवस्थापना सुविधाओं एवं गुणवत्तायुक्त पठन पाठन सुनिश्चित किया जाए। इन विद्यालयों को माडल स्कूलों के रूप में विकसित करने के निर्देश दिए हैं।


डीएम ने जिले के सभी 13 ब्लॉकों व नगर क्षेत्र के 53 स्कूलों को चयनित करते हुए अफसरों को इन्हें माडल विद्यालय के रूप में विकसित करने को कहा है। अफसर अपने गोद लिए हुए विद्यालयों का नियमित अंतराल पर पर्यवेक्षण करेंगे एवं दूसरे विभागों से समन्वय स्थापित करते हुए उनकी कमियों को दूर कराएंगे। डीएम ने अफसरों को इस कार्य में व्यक्तिगत रूचि लेने की भी अपील की है। जिन अधिकारियों ने स्कूलों को गोद लिया है उनमें सीडीओ, एडीएम, एसडीएम, तहसीलदार, बीडीओ, मुख्य कोषाधिकारी, डीपीआरओ, जिला आबकारी अधिकारी, पीडी आरईएस, डीआईओएस, बीएसए, डीएसओ व उपायुक्त मनरेगा समेत जिले के अधिकांश अफसर शामिल हैं।

इन विद्यालयों को लिया गया गोद:

ऐरायां में कम्पोजिट नकसारा, प्रावि ऐलई द्वितीय, रोशनपुर टेकारी। धाता में कम्पोजिट टेकारी। हथगाम में प्रावि कासिमपुर द्वितीय। विजयीपुर में प्रावि गुरगौला प्रथम को गोद लिया गया। इसके अलावा तेलियानी में कम्पोजिट कसेरूवा, कम्पोजिट बिलन्दा, प्रावि त्रिलोकीपुर, कम्पोजिट बकन्धा, उप्रावि सहिली, कम्पोजिट सलेमाबाद, उप्रावि अलादातपुर, प्रावि हसनपुर सानी, कम्पोजिट अल्लीपुर हैं।

भिटौरा में कम्पोजिट तालिबपुर, कम्पोजिट ढकौली, कम्पोजिट सैदनापुर, प्रावि हुसैनगंज द्वितीय, कम्पोजिट आलमपुर नरही, प्रावि बसोहनी प्रथम को शामिल किया गया।

बहुआ में प्रावि सुजानपुर, प्रावि जैतपुर, कम्पोजिट शाहपुर प्रथम, प्रावि खटौली, कम्पोजिट शाह द्वितीय, उप्रावि सुकेती, कम्पोजिट फुलवामऊ, प्रावि लक्ष्मणपुर, कम्पोजिट सोनबरसा, प्रावि सुल्तानपुर, कम्पोजिट गाजीपुर का नाम शमिल है। इसके अलावा हसवा में उप्रावि बड़नपुर, कम्पोजिट हसवा, प्रावि सीतापुर, उप्रावि थरियांव, प्रावि मुसैदापुर, प्रावि थरियांव प्रथम, प्रावि फैजुल्लापुर हैं। जुहा में प्रावि दौलतियापुर, कम्पोजिट सरकंडी, कम्पोजिट काजीखेड़ा, अमौली में कम्पोजिट भिखनीपुर, असोथर में उप्रावि प्रेममऊ कटरा, प्रावि सराय खालिस, देवमई में उप्रावि डारी खुर्द,मलवां में कम्पोजिट सौंरा, उप्रावि मलवां प्रथम, प्रावि शिवराजपुर द्वितीय जबकि नगर फतेहपुर में प्रावि नारायणपुर, कम्पोजिट मसवानी, कम्पोजिट चौकधियापुर, कम्पोजिट उधन्नापुर शामिल हैं।

अवस्थापना सुविधाओं पर रहेगा जोर

आपरेशन कायाकल्प के दौरान भले ही जिले के सैकड़ों स्कूलों की तस्वीर बदली हो लेकिन अभी भी ऐसी तमाम सुविधाएं हैं जो अनेक स्कूलों में नहीं हैं। सबसे बड़ी समस्या फर्नीचर की अनुपलब्धता है जिस कारण बच्चे जमीन में बैठकर पढ़ाई करते हैं। बिजली, पेयजल व दूसरे संसाधन भी कई स्कूलों में खस्ताहाल हैं। लोगों ने कहा है कि अफसरों को वह विद्यालय गोद लेने चाहिए जहां अवस्थापना सुविधाओं पर न के बराबर काम हुआ हो।

No comments:
Write comments