DISTRICT WISE NEWS

अंबेडकरनगर अमरोहा अमेठी अलीगढ़ आगरा आजमगढ़ इटावा इलाहाबाद उन्नाव एटा औरैया कन्नौज कानपुर कानपुर देहात कानपुर नगर कासगंज कुशीनगर कौशांबी कौशाम्बी गाजियाबाद गाजीपुर गोंडा गोण्डा गोरखपुर गौतमबुद्ध नगर गौतमबुद्धनगर चंदौली चन्दौली चित्रकूट जालौन जौनपुर ज्योतिबा फुले नगर झाँसी झांसी देवरिया पीलीभीत फतेहपुर फर्रुखाबाद फिरोजाबाद फैजाबाद बदायूं बरेली बलरामपुर बलिया बस्ती बहराइच बागपत बाँदा बांदा बाराबंकी बिजनौर बुलंदशहर बुलन्दशहर भदोही मऊ मथुरा महराजगंज महोबा मिर्जापुर मीरजापुर मुजफ्फरनगर मुरादाबाद मेरठ मैनपुरी रामपुर रायबरेली लखनऊ लख़नऊ लखीमपुर खीरी ललितपुर वाराणसी शामली शाहजहाँपुर श्रावस्ती संतकबीरनगर संभल सहारनपुर सिद्धार्थनगर सीतापुर सुलतानपुर सुल्तानपुर सोनभद्र हमीरपुर हरदोई हाथरस हापुड़
Showing posts with label विद्यालय. Show all posts
Showing posts with label विद्यालय. Show all posts

Saturday, April 17, 2021

कोरोना के फैलाव के चलते जूनियर शिक्षक संघ ने बेसिक शिक्षकों को वर्क फ्रॉम होम या 50% स्टाफ की उपस्थिति का आदेश निर्गत करने व विद्यालय समय में बदलाव की रखी मांग

कोरोना के फैलाव के चलते जूनियर शिक्षक संघ ने बेसिक शिक्षकों को वर्क फ्रॉम होम या 50% स्टाफ की उपस्थिति का आदेश निर्गत करने व विद्यालय समय में बदलाव की रखी मांग


Sunday, April 11, 2021

स्कूल खोल सकेंगे अपना कार्यालय, लखनऊ डीएम ने जारी किए निर्देश

स्कूल खोल सकेंगे अपना कार्यालय, लखनऊ डीएम ने जारी किए निर्देश


लखनऊ। जिलाधिकारी अभिषेक प्रकाश ने शनिवार देर रात निर्देश जारी कर शहर के स्कूलों को प्रशासनिक कार्यों के लिए कार्यालय खोलने की अनुमति दे दी है। जिला विद्यालय निरीक्षक डॉ. मुकेश कुमार सिंह ने बताया कि देर रात आकस्मिक बैठक के बाद जिलाधिकारी ने यह आदेश किया। इसके तहत स्कूल अब अपने स्टाफ को बुला सकेंगे।


शिक्षक ऑनलाइन पढ़ाई कराने के लिए भी स्कूल जा सकेंगे। इस दौरान स्कूलों को कोविड प्रोटोकॉल और शासन द्वारा जारी एसओपी का पालन करना पड़ेगा। गौरतलब है कि स्कूल पूर्ण रूप से बंद होने की वजह से दाखिला करने, फीस जमा करने, रिपोर्ट कार्ड बनाने और ऑनलाइन पढ़ाई कराने आदि की प्रक्रिया बाधित हो रही थी, जिसको लेकर स्कूलों ने अपनी मांग भी उठाई थी।

Monday, April 5, 2021

नई शिक्षा नीति के अंतर्गत जल्द बनाये जाएंगे स्कूल कॉम्प्लेक्स, शुरू हुई मैपिंग


नई शिक्षा नीति के अंतर्गत जल्द बनाये जाएंगे स्कूल कॉम्प्लेक्स, शुरू हुई मैपिंग


बुनियादी व माध्यमिक शिक्षा के स्कूलों का एक समूह (स्कूल काम्प्लेक्स) बनेगा। इसका उद्देश्य स्कूल के संसाधनों का अधिकतम उपयोग करना है। इसके लिए स्कूलों की मैपिंग की जा रही है। वहीं स्पेशल एजुकेशन जोन भी बनाया जाएगा जहां शिक्षा से जुड़ी सारी सुविधाएं उपलब्ध कराई जाएंगी।


नई शिक्षा नीति के तहत स्कूल कॉम्प्लेक्स बनाने की योजना है। इस कॉम्लेक्स में कक्षा एक से 12 के स्कूलों को शामिल किया जाएगा। इसमें तीन से पांच किमी के अंदर स्थित स्कूलों को एक काम्प्लेक्स में रखा जाएगा। इसके तहत आपस में शिक्षकों की सेवाओं का आदान-प्रदान हो सकेगा वहीं स्कूल में उपलब्ध संसाधनों का अधिकतम उपयोग भी किया जा सकेगा | जैसे किसी एक स्कूल में खेल का मैदान है तो वहां अन्य स्कूलों के बच्चों को ले जाकर खेलने का मौका दिया जाएगा।

Thursday, April 1, 2021

यूपी बोर्ड के स्कूलों में दाखिले की प्रक्रिया होगी शुरू, कक्षा नौ से 12 तक के स्कूल एक अप्रैल से खुलेंगे

यूपी बोर्ड के स्कूलों में दाखिले की प्रक्रिया होगी शुरू, कक्षा नौ से 12 तक के स्कूल एक अप्रैल से खुलेंगे


राजधानी में कक्षा नौ से 12 तक के स्कूल गुरुवार से खुल जाएंगे। वहीं यूपी बोर्ड के स्कूलों में दाखिले की प्रक्रिया भी गुरुवार से प्रारंभ हो जाएगी। जो छात्र अगली कक्षा में प्रोमोट हुए हैं वे स्कूल कार्यालय से दाखिले की प्रक्रिया पूरी कर सकते हैं।


नए शैक्षणिक सत्र में एक अप्रैल से कक्षा नौ से 12 तक के विद्यालय खुल जाएंगे। इसके साथ ही यूपी बोर्ड के स्कूलों में दाखिले की प्रक्रिया भी शुरू हो जाएगी। छात्र कक्षा नौ, 10 और 12 में दाखिला ले सकते हैं। जिन छात्रों का परीक्षा परिणाम जारी कर दिया गया है वे स्कूल कार्यालय से दाखिले की प्रक्रिया पूरी कर सकते हैं। वहीं जिनका परिणाम जारी नहीं हुआ है तो स्कूल खुलते ही उनको रिपोर्ट कार्ड सौंपा जाएगा और दाखिले की प्रक्रिया पूरी की जाएगी। 


परिषद विद्यालयों से कक्षा आठ की पढ़ाई पूरी करने वाले छात्र भी अब दाखिले की प्रक्रिया कभी भी पूरी करा सकते हैं। इसके अलावा जिन यूपी बोर्ड के स्कूलों में कक्षा आठ तक की भी पढ़ाई होती है, वहां पर भी दाखिले की प्रक्रिया शुरू कर दी जाएगी। इनमें से कई स्कूलों ने परीक्षा संपन्न करा ली थी और अधिकांश में रिपोर्ट में कार्ड भी जारी कर दिया गया था। इनकी कक्षाएं भले ही स्कूलों में न चल रही हों लेकिन वे भी दाखिले की प्रक्रिया पूरी करा सकते हैं।


सीएमएस ने कक्षा आठ तक के छात्रों को किया प्रमोट
कक्षा आठ तक के स्कूल बंद होने के चलते सीएमएस प्रशासन ने कक्षा आठ तक के सभी छात्रों को बिना अंतिम परीक्षा कराए प्रमोट करने का निर्णय लिया है। सीएमएस के प्रवक्ता ऋषि खन्ना ने बताया कि कक्षा आठ तक के बच्चों की न तो ऑनलाइन और न ही ऑफलाइन वार्षिक परीक्षाएं कराई जाएंगी। इन छात्रों को पिछली परीक्षाओं में प्राप्त अंकों के आधार पर अगली कक्षा में प्रोन्नत किया जाएगा। वहीं गुरुवार से कक्षा नौ से 12 तक की परीक्षाएं पूर्व निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार ऑफलाइन कराई जाएंगी। उन्होंने बताया कि मॉन्टेसरी, नर्सरी, केजी, कक्षा एक और दो का नया शैक्षणिक सत्र पांच अप्रैल से, कक्षा तीन से कक्षा नौ तक का नया सत्र 12 अप्रैल से और कक्षा 10 व 12 का सत्र 26 अप्रैल से शुरू किया जाएगा।

Wednesday, March 24, 2021

यूपी में 31 मार्च तक केवल परीक्षा के लिए खुलेंगे कक्षा 9 से 12 तक के स्कूल-कॉलेज

यूपी में 31 मार्च तक केवल परीक्षा के लिए खुलेंगे कक्षा 9 से 12 तक के स्कूल-कॉलेज : उप मुख्यमंत्री डॉ. दिनेश शर्मा


उप मुख्यमंत्री डॉ. दिनेश शर्मा ने कहा है कि कक्षा नौ से 12 तक के स्कूलों को केवल परीक्षा के लिए ही खोला जा सकेगा। स्कूलों में पढ़ाई नहीं होगी। 25 से 31 मार्च तक होली की छुट्टियां रहेंगी। वहीं उच्च शिक्षा के संस्थानों में 25 से 31 मार्च के बीच शिक्षण कार्य परिसर में न होकर, ऑनलाइन होगा।


सभी विश्वविद्यालय, महाविद्यालयों व संस्थानों को केवल परीक्षा या प्रयोगात्मक परीक्षाओं के लिए ही खोला जा सकेगा। इस दौरान कोविड प्रोटोकॉल का पालन किया जाएगा। इस संबंध में आदेश जारी कर दिए गए हैं।


उत्तर प्रदेश अलावा कई अन्य राज्यों में भी स्कूलों को अस्थाई तौर पर बंद रखने के निर्देश दिए गए हैं। स्कूल बंद रखने का आदेश करने वाले राज्यों में पंजाब, तमिलनाडु और तेलंगाना प्रमुख हैं।

Thursday, March 11, 2021

राजधानी के 200 प्राइमरी स्कूल एकल शिक्षक

राजधानी के 200 प्राइमरी स्कूल एकल शिक्षक


राजधानी के करीब 200 प्राइमरी स्कूल केवल एक शिक्षक के भरोसे हैं। शिक्षक के अवकाश पर जाते ही तालाबंदी की नौबत आ जाती है। अकेले ग्रामीण क्षेत्र के ही 120 स्कूल केवल एक शिक्षक के भरोसे हैं। जबकि तीन बंद चल रहे हैं।


राजधानी में ही प्राइमरी स्कूलों में शिक्षकों की संख्या पूरी नहीं हो पा रही है। शहरी सीमा से सटे स्कूलों में शिक्षकों की भरमार है। एक एक स्कूल में 6 से 9 शिक्षक हैं। वहीं तमाम स्कूल ऐसे हैं जो केवल एक अध्यापक के भरोसे चल रहे हैं। प्राइमरी और अपर प्राइमरी दोनों का यही हाल है। इसकी वजह से स्कूलों में पढ़ाई प्रभावित हो रही है। 


यहां सबसे ज्यादा दिक्कत

प्राइमरी स्कूल नारायणपुर प्रथम, नारायणपुर द्वितीय, मिर्जापुर, रसूलपुर इठुरिया, शाहपुर मझिगवां, प्राइमरी स्कूल महेंद्र, प्राथमिक विद्यालय हुलास खेड़ा, पाल खेड़ा, जगन खेड़ा तथा प्राइमरी विद्यालय नानमऊ सहित कुल 200 में केवल एक ही अध्यापक हैं। जबकि करीब 30 विद्यालय ऐसे हैं जिसमें एक शिक्षक के अलावा शिक्षामित्र भी मौजूद हैं।


शहर से सटे 70 स्कूलों में 6 से लेकर 9 टीचर

चिनहट, बीकेटी, सरोजिनी नगर, मोहनलालगंज, मलिहाबाद के शहर से सटे करीब 70 स्कूल ऐसे हैं जिनमें 6 से 9 टीचर हैं। हालांकि इन स्कूलों में बच्चों की संख्या ज्यादा है। इसीलिए संख्या के अनुरूप टीचर हैं।


नगर क्षेत्र के 80 स्कूलों में शिक्षकों की कमी

शहरी क्षेत्र के करीब 80 स्कूलों में शिक्षकों की कमी है। इनमें से करीब दो दर्जन स्कूल ऐसे हैं जहां एक भी शिक्षक नहीं है। इनमें दूसरे स्कूलों के शिक्षक लगाए गए हैं। जैसे-तैसे काम चल रहा है। इसके अलावा बाकी स्कूलों में एक एक शिक्षक है। इनके अवकाश पर जाने से स्कूलों में तालाबंदी की नौबत आ जाती है। उदयगंज, तेलीबाग, शकूरपुर, हैबतमऊ, मवाईया तथा नीलमथा में भी शिक्षकों की काफी कमी है।


500 टीचर आए फिर भी एकल हैं विद्यालय

इस वर्ष राजधानी को करीब 500 नए टीचर मिले हैं। इसमें से 341 टीचर दूसरे जिलों से ट्रांसफर होकर लखनऊ आए हैं। यह ज्वाइन भी कर चुके हैं। 131 नए शिक्षकों की भर्ती हुई है। इनकी भी तैनाती हो चुकी है। करीब 20 शिक्षक ट्रांसफर से लखनऊ आए हैं। इस तरह कुल 492 शिक्षक नए आए हैं। इसके बावजूद स्कूल एकल व बंद चल रहे हैं।

 

 कोई भी स्कूल बंद नहीं है। सभी में पढ़ाई चल रही है। जहां शिक्षक कम हैं वहां दूसरे स्कूलों के शिक्षक लगा दिए जाते हैं। शिक्षामित्र भी स्कूलों को संभाल रहे हैं। जहां कमी है वहां जल्दी ही नए शिक्षक पहुंचेंगे। - दिनेश कुमार, बेसिक शिक्षा, अधिकारी