DISTRICT WISE NEWS

अंबेडकरनगर अमरोहा अमेठी अलीगढ़ आगरा आजमगढ़ इटावा इलाहाबाद उन्नाव एटा औरैया कन्नौज कानपुर कानपुर देहात कानपुर नगर कासगंज कुशीनगर कौशांबी कौशाम्बी गाजियाबाद गाजीपुर गोंडा गोण्डा गोरखपुर गौतमबुद्ध नगर गौतमबुद्धनगर चंदौली चन्दौली चित्रकूट जालौन जौनपुर ज्योतिबा फुले नगर झाँसी झांसी देवरिया पीलीभीत फतेहपुर फर्रुखाबाद फिरोजाबाद फैजाबाद बदायूं बरेली बलरामपुर बलिया बस्ती बहराइच बागपत बाँदा बांदा बाराबंकी बिजनौर बुलंदशहर बुलन्दशहर भदोही मऊ मथुरा महराजगंज महोबा मिर्जापुर मीरजापुर मुजफ्फरनगर मुरादाबाद मेरठ मैनपुरी रामपुर रायबरेली लखनऊ लख़नऊ लखीमपुर खीरी ललितपुर वाराणसी शामली शाहजहाँपुर श्रावस्ती संतकबीरनगर संभल सहारनपुर सिद्धार्थनगर सीतापुर सुलतानपुर सुल्तानपुर सोनभद्र हमीरपुर हरदोई हाथरस हापुड़
Showing posts with label हौसला पोषण योजना. Show all posts
Showing posts with label हौसला पोषण योजना. Show all posts

Saturday, September 14, 2019

पोषण कार्यक्रमों की पोल खुलने पर जगे अधिकारी, बाल विकास एवं पुष्टाहार विभाग ने शुरू की योजनाओं की नियमित निगरानी की कवायद

पोषण कार्यक्रमों की पोल खुलने पर जगे अधिकारी, बाल विकास एवं पुष्टाहार विभाग ने शुरू की योजनाओं की नियमित निगरानी की कवायद।





 व्हाट्सप के जरिये जुड़ने के लिए क्लिक करें।

Sunday, August 26, 2018

मुख्यमंत्री ने किया पोषण अभियान का शुभारंभ, बोले : बच्चों का सर्वांगीण विकास सरकार की प्राथमिकता


मुख्यमंत्री ने किया पोषण अभियान का शुभारंभ, बोले : बच्चों का सर्वांगीण विकास सरकार की प्राथमिकता

Wednesday, May 2, 2018

पोषण योजना के दायरे में होंगे देश के सभी जिले, होगा जिलों को सीधे फंड आवंटित

महिला एवं बाल विकास मंत्रालय के मुताबिक राज्यों को कहा गया है कि वे समुदाय आधारित कार्यक्रमों के आयोजन के लिए जिलों को सीधे फंड आवंटित करें। समुदाय आधारित कार्यक्रमों का आयोजन आंगनबाड़ी कर्मियों, आशा और राष्ट्रीय आजीविका मिशन के स्वयं सहायता समूहों की ओर से हर माह सुव्यस्थित तरीके से किया जाएगा। .

सीधे फंड आवंटित करे
.

केंद्र सरकार वर्ष 2019 तक देश के सभी जिलों को पोषण अभियान में शामिल कर लेगी। केंद्र सरकार ने अभियान को जन आंदोलन बनाने की रुपरेखा तय करते हुए अग्रिम मोर्चे पर काम करने वाले कार्यकर्ताओं और वालंटीयर्स को आधा दर्जन समूहों में बांटकर जिम्मेदारी दी है। .

पोषण अभियान की निगरानी के लिए बनी राष्ट्रीय समिति की संस्तुति से 11 करोड़ लाभार्थियों तक पहुंचने का खाका तैयार किया गया है। केंद्र ने आंदोलन की मुहिम में जुटी टीम को प्रोत्साहन राशि देने के लिए डेढ़ सौ करोड़ रुपये का कार्पस फंड बनाया है। अच्छा काम करने वाली टीम को डेढ़ लाख रुपये सालाना दिए जाएंगे। महिला और बाल विकास मंत्रालय के सूत्रों ने कहा कि करीब दो करोड़ कार्यकर्ता पोषण अभियान को जन आंदोलन बनाने की मुहिम में जुटेंगे।.

बड़े पैमाने पर कार्यकर्ता जुड़ेंगे : राष्ट्रीय आजीविका मिशन के तहत बने स्वयं सहायता समूहों को दो करोड़ तीन लाख लाभार्थियों तक पहुंचना है। इसमें 23 लाख से ज्यादा स्वयं सहायता समूह के सदस्य शामिल होंगे। करीब आठ लाख 69 हजार अध्यापकों को 87 लाख बच्चों तक पहुंचने की जिम्मेदारी दी जाएगी। जबकि 24 लाख से ज्यादा स्वस्थ भारत प्रेरक, आंगनाबाड़ी कर्मी, आशा वर्कर, एएनएम और महिला सुपरवाइजर 4.9 करोड़ लाभार्थियों तक पहुंचेंगी। नेहरू युवा केंद्र एनएसएस, एनसीसी, स्काउट एंड गाइड के करीब एक करोड़ युवाओं को भी इस अभियान से जोड़कर दो करोड़ लाभार्थियों तक पहुंचने का लक्ष्य तय किया जा रहा है। कोऑपरेटिव और स्वच्छाग्रही भी इस अभियान से जोड़े जाएंगे। .

राज्यों में होने वाले अच्छे कामकाज को दूसरे राज्यों से साझा करने के लिए एक्सचेंज कार्यक्रमों का भी आयोजन होगा। नीति आयोग के उपाध्यक्ष की अगुवाई में बनी राष्ट्रीय परिषद की बैठक में तय हुआ है कि 640 जिलों तक पोषण अभियान की सफलता सुनिश्चित करने के लिए हर राज्य में निगरानी व्यवस्था पर खास फोकस होगा। पहले चरण में 315 जिलों को अभियान में शामिल किया गया। .

महिला एवं बाल विकास मंत्रालय के मुताबिक राज्यों को कहा गया है कि वे समुदाय आधारित कार्यक्रमों के आयोजन के लिए जिलों को सीधे फंड आवंटित करें। समुदाय आधारित कार्यक्रमों का आयोजन आंगनबाड़ी कर्मियों, आशा और राष्ट्रीय आजीविका मिशन के स्वयं सहायता समूहों की ओर से हर माह सुव्यस्थित तरीके से किया जाएगा। .

राज्यों में होने वाले अच्छे कामकाज को दूसरे राज्यों से साझा करने के लिए एक्सचेंज कार्यक्रमों का भी आयोजन होगा। नीति आयोग के उपाध्यक्ष की अगुवाई में बनी राष्ट्रीय परिषद की बैठक में तय हुआ है कि 640 जिलों तक पोषण अभियान की सफलता सुनिश्चित करने के लिए हर राज्य में निगरानी व्यवस्था पर खास फोकस होगा। पहले चरण में 315 जिलों को अभियान में शामिल किया गया। .

महिला एवं बाल विकास मंत्रालय के मुताबिक राज्यों को कहा गया है कि वे समुदाय आधारित कार्यक्रमों के आयोजन के लिए जिलों को सीधे फंड आवंटित करें। समुदाय आधारित कार्यक्रमों का आयोजन आंगनबाड़ी कर्मियों, आशा और राष्ट्रीय आजीविका मिशन के स्वयं सहायता समूहों की ओर से हर माह सुव्यस्थित तरीके से किया जाएगा। .

राज्यों में होने वाले अच्छे कामकाज को दूसरे राज्यों से साझा करने के लिए एक्सचेंज कार्यक्रमों का भी आयोजन होगा। नीति आयोग के उपाध्यक्ष की अगुवाई में बनी राष्ट्रीय परिषद की बैठक में तय हुआ है कि 640 जिलों तक पोषण अभियान की सफलता सुनिश्चित करने के लिए हर राज्य में निगरानी व्यवस्था पर खास फोकस होगा। पहले चरण में 315 जिलों को अभियान में शामिल किया गया। .

Sunday, December 11, 2016

कुशीनगर : हौसला पोषण योजना के तहत 2.35 लाख बच्चों का हुआ वजन, 20 हज़ार से अधिक बच्चों का उम्र के हिसाब से कम मिला वजन, 13 दिसम्बर को होगा योजना का दूसरा चरण

2001 आंगनबाड़ी केंद्रों पर हुआ 2.35 लाख बच्चों का वजन

13 को आयोजित होगा दूसरा चरण :
योजना के तहत शून्य से पांच साल तक के बच्चों के वजन के लिए दूसरे चरण का आयोजन तेरह दिसंबर को किया गया है। डीपीओ ने बताया कि बारह दिसंबर को आयोजित दूसरे चरण के दिन अवकाश होने के चलते तिथि परिवर्तित कर तेरह दिसंबर निर्धारित की गई है। इस दिन जिले के दो हजार से अधिक आंगनबाड़ी केंद्रों पर बच्चों का वजन किया जाएगा।

हौसला पोषण योजना के तहत शनिवार को जिले के 2001 आंगनबाड़ी केंद्रों पर शून्य से पांच साल तक के 2 लाख 35 हजार बच्चों का वजन किया गया। वजन के दौरान बीस हजार से अधिक बच्चे उम्र के हिसाब से कम वजन वाले मिले, जिन्हें लाल श्रेणी में चिन्हित कर इनकी सेहत सुधारने के लिए आवश्यक कदम उठाया जाएगा। महत्वाकांक्षी इस योजना के तहत जिले में दो चरणों में अभियान चलाकर शून्य से पांच साल के बच्चों का वजन होना है। शनिवार को आयोजित पहले चरण में जनपद के सभी विकास खंडों के 2001 आंगनबाड़ी केंद्रों पर दो लाख पैंतिस हजार बच्चों का वजन किय गया। जहां बीस हजार बच्चे उम्र के हिसाब से कम वजन के मिले। जिला कार्यक्रम अधिकारी एसके सिंह ने कहा कि अभियान के पहले चरण में वजन किए गए बच्चों में बीस हजार से अधिक बच्चे कुपोषित पाए गए हैं। इन बच्चों की सेहत में सुधार को लेकर जरूरी कदम उठाया जाएगा। बता दें कि बीते वर्ष विभाग द्वारा कराए गए वजन में 42 हजार बच्चे अतिकुपोषित श्रेणी में चिन्हित हुए थे। एक वर्ष में विभाग द्वारा उठाए गए कदम के तहत दस हजार बच्चों को स्वस्थ बनाया गया। जबकि शेष 32 हजार बच्चों को स्वस्थ बनाने की कवायद चल रही है।

Friday, December 9, 2016

जालौन : हौसला पोषण मिशन के अंतर्गत आँगनवाड़ी केन्द्रों पर वजन दिवस मनाये जाने के सम्बन्ध में बीएसए ने दिए आवश्यक निर्देश, आदेश देखें

जालौन : हौसला पोषण मिशन के अंतर्गत आँगनवाड़ी केन्द्रों पर वजन दिवस मनाये जाने के सम्बन्ध में बीएसए ने दिए आवश्यक निर्देश, आदेश देखें

Monday, November 7, 2016

कुशीनगर : हौसला पोषण मिशन के डायरेक्टर ने दो ब्लाकों के दो गांवों का किया औचक निरीक्षण, लापरवाही पर जिम्मेदारों को लगाई कड़ी फटकार

रविवार को हौसला पोषण मिशन के डायरेक्टर विजय किरण आनन्द ने दो ब्लाकों के दो गांवों का औचक निरीक्षण किया। इसमें लापरवाही मिलने पर संबंधित जिम्मेदारों को कड़ी फटकार लगाई। निरीक्षण में कुपोषित बच्चों की संख्या देख भड़क गए और 15 दिन की मोहलत देते हुए सुधार करने का निर्देश दिया। सुबह आठ बजे ही निदेशक हाटा विकास खंड के गांव पटनी पहुंचे, जहां कुल 17 बच्चे सूची में कुपोषित दर्ज थे। जिसमें से अब भी 8 बच्चे कुपोषित पाए गए। जबकि इस गांव को कुपोषण मुक्त करने के लिए बीएसए कुशीनगर गोद लिए हैं। डायरेक्टर ने आंगनबाड़ी कार्यकत्री व प्रभारी सीडीपीओ को फटकार लगाई। इसके बाद सुकरौली विकास खंड के गांव तितला में पहुंच आंगनबाड़ी केंद्र की जांच किया। जहां कुल कुपोषित 13 बच्चों में अब भी 4 बच्चे कुपोषित पाए गए। इस पर वहां भी नाराजगी जताई। इसके बाद स्वच्छता निगरानी टीम के सदस्यों से मिले और उनसे अब तक किए गए प्रयास के बारे में जानकारी ली। इस दौरान उन्होंने टीम से नारे लगवाए व ग्रामीणों से खुले में खुले में शौच न करने की बात कही। कहा कि जो लोग निगरानी टीम के मना कराने के बाद भी खुले में शौच जाएंगे, उनको मिलने वाली सरकारी सहायता बंद कर दी जाएगी। इस मौके पर डीपीओ शशि सिंह, डीपीसी ब्रजेश तिवारी, डीपीसी नंदू मिश्र, अनिल मणि, मृत्युंजय शुक्ल, हनुमान सिंह, नीरज विश्वकर्मा, अभिजीत राय, बाबूलाल प्रसाद, मुकेश अदि मौजूद रहे।