DISTRICT WISE NEWS

अंबेडकरनगर अमरोहा अमेठी अलीगढ़ आगरा आजमगढ़ इटावा इलाहाबाद उन्नाव एटा औरैया कन्नौज कानपुर कानपुर देहात कानपुर नगर कासगंज कुशीनगर कौशांबी कौशाम्बी गाजियाबाद गाजीपुर गोंडा गोण्डा गोरखपुर गौतमबुद्ध नगर गौतमबुद्धनगर चंदौली चन्दौली चित्रकूट जालौन जौनपुर ज्योतिबा फुले नगर झाँसी झांसी देवरिया पीलीभीत फतेहपुर फर्रुखाबाद फिरोजाबाद फैजाबाद बदायूं बरेली बलरामपुर बलिया बस्ती बहराइच बागपत बाँदा बांदा बाराबंकी बिजनौर बुलंदशहर बुलन्दशहर भदोही मऊ मथुरा महराजगंज महोबा मिर्जापुर मीरजापुर मुजफ्फरनगर मुरादाबाद मेरठ मैनपुरी रामपुर रायबरेली लखनऊ लख़नऊ लखीमपुर खीरी ललितपुर वाराणसी शामली शाहजहाँपुर श्रावस्ती संतकबीरनगर संभल सहारनपुर सिद्धार्थनगर सीतापुर सुलतानपुर सुल्तानपुर सोनभद्र हमीरपुर हरदोई हाथरस हापुड़

Saturday, October 26, 2019

विश्वविद्यालय की फर्जी मार्कशीट बना करोड़ों ठगे, सात गिरफ्तार, 460 फर्जी मार्कशीट समेत भारी मात्रा में सामान बरामद

विश्वविद्यालय की फर्जी मार्कशीट बना करोड़ों ठगे, सात गिरफ्तार, 460 फर्जी मार्कशीट समेत भारी मात्रा में सामान बरामद।


विवि की फर्जी मार्कशीट बना करोड़ों ठगे, सात गिरफ्तार
October 26, 2019  

जागरण संवाददाता, लखनऊ : अलीगंज पुलिस ने नकली मार्कशीट और सर्टिफिकेट बनाकर करोड़ों रुपये की ठगी करने वाले बड़े गिरोह का पर्दाफाश किया है। नकली मार्कशीट तमिलनाडु, आंध्रप्रदेश, हिमाचल प्रदेश, कर्नाटक, राजस्थान समेत देश के विभिन्न राज्यों के विश्वविद्यालयों से बनवाते थे।
पकड़े गए जालसाजों में मास्टरमाइंड कानुपर देहात निवासी दिनेश सचान उर्फ दीपक, लखनऊ निवासी प्रमोद अवस्थी, विशाल वर्मा, शैलेश कुमार व महिला शाइस्ता सिद्दीकी, वाराणसी निवासी गुंजेश कुमार व अतुल कुमार हैं। गिरोह के सदस्य बी-फार्मा और डी-फार्मा की फर्जी मार्कशीट तैयार से लेकर उत्तर प्रदेश फार्मेसी काउंसिल से ग्रीन कार्ड जारी करने तक का ठेका लेते थे।

दिनेश और शाइस्ता ने बी-फार्मा का कोर्स कर रखा है। इसके अलावा सभी आरोपित स्नातक हैं। शाइस्ता के पिता उत्तर प्रदेश फार्मेसी काउंसिल से रिटायर्ड हैं। आरोपितों के कब्जे से देश के विभिन्न विवि की 460 फर्जी मार्कशीट, सर्टिफिकेट, ब्लैंक रसीदें, फॉर्म, 92 मोहरें, 1,49,300 रुपये, 12 मोबाइल फोन, एक लैपटॉप, प्रिंटर, दो कारें, एक बुलेट बाइक समेत अन्य सामान बरामद हुआ है।

सात लिपिक और दलाल वांडेट :एक पुलिस प्रवक्ता के मुताबिक उत्तर प्रदेश फार्मेसी काउंसिल लखनऊ के तीन लिपिक विजय कुमार, विकास सिंह, सतीश विश्वकर्मा और दलाल अमित राय, सुशांत, गिरीश व तरुण के नाम भी सामने आए हैं। पुलिस को उनकी तलाश है।

मुकदमे के बाद शुरू हुई तलाश :एएसपी ट्रांसगोमती अमित कुमार ने बताया कि फर्जी मार्कशीट बनवाकर फंसने के मामले में पीड़ितों ने मुकदमे दर्ज कराए थे, जिसके बाद जालसाजों को बेनकाब किया गया। एएसपी अमित कुमार ने बताया कि मास्टरमाइंड दिनेश सचान गिरोह की सदस्य शाइस्ता सिद्दीकी के साथ एनजीओ की आड़ में सारा गोरखधंधा चलाता है। अभ्यर्थी से एक लाख तक की धनराशि ली जाती है। इसके बाद लिपिकों की सेटिंग से उत्तर प्रदेश फार्मेसी काउंसिल का रजिस्ट्रेशन व ग्रीन कार्ड भी जारी करवा देते थे।

देश भर के विश्वविद्यालयों से बीफार्मा,डीफार्मा की फर्जी मार्कशीट और सार्टीफिकेट बनावकर बेरोजगारों से अब तक करोणों रुपए ऐंठने वाले गिरफ्तार अभियुक्त ’जागरण

पकड़े गए जालसाजों में मास्टर माइंड कानुपर देहात निवासी दिनेश सचान उर्फ दीपक, डी-फार्मा की फर्जी मार्कशीट और सर्टिफिकेट जब्त







 व्हाट्सप के जरिये जुड़ने के लिए क्लिक करें।

No comments:
Write comments