DISTRICT WISE NEWS

अंबेडकरनगर अमरोहा अमेठी अलीगढ़ आगरा आजमगढ़ इटावा इलाहाबाद उन्नाव एटा औरैया कन्नौज कानपुर कानपुर देहात कानपुर नगर कासगंज कुशीनगर कौशांबी कौशाम्बी गाजियाबाद गाजीपुर गोंडा गोण्डा गोरखपुर गौतमबुद्ध नगर गौतमबुद्धनगर चंदौली चन्दौली चित्रकूट जालौन जौनपुर ज्योतिबा फुले नगर झाँसी झांसी देवरिया पीलीभीत फतेहपुर फर्रुखाबाद फिरोजाबाद फैजाबाद बदायूं बरेली बलरामपुर बलिया बस्ती बहराइच बागपत बाँदा बांदा बाराबंकी बिजनौर बुलंदशहर बुलन्दशहर भदोही मऊ मथुरा महराजगंज महोबा मिर्जापुर मीरजापुर मुजफ्फरनगर मुरादाबाद मेरठ मैनपुरी रामपुर रायबरेली लखनऊ लख़नऊ लखीमपुर खीरी ललितपुर वाराणसी शामली शाहजहाँपुर श्रावस्ती संतकबीरनगर संभल सहारनपुर सिद्धार्थनगर सीतापुर सुलतानपुर सुल्तानपुर सोनभद्र हमीरपुर हरदोई हाथरस हापुड़

Saturday, October 26, 2019

यूपी बोर्ड : सिफारिश नहीं, सुविधा के आधार पर होगा परीक्षा केंद्रों का निर्धारण, बोर्ड ने हर सुविधा के लिए किया अंकों का निर्धारण, पूरी प्रक्रिया होगी ऑनलाइन

यूपी बोर्ड : सिफारिश नहीं, सुविधा के आधार पर होगा परीक्षा केंद्रों का निर्धारण, बोर्ड ने हर सुविधा के लिए किया अंकों का निर्धारण, पूरी प्रक्रिया होगी ऑनलाइन।





यूपी बोर्ड : टेक्नोलॉजी के साथ कदमताल कर रहे कॉलेज बनेंगे परीक्षा केंद्र, अगले माह के अंत तक जारी होगी केंद्र निर्धारण की सूची।






यूपी बोर्ड : रिजल्ट व टेक्नोलॉजी के साथ वाले कॉलेज बनेंगे परीक्षा केंद्र, माध्यमिक कॉलेजों में हर सुविधा के लिए तय किए गए मानक।


रिजल्ट व टेक्नोलॉजी का साथ वाले कालेज बनेंगे परीक्षा केंद्र

  • October 26, 2019


राज्य ब्यूरो, प्रयागराज : यूपी बोर्ड की हाईस्कूल व इंटरमीडिएट परीक्षा 2020 के लिए परीक्षा नीति जारी हो चुकी है। उसके मुताबिक प्रदेश के वे माध्यमिक कालेज आसानी से परीक्षा केंद्र बन सकेंगे, जो टेक्नोलॉजी के साथ कदमताल कर रहे हैं साथ ही उनके परीक्षार्थियों का सफलता का प्रतिशत बेहतर है। इतना ही नहीं बीते वर्ष परीक्षा केंद्र रहे कालेजों को वरीयता भी दी जा रही है। केंद्र निर्धारण के संबंध में निर्देश जारी हो चुके हैं, अगले माह के अंत तक अंतिम सूची जारी होगी।

देश में सबसे अहम यूपी बोर्ड की परीक्षा फरवरी में होनी है। इस बार 56 लाख से अधिक परीक्षार्थी हाईस्कूल व इंटर का इम्तिहान देंगे। पिछले दिनों परीक्षा केंद्रों के निर्धारण के लिए परीक्षा नीति जारी की गई है। इसमें वैसे तो तमाम निर्देश हैं लेकिन, सरकार व बोर्ड प्रशासन का पूरा जोर नई तकनीक के प्रयोग और अच्छा परिणाम देने पर ही है। इसीलिए नीति में कालेजों को मिलने वाले अंकों का उल्लेख किया गया है। जितने अधिक यह अंक होंगे उतनी आसानी से कालेज केंद्र बन सकेगा। इसमें मूलभूत सुविधाओं के अलावा यदि कालेज में सीसीटीवी कैमरे का विधिवत इस्तेमाल हो रहा है तो अंक अधिक मिलना तय है। मुख्य गेट पर वायस रिकॉर्डर युक्त सीसीटीवी है तो 10 अंक, स्ट्रांग में यह प्रबंध है तो 30 अंक, उत्तर पुस्तिकाओं के सीलिंग व पैकिंग कक्ष में है तो फिर 30 अंक, इसकी निगरानी में पढ़ाई कराई जा रही तो 20 अंक, हर दिन अध्यापक व विद्यार्थियों की बायोमैटिक उपस्थिति दर्ज होती है तो 20 अंक मिलेंगे। यदि आपका कालेज पिछले वर्ष परीक्षा केंद्र बना था तो 20 अंक यूं ही मिल जाएंगे। वहीं, यदि कालेज का हाईस्कूल व इंटर में रिजल्ट 90 प्रतिशत या उससे अधिक रहा है तो 10-10 अंक मिलेंगे।
इस बार सबसे अधिक 50 अंक वायस रिकॉर्डर युक्त सीसीटीवी के साथ ही डीवीआर के साथ राउटर डिवाइस लगाने पर मिल रहे हैं। यह इसीलिए किया गया है ताकि अधिकाधिक कालेज इससे लैस हो जाएं। बोर्ड सूत्रों की मानें तो इस बार भी करीब आठ हजार से अधिक कालेज ही परीक्षा केंद्र बन सकेंगे। बोर्ड मुख्यालय ने केंद्र निर्धारण से संबंधित शिकायतों को सुनने के लिए भी प्रावधान किया है। सचिव नीना श्रीवास्तव का कहना है कि तय समय में प्रक्रिया पूरी होगी।

माध्यमिक कालेजों में हर सुविधा के लिए तय किए गए अंक, अगले माह के अंत तक जारी होगी केंद्र निर्धारण की सूची









 व्हाट्सप के जरिये जुड़ने के लिए क्लिक करें।

No comments:
Write comments