DISTRICT WISE NEWS

अंबेडकरनगर अमरोहा अमेठी अलीगढ़ आगरा आजमगढ़ इटावा इलाहाबाद उन्नाव एटा औरैया कन्नौज कानपुर कानपुर देहात कानपुर नगर कासगंज कुशीनगर कौशांबी कौशाम्बी गाजियाबाद गाजीपुर गोंडा गोण्डा गोरखपुर गौतमबुद्ध नगर गौतमबुद्धनगर चंदौली चन्दौली चित्रकूट जालौन जौनपुर ज्योतिबा फुले नगर झाँसी झांसी देवरिया पीलीभीत फतेहपुर फर्रुखाबाद फिरोजाबाद फैजाबाद बदायूं बरेली बलरामपुर बलिया बस्ती बहराइच बागपत बाँदा बांदा बाराबंकी बिजनौर बुलंदशहर बुलन्दशहर भदोही मऊ मथुरा महराजगंज महोबा मिर्जापुर मीरजापुर मुजफ्फरनगर मुरादाबाद मेरठ मैनपुरी रामपुर रायबरेली लखनऊ लख़नऊ लखीमपुर खीरी ललितपुर वाराणसी शामली शाहजहाँपुर श्रावस्ती संतकबीरनगर संभल सहारनपुर सिद्धार्थनगर सीतापुर सुलतानपुर सुल्तानपुर सोनभद्र हमीरपुर हरदोई हाथरस हापुड़

Friday, January 29, 2021

एडेड माध्यमिक कालेजों के शिक्षकों की भी बनेगी ज्येष्ठता सूची

एडेड माध्यमिक कालेजों के शिक्षकों की भी बनेगी ज्येष्ठता सूची

सूबे के एडेड विद्यालयों के शिक्षकों की मांगी वरिष्ठता सूची


अपर निदेशक माध्यमिक ने सूबे के सभी संयुक्त शिक्षा निदेशकों से प्रदेश के सहायता प्राप्त माध्यमिक विद्यालयों में कार्यरत शिक्षकों की वरिष्ठता सूची मांगी है। कहा है कि 30 जनवरी तक यह सूची उपलब्ध कराई जाए।

अपर शिक्षा निदेशक माध्यमिक डॉ. महेंद्र देव के पत्र में कहा गया है कि शिक्षक, विधायकों एवं जन प्रतिनिधियों की ओर से संज्ञान में लाया जाता रहा है कि प्रबंधक शिक्षकों की नियमानुसार हर साल वरिष्ठता सूची नहीं तैयार करते। आदेश में आगे कहा है कि सेवाकाल की अवधि चाहे कुछ भी हो, उच्चतर श्रेणी के अध्यापक निम्मतर श्रेणी के अध्यापक से वरिष्ठ माने जाएंगे। यदि कोई अध्यापक सेवाकाल में निलंबित किया गया हो, अपने मूल पद पर बहाल कर दिया जाए तो उसकी मूल वरिष्ठता पर कोई प्रभाव नहीं पड़ेगा। अध्यापक की वरिष्ठता का निर्धारण प्रबंध समिति करेगी।

प्रयागराज : प्रदेश के चार हजार से अधिक अशासकीय सहायताप्राप्त (एडेड) माध्यमिक कालेजों में शिक्षकों की ज्येष्ठता सूची तैयार की जाएगी। यह कार्य संबंधित संस्था की प्रबंध समितियों को करना है। शिक्षा निदेशक माध्यमिक ने मंडलीय संयुक्त शिक्षा निदेशकों को आदेश दिया है कि सूची तैयार करके 30 जनवरी तक अपर शिक्षा निदेशक माध्यमिक को भेज दें। सभी मंडलों को इसका प्रारूप भी भेजा गया है।


असल में, शासन को यह सूचनाएं मिल रही थी कि एडेड कालेजों के प्रबंधक माध्यमिक शिक्षा अधिनियम 1921 के अध्याय दो के विनिमय 3(1) में दी गई व्यवस्था के अनुसार हर साल शिक्षकों की ज्येष्ठता निर्धारित नहीं करते। इससे शिक्षकों की पदोन्नति में दिक्कत आती है। शिक्षा निदेशक ने आदेश दिया है कि कालेज में नियुक्त स्थायी और अस्थायी शिक्षकों की हर श्रेणी की ज्येष्ठता अलग-अलग तैयार की जाए। किसी श्रेणी में अध्यापकों की ज्येष्ठता उस श्रेणी में उनकी मौलिक नियुक्ति के आधार पर तय की जाएगी। यह भी निर्देश है कि एक ही तारीख को दो या दो से अधिक अध्यापक नियुक्त हुए हों तो उनकी ज्येष्ठता आयु के आधार पर तय की जाए।


जिन कालेजों में किसी श्रेणी में काम करने वाले दो या अधिक अध्यापक एक ही तारीख पर पदोन्नत किए जाएं तो उनकी पारस्परिक ज्येष्ठता सेवा की अवधि के आधार पर तय होगी। उसकी गणना उस श्रेणी में जिससे उनकी पदोन्नति की जाए, उनकी मौलिक नियुक्ति की तारीख से मानी जाएगी। वहीं, सेवाकाल की अवधि चाहे कुछ भी हो उच्चतर श्रेणी के अध्यापक को निम्नतर श्रेणी के अध्यापक से ज्येष्ठ माना जाएगा। निर्देश है कि ज्येष्ठता सूची हर साल अपडेट की जाए।


उप शिक्षा निदेशक से करें अपील

ज्येष्ठता के मामले में प्रबंध समिति के निर्णय से अध्यापक को सूचित किए जाने की तारीख से 15 दिन के अंदर संबंधित उप शिक्षा निदेशक के यहां वह अपील कर सकता है। अपील पर दोनों पक्षों की सुनवाई करके उप शिक्षा निदेशक अपना निर्णय कारण सहित देगा जो अंतिम होगा। प्रबंध समिति उसे कार्यान्वित करेगी।

No comments:
Write comments