DISTRICT WISE NEWS

अंबेडकरनगर अमरोहा अमेठी अलीगढ़ आगरा आजमगढ़ इटावा इलाहाबाद उन्नाव एटा औरैया कन्नौज कानपुर कानपुर देहात कानपुर नगर कासगंज कुशीनगर कौशांबी कौशाम्बी गाजियाबाद गाजीपुर गोंडा गोण्डा गोरखपुर गौतमबुद्ध नगर गौतमबुद्धनगर चंदौली चन्दौली चित्रकूट जालौन जौनपुर ज्योतिबा फुले नगर झाँसी झांसी देवरिया पीलीभीत फतेहपुर फर्रुखाबाद फिरोजाबाद फैजाबाद बदायूं बरेली बलरामपुर बलिया बस्ती बहराइच बागपत बाँदा बांदा बाराबंकी बिजनौर बुलंदशहर बुलन्दशहर भदोही मऊ मथुरा महराजगंज महोबा मिर्जापुर मीरजापुर मुजफ्फरनगर मुरादाबाद मेरठ मैनपुरी रामपुर रायबरेली लखनऊ लख़नऊ लखीमपुर खीरी ललितपुर वाराणसी शामली शाहजहाँपुर श्रावस्ती संतकबीरनगर संभल सहारनपुर सिद्धार्थनगर सीतापुर सुलतानपुर सुल्तानपुर सोनभद्र हमीरपुर हरदोई हाथरस हापुड़
Showing posts with label बीईओ. Show all posts
Showing posts with label बीईओ. Show all posts

Saturday, September 26, 2020

हाथरस : बीईओ कार्यालय पर सम्बद्ध कर्मचारियों को कंप्यूटर प्रशिक्षण प्रदान किये जाने के सम्बन्ध में

हाथरस : बीईओ कार्यालय पर सम्बद्ध कर्मचारियों को कंप्यूटर प्रशिक्षण प्रदान किये जाने के सम्बन्ध में




Thursday, September 24, 2020

फतेहपुर : अब बीईओ को हर माह करने होंगे 40 विद्यालयों के निरीक्षण

फतेहपुर : अब बीईओ को हर माह करने होंगे 40 विद्यालयों के निरीक्षण।

फतेहपुर : कोरोना संक्रमण काल में भले ही परिषदीय विद्यालय बंद चल रहे हों लेकिन बच्चों को ऑनलाइन शिक्षा देने के लिए शासन के निर्देशों पर विभागीय कवायद जारी है। आनलाइन शिक्षा समेत विद्यालयों में चल रही अन्य योजनाओं के सही क्रियान्वयन के लिए खंड शिक्षा अधिकारियों को भी जिम्मेदारी दी गई है। प्रत्येक बीईओ को हर माह कम से कम 40 विद्यालयों का निरीक्षण कर रिपोर्ट सौंपे जाने की जिम्मेदारी तय की गई है। 


अब बेसिक शिक्षा विभाग की ओर से संचालित विभिन्न योजनाओं में खंड शिक्षा अधिकारियों का उत्तरदायित्व और बढ़ा दिया गया है क्योंकि योजनाओं में खास प्रगति नहीं नजर आ रही है । ऐसे में सभी बीईओ को महीने में 40 स्कूलों के निरीक्षण की जिम्मेदारी दी गई है। शिक्षकों के शैक्षणिक कार्यों की गुणवत्ता पर भी उन्हें नजर रखनी होगी। ऑनलाइन पठन पाठन को और दुररस्त रखने का प्रयास होगा। कोरोना के चलते मार्च से

परिषदीय स्कूल के अलावा अन्य शिक्षण संस्थान बंद है। परिषदीय स्कूलों के बच्चों को ऑनलाइन पढ़ाई कराई जा रही है। मगर उसकी गुणवत्ता मजबूत नहीं है। संसाधनों के अभाव में बच्चे भी शिक्षा की मुख्य धुरी से दूर हैं।


शिक्षा के लिए तलाशे जा रहे विकल्प

बेसिक शिक्षा विभाग क ओर से सीमित संख्या में बच्चों के अभिभावकों को स्कूल बुलाने और पाठ्य सामग्री को घर तक पहुंचाने जैसे विकल्प भी तलाशने के प्रयास शुरू किए गए हैं। बीईओ को निर्देश दिए गए हैं कि 40 स्कूलों का निरीक्षण करना शुरू करें। स्कूली शिक्षा महानिदेशक की ओर से भी इसको लेकर निर्देश दिए गए हैं। बीईओ बेसिक शिक्षा विभाग में संचालित विभिन्न योजनाओं पर नजर रखेंगे।

बीईओ को हर महीने 40 स्कूलों का निरीक्षण करना होगा विभिन्न बिंदुओं की गम्भीरता से क्रियान्वयन के लिए ऐसा किया जा रहा है। खंड शिक्षा अधिकारियों के अलावा स्वयं और जिला समन्वयक भी समय समय पर निरीक्षण करेंगे। जिससे विद्यालयों के आनलाइन शिक्षा से दूर बच्चों को भी शिक्षा की मुख्य धारा से जोड़ा जा सके।-शिवेंद्र प्रताप सिंह, बीएसए

Sunday, September 20, 2020

आगरा : रिश्वत के आरोप में बेसिक शिक्षा मंत्री ने BEO और 2 शिक्षक सस्पेंड किए

आगरा : रिश्वत के आरोप में बेसिक शिक्षा मंत्री ने BEO समेत 2 शिक्षक सस्पेंड किए


बेसिक शिक्षा राज्यमंत्री सतीश द्विवेदी ने बीईओ और दो शिक्षकों को सस्पेंड किया.


आगरा. बेसिक शिक्षा राज्यमंत्री सतीश द्विवेदी ने शनिवार को आगरा मंडल समीक्षा बैठक में बीईओ सहित तीन को सस्पेंड कर दिया. शनिवार को हुई इस मीटिंग में जनप्रतिनिधि और अन्य लोगों की शिकायत करने पर बीईओ और दो शिक्षकों को सस्पेंड कर दिया. बेसिक शिक्षा राज्यमंत्री ने इस मामले की जांच करने के आदेश दिए.


आगरा के सर्किट हाउस में हुई इस मीटिंग में बेसिक शिक्षा राज्यमंत्री सतीश द्विवेदी ने आगरा मंडल के सभी जनपदों में यूनिफॉर्म वितरण और दूसरी योजनाओं की समीक्षा की. इस मीटिंग में लोगों की शिकायत करने पर खंड शिक्षाधिकारी अकोला ओमप्रकाश यादव और दो शिक्षकों को संस्पेंड कर दिया. बेसिक शिक्षा मंत्री ने कहा कि खंड शिक्षा अधिकारी अकोला ओमप्रकाश यादव के खिलाफ जनप्रतिनिधियों ने शिकायत की थी. अकोला ओमप्रकाश यादव पर बरौली अहीर का भी अतिरिक्त आभार था.


सतीश द्विवेदी ने कहा कि बरौली अहीर में तैनात दो शिक्षक उमेश यादव और प्रदीप यादव के खिलाफ भी लोगों ने शिकायत की. इन पर शिक्षकों के साथ अभद्रता करने और काम के लिए पैसे मांगने के आरोप थे. तीनों को तत्काल प्रभाव के साथ सस्पेंड कर दिया गया है और मामले की जांच की भी जाएगी.


इस समीक्षा बैठक में बेसिक शिक्षा मंत्री सतीश द्विवेदी ने ऑपरेशन कायाकल्प को आगे बढ़ाने, रिटायर्ड शिक्षकों को समय पर जीपीएफ और पेंशन का भुगतान करने, फर्जी शिक्षकों के खिलाफ जांच और यूनीफॉर्म-किताब वितरण को समय से पूरा करने के निर्देश दिए. इस मीटिंग में आगरा, मथुरा, फिरोजाबाद और मैनपुरी के बेसिक शिक्षा अधिकारी, लेखा अधिकारी, आगरा मंडल के एडी बेसिक और डाइट प्राचार्य भी मौजूद रहे.

Thursday, September 17, 2020

गोण्डा : NIC में थूकने पर 12 BEO फंसे, एक शिक्षाधिकारी की करनी से विभाग हुआ शर्मिंदा, ठोका गया जुर्माना


गोण्डा : NIC में थूकने पर 12 BEO फंसे, एक शिक्षाधिकारी की करनी से विभाग हुआ शर्मिंदा, ठोका गया जुर्माना


गोंडा। बेसिक शिक्षा विभाग मंगलवार को एक खंड शिक्षा अधिकारी की करतूत से शर्मसार हो गया। एनआईसी में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के दौरान वहां पर पान मसाला खाकर किसी शिक्षा अफसर ने जगह-जगह थूक दिया। एनआईसी के प्रभारी ने इसकी रिपोर्ट जिलाधिकारी को भेजी। जिलाधिकारी डॉ. नितिन बसंल ने इस तरह की हरकत को गंभीरता से लिया और कार्रवाई के निर्देश बीएसए को दिए। जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी डॉ. इन्द्रजीत प्रजापति ने दुख जताया और कहा कि ऐसी हरकत से वह शर्मिंदा हैं। उन्होंने मीटिंग में आए सभी खंड शिक्षा अधिकारियों पर 500-500 रुपये का जुर्माना लगा दिया है। इसकी रिपोर्ट जिलाधिकारी को भेजी है।



खंड शिक्षा अधिकारियों की वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग एनआईसी में थी, जहां बीएसए भी मौजूद रहे। एनआईसी के भीतर ही किसी एक खंड शिक्षा अधिकारी ने पान मसाला खाकर थूक दिया, यहीं नही एक गुटखे का रैपर भी पड़ा मिला। ऐसे में माना जा रहा है कि गुटखा खाया और फिर थूका। वैसे तो पान मसाला खाना मना है लेकिन कोविड को देखते हुए थूकने पर ही मनाही है कि यहां वहां कोई न थूके। इसके बावजूद शिक्षा अफसर की ऐसी करतूत शर्मिंदा करने वाली रही। इसके पहले भी एक घटना हो चुकी है। फिलहाल किसी एक के खता की सजा अन्य शिक्षा अफसरों को भी मिली है। सभी पर जुर्माना लगा है और जवाब तलब हुआ है। जिलाधिकारी ने इस मामले में कड़े तेवर अपनाए हैं।


Monday, September 7, 2020

हरदोई : लापरवाह बीईओ से बीएसए ने किया जवाब-तलब

सुरसा ब्लॉक के लापरवाह बीईओ से जवाब-तलब

हरदोई  : बेसिक शिक्षा विभाग के स्कूलों में व्यवस्थाएं सुधारने के लिए तैनात किए गए खंड शिक्षा अधिकारी अपने दायित्वों का पालन करने में घोर लापरवाही बरत रहे हैं। इससे बेलगाम शिक्षक व कर्मचारी मनमानी करके अव्यवस्था फैलाए हैं। इसकी एक झलक शनिवार को स्कूलों के औचक निरीक्षण के दौरान बीएसए ने खुद देखी। नाराजगी जताई। बीईओ से स्पष्टीकरण मांगा। वहीं एक अनुचर का वेतन रोकने के निर्देश दिए।



शनिवार को सुबह 11 बजे बीएसए हेमन्तराव अचानक बीआरसी सुरसा में पहुंच गए। जमीनी हकीकत का निरीक्षण किया तो कमियां देखकर दंग रह गए। अनुचार कुसुमा देवी 21 अगस्त से बिना किसी सूचना के अनुपस्थित पाई गईं। बीआरसी परिसर में चौतरफा गंदगी फैली मिली। छानबीन करने पर पता चला कि प्राथमिक विद्यालय एवं उच्च प्राथकिम स्कूल तुर्तीपुर, उच्च प्राथमिक स्कूल फर्दापुर, प्राथमिक विद्यालय सुरसा, प्राइमरी स्कूल ओदरा में कार्यरत अध्यापकों ने बालक व बालिकाओ को दो-दो सेट मुफ्त ड्रेस वितरण के लिए कपड़ा के संबंध में निविदा में 9 अगस्त की तिथि प्रकाशित कराई। जबकि इस दिन रविवार था।

बीएसए का कहना है कि खंड शिक्षा अभिकारी भगवान राव को निर्देश दिए गए हैं कि वे उक्त कमियों के संबंध में अपना स्पष्टीकरण समुचित साक्ष्यों के साथ तीन दिन के अंदर बीएसए कार्यालय में दें। ऐसा प्रतीत होता है कि बीईओ की लापरवाहीपूर्ण पर्यवेक्षण के कारण उपरोक्त विज्ञप्ति निविदा खोलने का दिन गलत तरीके से रविवार अंकित किया गया। ऐसा करके टेंडर के नियमों का पालन नहीं किया गया। इस मामले में अभी तक बीईओ ने कोई उचित कार्रवाई नहीं की। न ही उन्हें मामले की जानकारी दी। जिलाधिकारी को भी निरीक्षण आख्या भेजी गई है।

 व्हाट्सप के जरिये जुड़ने के लिए क्लिक करें।

Wednesday, August 26, 2020

खंड शिक्षा अधिकारियों को प्रथम निरीक्षक-शिक्षा अधिकारी के समकक्ष वेतन और भत्ते देने की मांग

खंड शिक्षा अधिकारियों को प्रथम निरीक्षक-शिक्षा अधिकारी के समकक्ष वेतन और भत्ते देने की मांग

 

लखनऊ। उत्तर प्रदेशीय विद्यालय निरीक्षक संघ ने खंड शिक्षा अधिकारियों को केंद्र सरकार के विद्यालय प्रथम निरीक्षक-शिक्षा अधिकारी के समान वेतन और भत्ते देने की मांग की है। संघ के प्रतिनिधिमंडल ने मंगलवार को बेसिक शिक्षा राज्यमंत्री डॉ. सतीश द्विबेदी से मुलाकात कर लंबित मांगों पर बात की। 


साथ ही 32 सालों से प्रोन्नति नहीं मिलने से अधिकारियों का मनोबल कमजोर होने का भी मुद॒दा उठाया। मंत्री ने उचित कार्यवाही का आश्वासन दिया। प्रतिनिधि मंडल में राज्य अत कर्म परिषद के अध्यक्ष एसपी तिवारी, संघ के महामंत्री वीरेंद्र , उपाध्यक्ष संजय शुक्ल, संयुक्त मंत्री आरपी यादव व अन्य पदाधिकारी मौजूद थे।