DISTRICT WISE NEWS

अंबेडकरनगर अमरोहा अमेठी अलीगढ़ आगरा आजमगढ़ इटावा इलाहाबाद उन्नाव एटा औरैया कन्नौज कानपुर कानपुर देहात कानपुर नगर कासगंज कुशीनगर कौशांबी कौशाम्बी गाजियाबाद गाजीपुर गोंडा गोण्डा गोरखपुर गौतमबुद्ध नगर गौतमबुद्धनगर चंदौली चन्दौली चित्रकूट जालौन जौनपुर ज्योतिबा फुले नगर झाँसी झांसी देवरिया पीलीभीत फतेहपुर फर्रुखाबाद फिरोजाबाद फैजाबाद बदायूं बरेली बलरामपुर बलिया बस्ती बहराइच बागपत बाँदा बांदा बाराबंकी बिजनौर बुलंदशहर बुलन्दशहर भदोही मऊ मथुरा महराजगंज महोबा मिर्जापुर मीरजापुर मुजफ्फरनगर मुरादाबाद मेरठ मैनपुरी रामपुर रायबरेली लखनऊ लख़नऊ लखीमपुर खीरी ललितपुर वाराणसी शामली शाहजहाँपुर श्रावस्ती संतकबीरनगर संभल सहारनपुर सिद्धार्थनगर सीतापुर सुलतानपुर सुल्तानपुर सोनभद्र हमीरपुर हरदोई हाथरस हापुड़
Showing posts with label लखनऊ. Show all posts
Showing posts with label लखनऊ. Show all posts

Wednesday, September 23, 2020

डीएलएड 2018 चतुर्थ सेमेस्टर व डीएलएड 2019 द्वितीय सेमेस्टर के डायट एवं निजी संस्थानों के प्रशिक्षुओं की ऑनलाइन इंटर्नशिप संचालित किये जाने के सम्बन्ध में

लखनऊ : डीएलएड 2018 चतुर्थ सेमेस्टर व डीएलएड 2019 द्वितीय सेमेस्टर के डायट एवं निजी संस्थानों के प्रशिक्षुओं की ऑनलाइन इंटर्नशिप संचालित किये जाने के सम्बन्ध में

डीएलएड प्रशिक्षुओं की ऑनलाइन इंटर्नशिप

 
प्रयागराज : कोरोना संक्रमण के दौर में डीएलएड के प्रशिक्षुओं की इंटर्नशिप भी ऑनलाइन कराने के आदेश हुए हैं। प्रदेश के डीएलएड 2018 चतुर्थ सेमेस्टर व 2019 के द्वितीय सेमेस्टर के वे प्रशिक्षु जो डायट व निजी कालेजों में प्रशिक्षण ले रहे हैं प्रतिभाग करेंगे। यह इंटर्नशिप प्रथम एजूकेशन फाउंडेशन के सहयोग से कराई जाएगी। सभी संस्थानों को प्रशिक्षुओं की सूचनाएं तैयार कराने के निर्देश भी दिए जा चुके हैं। 


उप शिक्षा निदेशक डा. पवन कुमार की ओर से जारी आदेश में कहा है कि इंटर्नशिप की अवधि पांच सप्ताह रहेगी और सभी प्रशिक्षुओं को प्रतिभाग करना अनिवार्य है। इसे प्रथम एजूकेशन फाउंडेशन के सहयोग से डायट की ओर से संचालित किया जाएगा। हर प्रशिक्षु का नाम, दूरभाष नंबर व संख्या की सूचना विद्यालय के प्रधानाध्यापक को उपलब्ध कराई जाएगी। प्राथमिक व उच्च प्राथमिक विद्यालयों का आवंटन बेसिक शिक्षा अधिकारी कार्यालय की ओर से होगा। इसके लिए वे खंड शिक्षा अधिकारियों से प्रस्ताव लें। 


इंटर्नशिप ऑनलाइन कक्षा शिक्षण से जुड़े कक्षा एक, दो, छह, सात व आठ के छात्र-छात्राओं से संबंधित होगा। प्रशिक्षुओं के लिए यह प्रशिक्षण करके सीखना के नाम से संचालित होगा। इसमें उन्हें भौतिक रूप से संस्थान या फिर विद्यालय में उपस्थित नहीं होना है। उप शिक्षा निदेशक ने सभी विवरण व अगली कार्यवाही के लिए रिपोर्ट 25 सितंबर तक मांगी है।

Saturday, September 19, 2020

Right to Education : तमाम जतन बाद भी निजी स्कूल नहीं रहे सुधर, स्कूलों को नोटिस जारी, बीएसए ने दी चेतावनी

Right to Education : तमाम जतन बाद भी निजी स्कूल नहीं रहे सुधर, स्कूलों को नोटिस जारी, बीएसए ने दी चेतावनी



Right to Education दाखिला न देने पर बेसिक शिक्षा विभाग ने जारी की सूची। बीएसए बोले नोटिस के बाद भी दाखिला न लेने वाले स्कूलों पर होगी कड़ी कार्रवाई। ...


लखनऊ । तमाम जतन बाद भी निजी स्कूल सुधरने का नाम नहीं ले रहे हैं। बीते वर्षो की तरह इस बार भी तमाम निजी स्कूलों ने शिक्षा का अधिकार (आरटीई) के तहत दुर्बल आय वर्ग के बच्चों का दाखिला लेने में आनाकानी शुरू कर दी है। अभी तक दाखिला न लेने वाले करीब 21 स्कूलों को चिन्हित कर बेसिक शिक्षा अधिकारी कार्यालय नोटिस जारी की गई है। बेसिक शिक्षा अधिकारी डॉक्टर दिनेश कुमार का कहना है कि ऐसे स्कूलों को चिन्हित कर लिया गया है अगर वह दाखिला नहीं देते हैं तो उनके खिलाफ सख्ती से पेश आया जाएगा।बहरहाल अब यह देखना है कि विभाग इन स्कूलों में बच्चों को दाखिला दिला पाता है या नहीं?


 इन स्कूलों को जारी हुई नोटिस
एग्जान मोंटेसरी स्कूल कैंपवेल रोड,एविज कान्वेंट स्कूल गढ़ी पीर खां, बीएसडी एकेडमी बरौरा, सेंट्रल अकैडमी सेक्टर 4 विकास नगर, टाउन हॉल पब्लिक स्कूल ठाकुरगंज, लखनऊ पब्लिक स्कूल राजाजीपुरम, सिटी इंटरनेशनल स्कूल ठाकुरगंज, न्यू पब्लिक स्कूल देवपुर पारा, राजकुमार एकेडमी मेहंदीगंज, ग्रीनलैंड स्कूल गोमती नगर, दिल्ली पब्लिक स्कूल जानकीपुरम विस्तार, संस्कार पब्लिक स्कूल इंदिरा नगर, टिनी टॉय स्कूल अलीगंज, टाउन हॉल स्कूल सेक्टर के अलीगंज, कैरियर कान्वेंट स्कूल सेक्टर 5 विकास नगर।

Tuesday, September 15, 2020

लखनऊ : बर्खास्त सात शिक्षकों से जल्द होगी वेतन की रिकवरी

लखनऊ : बर्खास्त सात शिक्षकों से जल्द होगी वेतन की रिकवरी

 
लखनऊ : राजधानी में भी बीएड और टीईटी के फर्जी अंकपत्र लगाकर नौकरी पाने वाले शिक्षकों ने नियुक्ति के वक्‍त हुए वेरीफिकेशन प्रक्रिया पर सवाल खड़े कर दिए हैं। बीते कुछ माह में प्राथमिक विद्यालयों के सात ऐसे शिक्षक पकड़े गए, जिनकी बीएड व टीईटी की अंक तालिका फर्जी निकली। ऐसे शिक्षकों को बर्खास्त कर उनके खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया गया। अब इन दोषी शिक्षकों से वेतन की रिकवरी भी जल्द की जाएगी। बेसिक शिक्षा विभाग ने इसकी



तैयारी पूरी कर ली है। हालांकि, शिक्षा विभाग अभी तक फर्जी वेरीफिकेशन में संलिप्त शिक्षकों के मददगारों को चिह्वित नहीं कर पाया है। सात शिक्षक बर्खास्त किए जा चुके हैं। इन शिक्षकों में मलिहाबाद प्राथमिक विद्यालय के सुशील तिवारी, हर्षनाग, रीमा पाल, मोहनलालगंज से नूर अमरीद, गोसाईगंज से आकाश श्रीवास्तव, बीकेटी से बबिता और ज्योति रावत हैं। इनके खिलाफ केस दर्ज कराई गई है। इसकी जांच चल रही है। चिनहट से नीलम यादव और गोसाईगंज से कमला वर्मा के भी शैक्षिक दस्तावेज फर्जी पाए गए थे। इनकी जांच एसआइटी कर रही है। बीएसए दिनेश कुमार ने बताया कि जो फर्जी शिक्षक नौकरी कर रहे थे, उनके वेतन को रिकवरी जल्द की जाएगी।

Sunday, September 13, 2020

लखनऊ : बड़े स्कूल नहीं ले रहे हैं गरीब बच्चों के दाखिले, अधिकारी बेबस

लखनऊ : बड़े स्कूल नहीं ले रहे हैं गरीब बच्चों के दाखिले, अधिकारी बेबस।

लखनऊ : प्रमुख संवाददाताबड़े स्कूलों में गरीब बच्चों के दाखिले कराने में बेसिक शिक्षा के जिले के अधिकारी बेबस नजर आ रहे हैं। वह स्कूलों के खिलाफ कार्रवाई करने की बजाय अभिभावकों को अदालत जाने की सलाह दे रहे हैं। इसकी वजह से अभिभावक अपने बच्चों को दाखिले के लिए भटक रहे हैं। राजधानी के तमाम बड़े स्कूलों ने आरटीई के तहत गरीब बच्चों को एडमिशन देने से मना कर दिया है।




बीएसए कार्यालय ने इस वर्ष आरटीई के तहत करीब 10,947 बच्चों को विभिन्न स्कूलों में दाखिले के लिए चयनित किया है। इसमें छोटे बड़े सभी कॉलेजों को शामिल हैं। सूची जारी होने के बाद अब बच्चों के अभिभावक जब दाखिले के लिए स्कूलों में जा रहे हैं तो वहां उन्हें ठेंगा दिखाया जा रहा। स्कूल संचालक दाखिले से साफ मना कर दे रहे हैं। वह कह रहे हैं कि एडमिशन नहीं लेंगे जिससे शिकायत करना हो करो।

------------------------इन स्कूलों में नहीं ले रहे हैं दाखिलेशहर के कई बड़े स्कूल ऐसे हैं जो एक भी गरीब बच्चे का एडमिशन नहीं ले रहे हैं। अधिकारियों के मुताबिक सिटी इंटरनेशनल स्कूल, सेंट्रल एकैडमी, पायनियर मांटेसरी स्कूल तथा सिटी मांटेसरी स्कूल जैसे कई अन्य कॉलेज भी हैं जिन्होंने एडमिशन नहीं लिया है।-------------------सीएमएस ने 48 बच्चों की खुद जांच करा कर बताया अयोग्य सिटी मांटेसरी स्कूल ने 48 बच्चों को यह कहकर वापस कर दिया है कि यह बच्चे दूसरी जगह पढ़ रहे थे। इसलिए एडमिशन के लिए अर्ह नहीं हैं। अब सवाल यह उठता है कि बीएसए कार्यालय की रिपोर्ट सही मानी जाय या सीएमएस की। अगर बीएसए कार्यालय ने परीक्षण के बाद इन्हें स्कूल आवंटित किया तो सीएमएस यह कैसे लिख रहा है कि यह बच्चे दूसरी जगह पढ़ रहे हैं। ----------------------मेरे दोनों बेटे चैतन्य व लक्ष्यदीप का नाम सेंट्रल एकेडमी के लिए आया।

मैं वहां गया तो स्कूल ने एडमिशन से मना कर दिया। कहा जिससे शिकायत करना हो करो एडमिशन नहीं लेंगे। अधिकारी अदालत जाने की सलाह दे रहे हैं।महेंद्र यादव, अभिभावक, विकास नगर----------मेरी बच्ची विदुषी दीक्षित को आर्मी पब्लिक स्कूल एलाट किया गया। वहां एडमिशन कराने पहुंचा तो बता दिया कि वहां नर्सरी की क्लास नहीं चलती। अब कहां जाएं।जितेश दीक्षित, नरही-----


 व्हाट्सप के जरिये जुड़ने के लिए क्लिक करें।

Monday, September 7, 2020

प्राइवेट में फीस देना भारी, बच्चे चले स्कूल सरकारी

प्राइवेट में फीस देना भारी, बच्चे चले स्कूल सरकारी

Saturday, September 5, 2020

लखनऊ में सर्वाधिक शिक्षकों ने कोरोना काल में बनाए शैक्षणिक वीडियो, हुआ सम्मान

लखनऊ में सर्वाधिक शिक्षकों ने कोरोना काल में बनाए शैक्षणिक वीडियो, हुआ सम्मान।

लखनऊ : कोरोना काल मे जब विद्यालय और कोचिंग सेंटर बंद हैं। बच्चे घरों में बैठकर संसाधनों के अभाव में पढाई कर रहे हैं। ऐसे में शासन के आदेश पर ई-ज्ञान गंगा एवं स्वयंप्रभा और डीडी यूपी पर माध्यमिक विद्यालयों के बच्चों की कक्षाएं संचालित करने का आदेश हुआ तो सूबे में सवार्धिक शिक्षक लखनऊ से आगे आएं। उन्होंने बच्चों के लिए पाठ्यक्रम के अनुसार शैक्षणिक वीडियो बनाएं।






जिन्हें दूरदर्शन पर प्रसारित किया गया। ऐसे सभी 40 शिक्षकों का शिक्षक दिवस के मौके राजकीय बालिका इंटर कॉलेज गोमतीनगर में प्रशस्तिपत्र देकर उन्हें सम्मानित किया गया। इस मौके पर संयुक्त शिक्षा निदेशक सुरेंद्र कुमार तिवारी ने कहा कि ऑनलाइन शिक्षण कार्यक्रम में उक्त शिक्षक/ शिक्षिकाओं की महती भूमिका है। राज्य स्तर पर सर्वाधिक वीडियो तैयार करने का कार्य जनपद लखनऊ के शिक्षक/शिक्षिकाओं द्वारा किया गया। इस दैरान डीआइओएस (द्वितीय) नंदकुमार एवं डीआइओएस डॉ. मुकेश कुमार सिंह मौजूद रहें। कार्यक्रम के दौरान कोविड-19 के प्रोटोकॉल का अनुपालन करते हुए सभी शिक्षक शिक्षिकाओं को सम्मानित कर प्रशस्ति पत्र प्रदान किया गया। वहीं, शिक्षक, शिक्षिकाओं द्वारा ने वीडियो निर्माण में अपने अनुभव को साझा करते हुए उक्त कार्यक्रम को आगे बढ़ाने हेतु संकल्प लिया गया साथ ही नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति को कैसे जनपद स्तर पर लागू किया जाए इस पर भी विचार विमर्श हुआ।

 व्हाट्सप के जरिये जुड़ने के लिए क्लिक करें।