DISTRICT WISE NEWS

अंबेडकरनगर अमरोहा अमेठी अलीगढ़ आगरा आजमगढ़ इटावा इलाहाबाद उन्नाव एटा औरैया कन्नौज कानपुर कानपुर देहात कानपुर नगर कासगंज कुशीनगर कौशांबी कौशाम्बी गाजियाबाद गाजीपुर गोंडा गोण्डा गोरखपुर गौतमबुद्ध नगर गौतमबुद्धनगर चंदौली चन्दौली चित्रकूट जालौन जौनपुर ज्योतिबा फुले नगर झाँसी झांसी देवरिया पीलीभीत फतेहपुर फर्रुखाबाद फिरोजाबाद फैजाबाद बदायूं बरेली बलरामपुर बलिया बस्ती बहराइच बागपत बाँदा बांदा बाराबंकी बिजनौर बुलंदशहर बुलन्दशहर भदोही मऊ मथुरा महराजगंज महोबा मिर्जापुर मीरजापुर मुजफ्फरनगर मुरादाबाद मेरठ मैनपुरी रामपुर रायबरेली लखनऊ लख़नऊ लखीमपुर खीरी ललितपुर वाराणसी शामली शाहजहाँपुर श्रावस्ती संतकबीरनगर संभल सहारनपुर सिद्धार्थनगर सीतापुर सुलतानपुर सुल्तानपुर सोनभद्र हमीरपुर हरदोई हाथरस हापुड़
Showing posts with label स्वास्थ्य. Show all posts
Showing posts with label स्वास्थ्य. Show all posts

Monday, April 19, 2021

स्वास्थ्य पहली प्राथमिकता - इस कस्तूरबा विद्यालय के समस्त स्टाफ ने किया क्वारंटीन

स्वास्थ्य पहली प्राथमिकता - इस कस्तूरबा विद्यालय के समस्त स्टाफ ने किया क्वारंटीन


बलरामपुर : मुख्यालय पर संचालित कस्तूरबा गांधी आवासीय बालिका विद्यालय देहात के सभी शिक्षक व शिक्षणेत्तर कर्मचारियों ने बेसिक शिक्षाधिकारी को पत्र लिखकर आइसोलेट होने के कारण स्कूल आने पर असमर्थता जताई है। विद्यालय के सभी शिक्षक व कर्मचारियों ने अपने-आपको होम क्वारंटीन कर रखा है।


बताते चलें कि बेसिक शिक्षाधिकारी को विद्यालय की ओर से सौंपे गए पत्र में अस्पष्ट हवाला दिया गया है कि स्कूल की फुल टाइम टीचर रुचि चौधरी के भाई किसी कारण विद्यालय में आए हुए थे। जिस के संबंध में जानकारी मिली कि वह कोरोना पॉजिटिव है। उनकी हालत काफी खराब होने से उन्हें भर्ती कराया गया है। 


फुल टाइम टीचर विद्यालय के सभी शिक्षक व कर्मचारी स्टाफ के साथ प्रशासनिक कार्य करती रही हैं। ऐसे में सभी शिक्षक व कर्मचारियों उनके संपर्क में रहे हैं। इस कारण विद्यालय में प्रशासनिक कार्य के लिए आवश्यकता पड़ेगी तो सभी शिक्षक व कर्मचारी उपस्थित हो जाएंगे अन्यथा सभी अध्यापकों ने अपने-आपको होम क्वारंटीन कर लिया है। 


इस संबंध में जिला समन्वयक बालिका शिक्षा निरंकार पांडेय ने कहाकि पत्र मिला है। जांच कराई जाएगी। शिक्षकों को सुरक्षित रहने का निर्देश दिया गया है।

Sunday, April 18, 2021

चुनाव से लौटते ही कोरोना के डोर टू डोर सर्वे में परिषदीय शिक्षकों की ड्यूटी, चुनाव ड्यूटी के बाद कई शिक्षक अस्वस्थ

चुनाव से लौटते ही कोरोना के डोर टू डोर सर्वे में परिषदीय शिक्षकों की ड्यूटी, चुनाव ड्यूटी के बाद कई शिक्षक अस्वस्थ


प्रयागराज : कोरोना के बढ़ते मरीजों को देखते हुए टेस्टिंग, ट्रेसिंग व ट्रीटमेंट तेज किया गया है। संक्रमितों का पता लगाने के लिए डोर टू डोर सर्वे के लिए अधिक से अधिक मोहल्लों में टीम भेजी जा रही है। इनमें ड्यूटी के लिए स्वास्थ्य विभाग के कर्मचारियों के अतिरिक्त परिषदीय स्कूलों के शिक्षक भी लगाए गए हैं।


बेसिक शिक्षाधिकारी संजय कुशवाहा ने बताया कि पूर्व में जो शिक्षक डोर टू डोर सर्वे ड्यूटी में थे, उनके अतिरिक्त 250 शिक्षक और लगा दिए गए हैं। शहरी क्षेत्र को 12 जोन व 100 सेक्टरों में बांटा गया है। सभी जोन में मेडिकल मोबाइल यूनिट को सहयोग देने के लिए शिक्षक भी तैनात किए गए हैं। इसके अतिरिक्त 150 शिक्षकों को कोविड कंट्रोल रूम में भी तैनात करने की तैयारी है। यह कंट्रोलरूम 24 घंटे कार्य कर रहा है। सिफ्टवार सभी की ड्यूटी लगाई जा रही है। शिक्षकों को नहीं मिले सुरक्षा उपकरण


कोविड अस्पतालों में इतनी तेजी से संक्रमित बढ़ रहे हैं कि इससे स्वास्थ्य महकमा ही कांपने लगा है।
बेकाबू है Coronavirus की दूसरी लहर, शनिवार को 14 ने गंवाई जान और 2436 आए चपेट में, मचा है कोहराम
यह भी पढ़ें
डोर टू डोर सर्वे ड्यूटी में लगे शिक्षक शनिवार को केपी इंटर कॉलेज में एकत्र हुए। सभी को सुरक्षा उपकरण नहीं दिए गए। स्वास्थ विभाग के कर्मियों को बचाव के लिए कुछ उपकरण उपलब्ध कराए गए थे। एडीएम सिटी से शिक्षक नेता अजय सिंह ने मांग की कि शिक्षकों को संक्रमण से बचाव के लिए सहायक उपकरण दिए जाएं। चुनाव 

ड्यूटी के बाद कई शिक्षक अस्वस्थ
शिक्षक नेता अजय सिंह ने बताया कि चुनाव ड्यूटी के बाद दो दर्जन से अधिक अध्यापकों ने अस्वस्थ होने की शिकायत की है। अधिकांश के शरीर में दर्द, बुखार व गले में दर्द हो रहा है। इनमें से कई ने खुद को अइसोलेट भी कर लिया है।

Friday, April 16, 2021

पंचायत चुनाव ड्यूटी में तैनात कार्मिकों को जान का खतरा, शिक्षक संघ ने पंचायत चुनाव स्थगित करने की मांग की

पंचायत चुनाव ड्यूटी में तैनात कार्मिकों को जान का खतरा, शिक्षक संघ ने पंचायत चुनाव स्थगित करने की मांग की


लखनऊ। उत्तर प्रदेशीय प्राथमिक शिक्षक संघ ने राज्य निर्वाचन आयोग से त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव स्थगित करने की मांग की। कहा, कोरोना के बढ़ते संक्रमण की वजह से चुनाव ड्यूटी में तैनात शिक्षकों और कर्मचारियों को जान का खतरा है।


संघ के अध्यक्ष डॉ. दिनेश चंद्र शर्मा ने कहा कि लोक भवन में पंचम तल पर बैठने वाले अधिकारियों के पास बिना उनकी अनुमति के परिंदा भी पर नहीं मार सकता है। जब इन लोगों तक कोरोना संक्रमण पहुंच गया है तो यह कैसे संभव है कि पंचायत चुनाव में इतनी भीड़ के बीच ड्यूटी करने वाले शिक्षक और कर्मचारी संक्रमित नहीं होंगे।

शर्मा ने कहा कि मतदान दलों के प्रशिक्षण से लेकर उन्हें मतदान केंद्र तक भेजने में कोविड गाइडलाइन का पालन नहीं किया जा रहा है। मतदान केंद्रों पर भी मतदान दल कर्मियों के स्वास्थ्य जांच या इलाज की समुचित सुविधा नहीं है ।

पहले चरण के मतदान में ही विभिन्न जिलों से मतदान दलों के कर्मचारियों की तबीयत बिगड़ने और उन्हें उपचार नहीं मिलने की शिकायतें सामने आई हैं। इसके मद्देनजर उन्होंने आयोग से आगामी तीन चरण के चुनाव स्थगित कराने की मांग की है। साथ ही चुनाव ड्यूटी में किसी भी कर्मचारी की मृत्यु होने पर उसके परिजन को 50 लाख का मुआवजा और सरकारी नौकरी भी दिलाने की मांग की है।

Wednesday, April 14, 2021

यूपी बोर्ड परीक्षाओं में ड्यूटी करने वाले शिक्षकों व शिक्षणेत्तर कर्मियों को कोरोना वैक्सीन लगाये जाने के सम्बन्ध में आदेश जारी

यूपी बोर्ड परीक्षाओं में ड्यूटी करने वाले शिक्षकों व शिक्षणेत्तर कर्मियों को कोरोना वैक्सीन लगाये जाने के सम्बन्ध में आदेश जारी

यूपी बोर्ड परीक्षा में ड्यूटी करने वालों को प्राथमिकता पर लगेगी वैक्सीन


कोरोना के बढ़ते संक्रमण के कारण सीबीएसई ने भले ही अपनी परीक्षाएं टाल दी हैं लेकिन यूपी बोर्ड की हाईस्कूल और इंटरमीडिएट परीक्षा की तैयारियां बदस्तूर चल रही है। हालांकि परीक्षा में शामिल हो रहे 56 लाख से अधिक छात्र-छात्राओं और शिक्षकों की सुरक्षा को देखते हुए शासन ने शिक्षकों व कर्मचारियों को प्राथमिकता के आधार पर टीका लगवाने के आदेश दिए हैं।


विशेष सचिव शासन उदयभानु त्रिपाठी ने सभी डीएम, माध्यमिक शिक्षा निदेशक, सचिव यूपी बोर्ड, संयुक्त शिक्षा निदेशकों और जिला विद्यालय निरीक्षकों को मंगलवार को आदेश भेजा है कि बोर्ड परीक्षाओं में ड्यूटी करने वाले एवं आयु के अनुसार वैक्सीनेशन के लिए पात्र शिक्षकों व शिक्षणेत्तर कर्मचारियों को टीकाकरण उत्सव के माध्यम से प्राथमिकता के आधार पर वैक्सीन लगवाई जाए।


सचिव यूपी बोर्ड दिव्यकांत शुक्ल का कहना है कि शासन से आदेश मिले हैं, उसके अनुपालन में परीक्षा में ड्यूटी करने वाले शिक्षकों व कर्मचारियों को टीका लगवाने के इंतजाम किए जा रहे हैं। जिले के अफसरों को इस संबंध में आदेश भेजे जा रहे हैं।


Sunday, April 11, 2021

कोरोना के खतरे में पंचायत चुनाव ड्यूटी में लगे शिक्षक व कर्मचारी

कोरोना के खतरे में पंचायत चुनाव ड्यूटी में लगे शिक्षक व कर्मचारी


प्रयागराज : जिले में कोरोना तेजी से फैल रहा है। स्थानीय प्रशासन चुनाव ड्यूटी में कर्मचारियों को तो लगा रहा है लेकिन उनकी सुरक्षा के लिए कोई कदम उठाने को तैयार नहीं है। यहां तक कि कोरोना पाजिटिव आए लोगों की भी ड्यूटी चुनाव से नहीं काटी जा रही है। इस रवैया पर उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षक संघ (ठकुराई गुट) के प्रदेश महामंत्री लालमणि द्विवेदी ने नाराजगी जताई है।


उन्होंने डीएम को पत्र देकर तमाम समस्याओं की ओर ध्यान आकर्षति कराया है। मांग की है कि जल्द से जल्द समस्या का समाधान किया जाए। ऐसा न होने पर चुनाव के बीच में ही आंदोलन शुरू किया जाएगा।


आरटीपीसीआर जांच नहीं हो रही: जिला प्रशासन के अफसरों को दिए पत्र में कहा है कि जिले के अनेक विद्यालयों में कई शिक्षक/कर्मचारी एक साथ कोरोना पाजिटिव पाए गए हैं। वह क्वारंटाइन किए गए हैं। ऐसे विद्यालय एक भी दिन के लिए बंद नहीं हो रहे हैं। वहां के सभी अध्यापक और कर्मचारी निर्वाचन ड्यूटी में भी लगाए गए हैं। कोरोना पाजिटिव और क्वारंटाइन शिक्षकों की सूचना तथा उनके निर्वाचन ड्यूटी पत्र को जिला विद्यालय निरीक्षक कार्यालय और जिला निर्वाचन अधिकारी का कार्यालय लेने को तैयार नहीं है। 


इन कार्यालयों में अधिकारियों द्वारा निर्वाचन ड्यूटी के संबंध में कोई भी पत्र लेने की मनाही कर दी गई है। मुख्य विकास अधिकारी का कहना है कि केवल आरटीपीसीआर जांच में पॉजिटिव कमियों को ही निर्वाचन ड्यूटी से मुक्त किया जाएगा। दूसरी ओर स्वास्थ्य विभाग के द्वारा एंटीजन जांच में पाजिटिव हो चुके व्यक्तियों का इस समय आरटीपीसीआर जांच कराई ही नहीं जा रहा है। एंटीजन जांच में नेगेटिव पाए गए व्यक्तियों की ही आरटीपीसीआर जांच कराई जा रही है।

Thursday, April 8, 2021

बेसिक शिक्षा : परिवार में कोई कोरोना संक्रमित तो वर्क फ्राम होम की स्थिति स्पष्ट नहीं

बेसिक शिक्षा : परिवार में कोई कोरोना संक्रमित तो वर्क फ्राम होम की स्थिति स्पष्ट नहीं


बेसिक शिक्षा परिषद की ओर से संचालित प्राथमिक और जूनियर विद्यालयों में तैनात शिक्षकों के परिवार में कोई कोरोना पॉजीटिव होता है तो उसे वर्क फ्राम होम की अनुमति मिलेगी या नहीं इस पर स्थिति साफ नहीं है। जबकि बेसिक शिक्षा मंत्री डॉ. सतीश द्विवेदी के निर्देश पर शिक्षा महानिदेशक की ओर से जारी आदेश के मुताबिक अगर शिक्षक कोरोना पॉजीटिव होता है, तो उसे वर्क फ्राम होम की अनुमति दी जाएगी।


कुछ ऐसे शिक्षक हैं जिनके पति या पत्नी पॉजीटिव हैं, लेकिन उनको स्कूल बुलाया जा रहा है। जोन दो व एक में ऐसे प्रकरण हैं। बीईओ नूतन जायसवाल ने बताया कि महानिदेशक का आदेश है कि यदि शिक्षक कोरोना पॉजीटिव पाये जाते हैं तो उनके संपर्क में आए दूसरे शिक्षकों को होमआइसोलेशन में भेजा जाता है। तो उस अवधि को वर्क फ्रॉम होम माना जाये।


यह कहीं नहीं है कि शिक्षक के परिवार में कोई पॉजीटिव है तो भी शिक्षक को वर्क फॉर्म होम की अनुमति दी जाये । इस संबंध में प्राथमिक प्रशिक्षित शिक्षक स्नातक एसोसिएशन के प्रांतीय अध्यक्ष विनय कुमार सिंह कहते हैं कि शिक्षक खुद कोरोना पॉजीटिव हो या फिर उसके कोई परिवार हो तो ऐसी स्थिति में यदि शिक्षक ड्यू टी के बाद घर जाता है और फिर दूसरे दिन आता है तो निश्चित ही सक्रमण फैलेगा, ऐसे में उस शिक्षक को वर्क फॉर्म होम की अनुमति दी जानी चाहिए.


शिक्षक अगर पॉजिटिव है तो उसे वर्क फॉर्म होम की अनुमति दी जायेगी, लेकिन अगर कोई उसके घर में पॉजीटिव है और वह छुट्टी की मांग करता है तो उसका परीक्षण किया जायेगा।साथ ही महानिदेशक के आदेश का पालन किया जाएगा। -पीएन सिंह, एडी बेसिक, लखनऊ मंडल व कार्यवाहक बीएसए