DISTRICT WISE NEWS

अंबेडकरनगर अमरोहा अमेठी अलीगढ़ आगरा आजमगढ़ इटावा इलाहाबाद उन्नाव एटा औरैया कन्नौज कानपुर कानपुर देहात कानपुर नगर कासगंज कुशीनगर कौशांबी कौशाम्बी गाजियाबाद गाजीपुर गोंडा गोण्डा गोरखपुर गौतमबुद्ध नगर गौतमबुद्धनगर चंदौली चन्दौली चित्रकूट जालौन जौनपुर ज्योतिबा फुले नगर झाँसी झांसी देवरिया पीलीभीत फतेहपुर फर्रुखाबाद फिरोजाबाद फैजाबाद बदायूं बरेली बलरामपुर बलिया बस्ती बहराइच बागपत बाँदा बांदा बाराबंकी बिजनौर बुलंदशहर बुलन्दशहर भदोही मऊ मथुरा महराजगंज महोबा मिर्जापुर मीरजापुर मुजफ्फरनगर मुरादाबाद मेरठ मैनपुरी रामपुर रायबरेली लखनऊ लख़नऊ लखीमपुर खीरी ललितपुर वाराणसी शामली शाहजहाँपुर श्रावस्ती संतकबीरनगर संभल सहारनपुर सिद्धार्थनगर सीतापुर सुलतानपुर सुल्तानपुर सोनभद्र हमीरपुर हरदोई हाथरस हापुड़

Monday, March 22, 2021

आफत: होली के दिन कक्षा 1 से 8 तक के बच्चों का रिजल्ट बनाएंगे परिषदीय स्कूलों के शिक्षक

आफत: होली के दिन कक्षा 1 से 8 तक के बच्चों का रिजल्ट बनाएंगे परिषदीय स्कूलों के शिक्षक

परिषदीय स्कूलों में होली के अवकाश पर संशय, महानिदेशक स्कूल शिक्षा के पत्र में छुट्टी का जिक्र नहीं


■ रविवार 28 मार्च को होली जलेगी और सोमवार को 29 मार्च को रंगोत्सव है।

■ बेसिक शिक्षा परिषद के प्राथमिक व उच्च प्राथमिक विद्यालयों की वार्षिक परीक्षा की समय सारिणी जारी हो गई है। 

■ महानिदेशक स्कूल शिक्षा विजय किरन आनंद ने बेसिक शिक्षा अधिकारियों को जिस तरह के निर्देश दिए हैं उससे शिक्षक परेशान हैं।

प्रयागराज । प्रदेश में बेसिक स्कूलों में सिर्फ दो दिन यानी 25 व 26 मार्च को वार्षिक परीक्षा कराने के बाद 31 मार्च तक परीक्षाफल भी तैयार हो जाएगा। इसी बीच शिक्षकों को 27 से 30 मार्च के बीच में मूल्यांकन भी करना होगा। यानी होली के अवकाश पर संशय है। महानिदेशक स्कूली शिक्षा के अधिकारियों के लिए जारी निर्देश का तो यही अर्थ निकाला जा रहा है कि प्रदेश के बेसिक शिक्षा विभाग के स्कूलों में इस बार होली का अवकाश नहीं होगा।

बेसिक शिक्षा परिषद के प्राथमिक व उच्च प्राथमिक विद्यालयों की वार्षिक परीक्षा की समय सारिणी जारी हो गई है। महानिदेशक स्कूल शिक्षा विजय किरन आनंद ने बेसिक शिक्षा अधिकारियों को जिस तरह के निर्देश दिए हैं उससे शिक्षक परेशान हैं कि इस बार होली का अवकाश क्या नहीं होगा। इस बार रविवार 28 मार्च को होली जलेगी और सोमवार को 29 मार्च को रंगोत्सव है। इसके बाद 30 मार्च को भाईदूज का पर्व है। इसी दौरान महानिदेशक स्कूली शिक्षा ने मूल्यांकन व परिणाम तैयार करने का आदेश दिया है।


परिषद मुख्यालय वैसे तो प्रयागराज में है, लेकिन परिषदीय स्कूलों के संबंध में दिशा-निर्देश देने की परिपाटी इधर काफी बदली हुई है। अभी तक आमतौर जो आदेश परिषद सचिव की ओर से जारी होते रहे हैं वे आदेश अब शासन और महानिदेशक स्तर से जारी हो रहे हैं। पिछले महीनों में शिक्षकों के तबादले का आदेश बेसिक शिक्षा निदेशक की ओर से निर्गत हुआ था। पिछले वर्षों तक वार्षिक परीक्षा की सूचनाएं सचिव स्तर से ही जारी होती रही हैं। इस बार महानिदेशक ने निर्देश भेजें हैं।


वार्षिक परीक्षा की समय सारिणी के अनुसार जिलों में 22 मार्च तक विकासखंड व संकुल स्तर के विद्यालय तक निर्देश भेजे जाएंगे। 24 को प्रश्नपत्र मुद्रित कराकर वितरित होंगे, वार्षिक परीक्षा 25 व 26 को कराई जाएगी। मूल्यांकन व परीक्षाफल 27 से 30 मार्च तक तैयार किया जाएगा, जबकि 31 मार्च को परीक्षाफल वितरित होगा।


यह भी देखें - 


Primary School Exam Result 2021: परिषदीय स्कूलों के शिक्षक होली के त्योहार पर बच्चों की कॉपियां जांचेंगे और रिजल्ट तैयार करेंगे। महानिदेशक स्कूली शिक्षा विजय किरन आनंद की ओर से 19 मार्च को जारी समय सारिणी के अनुसार कक्षा एक से आठ तक के बच्चों की वार्षिक परीक्षाएं 25 व 26 मार्च को होंगी।


27 से 30 मार्च तक शिक्षक कॉपियों का मूल्यांकन करेंगे और रिजल्ट बनाएंगे। 28 मार्च रविवार को होलिका दहन और 29 मार्च को होली का अवकाश है। प्रयागराज में परंपरा के अनुसार 30 मार्च को बड़ी होली मनाई जाएगी। ऐसे में 28 से 30 मार्च तक पूरी तरह से होली का माहौल रहेगा।


इस दौरान लोगों के एक-दूसरे के घर आने जाने का सिलिसला चल रहा होता है। ऐसे में 31 मार्च को परीक्षाफल घोषित करना है। शिक्षक इस बात को लेकर परेशान हैं कि 27 मार्च को एक दिन में कॉपियां जांचकर रिजल्ट तैयार नहीं किया तो होली में खलल पड़ना तय है।


बेसिक शिक्षा अधिकारी संजय कुमार कुशवाहा के अनुसार कक्षा तीन से आठ तक के तीन लाख से अधिक छात्र-छात्राएं वार्षिक परीक्षा में सम्मिलित होंगे।

इनका कहना है
प्राथमिक शिक्षक संघ के जिलाध्यक्ष देवेन्द्र कुमार श्रीवास्तव ने कहा, "हिन्दुओं के इतने महत्वपूर्ण पर्व की अनदेखी करके परीक्षा का कार्य कराना ठीक नहीं है। कोरोना को देखते हुए 50 प्रतिशत बच्चों को ही बुलाने का शासनादेश है। ऐसे में कैसे दो दिन में परीक्षा हो जाएगी। क्या नियम बदल दिया गया। परीक्षा इतनी आवश्यक थी तो पहले भी हो सकती थी।"

No comments:
Write comments