DISTRICT WISE NEWS

अंबेडकरनगर अमरोहा अमेठी अलीगढ़ आगरा आजमगढ़ इटावा इलाहाबाद उन्नाव एटा औरैया कन्नौज कानपुर कानपुर देहात कानपुर नगर कासगंज कुशीनगर कौशांबी कौशाम्बी गाजियाबाद गाजीपुर गोंडा गोण्डा गोरखपुर गौतमबुद्ध नगर गौतमबुद्धनगर चंदौली चन्दौली चित्रकूट जालौन जौनपुर ज्योतिबा फुले नगर झाँसी झांसी देवरिया पीलीभीत फतेहपुर फर्रुखाबाद फिरोजाबाद फैजाबाद बदायूं बरेली बलरामपुर बलिया बस्ती बहराइच बागपत बाँदा बांदा बाराबंकी बिजनौर बुलंदशहर बुलन्दशहर भदोही मऊ मथुरा महराजगंज महोबा मिर्जापुर मीरजापुर मुजफ्फरनगर मुरादाबाद मेरठ मैनपुरी रामपुर रायबरेली लखनऊ लख़नऊ लखीमपुर खीरी ललितपुर वाराणसी शामली शाहजहाँपुर श्रावस्ती संतकबीरनगर संभल सहारनपुर सिद्धार्थनगर सीतापुर सुलतानपुर सुल्तानपुर सोनभद्र हमीरपुर हरदोई हाथरस हापुड़
Showing posts with label यूपी बोर्ड. Show all posts
Showing posts with label यूपी बोर्ड. Show all posts

Tuesday, September 22, 2020

इंटरमीडिएट शिक्षा अधिनियम 1921 में होगा संशोधन, यूपी बोर्ड से मांगा प्रस्ताव

इंटरमीडिएट शिक्षा अधिनियम 1921 में होगा संशोधन, यूपी बोर्ड से मांगा प्रस्ताव

 
इंटरमीडिएट शिक्षा अधिनियम 1921 में होगा संशोधन, यूपी बोर्ड से मांगा प्रस्ताव।

शिक्षा निदेशक माध्यमिक की ओर से शासन के निर्देश पर यूपी बोर्ड सचिव, बोर्ड के क्षेत्रीय कार्यालयों के अपर सचिव से इंटरमीडिएट शिक्षा अधिनियम 1921 में संशोधन का प्रस्ताव मांगा है।

अपर शिक्षा निदेशक माध्यमिक डॉ. महेंद्र देव की ओर से भेजे गए पत्र में कहा गया है कि शासन के निर्देश पर 24 अगस्त 2020 को पत्र भेजकर इंटरमीडिएट शिक्षा अधिनियम 1921 में संशोधन के लिए प्रस्ताव मांगा गया था परंतु अभी तक इस संबंध में कोई जानकारी नहीं भेजी गई है। अपर निदेशक माध्यमिक ने 15 दिन के भीतर इंटरमीडिएट शिक्षा अधिनियम 1921 में संशोधन का प्रस्ताव शिक्षा निदेशक कार्यालय प्रयागराज भेजने को कहा है, जिससे इसे शासन को भेजा जा सके।

Monday, September 21, 2020

यूपी बोर्ड : कक्षा 11वीं कॉमर्स में एनसीईआरटी आधारित पाठ्यक्रम लागू

UP Board : कक्षा 11वीं कॉमर्स में एनसीईआरटी आधारित पाठ्यक्रम लागू।

उत्तर प्रदेश में नए अकादमिक सत्र शुरू होने के पांच महीने बाद ही यूपी बोर्ड ने एनसीईआरटी आधारित पाठ्यक्रम अपने 11वीं कक्षा के कॉमर्स स्ट्रीम के छात्रों के लिए शुरू कर दिया है।


यूपी बोर्ड के इस फैसले क मतलब है कि अगले शैक्षिक सत्र में राज्यभर में बोर्ड से जुड़े करीब 28000 स्कूलों में कॉर्मस स्ट्रीम 12वीं कक्षा में एनसीईआरटी आधारित पाठ्यक्रम लागू हो जाएगा।


परिणाम स्वरूप, यूपी बोर्ड 12वीं कक्षा की परीक्षा 2022 में एनसीईआरटी पाठ्यक्रम पर आधारित होगी। बोर्ड के अधिकारियों ने बताया कि इससे पहले नेशनल काउंसिल ऑफ एजुकेशनल रिसर्च एंड ट्रेनिंग (NCERT) आधारित पाठक्रम आर्ट्स और साइंस के लिए लागू किया जा चुका है।


यूपी बोर्ड के सचिव दिव्यकांत शुक्ल ने बताया कि विशेश सचिव (माध्यमिक शिक्षा) आर्यका अखौरी ने 18 सितंबर को एक आदेश माध्यमिक शिक्षा निदेशालय और यूपी बोर्ड को भेजा गया है। इस आदेश में पाठ्यक्रम में बदलाव की स्वीकृति और विवरण के बारे में बताया गया है।


उन्होंने कहा कि 28 अगस्त 2020 को प्रस्ताव पर यूपी बोर्ड से स्वीकृति मिल गई थी।

पुराने पाठ्यक्रम में एक अनिवार्य विषय हिन्दी या सामान्य हिन्दी रखा गया था। साथ ही कई सब्जेक्ट विकल्प के तौर पर थे। लेकिन अब नए पाठ्यक्रम में छात्रों को सामान्य हिन्दी, बिजनेस स्टडीज और अकाउंटैंसी को एक अनिवार्य विषय के रूप में चुनना होगा। वहीं दो विकल्पीय विषय जैसे इकोनॉमिक्स, इंग्लिश, मैथमैटिक्स और कम्प्यूटर होगा।

यूपी बोर्ड ने 1 अप्रैल 2018 को बोर्ड से जुड़े स्कूलो में 18 विषयों का पाठ्यक्रम एनसीईआरटी आधारित पाठ्यक्रम लागू करने की बात कही थी।

कॉमर्स स्ट्रीम में कक्षा 9 में 41612 और 11वीं में 71,834 छात्रों ने रजिस्ट्रेशन कराया था।

Saturday, September 19, 2020

यूपी बोर्ड के इंटरमीडिएट वाणिज्य में अब एनसीईआरटी पाठ्यक्रम, नए सत्र से लागू होगा बदलाव

यूपी बोर्ड के इंटरमीडिएट वाणिज्य में अब एनसीईआरटी पाठ्यक्रम, नए सत्र से लागू होगा बदलाव



उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षा परिषद (यूपी बोर्ड) के इंटरमीडिएट वाणिज्य में भी राष्ट्रीय शैक्षिक अनुसंधान एवं प्रशिक्षण परिषद (एनसीईआरटी) का पाठ्यक्रम लागू हो गया है। नए शैक्षिक सत्र की कक्षा 11 में नए पाठ्यक्रम से पढ़ाई शुरू होगी। बता दें कि कुछ माह पहले ही अंग्रेजी विषय में भी एनसीईआरटी पाठ्यक्रम अपनाया गया था और कक्षा नौ से पढ़ाई शुरू हो चुकी है, जबकि वाणिज्य वर्ग की पढ़ाई अगले सत्र से होगी। शासन ने वाणिज्य वर्ग में पाठ्यक्रम बदलने पर मुहर लगा दी है।


यूपी बोर्ड में कक्षा 9 से 12वीं तक की पढ़ाई एनसीईआरटी पाठ्यक्रम पर हो रही है। कई विषयों में पहले ही यह पाठ्यक्रम लागू है तो अन्य विषयों में बोर्ड प्रशासन बदलाव करा रहा है। इस वर्ष हाईस्कूल में अंग्रेजी, व इंटर में अंग्रेजी व वाणिज्य विषय का पाठ्यक्रम एनसीईआरटी की तर्ज पर किया गया है। इसका प्रस्ताव काफी समय पहले भेजा गया था, कक्षा 9 व 11 के अंग्रेजी पाठ्यक्रम में बदलाव हो चुका है।

अब शासन ने वाणिज्य वर्ग में पाठ्यक्रम बदलने पर मुहर लगा दी है। असल में, वाणिज्य वर्ग में रेगुलेशन में संशोधन होना था इसलिए शासन के निर्देश का इंतजार किया जा रहा था। बोर्ड सचिव दिव्यकांत शुक्ल ने बताया कि इस वर्ष पंजीकरण कार्य पूरा हो रहा है और पढ़ाई चल रही है इसलिए वाणिज्य वर्ग का नया पाठ्यक्रम नए सत्र से लागू होगा।


पहले का वाणिज्य पाठ्यक्रम

एक अनिवार्य विषय : हिंदी या सामान्य हिंदी
बहीखाता व लेखाशास्त्र
व्यापारिक संगठन व पत्र व्यवहार

निम्न में से कोई दो विषय
अर्थशास्त्र तथा वाणिज्य भूगोल
अधिकोषण तत्व
औद्योगिक संगठन
गणित तथा प्रारंभिक सांख्यिकी
कंप्यूटर
बीमा सिद्धांत एवं व्यवहार
मानविकी वर्ग के विषयों में से कोई एक विषय
क्रम एक अर्थशास्त्र व वाणिज्य भूगोल लेने वाले छात्र मानविकी वर्ग से अर्थशास्त्र विषय नहीं ले सकेंगे।
क्रम पांच कंप्यूटर विषय लेने वाले छात्र मानविकी वर्ग से कंप्यूटर विषय नहीं ले सकेगा।


अब ये पाठ्यक्रम
अनिवार्य विषय
1. सामान्य हिंदी
2. व्यवसाय अध्ययन
3. लेखाशास्त्र

ऐच्छिक विषय निम्न में से कोई दो लेने होंगे
1. अर्थशास्त्र
2. अंग्रेजी
3. गणित
4. कंप्यूटर

UP Board : 29 एवं 30 सितंबर को होगी कंपार्टमेंट/इंप्रूवमेंट के लिए प्रयोगात्मक परीक्षाएं

UP Board : कंपार्टमेंट/इंप्रूवमेंट की परीक्षा 29 एवं 30 सितंबर को होगी।

यूपी बोर्ड हाईस्कूल कंपार्टमेंट/इंप्रूवमेंट और इंटरमीडिएट कंपार्टमेंट परीक्षा के अर्ह परीक्षार्थियों की प्रयोगात्मक परीक्षाएं 29 एवं 30 सितंबर को आयोजित की जाएंगी। 


सचिव दिव्यकांत शुक्ल की ओर से जारी सूचना के अनुसार हाईस्कूल कंपार्टमेंट/इंप्रूवमेंट के लिए अर्ह छात्रों की प्रयोगात्मक परीक्षाएं (आंतरिक मूल्यांकन) 29 एवं 30 सितंबर को जबकि इंटरमीडिएट कंपार्टमेंट की परीक्षा के लिए अर्ह छात्रों की प्रयोगात्मक परीक्षाएं 29 एवं 30 सितंबर को कराई जाएंगी। इसके बारे में सूचना क्षेत्रीय कार्यालयों को भेज दी गई है।


इंटरमीडिएट कम्पार्टमेंट परीक्षा :
इस साल उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षा बोर्ड इंटर के 35017 छात्र कम्पार्टमेंट परीक्षा देंगे। यूपी बोर्ड ने इस साल से इंटर के छात्र-छात्राओं के लिए यह सुविधा दी है। ये 35017 छात्र एक विषय में फेल हैं और कम्पार्टमेंट देकर पास हो सकते हैं।


10वीं में गणित में सबसे ज्यादा फेल : 
सबसे खराब रिजल्ट गणित का रहा, इसमें 27 प्रतिशत परीक्षार्थी फेल हुए हैं। वहीं प्रारंभिक गणित में 96.55 प्रतिशत परीक्षार्थियों को सफलता मिली है। संस्कृत का परिणाम भी खराब रहा। इस विषय में सिर्फ 62.50 प्रतिशत परीक्षार्थी पास हुए हैं। अंग्रेजी में 19.49 तो विज्ञान में 19.60 प्रतिशत परीक्षार्थियों को असफलता हाथ लगी है। यूपी बोर्ड हाईस्कूल के काफी छात्र कम्पार्टमेंट परीक्षा में बैठेंगे।

Tuesday, September 15, 2020

UP Board Compartment Exam 2020 : तीन अक्टूबर को यूपी बोर्ड की हाईस्कूल व इंटर कंपार्टमेंट परीक्षा

UP Board Compartment Exam 2020 : तीन अक्टूबर को यूपी बोर्ड की हाईस्कूल व इंटर कंपार्टमेंट परीक्षा।

UP Board Compartment Exam 2020 यूपी बोर्ड की हाईस्कूल और इंटरमीडिएट कंपार्टमेंट/इंप्रूवमेंट परीक्षा 2020 तीन अक्टूबर को दो पालियों में होगी।

प्रयागराज  : UP Board Compartment Exam 2020 : उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षा परिषद (यूपी बोर्ड) की हाईस्कूल और इंटरमीडिएट कंपार्टमेंट/इंप्रूवमेंट परीक्षा 2020 तीन अक्टूबर को दो पालियों में होगी। बहुप्रतीक्षित हाई स्कूल और इंटरमीडिएट इंप्रूवमेंट/कम्पार्टमेंट परीक्षा की तैयारी पूरी होते ही मंगलवार को यूपी बोर्ड सचिव दिव्यकांत शुक्ल ने तारीख की घोषणा कर दी है। बोर्ड ने सभी जिलों से परीक्षा केंद्र बनाने के लिए प्रस्ताव मांगे थे। बोर्ड ने पांच अगस्त से 20 अगस्त के बीच कंपार्टमेंट/इंप्रूवमेंट परीक्षा के लिए ऑनलाइन आवेदन स्वीकार किए थे। कुल 33,344 छात्र-छात्राओं ने इंप्रूवमेंट/कंपार्टमेंट परीक्षा के लिए आवेदन किया है। इनमें हाई स्कूल के लिए 15,839 और इंटरमीडिएट के लिए 17,505 छात्र-छात्राओं ने अप्लाई किया है।




यूपी बोर्ड ने 27 जून को हाईस्कूल और इंटरमीडिएट परीक्षा 2020 का घोषित किया था। परीक्षा में अनुत्तीर्ण होने वाले कुल 33,344 परीक्षार्थियों ने इंप्रूवमेंट/कंपार्टमेंट परीक्षा के लिए आवेदन किया था। हाईस्कूल में दो और इंटर में एक विषय में अनुत्तीर्ण परीक्षार्थी इस परीक्षा को उत्तीर्ण करके पास हो सकेंगे। पहली बार इंटर के 35017 परीक्षार्थियों को कंपार्टमेंट परीक्षा में शामिल होने का मौका दिया गया लेकिन, ऑनलाइन आवेदन करने वालों की तादाद आधी ही है, बाकी परीक्षार्थियों ने इसमें रुचि नहीं दिखाई ।



बोर्ड प्रशासन हाईस्कूल के उन छात्र-छात्राओं को इंप्रूवमेंट/कंपार्टमेंट के तहत और वे परीक्षार्थी जो एक विषय में अनुत्तीर्ण हैं कंपार्टमेंट परीक्षा का अवसर मिला, उनमें से 15,839 ने दोनों के लिए आवेदन किया है। इसी तरह से इंटर की परीक्षा में मानविकी, विज्ञान व कामर्स वर्ग के परीक्षार्थी किसी एक विषय में, कृषि भाग एक व दो में निर्धारित विषयों में किसी एक प्रश्नपत्र में और व्यावसायिक वर्ग के लिए निर्धारित ट्रेड विषय के किसी एक प्रश्नपत्र में अनुत्तीर्ण परीक्षार्थी कंपार्टमेंट परीक्षा में शामिल हो सकता था। ऐसे परीक्षार्थियों की तादाद 35017 थी लेकिन, आवेदकों की संख्या महज 17,505 रही।






 व्हाट्सप के जरिये जुड़ने के लिए क्लिक करें।

यूपी बोर्ड : वेब पोर्टल पर मिलेगी स्कूलों की कुंडली

यूपी बोर्ड : वेब पोर्टल पर मिलेगी स्कूलों की कुंडली।

माध्यमिक शिक्षा विभाग से संचालित एडेड स्कूलों की हर जानकारी वेब पोर्टल पर मिलेगी। नई शिक्षा नीति के तहत वेब पोर्टल तैयार किया जाएगा। किसी स्कूल में कितने शिक्षक, छात्र और स्टाफ है। उसकी फीस कितनी है। वहां क्या सुविधाएं हैं, एक तरीके से हर स्कूल की कुंडली पोर्टल पर होगी।



बोर्ड परीक्षा फार्म भरने के समय एक शिकायत डीआईओएस कार्यालय को मिलती है। यह शिकायत फर्जी स्कूलों के फार्म भरवाने की होती है। अभिभावकों को माध्यमिक शिक्षा विभाग के स्कूलों की जानकारी नहीं होती। ग्रामीण क्षेत्र में कोई भी मान्यता का बोर्ड लगा लेता है। अब यह खेल लंबे समय तक नहीं चलेगा। नई शिक्षा नीति के तहत एक वेब पोर्टल तैयार किया जाएगा। इस पर हर एडेड स्कूल की जानकारी होगी। इससे अभिभावकों और छात्रों को स्कूल की जानकारी करने में आसानी होगी। साथ ही शिक्षकों और स्टाफ का भी सारा ब्योरा होगा। इससे फर्जी शिक्षकों पर भी प्रतिबंध लग सकेगा।

संयुक्त शिक्षा निदेशक डॉ. मुकेश अग्रवाल ने बताया कि नई शिक्षा नीति के तहत वेब पोर्टल तैयार किया जा रहा है। पोर्टल पर हर एडेड स्कूल की जानकारी उपलब्ध होगी।

 व्हाट्सप के जरिये जुड़ने के लिए क्लिक करें।