DISTRICT WISE NEWS

अंबेडकरनगर अमरोहा अमेठी अलीगढ़ आगरा आजमगढ़ इटावा इलाहाबाद उन्नाव एटा औरैया कन्नौज कानपुर कानपुर देहात कानपुर नगर कासगंज कुशीनगर कौशांबी कौशाम्बी गाजियाबाद गाजीपुर गोण्डा गोरखपुर गौतमबुद्ध नगर गौतमबुद्धनगर चन्दौली चित्रकूट जालौन जौनपुर ज्योतिबा फुले नगर झाँसी झांसी देवरिया पीलीभीत फतेहपुर फर्रुखाबाद फिरोजाबाद फैजाबाद बदायूं बरेली बलरामपुर बलिया बस्ती बहराइच बागपत बाँदा बांदा बाराबंकी बिजनौर बुलंदशहर बुलन्दशहर भदोही मऊ मथुरा महराजगंज महोबा मिर्जापुर मीरजापुर मुजफ्फरनगर मुरादाबाद मेरठ मैनपुरी रामपुर रायबरेली लखनऊ लख़नऊ लखीमपुर खीरी ललितपुर वाराणसी शामली शाहजहाँपुर श्रावस्ती संतकबीरनगर संभल सहारनपुर सिद्धार्थनगर सीतापुर सुलतानपुर सुल्तानपुर सोनभद्र हमीरपुर हरदोई हाथरस हापुड़

Friday, May 8, 2020

उच्च शिक्षा : प्रधानमंत्री रिसर्च फेलोशिप में बदलाव, मानव संसाधन विकास मंत्री ने योजना में संशोधनों को दी मंजूरी

उच्च शिक्षा : प्रधानमंत्री रिसर्च फेलोशिप में बदलाव, मानव संसाधन विकास मंत्री ने योजना में संशोधनों को दी मंजूरी।



प्रधानमंत्री रिसर्च फेलोशिप में बदलाव

मानव संसाधन विकास मंत्री ने योजना में संशोधनों को मंजूरी दी।

विश्वविद्यालयों के उम्मीदवारों के लिए गेट स्कोर की सीमा घटाई।

मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक ने उच्च शिक्षण संस्थानों में अनुसंधान की गुणवत्ता को सुधारने के लिए प्रधानमंत्री रिसर्च फेलोशिप (एमआरएफ) योजना में कई संशोधनों को मंजूरी प्रदान की है। नए नियमों से अब ज्यादा लोग फेलोशिप के लिए आवेदन कर सकेंगे। इसके लिए मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालयों के उम्मीदवारों के लिए गेट स्कोर की सीमा घटाई गई है। इसके तहत एक हजार छात्रों का चयन किया जाता है। उन्हें प्रति माह 70 हजार रुपये की राशि प्रदान की जाती है। नए नियमों के आईआईएससी, आईआईटी, आईआईटी, आईआईएसईआर, आईआईईएसटी, केंद्र पोषित ट्रिपल आईटी के अलावा अन्य मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालयों के छात्रों के लिए गेट स्कोर की आवश्यकता 750 से घटाकर 650 कर दी गई है, जबकि न्यूनतम सीजीपीए 8 या इसके बराबर होना चाहिए। नए नियमों के तहत इसमें प्रविष्ट भेजने के दो चैनल होंगे। एक डायरेक्ट और दूसरा लैटरल। लैटरल प्रविष्टि भेजने वाले छात्र जो एमआरएफ अनुदान देने वाले संस्थानों से पीएचडी कर रहे हैं, वे भी इस योजना के तहत फेलो बनने के लिए आवेदन कर सकते हैं। भले ही वे 12 या 24 महीने पूरे कर चुके हों लेकिन कुछ शर्तों के साथ इसमें आवेदन कर सकते हैं। इस योजना के अंतर्गत इसमें एनआईटी भी शामिल हो सकते हैं, जो एनआईआरएफ की समग्र रैंकिंग में शीर्ष 25 संस्थानों में आते हैं।






 व्हाट्सप के जरिये जुड़ने के लिए क्लिक करें।

No comments:
Write comments