DISTRICT WISE NEWS

अंबेडकरनगर अमरोहा अमेठी अलीगढ़ आगरा आजमगढ़ इटावा इलाहाबाद उन्नाव एटा औरैया कन्नौज कानपुर कानपुर देहात कानपुर नगर कासगंज कुशीनगर कौशांबी कौशाम्बी गाजियाबाद गाजीपुर गोंडा गोण्डा गोरखपुर गौतमबुद्ध नगर गौतमबुद्धनगर चंदौली चन्दौली चित्रकूट जालौन जौनपुर ज्योतिबा फुले नगर झाँसी झांसी देवरिया पीलीभीत फतेहपुर फर्रुखाबाद फिरोजाबाद फैजाबाद बदायूं बरेली बलरामपुर बलिया बस्ती बहराइच बागपत बाँदा बांदा बाराबंकी बिजनौर बुलंदशहर बुलन्दशहर भदोही मऊ मथुरा महराजगंज महोबा मिर्जापुर मीरजापुर मुजफ्फरनगर मुरादाबाद मेरठ मैनपुरी रामपुर रायबरेली लखनऊ लख़नऊ लखीमपुर खीरी ललितपुर वाराणसी शामली शाहजहाँपुर श्रावस्ती संतकबीरनगर संभल सहारनपुर सिद्धार्थनगर सीतापुर सुलतानपुर सुल्तानपुर सोनभद्र हमीरपुर हरदोई हाथरस हापुड़

Wednesday, November 18, 2020

फतेहपुर : नए बर्तनों में भोजन खाएंगे परिषदीय स्कूलों के बच्चे, तीन करोड़ से स्कूलों के किचन शेड होंगे अपडेट।

फतेहपुर : नए बर्तनों में भोजन खाएंगे परिषदीय स्कूलों के बच्चे, तीन करोड़ से स्कूलों के किचन शेड होंगे अपडेट।

फतेहपुर :  परिषदीय स्कूलों के किचनशेड अपडेट करने की तैयारी है। पुराने और जर्जर भोजन पकाने के बर्तन बदलकर आधुनिक तरीके के खरीदे जाएंगे। मध्यान्ह भोजन प्राधिकरण ने तीन करोड़ 35 लाख 45 हजार की धनराशि खर्च करने की योजना बनाई है। प्राधिकरण ने बेसिक शिक्षा विभाग से तीन दिन के अंदर किचन शेडों की स्थिति की रिपोर्ट मांगी है।


जिले भर के 2650 परिषदीय स्कूलों में मध्यान्ह भोजन पकाने के लिए किचन शेड बने हैं। इनमें पुराने बर्तन और बड़ी तादाद में लकड़ी जलित चूल्हों का उपयोग हो रहा है। ऐसे में प्राधिकरण ने सभी शेडों को अपडेट करने का निर्णय लिया है। पुराने जर्जर बर्तन बदलकर नए बर्तनों की खरीद की जाएगी। इसी के साथ गैस सिलेंडर और भट्ठियां खरीदने की योजना है। खाद्यान सुरक्षित रखने के लिए स्टील की टंकियों खरीदी जानी है। इसमें आने वाले खर्च में 201.27 लाख रुपये केंद्र और 134.18 लाख की धनराशि केंद्र सरकार खर्च करेगी। 



मध्यान्ह भोजन प्राधिकरण के निदेशक विजयकरन आनंद ने बीएसए से तीन दिन के अंदर सभी स्कूलों के किचन शेडों की स्थिति की रिपोर्ट मांगी है। जिला समन्वयक आशीष दीक्षित ने बताया कि न्यूनतम छात्र संख्या वाले स्कूल को 10 हजार रुपये का बजट इस योजना में आवंटित किया जाएगा। इसके बाद 51 से 150 तक, 151 से 250 तक तथा 251 से अधिक तक तीन श्रेणियों में स्कूलों का आवंटन कर यह धनराशि मानक के अनुसार आवंटित की जाएगी।

No comments:
Write comments