DISTRICT WISE NEWS

अंबेडकरनगर अमरोहा अमेठी अलीगढ़ आगरा आजमगढ़ इटावा इलाहाबाद उन्नाव एटा औरैया कन्नौज कानपुर कानपुर देहात कानपुर नगर कासगंज कुशीनगर कौशांबी कौशाम्बी गाजियाबाद गाजीपुर गोंडा गोण्डा गोरखपुर गौतमबुद्ध नगर गौतमबुद्धनगर चंदौली चन्दौली चित्रकूट जालौन जौनपुर ज्योतिबा फुले नगर झाँसी झांसी देवरिया पीलीभीत फतेहपुर फर्रुखाबाद फिरोजाबाद फैजाबाद बदायूं बरेली बलरामपुर बलिया बस्ती बहराइच बागपत बाँदा बांदा बाराबंकी बिजनौर बुलंदशहर बुलन्दशहर भदोही मऊ मथुरा महराजगंज महोबा मिर्जापुर मीरजापुर मुजफ्फरनगर मुरादाबाद मेरठ मैनपुरी रामपुर रायबरेली लखनऊ लख़नऊ लखीमपुर खीरी ललितपुर वाराणसी शामली शाहजहाँपुर श्रावस्ती संतकबीरनगर संभल सहारनपुर सिद्धार्थनगर सीतापुर सुलतानपुर सुल्तानपुर सोनभद्र हमीरपुर हरदोई हाथरस हापुड़

Thursday, February 18, 2021

अब क्लास 1 से 12 तक के स्कूल टीचर बनने के लिए TET होगा अनिवार्य, ये है NCTE की तैयारी

अब क्लास 1 से 12 तक के स्कूल टीचर बनने के लिए TET होगा अनिवार्य, ये है NCTE की तैयारी


Education news in hindi: अब स्कूल टीचर बनने के लिए टीईटी पास करना अनिवार्य होगा। क्वालिटी एजुकेशन को बढ़ावा देने के लिए एनसीटीई यह फैसला ले रहा है। पढ़ें डीटेल...
    

■ क्लास 1 से 12 तक सभी के लिए अनिवार्य होगा टीईटी
एनईपी के तहत एनसीटीई ने लिया है फैसला

■ गाइडलाइंस और टेस्ट स्ट्रक्चर तैयार करने के लिए कमिटी गठित


TET compulsory to become school teacher: अब किसी भी क्लास में पढ़ाने के लिए शिक्षक पात्रता परीक्षा (Teachers Eligibility Test) पास करना अनिवार्य किया जाएगा। राष्ट्रीय शिक्षा नीति (NEP 2020) के तहत नेशनल काउंसिल फॉर टीचर एजुकेशन (NCTE) ने यह फैसला किया है।


एनसीटीई ने इसके लिए दिशानिर्देश व टेस्ट पैटर्न तैयार करने के लिए कमिटी गठित कर दी है। स्कूलों में क्वालिटी एजुकेशन को बढ़ावा देने के लिए और शिक्षकों को अपग्रेड करने के लिए एनसीटीई यह तैयारी कर रहा है।


क्लास 1 से लेकर 12वीं तक, सभी स्कूल टीचर्स के लिए अब टीईटी (TET) या सीटीईटी (CTET) पास होना जरूरी होगा। अब तक टीईटी की अनिवार्यता सिर्फ क्लास 1 से 8वीं तक के लिए थी। 9वीं से 12वीं यानी पोस्ट ग्रेजुएट टीचर्स (PGT) के लिए इसकी जरूरत नहीं होती थी।


केंद्रीय विद्यालय संगठन (KVS) के रिटायर्ड एडिशनल कमिश्नर और नवोदय विद्यालय समिति (NVS) के सलाहकार यूएन खावरे (UN Khaware) ने कहा कि 'इस फैसले से टीचर एजुकेशन के क्षेत्र में हो रहे फर्जीवाड़ों पर लगाम लगाया जा सकेगा। देश में हजारों बीएड (B.Ed) कॉलेज हैं। गलत तरीके से इनसे बीएड की डिग्री ले लेना आम बात हो गई है। टीईटी अनिवार्य होने से अच्छे शिक्षक चुनकर आएंगे।

No comments:
Write comments