DISTRICT WISE NEWS

अंबेडकरनगर अमरोहा अमेठी अलीगढ़ आगरा आजमगढ़ इटावा इलाहाबाद उन्नाव एटा औरैया कन्नौज कानपुर कानपुर देहात कानपुर नगर कासगंज कुशीनगर कौशांबी कौशाम्बी गाजियाबाद गाजीपुर गोंडा गोण्डा गोरखपुर गौतमबुद्ध नगर गौतमबुद्धनगर चंदौली चन्दौली चित्रकूट जालौन जौनपुर ज्योतिबा फुले नगर झाँसी झांसी देवरिया पीलीभीत फतेहपुर फर्रुखाबाद फिरोजाबाद फैजाबाद बदायूं बरेली बलरामपुर बलिया बस्ती बहराइच बागपत बाँदा बांदा बाराबंकी बिजनौर बुलंदशहर बुलन्दशहर भदोही मऊ मथुरा महराजगंज महोबा मिर्जापुर मीरजापुर मुजफ्फरनगर मुरादाबाद मेरठ मैनपुरी रामपुर रायबरेली लखनऊ लख़नऊ लखीमपुर खीरी ललितपुर वाराणसी शामली शाहजहाँपुर श्रावस्ती संतकबीरनगर संभल सहारनपुर सिद्धार्थनगर सीतापुर सुलतानपुर सुल्तानपुर सोनभद्र हमीरपुर हरदोई हाथरस हापुड़
Showing posts with label एनसीईआरटी. Show all posts
Showing posts with label एनसीईआरटी. Show all posts

Friday, July 3, 2020

NCERT : पांचवीं कक्षा तक जारी हुआ दूसरा एकेडमिक कैलेंडर

NCERT : पांचवीं कक्षा तक जारी हुआ दूसरा एकेडमिक कैलेंडर


नई दिल्ली। मानव संसाधन विकास मंत्री ने बृहस्पतिवार को पहली से पांचवीं कक्षा तक के छात्रों के लिए दूसरा वैकल्पिक एकेडमिक कैलेंडर जारी किया। आठ हफ्ते के कैलेंडर में पाठ्यक्रम को साप्ताहिक आधार पर बांटा गया। वैकल्पिक कैलेंडर संस्कृत, उर्दू, हिंदी और अंग्रेजी भाषा में तैयार किया गया है। निशंक ने कहा कि कोरोना के कारण शिक्षण संस्थान बंद होने से मंत्रालय छात्रों की शैक्षणिक गतिविधियों को लगातार जारी रखने को प्रतिबद्ध है। 


आठ हफ्ते के कैलेंडर को इस प्रकार तैयार किया है, ताकि छात्रों को कंप्यूटर और मोबाइल के सामने कम से कम बैठना पड़े। जिन छात्रों के पास इंटरनेट की सुविधा नहीं है, वह भी इसके जरिये पढ़ाई कर सकेंगे। इसमें ई-पाठशाला, एनआरओईआर और दीक्षा पोर्टल पर उपलब्ध सामग्री को भी शामिल किया गया है।

Monday, June 29, 2020

एक प्रश्नपत्र लागू करने से हुआ नुकसान, NCERT पैटर्न के कारण यूपी बोर्ड परीक्षा के परिणाम में आई गिरावट

एक प्रश्नपत्र लागू करने से हुआ नुकसान, NCERT पैटर्न के कारण यूपी बोर्ड परीक्षा के परिणाम में आई गिरावट।

प्रयागराज : एनसीईआरटी पैटर्न अपनाए जाने के बाद से यूपी बोर्ड की लगातार तीन परीक्षाओं में इंटरमीडिएट के परिणाम में कमी देखी जा रही है। भले ही 2019 की परीक्षा की अपेक्षा अबकी बार परिणाम में चार फीसदी की बढ़ोत्तरी हुई है, लेकिन पूर्व में 2015 में 88.83 फीसदी परिणाम की अपेक्षा यह बहुत कम है।






इंटरमीडिएट में दो और तीन प्रश्नपत्रों के स्थान पर एकल प्रश्न पत्र की व्यवस्था लागू करने के बाद परीक्षा फल में गिरावट दर्ज की जा रही है। बोर्ड के अधिकारी भी इस बात को स्वीकार कर रहे हैं कि बदलाव परीक्षाफल पर भारी पड़ा। यूपी बोर्ड की ओर से जारी आंकड़ों पर यदि नजर डालें तो 2015 में इंटरमीडिएट का परिणाम 88.83 फीसदी, 2016 में 87.99 फीसदी, 2017 में 82.62 फीसदी था। 2018 की परीक्षा से यूपी बोर्ड की ओर से एनसीईआरटी पैटर्न अपनाया जाने लगा था, 2019 की परीक्षा में इसे पूरी तरह लागू कर दिया गया। 2018 में रिजल्ट 72.43 फीसदी तो 2019 में यह गिरकर 70.06 फीसदी पहुंच गया। 2020 में रिजल्ट 74.63 फीसदी पहुंच गया। इस प्रकार बोर्ड की ओर से इंटरमीडिएट में भौतिकी, रसायन, गणित सहित मानविकी के विषयों नागरिक शास्त्र, भूगोल, अर्थशास्त्र, समाजशास्त्र विषय में एनसीईआरटी का पैटर्न अपनाए जाने के बाद परिणाम में गिरावट दर्ज की गई। हाई स्कूल में पहले से ही कल प्रश्न पत्र की व्यवस्था लागू होने से परीक्षार्थियों ने यहां बदलाव को स्वीकार कर लिया। परिणाम पिछले वर्ष 80.07 फीसदी रहा।



 व्हाट्सप के जरिये जुड़ने के लिए क्लिक करें।

Thursday, June 11, 2020

अब NCERT की किताबों से ही होगी पढ़ाई, माध्यमिक शिक्षा निदेशक ने डीआईओएस को भेजा निर्देश

अब NCERT की किताबों से ही होगी पढ़ाई, माध्यमिक शिक्षा निदेशक ने डीआईओएस को भेजा निर्देश।

अब NCERT की किताबों से ही होगी पढ़ाई, माध्यमिक शिक्षा निदेशक ने डीआईओएस को भेजा निर्देश।


सभी प्रकार के माध्यमिक स्कूलों में में निजी प्रकाशकों की किताबों को पूरी तरह दूरी बनाने के निर्देश दिए हैं। माध्यमिक शिक्षा निदेशक ने डीआइओएस को निर्देशित किया है कि वह जिले के सभी स्कूल-कॉलेज में एनसीईआरटी की किताबों का संचालन करें। एनसीईआरटी (राष्ट्रीय शैक्षिक और अनुसंधान परिषद) की किताबों की गुणवत्ता को सराहा है। सस्ती किताबों की राहत अभिभावकों को दी जाए। और अनुसंधान के बाद बोधगम्य भाषा में लिखी गई 55 पुस्तकें लिखी गई है इनको कक्षा 9 से 12 तक में संचालन का कड़ाई से अनुपालन किया जाए। एनसीईआरटी की जिन किताबों से पढ़ाई कराने का निर्देश दिया गया है उसमें कक्षा 9 में अंग्रेजी, विज्ञान, सामाजिक विज्ञान, गणित में। कक्षा 10 में विज्ञान, सामाजिक विज्ञान, गणित, कक्षा 11 में अंग्रेजी, भौतिक विज्ञान, रसायन विज्ञान, जीव विज्ञान, गणित, इतिहास, भूगोल, शारीरिक शास्त्र, अर्थशास्त्र, समाजशास्त्र, व्यवसाय अध्ययन, लेखा शास्त्र शामिल हैं। कक्षा 12 में भौतिक विज्ञान, रसायन विज्ञान, जीव विज्ञान, गणित, इतिहास, भूगोल, नागरिक शास्त्र, अर्थशास्त्र, समाजशास्त्र शामिल हैं। प्रकाशित और शिक्षण संस्थानों का गठजोड़ निजी प्रकाशकों और शिक्षण संस्थान किताबों के संचालन के लिए गठजोड़ करते हैं। इस गठजोड़ में अभिभावक पिसते आए हैं। गठजोड़ के तहत किताबों का मूल्य खाना ज्यादा होता है। प्रकाशक से हाथ मिलाए स्कूल दूसरे संचालक या फिर एनसीईआरटी की किताबें को दरकिनार कर देते हैं। कई बार अभिभावकों ने आवाज उठाई तो उसका खामियाजा भी स्कूल प्रशासन के द्वारा दिया गया तो उसे भुगता।




 व्हाट्सप के जरिये जुड़ने के लिए क्लिक करें।

Wednesday, June 10, 2020

NCERT TV Channels : एनसीईआरटी के टीवी चैनलों पर दो भाषाओं में डिजिटल पाठ्य सामग्री उपलब्ध

NCERT TV Channels : एनसीईआरटी के टीवी चैनलों पर दो भाषाओं में डिजिटल पाठ्य सामग्री उपलब्ध


अब एनसीईआरटी के सभी  टीवी चैनल पर पहली से बारहवीं कक्षा तक के लिए हिंदी और अंग्रेजी में डिजिटल पाठ्य सामग्री उपलब्ध होगी। केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक की मौजूदगी में मंगलवार को एनसीईआरटी और रोटरी इंडिया इंटरनेशनल ह्यूमैनिटी फाउंडेशन के बीच एक करार पर हस्ताक्षर हुआ। इसके तहत विद्यादान दो परियोजना के तहत पहली से बारहवीं कक्षा तक के छात्रों के लिए ई  सामग्री एनसीईआरटी के टीवी चैनल पर उपलब्ध कराई जाएगी।


करार पर एनसीआरटी के डायरेक्टर हृषिकेश बेहरा और रोटरी ह्यूमैनिटी फाउंडेशन के रंजन ढींगरा ने हस्ताक्षर किए। इस अवसर पर स्कूली शिक्षा सचिव अनीता करवाल भी मौजूद थी।
डॉ निशंक ने कहा कि  सरकार कोरोना काल में लॉकडाउन को देखते हुए छात्रों को अधिक से अधिक डिजिटल पाठ्य सामग्री उपलब्ध करा रही है ताकि छात्र घर बैठे उसका फायदा उठा सकें। उन्होंने कहा कि विकलांग छात्रों और प्रौढ़ साक्षरता के लोगों के लिए भी ई सामग्री उपलब्ध होगी। 


फिलहाल पंजाबी और हिंदी भाषा में ई सामग्री एनसीआरटी के टेलीविजन पर ऑडियो विजुअल रूप में उपलब्ध रहेगी बाद में इसे सभी भारतीय भाषाओं में उपलब्ध कराया जाएगा। इस परियोजना से 12 राज्यों के करीब 10 करोड़ छात्र लाभान्वित होंगे।


Thursday, May 28, 2020

एनसीईआरटी दे रहा निःशुल्क ई-बुक डाउनलोड की सुविधा

एनसीईआरटी दे रहा निःशुल्क ई-बुक डाउनलोड की सुविधा 


प्रयागराज। लॉकडाउन के दौरान स्कूल बंद हैं, बच्चे ऑनलाइन पढ़ाई कर रहे हैं। किताब की समस्या से परेशान बच्चों की मदद के लिए एनसीईआरटी आगे आया है। 




एनसीईआरटी ने पहली से बारहवीं तक की सभी किताबों को ऑनलाइन ई-बुक के रूप में जारी कर दिया है। बच्चे एवं अभिभावक वेबसाइट ncert.nic.in पर जाकर किताब डाउनलोड कर सकते हैं।

Wednesday, January 1, 2020

यूपी बोर्ड : एनसीईआरटी किताबों की रॉयल्टी पर लगेगा जीएसटी, 9 से 12 तक कि किताबों पर पांच प्रतिशत रॉयल्टी देता है बोर्ड

यूपी बोर्ड : एनसीईआरटी किताबों की रॉयल्टी पर लगेगा जीएसटी, 9 से 12 तक कि किताबों पर पांच प्रतिशत रॉयल्टी देता है बोर्ड।






 व्हाट्सप के जरिये जुड़ने के लिए क्लिक करें।