DISTRICT WISE NEWS

अंबेडकरनगर अमरोहा अमेठी अलीगढ़ आगरा आजमगढ़ इटावा इलाहाबाद उन्नाव एटा औरैया कन्नौज कानपुर कानपुर देहात कानपुर नगर कासगंज कुशीनगर कौशांबी कौशाम्बी गाजियाबाद गाजीपुर गोंडा गोण्डा गोरखपुर गौतमबुद्ध नगर गौतमबुद्धनगर चन्दौली चित्रकूट जालौन जौनपुर ज्योतिबा फुले नगर झाँसी झांसी देवरिया पीलीभीत फतेहपुर फर्रुखाबाद फिरोजाबाद फैजाबाद बदायूं बरेली बलरामपुर बलिया बस्ती बहराइच बागपत बाँदा बांदा बाराबंकी बिजनौर बुलंदशहर बुलन्दशहर भदोही मऊ मथुरा महराजगंज महोबा मिर्जापुर मीरजापुर मुजफ्फरनगर मुरादाबाद मेरठ मैनपुरी रामपुर रायबरेली लखनऊ लख़नऊ लखीमपुर खीरी ललितपुर वाराणसी शामली शाहजहाँपुर श्रावस्ती संतकबीरनगर संभल सहारनपुर सिद्धार्थनगर सीतापुर सुलतानपुर सुल्तानपुर सोनभद्र हमीरपुर हरदोई हाथरस हापुड़
Showing posts with label छात्रवृत्ति. Show all posts
Showing posts with label छात्रवृत्ति. Show all posts

Monday, June 22, 2020

अच्छी खबर : रिजल्ट से पहले ही छात्र कर सकेंगे छात्रवृत्ति आवेदन

रिजल्ट से पहले ही कर सकेंगे छात्रवृत्ति आवेदन

लखनऊ :  छात्रवृत्ति और फीस प्रतिपूर्ति के सहारे पढ़ाई करने वाले अल्प आय वर्ग के छात्र-छात्राओं के लिए अच्छी खबर है। इस कोरोना काल में छात्रों को छात्रवृत्ति का आवेदन करने के लिए रिजल्ट का इंतजार नहीं करना होगा। रिजल्ट आने से पहले ही आवेदन किए जा सकेंगे।





‘रिजल्ट नॉट येट डिक्लियर' का विकल्प : वैश्विक महामारी कोरोना के बीच सरकार ने पहली बार छात्रवृत्ति के ऑनलाइन आवेदन में नया विकल्प जोड़ा है। इसके मुताबिक अगर छात्रों का वार्षिक परीक्षाफल या दोनों सेमेस्टर का रिजल्ट नहीं आ रहा है तो ‘रिजल्ट नॉट येट डिक्लियर' (परिणाम अभी तक घोषित नहीं किया गया) का विकल्प चुनते हुए छात्र ऑनलाइन आवेदन कर सकेंगे। समाज कल्याण विभाग के सहायक निदेशक सिद्धार्थ मिश्रा बताते हैं कि ऐसे में छात्रों का डाटा संन्देहास्पद (सस्पेक्टेड) श्रेणी में आ जाएगा, जिसे सुधारने के लिए 11 से 21 दिसम्बर तक का समय मिलेगा।


 व्हाट्सप के जरिये जुड़ने के लिए क्लिक करें।

Thursday, June 18, 2020

शुल्क प्रतिपूर्ति पर कोरोना का ग्रहण, अब वित्तीय सहमति लेना अनिवार्य


Coronavirus Effect: शुल्क प्रतिपूर्ति पर कोरोना का ग्रहण, अब वित्तीय सहमति लेना अनिवार्य



Coronavirus Effect वित्तीय विभाग की सहमति के बगैर नहीं हो सकेगा भुगतान 24 जुलाई से शुरू होगी आवेदन प्रक्रिया। ...


लखनऊ  Coronavirus Effect: आर्थिक रूप से कमजोर मेधावियों को मिलने वाली शुल्क प्रतिपूर्ति पर ग्रहण लगने वाला है। नए वित्तीय वर्ष में बजट का आवंटन भले ही कर दिया गया हो, लेकिन शुल्क प्रतिपूर्ति के भुगतान के लिए वित्तीय सहमति लेना अनिवार्य होगा। पहले बजट मिलने के साथ ही उतने पैसे का भुगतान विद्यार्थियों के खाते में कर दिया जाता था। कोरोना संकट के चलते ऐसा निर्णय लिया गया है। हालांकि, शुल्क प्रतिपूर्ति के लिए आवेदन का शेड्यूल जारी कर दिया गया है। 24 जुलाई से ऑनलाइन आवेदन की प्रक्रिया होगी।

 
समाज कल्याण विभाग की ओर से आर्थिक रूप से कमजोर मेधावियों की फीस शुल्क प्रतिपूर्ति के रूप में दी जाती है। हर वर्ष की दो अक्टूबर और 26 जनवरी काे विद्यार्थियों के खाते में फीस भेजने का प्रावधान है। काेरोना महामारी के चलते शुल्क प्रतिपूर्ति के लिए जारी बजट का खर्च वित्त विभाग की सहमति के बगैर न करने का आदेश जारी किया गया। ऐसे में वर्ष 2020-21 वित्तीय वर्ष में शुल्क प्रतिपूर्ति के भुगतान पर असमंजस की स्थिति बनी गई है।

 
सामान्य वर्ग की शुल्क प्रतिपूर्ति और छात्रवृत्ति के लिए 52,500 लाख रुपये और अनुसूचित जाति व जनजाति के शुल्कप्रतिपूर्ति व छात्रवृत्ति के लहए 98,012 लाख रुपये का बजट स्वीकृत है, लेकिन भुगतान के पहले वित्त विभाग की सहमति लेनी होगी। पूर्व दशम कक्षा नौ और 10 और दशमोत्तर कक्षा 12 के ऊपर विद्यार्थियों के लिए आवेदन प्रक्रिया का शिड्यूल जारी किया गया है। इसकी पूरी जानकारी स्कॉलरशिप की वेबसाइट scholarship.up.nic.in पर ली जा सकती है।
डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

Thursday, June 11, 2020

छात्रवृत्ति के लिए समय-सारणी जारी


छात्रवृत्ति के लिए समय-सारणी जारी 

लखनऊ। समाज कल्याण विभाग ने छात्रवृत्ति एवं शुल्क प्रतिपूर्ति योजना के लिए समय सारणी जारी कर दी है। कक्षा 11-12 और इससे ऊपर की कक्षाओं के विद्यार्थी 1 अगस्त से 5 नवंबर तक ऑनलाइन आवेदन कर सकेंगे। रिनुअल श्रेणी के उन छात्रों को जिनका डाटा ठीक होगा, उन्हें 1 अक्टूबर को भुगतान कर दिया जाएगा। शेष छात्रों को 25 जनवरी को भुगतान होगा। इसी तरह से कक्षा 9 व 10 में के छात्र 24 जुलाई से 12 अक्टूबर तक आवेदन कर सकेंगे


छात्रवृत्ति आवेदन के लिए गाइडलाइन जारी, छात्रवृत्ति के लिए आधार से मोबाइल नंबर व बैंक खाता लिंक करना अनिवार्य


छात्रवृत्ति योजना में गड़बड़ी रोकने के लिए छात्रों के आधार का ऑनलाइन सत्यापन कराया जाएगा। चालू वित्तीय वर्ष में छात्रों के आधार नंबर के सत्यापन और ओटीपी के बिना आवेदन सब्मिट नहीं हो सकेगा। इस प्रक्रिया में छात्र- छात्राओं के नाम, पिता-पति के नाम केसत्यापन के बाद आधार से लिंक मोबाइल नंबर पर ओटीपी भेजा जाएगा। ओटीपी भरने के बाद ही छात्रवृत्ति आवेदन ऑनलाइन अनिवार्य स्वीकार होगा।




सरकारी छात्रवृत्ति अब आधार के बगैर नहीं, सुप्रीम कोर्ट ने पिछले साल दिया था आदेश


अब आधार कार्ड के बगैर समाज कल्याण विभाग से अनुसूचित जाति व सामान्य वर्ग के गरीब जरूरतमंद छात्र-छात्राओं को छात्रवृत्ति और फीस भरपाई की सुविधा नहीं मिल पाएगी।
बुधवार को इस बाबत प्रमुख सचिव समाज कल्याण मनोज सिंह की अध्यक्षता में बैठक हुई। बैठक में तय हुआ कि आगामी शैक्षिक सत्र से उन्हीं छात्र-छात्राओं के छात्रवृत्ति और फीस भरपाई के आवेदनों पर विचार किया जाएगा जिनके आवेदन के साथ त्रुटिरहित आधार की प्रमाणित प्रति संलग्न होगी।


यही नहीं छात्रवृत्ति और फीस भरपाई की स्वीकृत धनराशि आवेदक के उसी बैंक खाते में भेजी जाएगी जो आधार से लिंक रहेगा।


इस बाबत पिछले साल ही सुप्रीम कोर्ट ने आदेश दिया था। मगर जब तक सुप्रीम कोर्ट के इस आदेश पर केंद्र सरकार का गजट नोटिफिकेशन आता तब तक उ.प्र. में छात्रवृत्ति और फीस भरपाई की प्रक्रिया काफी आगे बढ़ चुकी थी, इसलिए इस बार नये शैक्षिक सत्र से इस व्यवस्था को अनिवार्य रूप से लागू करने का निर्णय लिया गया।

Wednesday, May 13, 2020

आधार प्रमाणीकरण के बगैर नहीं हो सकेंगे छात्रवृत्ति के आवेदन, वर्तमान वित्तीय वर्ष से सभी विभागों में लागू होगी व्यवस्था

आधार प्रमाणीकरण के बगैर नहीं हो सकेंगे छात्रवृत्ति के आवेदन, वर्तमान वित्तीय वर्ष से सभी विभागों में लागू होगी व्यवस्था


लखनऊ : प्रदेश सरकार ने छात्रवृत्ति की गड़बड़ी रोकने के लिए आधार नंबर प्रमाणीकरण अनिवार्य कर दिया है। प्रमाणीकरण के बगैर छात्र-छात्राएं छात्रवृत्ति के ऑनलाइन आवेदन पत्र नहीं भर पाएंगे। यानी आवेदन पत्र में दर्ज विवरण का आधार से मिलान होने के बाद ही छात्रवृत्ति व शुल्क प्रतिपूर्ति के आवेदन पत्र आगे बढ़ाये जाएंगे। यह व्यवस्था वर्तमान वित्तीय वर्ष से सभी विभागों की छात्रवृत्ति व शुल्क प्रतिपूर्ति योजना में लागू होगी। समाज कल्याण, अल्पसंख्यक कल्याण, पिछड़ा वर्ग कल्याण, दिव्यांगजन सशक्तिकरण व जनजाति विकास विभाग में संचालित छात्रवृत्ति व शुल्क प्रतिपूर्ति योजना में अब आधार नंबर प्रमाणीकरण अनिवार्य कर दिया गया है। छात्रवृत्ति व शुल्क प्रतिपूर्ति के ऑनलाइन आवेदन भरने में छात्र-छात्राओं को नाम,पिता का नाम, जन्म तिथि व जेंडर भरना होगा। आधार नंबर डालने के बाद सॉफ्टवेयर यूआइडीएआइ की वेबसाइट से विवरण मिलाएगा। यदि विवरण मेल नहीं खाया तो आधार नंबर प्रमाणीकरण नहीं होगा। ऐसे में आवेदन पत्र आगे नहीं बढ़ेगा। यानी आप जो विवरण ऑनलाइन आवेदन पत्र में भर रहे हैं वह आपके आधार कार्ड में दर्ज विवरण से मिलना चाहिए। आधार नंबर प्रमाणीकरण के बाद छात्रवृत्ति व शुल्क प्रतिपूर्ति के आवेदन पत्रों को पूरा भरकर जमा करना होगा। इस नई व्यवस्था से ऐसे छात्र-छात्राएं भी आवेदन नहीं कर पाएंगे, जिनके आधार कार्ड में दर्ज विकिरण हाईस्कूल से अलग हैं। यानी नाम, पिता का नाम, जन्मतिथि व जेंडर में एक भी चीज आधार से मिसमैच नहीं होनी चाहिए।







 व्हाट्सप के जरिये जुड़ने के लिए क्लिक करें।

Sunday, April 26, 2020

प्रथम श्रेणी वाले सामान्य वर्ग के छात्र ही होंगे छात्रवृत्ति योजना में आवेदन के हकदार, जल्द ही जारी हो जाएगी नई नियमावली

प्रथम श्रेणी वाले सामान्य वर्ग के छात्र ही होंगे छात्रवृत्ति योजना में आवेदन के हकदार, जल्द ही जारी हो जाएगी नई नियमावली।






 व्हाट्सप के जरिये जुड़ने के लिए क्लिक करें।

Wednesday, April 22, 2020

शुल्क प्रतिपूर्ति व छात्रवृत्ति के नियमों में बदलाव करने जा रही प्रदेश सरकार, छात्राओं को होगा पहले छात्रवृत्ति पाने का अधिकार

शुल्क प्रतिपूर्ति व छात्रवृत्ति के नियमों में बदलाव करने जा रही प्रदेश सरकार, छात्राओं को होगा पहले छात्रवृत्ति पाने का अधिकार।










 व्हाट्सप के जरिये जुड़ने के लिए क्लिक करें।