DISTRICT WISE NEWS

अंबेडकरनगर अमरोहा अमेठी अलीगढ़ आगरा आजमगढ़ इटावा इलाहाबाद उन्नाव एटा औरैया कन्नौज कानपुर कानपुर देहात कानपुर नगर कासगंज कुशीनगर कौशांबी कौशाम्बी गाजियाबाद गाजीपुर गोंडा गोण्डा गोरखपुर गौतमबुद्ध नगर गौतमबुद्धनगर चंदौली चन्दौली चित्रकूट जालौन जौनपुर ज्योतिबा फुले नगर झाँसी झांसी देवरिया पीलीभीत फतेहपुर फर्रुखाबाद फिरोजाबाद फैजाबाद बदायूं बरेली बलरामपुर बलिया बस्ती बहराइच बागपत बाँदा बांदा बाराबंकी बिजनौर बुलंदशहर बुलन्दशहर भदोही मऊ मथुरा महराजगंज महोबा मिर्जापुर मीरजापुर मुजफ्फरनगर मुरादाबाद मेरठ मैनपुरी रामपुर रायबरेली लखनऊ लख़नऊ लखीमपुर खीरी ललितपुर वाराणसी शामली शाहजहाँपुर श्रावस्ती संतकबीरनगर संभल सहारनपुर सिद्धार्थनगर सीतापुर सुलतानपुर सुल्तानपुर सोनभद्र हमीरपुर हरदोई हाथरस हापुड़

Wednesday, February 10, 2021

आज से खुल रहे जूनियर हाईस्कूल, सहमति पत्र के साथ 50 प्रतिशत विद्यार्थी जाएंगे बुलाये

आज से खुल रहे जूनियर हाईस्कूल, सहमति पत्र के साथ 50 प्रतिशत विद्यार्थी जाएंगे बुलाये


प्रयागराज : कक्षा छह से आठ तक के विद्यार्थियों के लिए स्कूल आज से खुल रहे हैं। कोविड-19 से बचाव संबंधी दिशा निर्देशों का भी पालन सभी के लिए अनिवार्य रहेगा। जिला विद्यालय निरीक्षक की ओर से सभी स्कूलों के प्रबंधक व प्रधानाचार्यो को निर्देश जारी किए जा चुके हैं।



जिला विद्यालय निरीक्षक आरएन विश्वकर्मा ने बताया कि विद्यार्थियों को अभिभावकों का सहमतिपत्र भी लाना होगा। प्रत्येक कक्षा में सिर्फ 50 प्रतिशत विद्यार्थी बुलाए जाएंगे। कक्षा छह के विद्यार्थी सोमवार और गुरुवार को, कक्षा सात के विद्यार्थी मंगलवार व शुक्रवार को, कक्षा आठ के विद्यार्थी बुधवार व शनिवार को स्कूल जाएंगे। 

कक्षा एक से पांच तक के विद्यार्थियों के लिए कक्षाएं एक मार्च से शुरू होंगी। स्कूलों के संचालन पर नजर रखने के लिए जिलाधिकारी की ओर से टास्कफोर्स का भी गठन किया गया है। यह टीम प्रेरणा एप के माध्यम से भी स्कूलों की व्यवस्था देखेगी। निरीक्षण में यह भी देखा जाएगा कि विद्यार्थियों के प्रयोग के लिए जो सुविधाएं दी गई हैं वह हैं या नहीं।

विद्यालय में शौचालय, पीने के लिए पानी, रसोईघर, भोजन बनाने वाले, परोसने वाले बर्तन, परिसर की साफ सफाई आदि दुरुस्त है या नहीं। यह टास्कफोर्स जिला और विकासखंड स्तर पर काम करेगी। जिला स्तर पर टास्क फोर्स की अध्यक्षता डीएम करेंगे।

इसमें मुख्य विकास अधिकारी, सीएमओ, डीआइओएस, डीपीओ, बीएसए, जिला पूर्ति अधिकारी, सभी उप चिकित्साधिकारी, जिला विकास अधिकारी, परियोजना निदेशक, जिला समाज कल्याण अधिकारी, जिला पंचायत राज अधिकारी शामिल रहेंगे। विकासखंड स्तरीय टास्क फोर्स की अध्यक्षता एसडीएम करेंगे।


सभी स्कूलों को किया जाना है सैनिटाइज

विद्यार्थियों के स्कूल पहुंचने से पूर्व सभी स्कूलों को सैनिटाइज किया जाना है। विद्यालय परिसर की सफाई के साथ कक्षा कक्ष, रसोई, शौचालय को भी विसंक्रमित कराना है।


छोटे बच्चों को स्कूल भेजने के मूड में नहीं अभिभावक

प्रदेश सरकार ने कक्षा 6 से 8 तक के स्कूल 10 फरवरी और कक्षा 1 से 5 तक के स्कूल एक मार्च से खोलने के निर्देश दिए हैं। सरकारी सिस्टम इसे लागू करने में जोरशोर से लगा है लेकिन निजी अंग्रेजी स्कूलों के अभिभावक अभी बच्चों को भेजने के मूड में नहीं है। स्कूलों ने सहमति पत्र के साथ 6 से 8 तक के बच्चों को भेजने को कहा है, लेकिन अधिकांश अभिभावक सहमति देने को तैयार नहीं।



अभिभावक कोरोना का टीका लगे बगैर बच्चों को स्कूल भेजने में रिस्क मान रहे हैं। इतना ही नहीं कक्षा 10 व 12 के बच्चों की प्री बोर्ड और 9 व 11 की वार्षिक परीक्षा तक अभिभावक ऑफलाइन दिलाने को राजी नहीं हैं। इस मसले पर हिन्दुस्तान ने शहर के प्रमुख स्कूलों के प्रधानाचार्यों और अभिभावकों से बात की। पेश है प्रतिक्रिया:

इनका कहना है

फिलहाल 6 से 8 तक की कक्षाएं शुरू करने पर कोई निर्णय नहीं हुआ है। कक्षा 9 व 11 के बच्चों के ऑफलाइन एग्जाम के लिए अभिभावकों से सहमति मांगी है लेकिन वे रुचि नहीं ले रहे। 12वीं और 10वीं की प्री बोर्ड ऑनलाइन करानी पड़ी। - सिस्टर ज्योति, प्रिंसिपल सेंट मेरीज कान्वेंट

सरकार के आदेश के क्रम में कक्षा 6 से 8 तक के बच्चों की कक्षाएं शुरू करने के लिए अभिभावकों से सहमति मांग रहे हैं लेकिन कोई तैयार नहीं है। यहां तक कि कक्षा 9 से 12 तक के बच्चों को ऑफलाइन एग्जाम दिलाने को राजी नहीं हैं। इसलिए जब तक सहमति नहीं मिलती, हमारी ऑनलाइन कक्षाएं पूर्ववत चलती रहेंगी। - सुष्मिता कानूनगो, प्रिंसिपल महर्षि पतंजलि विद्या मंदिर

हमने आज ही 6 से 8 तक के छात्र छात्राओं के अभिभावकों को अपनी सहमति देने के लिए मैसेज किया है। अभिभावकों के राजी होने पर ही बच्चों को बुलाया जाएगा। - जया सिंह, प्रिंसिपल, डीपी पब्लिक स्कूल

अभी प्रतिदिन कोरोना के मरीज मिल रहे हैं। जनसामान्य का टीकाकरण भी नहीं हुआ है। इस स्थिति में बच्चों के लिए विद्यालय खोलना कहीं से भी उचित नहीं है। - भारतेंद्र त्रिपाठी, अभिभावक (पुत्र दीप त्रिपाठी कक्षा 9 सेंट जान्स एकेडमी करछना)

विद्यालय खोलने का निर्णय मेरी दृष्टि से उचित नहीं है। जब तक स्थिति सामान्य न हो जाए, यह रिस्क लेना समझ से परे है। स्कूलों में गाइडलाइन का पालन भी संभव नहीं हो पाएगा। - मधुलिका श्रीवास्तव (पुत्री महक श्रीवास्तव कक्षा 8 पतंजलि ऋषिकुल)

स्वास्थ्य का ध्यान रखते हुए स्कूलों में पढ़ाई लिखाई शुरू होनी चाहिए। घर पर पढ़ाई उस तरह से नहीं हो पा रही है। -सुनीत पांडेय (पुत्री संस्कृति पांडेय कक्षा 7 सेंट एंथोनी स्कूल)

No comments:
Write comments